ब्रेकिंग न्यूज़
बैडमिंटन की सुपर स्टार साइना नेहवाल भाजपा में शामिल         संपादक को डिटेंशन कैंप में डालने की शुरुआत..         शाहीन बाग : कई लोगों की नौकरी गई, धरना जारी रहेगा         शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ़्तार         हेमंत सोरेन का पहला मंत्रिमंडल विस्तार : जेएमएम से 5 तो कांग्रेस के दो विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ         तामझाम के साथ अमित शाह के सामने बाबूलाल मरांडी की भाजपा में होगी एंट्री, जेपी नड्डा भी रहेंगे मौजूद         BJP सत्ता में आई तो एक घंटे में खाली होगा शाहीन बाग का प्रदर्शन : प्रवेश वर्मा         हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार : जेएमएम से 5 और कांग्रेस से 2 विधायक होंगे मंत्री         ...तो यह शाहीन चार दिन में गोरैया बन जाएगा         झारखंड: लालू यादव से जेल में मिलकर भावुक हुईं राबड़ी,बेटी मीसा भी रही मौजूद         हेमंत सोरेन का कैबिनेट विस्तार कल, 8 विधायक ले सकते हैं मंत्री पद की शपथ         चाईबासा नरसंहार : पत्‍थलगड़ी नेता समेत 15 आरोपी गिरफ्तार, सभी को भेजा गया जेल         केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे        

कई फांके बिताकर मर गया जो

Bhola Tiwari May 29, 2019, 7:59 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

हमारे पूर्वांचल में सोखा बाबा की पूजा होती है । सोखा बाबा को वीर भद्र सोखा कहा जाता है । ये शिव के गणों में से एक हैं । आम तौर पर इनकी पूजा घर में हीं की जाती है । गंगा की लाई मिट्टी से घर के एक कोने में सोखा बाबा की प्राण प्रतिष्ठा की जाती है । उस दिन चने की दाल की पूरी , गुड़ की खीर , पुआ और पूड़ी का प्रसाद बनता है । सोखा बाबा की याद में औरतें गीत गातीं हैं , जिसे सोखा झूमर कहते हैं । सावन के महीने में दो बुधवार अंजोरिया के सोखा बाबा की पूजा के लिए नियत किए गए हैं । बक्सर के इटाढ़ी में इनका एक मात्र भव्य मंदिर बना है , जहां दूर दूर से पूर्वांचल के लोग आते हैं । सोखा बाबा ग्राम्य देवता माने जाते हैं । इन्हें तंत्र मंत्र का देवता भी माना जाता है । लोग दशहरा में तंत्र मंत्र सीखते हैं और सिद्धी के लिए इटाढ़ी जाते हैं । सिद्धि मिल जाने पर उन्हें सोखा कहा जाता है । पूर्वांचल के लोगों के लिए इटाढ़ी का वही महत्व है जो तंत्र मंत्र की साधना के लिए असम के कौड़ी कामख्या के मंदिर का है ।

हमारे गाँव के पास एक गांव " झरकटहां " है । इस गांव में अधिकत्तर निकुम्भ राजपूत रहते हैं । इन्हीं निकुम्भों के एक एकलौते बेटे के सिर सोखा बनने का भूत सवार हुआ था । माँ बाप ने पढ़ाई लिखाई करवानी चाही , पर बेटे का मन सोखईती में रम गया । वह तंत्र मंत्र साधना में जुट गया । वह सिद्धि हेतु इटाढ़ी भी गया था । वहां से सिद्धि लेकर वह गांव में सोखईती करने लगा । गाँव जवार में उसका बहुत मान जान होने लगा । दूर दूर से उसका बुलावा आने लगा । वह तंत्र मंत्र से लोगों का भूत उतार देता । कहते हैं कि सोखईती में शुचिता का बहुत ध्यान रखा जाता है । एक दिन सोखा लड़का कहीं से भूत उतार कर लाया । उन भूतों को कूर खेत में गाड़ना था । उसने बाग में आम खाया और बाग में हीं सो गया । बिना हाथ मुंह धोए । कहते हैं कि भूत इसी फिराक में रहते हैं कि कब सोखा का ध्यान शुचिता से हटे और वे सोखा पर भारी पड़ें । भूतों को मौका मिल गया । उन भूतों ने उसे पागल कर दिया ।

