ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : झारखंड के लातेहार में 7 लड़कियों समेत 8 की तालाब में डूबने से मौत, पीएम मोदी ने जताया शोक         BIG NEWS : पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म, सोनिया गांधी तय करेंगी अगले CM का नाम         BIG NEWS : कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दिया इस्तीफा, इस्तीफे के बाद बोले कैप्टन- सुबह ही ले लिया था फैसला, अपमान हुआ         प्रियंका चोपड़ा जोनास बनने का मतलब लेखक बनना है का ?@!         BIG NEWS : चीन पाकिस्तान के बीच नया परमाणु समझौता भारत ही नहीं दुनिया के लिए बेहद खतरनाक         BIG NEWS : ऑस्ट्रेलिया की पूरी आबादी के बराबर इंडिया में 1 दिन में वैक्सीनेशन         BIG NEWS : कांग्रेस आलाकमान ने माँगा CM अमरिंदर का इस्तीफा, कैप्टन बोले- पार्टी छोड़ दूंगा..         जम्मू कश्मीर के लाइट इन्फेंट्री में शामिल हुए 460 जवान, ड्रोन हमलों से निपटने के लिए तैयार         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर प्रशासन ने 'राष्ट्र विरोधी गतिविधियों' में शामिल सरकारी कर्मचारियों की जांच के लिए स्क्रीनिंग कमेटी का किया गठन         BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने पुलिसकर्मी की गोली मारकर की हत्या, हमलावरों की तलाश जारी         BIG NEWS : तालिबान को लेकर केंद्र सरकार अलर्ट, देश में पहली बार सभी ATS चीफ और खुफिया एजेंसियों की बुलाई बैठक         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर सरकार का आदेश, सरकारी कर्मचारियों को पासपोर्ट आवेदन के लिए एसीबी से मंजूरी लेना अनिवार्य         BIG NEWS : पाकिस्तान में प्रशिक्षण प्राप्त आतंकवादी रच रहे थे बड़ी साजिश, पुल और रेलवे ट्रैक को बनाया था निशाना         BIG NEWS : 'टीम भूपेंद्र' ने ली गोपनीयता की शपथ, पुराने मंत्रियों की जगह सभी नए चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह         गुजरात में नए मंत्रिमंडल का गठन आज, पाटीदारों के हावी होने की संभावना, देखें लिस्‍ट         BIG NEWS : अनुच्छेद 370 निरस्त होने के बाद पहली बार जम्मू-कश्मीर जाएंगे मोहन भागवत, जमीनी हालात का लेंगे जायजा         BIG NEWS : अफगानिस्तान के लिए भारत की भूमिका हुई अहम, क्वाड समिट से पहले मोदी से मिल सकते हैं बाइडेन         टाइम मैगजीन के 100 प्रभावशाली लोगों में पीएम मोदी, ममता और पूनावाला का नाम शामिल         BIG NEWS : “श्रीनगर में 4 आतंकियों समेत 15 OGWs मौजूद, सर्च ऑपरेशन जारी”: आईजी विजय कुमार         BIG NEWS : UNHRC में भारत ने पाकिस्तान और OIC को लगाई लताड़, जम्मू-कश्मीर पर कुछ भी बोलने का अधिकार नहीं         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में महिलाओं को घर पर ही मिलेगी डिजिटल बैंकिंग सुविधा, डिजी सखी योजना शुरू         BIG NEWS : जनजातीय समुदाय को नौकरी और राजनीति में मिलेगा आरक्षण, 20 जिले में जनजातीय छात्रों के लिए बनेंगे छात्रावास         BIG NEWS : पाकिस्तान समर्थित आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़, ट्रेनिंग प्राप्त दो आतंकियों समेत 6 गिरफ्तार         WHO इस हफ्ते भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को दे सकता है मंज़ूरी         BIG NEWS : देश में टीकाकरण का आंकड़ा 75 करोड़ के पार पहुंचा, WHO ने की तारीफ         BIG NEWS : पाकिस्तान के गृहमंत्री शेख रशीद ने कबूला सच, कहा – “सेना चला रही है इमरान खान की सरकार”         BIG NEWS : श्रीनगर में एक बड़ी आतंकी साजिश नाकाम, पुलिस पब्लिक स्कूल के पास 6 ग्रेनेड बरामद          बिगड़े बोल के कारण ही सरकार में रखे गये हैं रामेश्वर उरांव         BIG NEWS : श्रीनगर में आतंकी ने इंस्पेक्टर अर्शीद अहमद की गोली मारकर की हत्या, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात         BIG NEWS : भूपेंद्र पटेल होंगे गुजरात के अगले मुख्यमंत्री, बीजेपी विधायक दल की बैठक में फैसला         BIG NEWS : कौन होगा गुजरात का अगला मुख्यमंत्री, रेस में कितने नाम?          BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में मुंसिफ जज बर्खास्त, एलजी मनोज सिन्हा ने हाईकोर्ट की सिफारिश पर की कार्रवाई         GOOD NEWS : श्रीनगर के प्राचीन गणेश मंदिर में कश्मीरी हिंदूओं ने की पूजा-अर्चना, घाटी में गूंजे गणपति के जयकारे         ध्वस्त मिनारें और बदले के अभियान         कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच PM मोदी ने की समीक्षा बैठक, राज्यों को दवाओं के बफर स्टॉक का निर्देश         BIG NEWS : कश्मीर फाइट ब्लॉग मामला, “कानून की उचित प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है” : आईजी विजय कुमार         BIG NEWS : मैं कश्मीरी पंडित हूं, मेरा परिवार कश्मीरी पंडित है', जम्मू में राहुल गांधी का बयान         BIG NEWS : एलजी मनोज सिन्हा ने विश्व भर के निवेशकों को आने का दिया न्योता, कहा- “नया जम्मू कश्मीर कारोबार के लिए खुला”         BIG NEWS : श्रीनगर में आतंकियों ने किया ग्रेनेड हमला, CRPF का एक जवान घायल        

