ब्रेकिंग न्यूज़
किसान आंदोलन की आग पर पॉलिटिक्स की रोटी         BIG NEWS : “गिलगित-बल्तिस्तान को अस्थाई तौर पर प्रांत का दर्जा देना प्राथमिकता”: इमरान खान         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर DDC चुनाव में गौतम गंभीर होंगे बीजेपी के अगले स्टार प्रचारक         BIG NEWS : शेहला रशीद का दावा, “मेरे पिता ने नहीं की मेरी परवरिश, वो मेरे बारे में कुछ नहीं जानते”         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में हस्तकला से जुड़े कारीगरों का पंजीकरण करेगी सरकार, हस्तशिल्प को मिलेगा वैश्विक बाजार         BIG NEWS : “जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराने पर निर्वाचन आयोग लेगा फैसला”- राज्य चुनाव आयुक्त केके शर्मा         BIG NEWS : शेहला रशीद मामले में तू तू मैं मैं, शेहला के पिता ने कहा, “अगर मैं हिंसक व्यक्ति हूं, तो मेरे खिलाफ कई FIR दर्ज होनी चाहिए थी”         BIG NEWS : DDC चुनाव में लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए नागरिकों ने किया मतदान, कुल 48.62 फीसदी लोगों ने डाला वोट         BIG NEWS : सुरंग का पता लगाने के लिए पाकिस्तान में 200 मीटर अंदर घुसे भारतीय जवान, नगरोटा हमले में हुआ इस्तेमाल !         BIG NEWS : 25000 करोड़ के रोशनी घोटाले में फारूक अब्दुल्ला के भाई मुस्तफा का नाम भी शामिल, जांच जारी         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में फिर की गोलाबारी, एक बीएसएफ अधिकारी शहीद         किसान आंदोलन का मतलब         क्या किसान को समझने में असफल है वर्तमान सरकार          BIG NEWS : माता अन्नपूर्णा एक बार फिर अपने घर लौटकर आ रही हैं...         BIG NEWS : शेहला रशीद पर पिता ने लगाये गंभीर आरोप- कहा- एंटी नेशनल एक्टिविटिज़ में शामिल है शेहला         BIG NEWS : कोरोना काल में भी काशी की ऊर्जा, भक्ति, शक्ति में नहीं आया बदलाव : पीएम मोदी         BIG NEWS : कश्मीर में महबूबा मुफ्ती की सियासी ज़मीं कमजोर, अपनों ने छोड़ा साथ तो फिर अलापा अनुच्छेद 370 का राग         GOOD NEWS : रांची रेलवे स्टेशन पर 6 नाबालिग लड़कियों को कालकोठरी पहुंचने से बचाया         BIG NEWS : नए कृषि सुधारों से किसानों को कानूनी संरक्षण दिया गया, पुराने सिस्टम पर रोक कहां : पीएम मोदी         BIG NEWS : DDC चुनाव के बीच आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई तेज, कुपवाड़ा में हैंड ग्रेनेड और 3.5 लाख रुपये के साथ एक आतंकी सहयोगी गिरफ्तार         BIG NEWS : 30 नवंबर को साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, जानें कब और कहां दिखाई देगा         BIG NEWS : किसान आंदोलन को लेकर हाइप्रोफाइल मीटिंग, नड्डा के घर में शाह, राजनाथ और तोमर ने किया मंथन         BIG NEWS : विपक्षी दलों के दबाव के बाद पीएम इमरान खान ने दी सफाई, कहा- “मुझ पर सेना का कोई दबाव नहीं है”         “ जम्मू कश्मीर में DDC चुनाव को बाधित करने की लगातार कोशिश में हैं आतंकवादी” : सेना प्रमुख एमएम नरवणे         जम्मू में LOC के पास दिखा ड्रोन, BSF ने की