सोखा पागल हो गया । लोग उसे सोखवा कहने लगे । बच्चे उसे पत्थर मारते । कोई उसे अपने दुआर पर चढ़ने नहीं देता । सब को डर था कि सोखवा के सिर का भूत उनके मत्थे न आ लगे । वह कभी कभार हीं अपने घर जाता । माँ बेचारी उसे भर पेट भोजन कराती । वह उसे घर पर हीं रहने के लिए मनाती , पर वह तो पागल था । एक जगह टिक कर रहना उसकी तो फितरत नहीं थी । पागल होने की वजह से कोई उसे अपनी बेटी भी देने को तैयार नहीं था । इसलिए उसकी शादी नहीं हुई । उसका खानदान आगे नहीं चला । माँ बाप भी एक दिन काल के गाल में समा गये । सोखवा निपट अकेला रह गया । जर जायदाद गोतया दायाद ने हड़प लिया । रात के अंधेरे को सोखवा की आवाज चीरती हुई गुजरती - केहू तातल अन्न से भेंट करायी हो ( क्या कोई गरम खाना देगा ) । मेरे पिताजी और बड़े भाई कलकत्ता रहते थे । मैं और माँ गांव में रहते थे । सोखवा की आवाज बड़ी डरावनी लगती । उन दिनों गाँव में चोरी चकारी खूब होती थी ।

जब सोखवा को कोई खाना नहीं देता तो वह लोगों के दरवाजे पीटना शुरू कर देता । ऐसे में माँ को उठना पड़ता । उसके लिए खाना बनाकर देना पड़ता । जब तक खाना बनता , मैं लालटेन लेकर बैठा रहता । सोखवा भी कोईरी के देवता की तरह मन मारे रहता । खा पीकर जब वह निकलता , तब हम दरवाजा बंद कर सोने जाते । उन दिनों मैं पांचवी कक्षा का विद्यार्थी था । सोखवा के आने पर मैं बहुत भयभीत रहता । उसकी दाढ़ी बढ़ी होती । आंखें धंसी और गाल पिचके हुए थे । वह देखने में भूत जैसा लगता । उसके लिए मुझे दुआर पर बैठना बिल्कुल ही नहीं अच्छा लगता । हर पल ये ख्याल आता कि कोई आ न जाय । कोई चोर या डकैत । सूनी रात झांय झांय कर रही होती । सोखवा के हाथ पैर बहुत कम काम करते । वह अपनी धोती भी बांध नहीं सकता था । वह धोती भी लुंगी की तरह पहनता था ।

सोखवा का पाचन तंत्र भी खराब हो गया था । वह गांव की पगडंडियों पर चलते चलते मल मूत्र त्याग देता । सुबह उठने पर उस मंजर को देख लोग रात को सोखवा के आने का कयास लगाते । सोखवा के घूमने का दायरा छः सात कोस में था । वह मेरे मामा के गाँव कृपाल पुर तक भी जाता था । वहां भी रात के अंधेरे में सोखवा की आवाज गूँजती - केहू तातल अन्न से भेंट करायी हो । वहां भी सोखवा की आवाज नक्कारखाने की तूती साबित होती । कोई उसे खाना देने की जहमत नहीं उठाना चाहता था । सबसे बड़ी बात यह थी कि सोखवा को तातल ( गर्म ) खाना हीं चाहिए था । रात को उठकर उसके लिए गर्म खाना कौन बनाता ? वह इकलौता लड़का था । उसकी माँ ने कभी उसे बासी खाना नहीं दिया था। उसकी आदतें राजकुमारों जैसी थी । 

मैं उन दिनों इण्टर की पढ़ाई कर रहा था । एक दिन जाड़े की सुबह मैं जब खेतों की तरफ जा रहा था तो एक जगह भीड़ देखी । मैं रुक गया । पाले की सफेद चादर से ढका सोखवा मृत पड़ा था । प्रकृति ने उसके लिए स्वतः ही कफन का बंदोबस्त कर दिया था । लोग उसके मरने का कयास लगाने में जुटे हुए थे । मुझे दुष्यंत कुमार का एक शे'र याद आ रहा था -

कई फांके बिताकर मर गया जो, उसके बारे में,

वो सब कहते हैं अब, ऐसा नहीं, ऐसा हुआ होगा

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links