11 देवी मंदिर जहां नवरात्र में दर्शन करने से माता भरती हैं भक्तों की झोली

Bhola Tiwari Oct 17, 2020, 5:21 AM IST टॉप न्यूज़
img

नई दिल्ली : देवी मां के दर्शन करने के लिए किसी दिन विशेष की जरूरत नहीं होती बस श्रद्धा चाहिए लेकिन नवरात्र को खास माना गया है। बात चाहे वासंतिक नवरात्र की हो या फिर शारदीय। इन दिनों में मां के दर्शन और पूजन से विशेष फल मिलता है। आज हम माता रानी के कुछ ऐसे मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां शारदीय नवरात्र में मां की विशेष कृपा पाने के लिए भक्‍तों की भारी भीड़ लगी रहती है। इस नवरात्र तीर्थयात्रा की योजना बना रहे हैं तो ये 11 स्थान ऐसे हैं जहां जाकर आप अपनी मुरादों की झोली भर सकते हैं।

1. मां वैष्णो का पावन दरबार

जम्मू में स्थित त्रिकूट पर्वत पर मां वैष्णो का निवास है। यहां माता वैष्णो देवी लक्ष्मी, सरस्वती और काली के साथ विराजमान हैं। कलियुग में माता वैष्णो का दर्शन बड़ा ही पुण्यदायी माना गया है। भगवान श्रीराम ने त्रेतायुग में देवी त्रिकूटा जिन्हें माता वैष्णो कहते हैं उन्हें इस स्थान पर रहकर कलियुग के अंत तक भक्तों के कष्ट दूर करने का आदेश दिया था। उस समय से देवी अपनी माताओं के संग यहां वास करती हैं और भगवान के कल्कि अवतार का प्रतीक्षा कर रही हैं। नवरात्र में माता के इस दरबार में दर्शन कर पाना बड़े ही सौभाग्य से होता है।

2. प्रसिद्ध चमत्‍कारी धाम मां पीतांबरा देवी 

मध्यप्रदेश के दतिया जिले में स्थित मां पीतांबरा सिद्धपीठ है। इसकी स्‍थापना 1935 में स्‍वामीजी ने की थी। यहां मां के दर्शन के लिए कोई दरबार नहीं सजाया जाता बल्कि एक छोटी सी खिड़की है, जिससे मां के दर्शन का सौभाग्‍य मिलता है। यहां मां पीतांबरा देवी तीन प्रहर में अलग-अलग स्‍वरूप धारण करती हैं। यदि किसी भक्‍त ने सुबह मां के किसी स्‍वरूप के दर्शन किए हैं तो दूसरे प्रहर में उसे दूसरे रूप के दर्शन का सौभाग्‍य मिलता है। मां के बदलते स्‍वरूप का राज आज तक किसी को नहीं पता चल सका। इस इसे चमत्‍कार ही माना जाता है। यूं तो हर समय ही यहां भक्‍तों का मेला सा लगा रहता है लेकिन नवरात्र में मां की पूजा का विशेष फल बताया गया है। कहा जाता है कि पीले वस्‍त्र धारण करके, मां को पीले वस्‍त्र और पीला भोग अर्पण करने से भक्‍त की हर मुराद यहां पूरी होती है।


