ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : फोन कंट्रोवर्सी के लपेटे में आए लालू, BJP नेता ने लालू यादव के खिलाफ दायर किया PIL         BIG NEWS : फोन कॉन्ट्रोवर्सी हुई तो 114 दिन से बंगले में रह रहे लालू यादव रिम्स वार्ड में लौटे         एक बड़ी साजिश जो नाकाम हो गई...         BIG NEWS : DDC चुनाव से पहले महबूबा मुफ्ती को बड़ा झटका, PDP के तीन और नेताओं ने एक साथ दिया इस्तीफा         BIG NEWS : पाकिस्तान एक बार फिर हुआ शर्मसार, शाह महमूद कुरैशी की कोशिश के बावजूद OIC में जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर नहीं होगी कोई चर्चा         BIG NEWS : श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, दो जवान शहीद         BIG NEWS : चाईबासा के टोंटो जंगल से 5 नर कंकाल          प्रेम में विरक्ति है शिव के भस्म प्रिय होने का कारण, जाने इसके पीछे की कथा         कोरोना पर गाइडलाइन : अब राज्य सरकार को लॉकडाउन लगाने के लिए केंद्र की लेनी होगी मंजूरी          BIG NEWS : लालू का कथित ऑडियो वायरल होते ही बिहार से लेकर रांची तक सियासी हलचल बढ़ी         BIG NEWS : कई दिनों से लापता 3 युवकों की मिली सिर कटी लाश, 6 हिरासत में         BIG NEWS : बिहार में हो हंगामा के बीच NDA के विजय सिन्हा बने स्पीकर         BIG NEWS : NIA ने निलंबित डीएसपी देवेंद्र सिंह केस में पीडीपी नेता वहीद पारा को किया गिरफ्तार         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान चुनाव में इमरान सरकार और सेना पर लगे धांधली के आरोप, उग्र प्रदर्शनकारियों ने की आगजनी         BIG NEWS : कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन         युधिष्ठिर ने की थी लोधेश्वर महादेव की स्थापना         BIG NEWS : चीन के खिलाफ भारत सरकार की एक और डिजिटल स्ट्राइक, सरकार ने 43 ऐप पर लगाया बैन         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट के आदेश पर रोशनी जमीन घोटाले में शामिल लोगों की पहली सूची जारी, कई बड़े नेताओं के नाम          BIG NEWS : सांबा सेक्टर में सुरक्षाबलों ने आतंकी घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम, एक आतंकी ढेर         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में एससी-एसटी समुदाय को पहली बार मिला राजनीतिक आरक्षण, एसटी समुदाय ने गुपकार गठबंधन के खिलाफ जताई नाराजगी         BIG NEWS : दिल्ली हिंसा में बंगाली बोलने वाली करीब 300 महिलाओं का किया गया था इस्तेमाल         800 साल पुराने इस मंदिर की सीढ़ियों को छूने से निकलती है संगीत की धुन         BIG NEWS : रोशनी जमीन घोटाले में कई बड़े राजनेताओं के नाम का खुलासा, पीडीपी नेता और पूर्व वित्त मंत्री हसीब द्राबू का नाम भी शामिल         BIG NEWS :ड्रग्स पैडलर के घर पर छापा मारने गई NCB की टीम पर हमला, 3 अफसर घायल; 3 गिरफ्तार         BIG NEWS : नहीं रहे तरुण गोगोई         BIG NEWS : झारखंड में दल-बदल मामले में तीन विधायकों को नोटिस...         “गुपकार गठबंधन लाख कोशिश कर ले अब अनुच्छेद 370 की वापसी कभी नहीं करा पाएगा” : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर         BIG NEWS : इमरान सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी, रोक के बावजूद विपक्षी दल लरकाना में फिर करेंगे विरोध रैली          कोरोना वैक्सीन : कोरोना की भयावहता और उम्मीद की किरण         भाजपा का बंगाल चुनाव, क्या टूटेगा 'दीदी' का तिलिस्म?         ईवीएम का रोना खराब पिच का रोना है..         इस मंदिर में है पातालपुरी जाने का रास्ता...         BIG NEWS : इमरान खान के खिलाफ विपक्ष का हल्ला-बोल जारी, रोक के बावजूद पेशावर में विपक्षी दलों की विरोध रैली आयोजित         BIG NEWS : सांबा सेक्टर में बॉर्डर के पास BSF को मिली सुरंग, घुसपैठ के लिए आतंकी करते थे इस्तेमाल         BIG NEWS :भारती और पति हर्ष को कोर्ट ने 4 दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा, जमानत पर कल सुनवाई         BIG NEWS : सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी गिरफ्तार, गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : पुंछ जिले में LOC के पास दिखा ड्रोन, सुरक्षाबलों की टीम अलर्ट         यहां की थी परशुराम ने तपस्या, फरसे के प्रहार से बना दिया शिव मंदिर         BIG NEWS : भारतीय सेना ने पाकिस्तान को दिया करारा जवाब, छह चौकियां तबाह, चार सैनिक ढेर और छह घायल         BIG NEWS : आतंकियों से मिले मोबाइल ने खोले राज, P1 और P55 के नाम से सेव नंबरों से आतंकियों की होती रही लगातार बात         BIG NEWS : ड्रग्स केस में कॉमेडियन भारती सिंह के बाद उनके पति हर्ष भी गिरफ्तार, दोनों ने गांजा लेने की बात कुबूल की         BIG NEWS : नगरोटा एनकाउंटर में मारे गये चारों आतंकियों को पाकिस्तान से मसूद अजहर का भाई दे रहा था निर्देश         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, एक जवान शहीद         BIG NEWS : नगरोटा एनकाउंटर पर भारत सख्त, विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारी को किया तलब          पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, जिनके साथ साथ चलता है विवाद         BIG NEWS : चतरा में छठ घाट पर गोली मारकर कोयला कारोबारी की हत्या         महिलाओं के प्रति पुरुष में ऐसी कुंठा कहां से आती है ?         आभामंडल का शक्तिपुंज सूर्य मंदिर         BIG NEWS  : बड़े हमले के फिराक में थे आतंकी, पीएम मोदी ने की शाह, डोभाल संग हाई-लेवल बैठक         BIG NEWS : छपरा में छठ घाट पर चली गोली,महिला समेत 5 घायल         सुन ले अरजिया हमार हे छठी मैया !!         BIG NEWS : नगरोटा एनकाउंटर के बाद कटरा में माता वैष्णो देवी के आसपास बढ़ाई गई सुरक्षा         कांच ही बांस के बहंगियां.... बहंगी लचकत जाए!         लोक आस्था की मासूमियत का आख्यान !         