कार्रवाई में फायरिंग         BIG NEWS : पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ में कहा, “नए कृषि कानून से दूर होगी किसानों की परेशानी”         BIG NEWS : सुकमा में IED ब्लॉस्ट असिस्टेंट कमांडेंट नितिन भालेराव शहीद, 10 जवान घायल         BIG NEWS : DDC चुनाव के पहले दिन बड़ी संख्या में नागरिकों ने किया मतदान, कुल 51.76 फीसदी लोगों ने डाला वोट         कोरोना वायरस: टीकाकरण के लिए देश में तैयारी जोरों पर         BIG NEWS : चाईबासा में नक्सलियों से एनकाउंटर के बाद पुलिस ने SLR समेत 169 जिंदा कारतूस किया बरामद         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान की जनता के आगे इमरान सरकार ने टेके घुटने, 9 साल बाद बाबा जान को किया रिहा         BIG NEWS : DDC चुनाव के पहले दिन का मतदान खत्म, 1 बजे तक 40 फीसदी लोगों ने डाला वोट         जम्मू-कश्मीर में जमीनी लोकतंत्र का आगाज, DDC चुनाव में स्थानीय नागरिकों ने बढ़चढ़कर लिया हिस्सा         BIG NEWS : जायडस की वैक्सीन का अपडेट लेने के बाद PM मोदी हैदराबाद के लिए हुए रवाना         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में DDC के 43 सीटों पर वोटिंग, पंच और सरपंच के उपचुनाव के लिए 1179 प्रत्याशी मैदान में         गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान         BIG NEWS : चारा घोटाला के मामले में लालू यादव की सुनवाई 11 दिसंबर तक टली         BIG NEWS : 28 नवंबर को DDC चुनाव के पहले चरण का मतदान, चुनाव के मद्देनजर घाटी में बढ़ाई गई सुरक्षा         BIG NEWS : सुरक्षा के कारण बस पुलवामा जाने से रोका गया, नजरबंद नहीं हैं महबूबा मुफ्ती : पुलिस         BIG NEWS : पाकिस्तान ने LOC पर लगातार दूसरे दिन की गोलाबारी, 2 जवान शहीद         BIG NEWS : बॉम्‍बे हाई कोर्ट कंगना रनौत को दिलाएगा मुआवजा, कहा- BMC ने गलत इरादे' से की एक्ट्रेस के मुंबई ऑफिस में तोड़फोड़         पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में की गोलाबारी, एक जवान शहीद         सड़ियल समाज की मरी संतानें         BIG NEWS : किसान आंदोलन के बहाने कांग्रेस का फर्जीवाड़ा, पुरानी तस्वीरें पोस्ट कर माहौल भड़काने की कोशिश         यहां शिवजी देते हैं जीवन का वरदान, मौत भी खाती है इनसे खौफ         BIG NEWS : फोन कंट्रोवर्सी के लपेटे में आए लालू, BJP नेता ने लालू यादव के खिलाफ दायर किया PIL         BIG NEWS : फोन कॉन्ट्रोवर्सी हुई तो 114 दिन से बंगले में रह रहे लालू यादव रिम्स वार्ड में लौटे         एक बड़ी साजिश जो नाकाम हो गई...         BIG NEWS : DDC चुनाव से पहले महबूबा मुफ्ती को बड़ा झटका, PDP के तीन और नेताओं ने एक साथ दिया इस्तीफा         BIG NEWS : पाकिस्तान एक बार फिर हुआ शर्मसार, शाह महमूद कुरैशी की कोशिश के बावजूद OIC में जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर नहीं होगी कोई चर्चा         BIG NEWS : श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, दो जवान शहीद         BIG NEWS : चाईबासा के टोंटो जंगल से 5 नर कंकाल         

