ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : मुंबई में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पकड़ी गई अभिनेत्री और मॉडल!         BIG NEWS : भारतीय सेना ने चीन में बने पाकिस्तान आर्मी के क्वाडकॉप्टर को मार गिराया         आज और कल दशहरा, रावण के पुतलों पर भी कोरोना का असर और भाजपा में कोरोना कोरोना         कौन हैं मां सिद्धिदात्री? भगवान शिव क्यों करते हैं इनकी उपासना         नवरात्रि का नौवां दिन, मां सिद्धदात्री से पाएं रिद्धि-सिद्धि         BIG NEWS : भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों पर की बड़ी कार्रवाई, 3 जवान ढेर, 2 घायल         BIG NRWS : FATF की ग्रे-लिस्ट में रहेगा पाकिस्तान, आतंकी सरगनाओं पर करनी होगी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत की जासूसी के लिए  पाकिस्तान ने मिन्हास एयरफोर्स बेस पर तैनात किये अवाक्स         आखिर किस बात की जल्दी है....         BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकियों पर रोक लगा पाने में नाकाम, FATF की बैठक में “ब्लैक लिस्ट” होने की संभावना बढ़ी         पीएम नरेंद्र मोदी का विपक्ष पर वार, कहा – सत्ता में आकर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 वापस लाना चाहता है विपक्ष         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती का देशद्रोही बयान, कहा- “जब तक जम्मू-कश्मीर का झंडा वापस नहीं मिलता,तिरंगा नहीं उठाएंगे”         नवरात्र का आठवां दिन: जानें मां महागौरी की पूजा विधि, मंत्र, भोग और कथा         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में डीडीसी चुनाव का रास्ता साफ, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जम्मू-कश्मीर पंचायती राज कानून को दी मंजूरी         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर से लेकर POK तक “ब्लैक डे”         BIG NEWS : सोपोर में दो आतंकियों ने किया सरेंडर, हाल ही में अल-बदर आतंकी संगठन में हुये थे शामिल         BIG NEWS : भारत ने किया 'नाग' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण, DRDO ने किया है तैयार         नवरात्र का सातवां दिन, मां कालरात्रि की उपासना से दूर होंगे जीवन के कष्ट         कहीं भी सुरक्षित नहीं महिलाएं         बिहारी की आंखों ने क्या क्या देखना है ?          सुशासन बाबू का सुत्थर चेहरा और बेवाओं की बेबस मुस्कान         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी हमले की बरसी पर 22 अक्टूबर को मनाया जाएगा “ब्लैक डे”         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी, प्रदर्शकारियों ने कहा – “पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है गिलगित-बल्तिस्तान”         BIG NEWS : पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला को ईडी ने दूसरी बार किया तलब, जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन घोटाले मामले में हुई पूछताछ         नवरात्रि के छठे दिन होती है मां कात्‍यायनी की पूजा, जानिए पूजा विधि और मंत्र         बिहार में चुनाव :आरजेडी ने सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवारों को दीया टिकट         BIG NEWS : क्या यूपी के सबसे बड़े माफिया मुख्तार अंसारी को बचा रही है पंजाब सरकार?          BIG NEWS : पुलवामा एनकाउंटर में 2 और आतंकी ढेर, बीते 24 घंटों में 4 आतंकियों का सफाया         BIG NEWS : राहुल गांधी के बयान पर अमित शाह ने किया पलटवार, कहा – “1962 में 15 मिनट में चीन को क्यों नहीं बाहर फेंक पाई कांग्रेस"         BIG NEWS : चीन के सामने फिर झुका पाकिस्तान, इमरान सरकार ने 10 दिनों के अंदर टिकटॉक से हटाया बैन         नवरात्र का पांचवा दिन: ऎसे करें स्कंदमाता की पूजा, मिलेगी सुख-शांति         दुमका गैंगरेप मामले में महिलाओं ने रामगढ़ थाना घेरा, निर्दोष को फंसाने का आरोप         चाईबासा में नक्सलियों का तांडव, कंस्ट्रक्शन में लगे 4 पोकलेन और एक बाइक को किया आग के हवाले         सवाल पूछिए कि क्या सोचकर आदिवासी मामलों का मंत्रालय बनाया था !         बेरमो में का बा !          BIG NEWS : रघुवर दास की फिसली जुबान, कहा- तभी 'चोट्टा' लोग राज कर रहे हैं, जेएमएम ने ट्वीट कर पूछे सवाल         कांग्रेस नेता कमलनाथ के बोल, मध्यप्रदेश की मंत्री इमरती देवी "आइटम"         राजनीति के अपराधीकरण और बिहार में चुनाव         जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन में 43 करोड़ रुपये की गड़बड़ी, पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला से ईडी की पूछताछ         BIG NEWS : पाकिस्तान में विपक्षी दलों की विरोध रैली से डरे इमरान खान, पुलिस ने होटल का दरवाजा तोड़कर नवाज शरीफ के दामाद को किया गिरफ्तार         BIG NEWS : लद्दाख में भारतीय सेना ने एक चीनी सैनिक को पकड़ा, कई दस्तावेज बरामद         गुप्त नवरात्र का चौथा दिन, मां कूष्मांडा को ऐसे करें प्रसन्न         BIG NEWS : अनंतनाग में मस्जिद से लौट रहे पुलिस अफसर की गोली मारकर हत्या, शोपियां में सुरक्षाबलों के साथ एनकाउंटर में एक आतंकी ढेर         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों पर बीते 24 घंटे में दूसरा आतंकी हमला, दो जवान घायल         BIG NEWS : शिक्षा मंत्री को एयर एंबुलेंस से चेन्नई भेजा, हालत बिगड़ने पर चेन्नई से बुलाई गई थी डॉक्टरों की टीम          ''ए नीतीश! तू थक गईल बाऽडा अब जा आराम करऽअ": लालू यादव         BIG NEWS : हड़िया बेचकर आजीविका चला रही है नेशनल कराटे चैंपियन, मदद को आए CM हेमंत सोरेन, अफसरों को दिया निर्देश         नॉर्वे में एक भारतीय रेस्तरां         अब सियासी आदिवासी नहीं..         दुर्गा को पहचानें !        