लोक आस्था की मासूमियत का आख्यान !

Bhola Tiwari Nov 20, 2020, 9:04 AM IST टॉप न्यूज़
img


ध्रुव गुप्त

पटना  : हमारी तमाम संस्कृतियों में पौराणिक पर्वों और धार्मिक आयोजनों के अतिरिक्त लोकपर्वों की एक लंबी श्रृंखला रही है। ये लोकपर्व प्रकृति के प्रति हमारे आभार प्रदर्शन के अवसर और पर्यावरण को बचाने के संकल्प लेकर आते हैं। बिहार, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल की तराई से चलकर देश-दुनिया के हर कोने में पहुंचने वाला छठ लोक आस्था का सर्वाधिक लोकप्रिय पर्व है। दीवाली के चौथे दिन से छठ के चार-दिवसीय आयोजन का आरम्भ होता है। छठ सूर्य की उपासना का लोक-पर्व है। हमारे अनगिनत देवी-देवताओं में से एक सूर्य ही हैं जो हमेशा हमारी आंखों के सामने हैं। उनका देवत्व स्वीकार करने के लिए किसी तर्क या प्रमाण की आवश्यकता नहीं है। अपनी पृथ्वी सूर्य से ही जन्मी है। पृथ्वी पर जो भी जीवन है, उर्वरता है, हरीतिमा है, सौंदर्य है - वह सूर्य के कारण ही हैं। सूर्य न होते तो न पृथ्वी संभव थी, न जीवन और न पृथ्वी का अपार सौंदर्य। चांद का सौन्दर्य और शीतलता भी सूर्य की ही देन है। मुख्यतः कृषक समाज द्वारा मनाए जाने वाले सूर्य की आराधना के चार-दिवसीय पर्व की शुरुआत कार्तिक के शुक्ल पक्ष की चौथी तिथि को तथा समाप्ति कार्तिक शुक्ल पक्ष की सातवीं तिथि को होती है। 'नहाय-खाय' से आरम्भ होने वाले इस महापर्व के दौरान व्रतधारी बिना अन्न-जल के लगातार छत्तीस घंटों का कठिन व्रत रखते हैं। अन्न-जल के त्याग के साथ ही उन्हें सुखद शैय्या का त्याग कर फर्श पर कंबल या चादर बिछाकर सोना होता हैं। सरल-सरस और निश्छल लोकगीतों के साथ छठी तिथि की शाम को डूबते सूर्य को और सातवी तिथि को प्रातः उदित होते सूर्य को नए कृषि उत्पादों और दूध के साथ अर्घ्य देने के बाद पर्व का समापन होता है। इन चार दिनों में घर से लेकर देह और मन तक की पवित्रता का जैसा ध्यान रखना होता है, वह बहुत दुःसाध्य है। इस पर्व को हठयोग भी कहा गया है। ऐसा हठयोग जिसमें घर में किसी की मृत्यु के अलावा अन्य किसी भी स्थिति में व्यतिक्रम नहीं आना चाहिए। छठ व्रती के वृद्ध या बीमार होने के बाद व्रत का भार अगली पीढ़ी की किसी विवाहित महिला या पुरुष को हस्तांतरित कर दिया जाता है।

इस कठिन और पवित्र परंपरा की शुरूआत कब और कैसे हुई, इसके बारे मे कई कथाएं प्रचलित हैं। उनमें सबसे प्रचलित कथा के अनुसार सूर्यवंशी राम ने लंका से लौटकर राज्य का शासन संभालने के पूर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को सीता के साथ सरयू नदी के जल से अर्घ्य देकर अपने कुलदेवता सूर्य की उपासना की थी। त्रेता युग में उनकी देखादेखी उनकी प्रजा ने सूर्य की उपासना की परंपरा को आगे बढ़ाया। महाभारत काल में सूर्यपुत्र कर्ण द्वारा सूर्य की पूजा-अर्चना की कथा प्रसिद्द ही है। कर्ण सूर्य के उपासक थे और रोज घंटों कमर तक पानी में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देते थे। सूर्य की कृपा से वे महान योद्धा बने। जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गये, तब कृष्ण ने द्रौपदी को छठ का व्रत रखने की सलाह दी थी। द्रौपदी द्वारा कई सालों तक यह व्रत करने के बाद पांडवों की मनोकामनायें पूरी हुईं और उनका खोया हुआ राज्य और वैभव उन्हें वापस मिला। एक कथा यह भी है कि कृष्ण के पौत्र शाम्ब को कुष्ठ रोग हो गया था। इस रोग से मुक्ति के लिए उनके परिवार ने सूर्य की उपासना की थी।