इस मंदिर के दर्शन के बिना अधूरी है आपकी धार्मिक यात्रा

Bhola Tiwari Oct 29, 2020, 8:32 AM IST टॉप न्यूज़
img

नई दिल्ली : सनातन धर्म के आदि पंच देवों में भगवान श्री गणेश, भगवान विष्णु, देवी मां दुर्गा, भगवान शंकर यानि शिव व सूर्यदेव शामिल है। वहीं चार धामों में बद्रीधाम, जगन्नाथ, द्वारिका व रामेश्वरम शामिल हैं। आदि पंच देवों में से एक भगवान शिव को संहार का देवता माना जाता है। वहीं इनके ज्योतिर्लिंगों में से एक शिवलिंग इतना महत्वपूर्ण माना जाता है, कि उनके दर्शन किए बिना चार धामों की यात्रा तक पूर्ण नहीं मानी जाती।

जानकारों के अनुसार चार धामों की यात्रा में श्रद्घालु हिमालय क्षेत्र में जिन भगवान केदारनाथ के दर्शन करते हैं, उनका भगवान पशुपतिनाथ से विशेष संबंध माना जाता है। शिवपुराण के अनुसार भगवान शिव के एक ही शिव विग्रह का शिरोभाग पशुपतिनाथ है। इसलिए ऐसा कहा जाता है कि चार धाम यात्रा करने के बाद भी पशुपतिनाथ के दर्शन किए बिना यात्रा पूरी नहीं होती।


अतीत से ही हिमालय का पूरा भू-भाग महेश्वर दर्शन का केन्द्र रहा है। महाभारत के वन पर्व में भगवान पशुपतिनाथ के क्षेत्र को महेश्वरपुर की संज्ञा दी गई है और कहा गया है कि महेश्वरपुर में जाकर भगवान शंकर की अर्चना करके उपवास रखने से सभी कामनाएं पूरी होती है।

माहेश्वरपुर गत्वा अर्चयित्वा वृषध्वजम्ï।

ईप्सितांल्लभते कामानुपवासान्न संशय॥


शिवपुराण में पशुपतिनाथ व केदारनाथ के महत्व का विशेष रूप से वर्णन किया गया है। शिवपुराण के अनुसार जब पाण्डव हिमाचल के पास पहुंचकर केदारनाथ के दर्शन करने के लिए आगे बढ़े तो पाण्डवों को देखकर भगवान शिव ने भैसे का रूप धर लिया और भागने लगे। पाण्डवों ने उनकी पूंछ पकड़कर बार-बार प्रार्थना की तो नीचे की ओर मुंह कर शिव विराजमान हुए तथा भक्तवत्सल नाम से इसी रूप में स्थित हुए भगवान केदारनाथ का शिरोभाग नेपाल में पहुंचकर पशुपतिनाथ के रूप में प्रतिष्ठिïत हुआ।


पशुपतिनाथ मंदिर के संबंध में स्कन्द पुराण में उल्लेख है। इसके अनुसार भगवान सदाशिव को शे.ष्मान्तक वन विशेष प्रिय था। भगवान शंकर पार्वती के साथ मृग बनकर विहार करते रहे। भगवान शिव को सभी देवतागण अपने बीच न पाकर दुखी हुए तथा खोजते खोजते शे.ष्मान्तक वन पहुंचे। वहां भगवान शिव एक सींग वाले त्रिनेत्र मृग के रूप में विचरण करते दिखाई दिए।

ब्रह्मा, विष्णु व इन्द्र ने उन्हें पहचाना और सींग से पकड़कर वश में करना चाहा, परन्तु भगवान शिव उछलकर वाग्मती नदी के पार पहुंच गए व वाग्मती के पश्चिम तट पर पशुपति के रूप में रहने लगे।

ऐसा माना जाता है कि पशुपति मंदिर के ज्योतिर्लिंग की प्रतिष्ठा ग्वालों ने करवाई थी। ग्वालों के बाद किरात राजाओं, लिच्छवि वंश व मल्ल वंश के नरेशों ने इस पवित्र मंदिर का निर्माण समय-समय पर करवाया तथा शाहवंश के राजाओं के समय तक आकर इसने वर्तमान स्वरूप प्राप्त किया।

