हत्या की साजिश को पुलिस ने किया नाकाम

hatya-kee-saajish-ko-pulis-ne-kiya-naakaam

0
19
अवैध कारोबार में वर्चस्व को लेकर होती रही है हत्याएं
जमशेदपुर : शहर में होने वाली हत्या की साजिश को नाकाम करते हुए जुगसलाई थाना की पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर बुधवार की देर रात्रि जुगसलाई रेलवे फाटक राखर मैदान से तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार आरोपियों के पास से पुलिस ने 7.62 बोर की पिस्टल, देसी कट्टा और 10 जिंदा गोली बरामद किया है. गिरफ्तार आरोपी परमजीत सिंह उर्फ बाबू सरदार, एन मुरली और विकास उर्फ मुदेया सभी बागबेड़ा नया बस्ती के रहने वाले हैं. इस मामले का साजिशकर्ता बागबेड़ा निवासी स्क्रैप कारोबारी उपेंद्र सिंह फरार है, जिसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. गिरफ्तार सभी आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. वार्ता में गुरुवार को पुलिस अधीक्षक नगर प्रभात कुमार ने यह सारी जानकारी पत्रकारों को दी.
वर्चस्व को लेकर दिया जाना था घटना को अंजाम : हत्या की साजिश रचने वाले आरोपी बागबेड़ा निवासी उपेंद्र सिंह सरायकेला खरसावां जिला अंतर्गत आदित्यपुर और गम्हरिया में स्क्रैप कारोबार में वर्चस्व जमाने को लेकर इस घटना को अंजाम दिलवाने वाला था. वह अपने प्रतिद्वंदी कांड्रा निवासी सह स्क्रैप कारोबारी दीपक दास उर्फ दीपू दास की हत्या करवा कर क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे स्क्रैप के धंधे पर अपना कब्जा जमाना चाहता था, जो उसके रहते मुमकिन नहीं था. इसलिए वह उसे रास्ते से हटाने के लिये गिरफ्तार आरोपियों को काम होने के बाद स्क्रैप में हिस्सेदारी देने का प्रलोभन दिया था. इससे पूर्व भी अवैध धंधों जैसे स्क्रैप, जमीन की खरीद बिक्री, जुआ, मटका और बिल्डिंग मैटेरियल की सप्लाई में अपना वर्चस्व कायम करने को लेकर गिरोहो के बीच कई बार गैंगवार हो चुका है और जिसमें कईयों की हत्याएं हो चुकी है. बिष्टुपुर के धातकीडीह हरिजन बस्ती निवासी बुच्चू घोष, आदित्यपुर श्रीडूंगरी निवासी शान बाबू मुखी और परसुडीह निवासी संजीव सिंह की हत्या अवैध जमीन के कारोबार में वर्चस्व को लेकर दूसरे गिरोह के द्वारा कर दी गई. जबकि हाल ही में बर्मामाइंस स्टार टॉकीज के पास जुगसलाई निवासी व डब्ल्यू मिश्रा गिरोह से तालुकात रखने वाले सोनू मिश्रा की हत्या जुए और मटके के अवैध धंधे को लेकर प्रतिद्वंदी गिरोह रंजीत रंजीत के द्वारा गोली मारकर कर दी गई.
टाइगर मोबाइल जवानों को मिला स्पॉट रिवॉर्ड : जुगसलाई थाना के अंतर्गत कार्यरत टाइगर मोबाइल के जवान आरक्षी रोहन प्रसाद मेहता और अनुज महली को तीन आरोपियो की सूचना मिलते ही तुरंत उन्होंने घटनास्थल पर जाकर उन्हें धर दबोचा. जबकि एक आरोपी घटनास्थल से भागने में सफल रहा. टाइगर मोबाइल जवानों के इस उत्कृष्ट कार्य को देखते हुए जमशेदपुर के वरीय पुलिस अधीक्षक अनूप बिरथरे ने घटनास्थल पर ही उन्हें स्पॉट रिवॉर्ड देकर सम्मानित किया.
इनकी बनी थी टीम : इस कांड के उद्घभेदन के लिए पुलिस उपाधीक्षक विधि व्यवस्था आलोक कुमार, परीछ्यमान सहायक पुलिस अधीक्षक कुमार गौरव, जुगसलाई थाना प्रभारी नित्यानंद महतो, टाइगर मोबाइल आरक्षी रोहन प्रसाद मेहता, अनुज महली, मिथिलेश कुमार महतो और साधु चरण सुंडी आदि की टीम बनाई गई थी.