3. अद्भुत रहस्‍यमयी मां त्रिपुर सुंदरी 

बिहार के बक्‍सर में तकरीबन 400 साल पहले ‘मां त्रिपुर सुदंरी’ मंदिर का निर्माण हुआ था। कहा जाता है कि इसका निर्माण तांत्रिक भवानी मिश्र ने किया था। यहां मंदिर में प्रवेश करते हैं अद्भुत शक्ति का आभास होता है। साथ ही मध्‍य रात्रि में मंदिर परिसर से आवाजें आनी शुरू हो जाती हैं। पुजारी बताते हैं कि यह आवाजें मां की प्रतिमाओं के आपस में बात करने से आती हैं। हालांकि इस मंदिर से आने वाली आवाजों पर पुरातत्‍व विज्ञानियों ने कई बार शोध भी किया गया लेकिन उन्‍हें कुछ नहीं मिल सका। इसके बाद यह शोध भी बंद कर दिए गए। वासंतिक हो या शारदीय यहां साधकों की भीड़ लगी रहती है।

4. दुर्गा परमेश्‍वरी मंदिर

मंगलूरू स्थित दुर्गा परमेश्‍वरी मंदिर को एक खास परंपरा के लिए जाना जाता है। यहां पर अग्नि केलि नाम की एक परंपरा के तहत भक्‍त एक-दूसरे पर अंगारे फेंकते हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार यह परंपरा आज से नहीं बल्कि सदियों से चली आ रही है। जानकारी के अनुसार ये खेल दो गांव आतुर और कलत्तुर के लोगों के बीच खेला जाता है। मंदिर में सबसे पहले देवी की शोभा यात्रा निकाली जाती है, जिसके बाद सभी तालाब में डुबकी लगाते हैं। फिर अलग- अलग गुट बना लेते हैं। अपने अपने हाथों में नारियल की छाल से बनी मशाल लेकर एक दूसरे के विरोध में खड़े हो जाते हैं। फिर मशालों जलाकर इस परंपरा का निर्वहन किया जाता है। नवरात्र पर यहां भक्‍तों की भारी भीड़ रहती है।

5. शक्तिपीठ मां दंतेश्‍वरी मंदिर

छत्‍तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में स्‍थापित मां दंतेश्‍वरी मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। मान्‍यता है कि इस स्‍थान पर मां सती का दांत गिरा था। इसलिए इस जगह का नाम दंतेवाड़ा और मंदिर का नाम दंतेश्‍वरी मंदिर पड़ा। बता दें कि देवी मां के इस मंदिर में सिले हुए वस्‍त्र पहनकर जाने की मनाही है। यहां केवल लुंगी और धोती पहनकर ही देवी मां के दर्शन किया जा सकता है। मंदिर की स्‍थापना के बारे में कहा जाता है कि एक अन्‍नम देव नाम के राजा हुए, जिनपर देवी की कृपा थी। स्‍थानीय निवासी बताते हैं कि दंतेश्‍वरी मां ने राजा को वरदान दिया कि वह जहां तक जाएंगे वहां तक उनका राज्‍य होगा, लेकिन शर्त यह है कि वह पीछे मुड़कर नहीं देखेंगे। इसके बाद राजा आगे-आगे और मां उनके पीछे चलीं। चलते-चलते राजा का साम्राज्‍य काफी फैलता गया। लेकिन एक जगह नदी को पार करते समय राजा को लगा कि मां उनके पीछे नहीं आ रही हैं तो वह मुड़ गए। इसके बाद मां वहीं रुक गई और उन्‍होंने कहा कि शर्त के मुताबिक राजा पीछे मुड़ गया है इसलिए अब वह आगे नहीं जाएंगी। अब यहीं पर विराजेंगी। तब से ही मां दंतेश्‍वरी मंदिर के पास स्थित नदी के किनारे मां के चरण चिन्‍ह मौजूद हैं। नवरात्र के दिनों में यहां दूर-दूर से भक्‍तजन आते हैं।

6. दक्षिणेश्‍वर काली मंदिर

कोलकाता में हुगली नदी के किनारे स्थित यह मंदिर भक्‍तों की अगाध श्रद्धा का केंद्र है। इस मंदिर की स्‍थापना के बारे में कहा जाता है कि जान बाजार की जमींदार रानी रासमणि को मां काली ने स्‍वप्‍न में दर्शन दिया साथ ही मंदिर निर्माण कराए जाने का भी निर्देश दिया। इसके बाद 1847 में दक्षिणेश्‍वर मंदिर का निर्माण शुरू हुआ। यह मंदिर स्‍वामी रामकृष्‍ण परमहंस की कर्मभूमि भी रही है। यूं तो यहां सालभर भक्‍त आते-जाते रहते हैं लेकिन नवरात्र के दिनों में यहां पर देवी के दर्शन का विशेष लाभ माना गया है।