काठमांडू शहर से 5 किलोमीटर दूर वाग्मती के पश्चिम तट पर स्थित पशुपतिनाथ मंदिर आकर्षक नेपाली वास्तुकला के नमूने के रूप में अवस्थित है। इस भव्य मंदिर की छतें स्वर्णमण्डित और दीवारें रजत जड़ित हैं। पशुपतिनाथ क्षेत्र का यह पावन परिसर हिन्दू संस्कृति के साथ साथ विभिन्न सम्प्रदयों का विशिष्ठ साधना स्थल भी रहा है।

दो सौ चौसठ हेक्टेयर जमीन में फैले पशुपतिनाथ क्षेत्र में आज दो सौ पैंतीस विविध शैली के मोहक मंदिर है। जो शैव, वैष्णव, शाक्त आदि वैदिक धर्म की विभिन्न शाखाओं से संबंधित है। इसी क्षेत्र में बौद्घों के दो विहार तथा एक स्तूप व दो नानक मठ भी इसी क्षेत्र में स्थित है।

श्रद्घालुओं व संतों के आवास के लिए अनेक मठ, आश्रम व धर्मशालाएं यहाँ हैं। गौरी, किरातेश्वर, गृह्यïकाली, बाबा गोरखनाथ, सीताराम, लक्ष्मी नारायण, भगवान विष्णु, नील सरस्वती, मंगलगौरी, भस्मेश्वर, माता वत्सला, मृगेश्वर आदि मन्दिर प्रमुख है।

पशुपति नाथ मंदिर की दर्शन विधि भी विशिष्टï है। दर्शन के क्रम में सबसे पहले भगवान पशुपतिनाथ की परिक्रमा पूरी की जाती है। तब मंदिर में प्रवेश करने की परम्परा है। भगवान शिव की केवल आधी परिक्रमा करने का निर्देश है। उत्तर की ओर बहने वाली जलधारा को भी लांघा नहीं जाता है।

पशुपतिनाथ मंदिर क्षेत्र में पूरे वर्ष भर विभिन्न धार्मिक आयोजन, पर्व मनाए जाते रहते हैं। महाशिवरात्री, शीतलाष्टमी, हरिशयनी और हरि बोधनी एकादशी, श्रीव्यास जयंती, गुरु पूर्णिमा, हरि तालिका तीज, नवरात्र, वैकुण्ठ चतुदर्शी, बाला चतुदर्शी आदि पर्वों में भगवान पशुपति नाथ व क्षेत्र के अन्य मंदिरों में विशेष पूजन होने के कारण श्रद्घालुओं का तांता बंधा रहता है।

इन पर्वों के अतिरिक्त पशुपतिनाथ क्षेत्र में चलाई जाने वाली यात्राएं भी प्रसिद्घ हैं। जिनमें वैशाख शुल्क पूर्णिमा को छंदों चैत्य यात्रा, आषाढ़ कृष्ण अष्ठमी को त्रिशूल यात्रा, आषाढ़ शुक्ला सप्तमी को सूर्य तथा गंगा माई यात्रा, गाई यात्रा, खड्ग यात्रा, चन्द्र विनायक यात्रा, श्वेत भैरव यात्रा, नवदुर्गा यात्रा, गुहेश्वरी यात्रा आदि प्रमुख हैं।

पशुपतिनाथ के दर्शन के साथ साथ श्रद्घालु नेपाल के अन्य धार्मिक स्थलों के दर्शन के लिए भी जाते हैं। सुंसरी का वराह क्षेत्र, खोटाड़ का हलेसी महादेव, धनुषा का जानकी मंदिर, चितवन का देवघाट, काठमांडू का ब्रजयोगिनी, दक्षिण काली, बुढानील कण्ठ, स्वयंभूनाथ, बौद्घनाथ, गौरखा का मनकामना व गोरख काली, कपिल वस्तु व वाल्मिकी आश्रम प्रमुख हैं।

भगवान पशुपति नाथ देवों के भी देव यानी महादेव है। उनका महिमागान समग्र वैदिक, पौराणिक ग्रंथों में पाया जाता है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links