ब्रेकिंग न्यूज़
अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत         नहीं रहे शोले के ''सूरमा भोपाली'', 81 की उम्र में अभिनेता जगदीप का निधन         गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी बसंत रथ को किया निलंबित, दुर्व्यवहार का आरोप         BIG NEWS : कुलभूषण जाधव ने रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से किया इनकार, पाकिस्तान ने दिया काउंसलर एक्सेस का प्रस्ताव         पुलिस पूछ रही है- कहां है दुबे         झारखंड मैट्रिक रिजल्ट : स्टेट टॉपर बने मनीष कुमार         झारखंड बोर्ड परीक्षा रिजल्ट : कोडरमा अव्वल और पाकुड़ फिसड्डी         BIG NEWS :  मैट्रिक का रिजल्ट जारी, 75 परसेंट पास हुए छात्र         पाकिस्तान की करतूत, बालाकोट सेक्टर के रिहायशी इलाकों में की गोलाबारी, एक महिला की मौत          BIG NEWS : होम क्वारंटाइन हो गए हैं सीएम हेमंत सोरेन, आज हो सकता है कोरोना टेस्ट !         BIG NEWS : मंत्री मिथिलेश, विधायक मथुरा समेत 165 नए कोरोना पॉजिटिव         BIG NEWS : उड़ी सेक्टर में भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लद्दाख में एलएसी पर सेना पूरी तरह से मुस्तैद         CBSE: नौवीं से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों के सिलेबस में होगी 30 फीसदी कटौती         BIG NEWS : पुलवामा आतंकी हमले में शामिल एक और OGW को NIA ने किया गिरफ्तार         BIG NEWS : कल घोषित होगा मैट्रिक का रिजल्ट         BIG NEWS : POK में चीन और पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन         बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!        

"सपा-बसपा-रालोद" का महागठबंधन भी मोदी लहर को रोकने में नाकाम रहा

Bhola Tiwari May 24, 2019, 9:55 PM IST टॉप न्यूज़
img

अजय श्रीवास्तव

बात साल 1993 की है,विवादित ढांचे के विधवंस के बाद कल्याण सिंह सरकार की बर्खास्तगी हो गई थी।प्रचंड रामलहर के बीच उत्तर प्रदेश के चुनाव हो रहे थे।उन दिनों कल्याण सिंह हिंदुओं के महानायक बनकर उभरे थे,उनका कद बहुत बडा हो चुका था।

रामलहर में चुनाव जीतना असंभव सा दिख रहा था,उस समय बसपा के संस्थापक माननीय कांशीराम और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने चुनावी गठबंधन किया।

उन दिनों इस गठबंधन को बहुत भाव नहीं मिल रहा था कारण प्रचंड रामलहर था।सभी को विश्वास था कि रामलहर और हिंदू हृदय सम्राट हो चुके कल्याण सिंह के नेतृत्व में पार्टी चुनावी वैतरणी आसानी से पार लगा लेगी,मगर ऐसा हुआ नहीं।सपा-बसपा गठबंधन ने रामलहर में रामरथ को थाम लिया।

धर्म पर जाती हावी हो गई और सबसे बडी पार्टी होने के बावजूद भाजपा को विपक्ष में बैठना पडा था।

2019 में 25 साल बाद मायावती और अखिलेश यादव ने फिर ये सोच कर गठबंधन किया कि धर्म पर जाती हावी रहेगी,मगर इस बार ये प्रयोग असफल रहा,क्योंकि इस बार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा ने गैर यादव और गैर जाटव को अच्छी तरह से साध लिया था।भाजपा के थिंक टैंक ने अपना पूरा फोकस गैर यादव और गैर जाटव के बडे वोट बैंक पर केन्द्रित किया।दरअसल मायावती अपनी जाति और दो तीन अन्य दलित समाज में हीं पैठ रखती हैं जबकि दलितों में 66 अन्य जातियाँ हैं।संघ और बीजेपी ने इन अन्य जातियों का सम्मेलन कराकर और उन्हें उचित सम्मान देकर अपने पाले में कर लिया।मायावती ये दंभ में रह गई कि दलित समाज उनके साथ है मगर हकीकत तो ये है कि अब वो तीन चार दलित जातियों की हीं लीडर रह गई हैं।

वही हाल समाजवादी पार्टी का हुआ,अखिलेश को गुमान था कि सभी पिछडी जातियाँ उनके पीछे गोलबंद है,लेकिन उनके साथ यादव के अलावा कोई अन्य पिछडी जाति नहीं है ये इस चुनाव में तय हो गया।

रालोद अपनी अस्तित्व की लडाई लड़ रहा है,उसे भी गुमान था कि वह इन दोनों की पुंछ पकडकर भव सागर को पार कर लेगा मगर वो भी औंधे मुंह गिरा है।

मुझे लगता है कि अगर महागठबंधन कांग्रेस से सम्मानजनक सीटों पर समझौता करता तो स्थिति कुछ और हो सकती थी।अखिलेश यादव कांग्रेस को छह सीट देने को तैयार थे मगर मायावती को लगा कि अगर कांग्रेस का संगठन फिर से खडा हो जाता है तो दलित वोटबैंक उनसे खिसक सकता है इस वजह से वो कांग्रेस के साथ गठबंधन के लिए तैयार नहीं हुई।

भाजपा की इस आशातीत सफलता के पीछे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का प्रमुख हाथ है।उसने दलितों और पिछडों के जातियों को ढंग से पहचाना और उसके बीच जाकर काम किया।सपा-बसपा-रालोद ये मुगालते में रह गई कि अब गठबंधन हो गया है और जीत निश्चित है मगर मोदी लहर में सब कुछ बेपर्दा हो गया।अब देखना महत्वपूर्ण होगा कि ये गठबंधन कब तक बना रहता है क्योंकि स्वार्थ के लिए बने गठबंधन की आयु बेहद कम होती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links