7. करणी माता मंदिर

राजस्‍थान के बीकानेर से तकरीबन 30 किलोमीटर दूर स्थित माता करणी मंदिर अद्भुत है। इसे चूहों वाला मंदिर और मूषक मंदिर के नाम से भी जानते हैं। यहां भक्‍तों को चूहों का जूठा किया हुआ प्रसाद खिलाया जाता है। मां करणी को मां दुर्गा का अवतार माना गया है। साल 1387 में एक चारण परिवार में करणी माता का जन्‍म हुआ। इनका बचपन का नाम रिघुबाई था। विवाह के बाद जब उनका मन सांसरिक जीवन से ऊब गया तो उन्‍होंने अपना पूरा जीवन देवी की पूजा और लोगों की सेवा में अर्पण कर दिया गया। 151 वर्ष तक जीवित रहने के बाद वह ज्‍योर्तिलीन हो गईं। इसके बाद भक्‍तों ने उनकी मूर्ति स्‍थापित करके पूजा करनी शुरू कर दी। यहां तकरीबन 20हजार चूहे हैं। कहते हैं कि यह करणी माता की संताने हैं, यह सुबह की मंगला आरती और शाम की संध्‍या आरती में जरूर शामिल होते हैं। यहां मां को चढ़ाने वाले प्रसाद को पहले चूहों को खिलाते हैं। इसके बाद भक्‍तों में बांटते हैं। नवरात्र में यहां खूब भीड़ लगती है।

8. श्रीसंगी कालिका मंदिर

मंदिर कर्नाटक के बेलगाम में स्थित है। इस मंदिर की स्‍थापना के बारे में कहा जाता है कि इसकी स्‍थापना प्रथम शताब्‍दी में की गई थी। मां के इस मंदिर में काली के स्‍वरूप की उपासना की जाती है। कहा जाता है कि मां के इस दरबार से कभी भी कोई भक्‍त खाली हाथ नहीं लौटा। यहां वासंतिक और शारदीय नवरात्र में श्रद्धालुओं की जबरदस्‍त भीड़ होती है।

9. नैना देवी मंदिर 

नैनीताल में नैनी झील के किनारे बसा है देवी मां का यह अनुपम मंदिर। कहा जाता है कि इसी झील में देवी सती के नेत्र गिरे थे। इसके चलते ही यहां पर नैना देवी मंदिर का निर्माण हुआ। यह शक्तिपीठ है। इस मंदिर में दो नेत्र हैं, जो मां नैना देवी को दर्शाते हैं। यहां सालभर भक्‍त आते-जाते रहते हैं लेकिन नवरात्र के दिनों में यहां पर देवी के दर्शन के लिए लंबी लाइनें लगती हैं। कहते हैं कि आज तक कोई भी भक्‍त मां नैना देवी के दर से खाली हाथ नहीं लौटा।


10. श्री महालक्ष्‍मी मंदिर 

कोल्‍हापुर में स्‍थापित यह मंदिर प्रसिद्ध शक्तिपीठों में से एक है। इस मंदिर का निर्माण चालुक्‍य साम्राज्‍य के द्वारा करवाया गया माना जाता है। इस मंदिर में मां के महालक्ष्‍मी के स्‍वरूप की आराधना की जाती है। यहां भगवान विष्‍णु मां के साथ विराजते हैं। इसके अलावा इस मंदिर की खासियत है कि यहां सूर्य भगवान साल में दो बार मां महालक्ष्‍मी के चरणों को छूकर पूजा करते हुए दिखाई देते हैं। इस दौरान इस मंदिर में 3 दिन का विशेष उत्‍सव भी होता है। यह दृश्‍य हर साल ‘रथ सप्‍तमी’ पर लोगों को जनवरी माह में देखने को मिलता है। कहते हैं कि इस मंदिर में भक्‍त के मन में जो भी विचार आता है, मां की कृपा से वह पूरा जाता है।

11. ज्‍वाला देवी

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्‍थापित यह मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। शास्‍त्रों में कहा गया है कि यहां पर माता सती की जीभ गिरी थी। इस मंदिर में मां ज्‍योति के रूप में स्‍थापित हैं। यही वजह है कि इसे ज्‍वाला देवी मंदिर कहा जाता है। मंदिर में जलने वाली जोत के बारे में कहा जाता है कि यह दिया सदियों से जल रहा है। इसे जलाने के लिए किसी भी तरह के तेल या घी की भी जरूरत नहीं पड़ती। यह प्राकृतिक रूप से जलता रहता है। यहां मांगी गई भक्‍तों की हर मुराद पूरी होती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links