इस पर्व के बारे में लोगों में एक आम जिज्ञासा यह रही है कि सूर्य की उपासना के इस पर्व में सूर्य को अर्घ्य देने के साथ जिन छठी मैया की पूजा होती है और जिनकी अथाह शक्तियों के गीत गाए जाते हैं, वे कौन हैं। छठ एक लोकपर्व है, इसीलिए शास्त्रों में इस देवी का कहीं कोई सीधा उल्लेख नहीं है, हालांकि कहीं-कहीं इसके संकेत जरूर खोजे जा सकते हैं। लोक में प्रचलित कथा के अनुसार सूर्य और षष्ठी या छठी का संबंध भाई और बहन का है। षष्ठी या छठी मातृका शक्ति हैं जिनकी पहली पूजा स्वयं सूर्य ने की थी। 'मार्कण्डेय पुराण' के अनुसार प्रकृति ने अपनी शक्तियों को कई अंशों में बांट रखा है। प्रकृति के छठे अंश को 'देवसेना' कहते हैं। प्रकृति का छठा अंश होने के कारण इनका एक नाम षष्ठी भी है। देवसेना या षष्ठी श्रेष्ठ मातृका और समस्त लोकों के बालकों की रक्षिका देवी मानी जाती हैं। पुराणों में निःसंतान राजा प्रियंवद द्वारा देवी षष्ठी का व्रत करने की कथा है जिसके बाद उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई थी। छठी षष्ठी का अपभ्रंश हो सकता है। आज भी छठ व्रती छठी मैया से अपनी संतानों के आरोग्य, सुख, समृद्धि और सुरक्षा का वरदान मांगते हैं। छठी मैया की परिकल्पना की एक आध्यात्मिक पृष्ठभूमि भी है। अध्यात्म और योग के अनुसार सूर्य की सात किरणों का मानव जीवन पर अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। उनमें से सूर्य की छठी किरण को आरोग्य और भक्ति का मार्ग प्रशस्त करने वाला माना गया है। यह भी संभव है कि सूर्य की इसी छठी किरण की आराधना छठी मैया के रूप में होती है।

छठ मूलतः कृषक समाज का पर्व है। कृषक इस अवसर पर अपने तमाम कृषि उत्पादों - केला, गन्ना, नारियल, बड़ा नींबू या गागल, सुथनी, केराव, शकरकंद, शहद, नए चावल का अक्षत, दूध, नए बांस की बनी डलिया और दौरा आदि के साथ किसी नदी या तालाब के पानी में खड़े होकर सूर्य का आभार प्रकट करते हैं। यह फसल के उत्पादन में सूर्य के साथ नदियों और तालाबों की भूमिका के प्रति भी आभार-प्रदर्शन है। कुछ दशकों पहले तक यह बेहद कठिन पर्व ज्यादातर स्त्रियों द्वारा ही मनाया जाता रहा था। पुरुषों की भूमिका इसमें सहयोगी की ही रही थी। अब बड़ी संख्या में पुरुष भी यह पर्व मनाने लगे हैं। सूर्य की जीवनदायिनी शक्ति के प्रति कृतज्ञता-ज्ञापन का यह विराट पर्व अब सिर्फ कृषकों तक ही सीमित नहीं रह गया है। इसे समाज के सभी वर्गों ने समान रूप से अपना लिया है। यह पर्व अब लगभग पूरे भारत में तो मनाया ही जाता है, प्रवासी भारतीयों के साथ-इसका विस्तार विश्व भर में हुआ है। इस पर्व के स्वरुप में हाल के दिनों में कुछ बदलाव भी आए हैं। इस पर्व में नदियों और तालाबों के तट पर ही सूर्य को अर्घ्य देने का विधान है जहां गांव या शहर के लोग एक साथ एकत्र होते थे। इससे लोगों में सामुदायिकता और सहयोग की भावना मजबूत होती थी। अब बड़ी संख्या में लोग अपने घरों के परिसर में या छतों पर छोटे-बड़े गड्ढे बनाकर सिर्फ अपने परिवार के साथ छठ मनाने लगे हैं। पूंजीवादी संस्कृति के प्रसार के साथ हमारे वैयक्तिक, आत्मकेंद्रित और अकेले होते जाने का एक दुष्परिणाम यह भी है।

छठ सूर्य के प्रति कृतज्ञता-ज्ञापन तथा समाज में नदियों-तालाबों और कृषि के महत्व को रेखांकित करने की सदियों पुरानी परंपरा है। आज के जटिल होते समय में ऐसी सीधी-सरल परंपराओं की जरूरत पहले से ज्यादा बढ़ गई है। यह परंपरा गांवों से कटी और आधुनिकता की अंधी दौड़ में शामिल हमारी नई पीढ़ी को अपनी सांस्कृतिक जड़ों से परिचित कराने की कोशिश भी है। यह खूबसूरत परंपरा अंधविश्वास भी नहीं है और इसीलिए यह अनंत काल तक संजोने लायक है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links