ब्रेकिंग न्यूज़
अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत         नहीं रहे शोले के ''सूरमा भोपाली'', 81 की उम्र में अभिनेता जगदीप का निधन         गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी बसंत रथ को किया निलंबित, दुर्व्यवहार का आरोप         BIG NEWS : कुलभूषण जाधव ने रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से किया इनकार, पाकिस्तान ने दिया काउंसलर एक्सेस का प्रस्ताव         पुलिस पूछ रही है- कहां है दुबे         झारखंड मैट्रिक रिजल्ट : स्टेट टॉपर बने मनीष कुमार         झारखंड बोर्ड परीक्षा रिजल्ट : कोडरमा अव्वल और पाकुड़ फिसड्डी         BIG NEWS :  मैट्रिक का रिजल्ट जारी, 75 परसेंट पास हुए छात्र         पाकिस्तान की करतूत, बालाकोट सेक्टर के रिहायशी इलाकों में की गोलाबारी, एक महिला की मौत          BIG NEWS : होम क्वारंटाइन हो गए हैं सीएम हेमंत सोरेन, आज हो सकता है कोरोना टेस्ट !         BIG NEWS : मंत्री मिथिलेश, विधायक मथुरा समेत 165 नए कोरोना पॉजिटिव         BIG NEWS : उड़ी सेक्टर में भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लद्दाख में एलएसी पर सेना पूरी तरह से मुस्तैद         CBSE: नौवीं से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों के सिलेबस में होगी 30 फीसदी कटौती         BIG NEWS : पुलवामा आतंकी हमले में शामिल एक और OGW को NIA ने किया गिरफ्तार         BIG NEWS : कल घोषित होगा मैट्रिक का रिजल्ट         BIG NEWS : POK में चीन और पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन         बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!        

हम लोग नार्वे के स्कूल में हैं

Bhola Tiwari May 23, 2019, 7:29 AM IST टॉप न्यूज़
img

प्रवीण झा

(जाने माने चिकित्सक, नार्वे)

नॉर्वे के सरकारी स्कूलों का हिसाब-किताब किसी ने पूछा। स्कूल मुफ्त है। यह सात बजे सुबह खुल जाता है, जब शीत-काल में तो अंधेरा ही होता है। हालांकि यह उन माता-पिता के लिए है जो सुबह ऑफ़िस निकल जाते हैं। असल स्कूल तो सवा आठ बजे खुलता है। अगर बच्चा उस वक्त तक स्कूल न पहुँचा, तो घर फ़ोन चला जाता है कि क्या बात हुई? स्कूल पहुँच कर प्रार्थना कहिए या जो भी, एक मधुर संगीत बजता है। इसी दौरान एक विद्यार्थी दूसरे विद्यार्थी का बारी-बारी से पीठ-कंधा दबा कर मसाज़ करता/करती है। यह प्रक्रिया हर जगह है, यह पता नहीं, पर है बड़ा ताजगी भरा। 

उसके बाद रूटीन के अनुसार गणित, अंग्रेज़ी, नॉर्वेज़ियन, धर्म-शिक्षा, इतिहास-संस्कृति शिक्षा, क्राफ्ट, संगीत की पढ़ाई है। स्कूल की तिहाई पढ़ाई स्कूल से बाहर खुले आंगन या जंगल में अनिवार्य है, चाहे बर्फ गिरे या बारिश हो। उसमें यूँ ही पहाड़ चढ़ते या आंगन में कुछ पढ़ाते-बताते रहते हैं। इसी का कुछ भाग खेल-कूद, घुड़सवारी, स्की, तैराकी इत्यादि भी है। यह सब लगभग एक बजे तक निपट जाता है। 

फिर बच्चे घर निकल जाते हैं, या जो छोटे बच्चे हैं या घर नहीं जाना चाहते, वे पाँच बजे तक स्कूल में बिता सकते हैं। इन चार घंटों का क्रिया-कलाप भी निर्धारित है, लेकिन यह समूह में बाँट कर किया जाता है। पिछले तीन वर्षों से सरकार हर बच्चे को आई-पैड दे रही है, जिस पर उन्हें बोल कर (रिकॉर्ड कर), लिख कर सवालों के जवाब देने हैं। यह होमवर्क रोज का ही कुछ हल्का-फुल्का जरूर है। स्कूल के अंदर आई-पैड का प्रयोग न कर बोर्ड और कॉपी-पेंसिल का प्रयोग है। सभी रिपोर्ट अभिभावकों को भी एक ऐप्प के माध्यम से मिलती रहती है। सातवीं कक्षा तक अलग से कुछ परीक्षा नहीं, लेकिन छात्र की एक रिपोर्ट जरूर दी जाती है, जो अंक-पद्धति में न होकर किसी कहानी की तरह होती है। मसलन शिक्षक छात्र के बारे में क्या सोचते हैं?

.........

*यह प्राथमिक और मध्य स्कूल की बात है। 

* स्कूल के मूल समय से अतिरिक्त रूकने की फ़ीस है। लगभग साठ प्रतिशत बच्चे फीस भर कर रूकते हैं।

*पाँचवी कक्षा में एक राष्ट्रीय परीक्षा होती है जिसमें गणित, अंग्रेज़ी और कम्प्रिहेंशन (समझ) विषय हैं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links