नवरात्रि का पहला दिन, शैलपुत्री की इस विधि से करें आराधना

Bhola Tiwari Oct 17, 2020, 5:13 AM IST टॉप न्यूज़
img

नई दिल्ली : नवरात्रि पर्व 17 अक्टूबर से प्रारंभ हो रहा है जो 25 अक्टूबर तक चलेगा। राम नवमी 24 अक्टूबर को मनाया जाएगा। हिन्दू पंचांग के अनुसार, आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवरात्र पर्व शुरू होता है जो नवमी तिथि तक चलते हैं। 

शारदीय नवरात्रि में घटस्थापना मुहूर्त

हिन्दू पंचांग के अनुसार इस दिन आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि के दिन घट स्थापना मुहूर्त का समय प्रात:काल 06:27 बजे से 10:13 बजे तक बताया गया है। वहीं घटस्थापना के लिए अभिजित मुहूर्त प्रात:काल 11:44 बजे से 12:29 बजे तक रहेगा।


नवरात्रि में होती है मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा

नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा के नौ रूपों की आराधना होती है। पहले दिन मां शैलपुत्री, दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी, तीसरे दिन मां चंद्रघंटा, चौथे दिन मां कुष्मांडा, पांचवें दिन मां स्कंदमाता, छठे दिन मां कात्यायनी, सातवें दिन मां कालरात्रि, आठवें दिन मां महागौरी और नौवें और अंतिम दिन सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। नवरात्र के पहले दिन विधिनुसार घटस्थापना का विधान है।

धर्मग्रंथ एवं पुराणों के अनुसार शारदीय नवरात्रि माता दुर्गा की आराधना का श्रेष्ठ समय होता है। नवरात्र के इन पावन दिनों में हर दिन मां के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है, जो अपने भक्तों को खुशी, शक्ति और ज्ञान प्रदान करती है। नवरात्रि का हर दिन देवी के विशिष्ठ रूप को समर्पित होता है और हर देवी स्वरुप की कृपा से अलग-अलग तरह के मनोरथ पूर्ण होते हैं। नवरात्रि का पर्व शक्ति की उपासना का पर्व है। हिन्दू धर्म के इस पावन पर्व पर मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा होती है। नवरात्र के पहले दिन घटस्थापना का विधान है। इस दिन मां दुर्गा के पहले स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। 

ऐसा है मां शैलपुत्री का स्वरूप

शैलपुत्री का संस्कृत में अर्थ होता है ‘पर्वत की बेटी’। मां शैलपुत्री के स्वरूप की बात करें तो मां के माथे पर अर्ध चंद्र स्थापित है। मां के दाहिने हाथ में त्रिशूल है और बाएं हाथ में कमल का फूल है। वे नंदी बैल की सवारी करती हैं।


पूजा विधि

◆सुबह ब्रहम मुहूर्त में उठकर स्नान करें। 

◆घर के किसी पवित्र स्थान पर स्वच्छ मिटटी से वेदी बनाएं। 

◆ वेदी में जौ और गेहूं दोनों को मिलाकर बोएं। 

◆ वेदी के पास धरती मां का पूजन कर वहां कलश स्थापित करें। 

◆ इसके बाद सबसे पहले प्रथमपूज्य श्रीगणेश की पूजा करें। 

◆ वैदिक मंत्रोच्चार के बीच लाल आसन पर देवी मां की प्रतिमा स्थापित करें। 

◆ माता को कुंकुम, चावल, पुष्प, इत्र इत्यादि से विधिपूर्वक पूजा करें। 

वंदना मंत्र

वन्दे वाञि्छतलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम

वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्री यशस्विनीम् ||

उपर्युक्त मंत्र का शुद्ध उच्चारण क्रिस्टल की माला से (१०८) बार करें |

स्त्रोत पाठ

प्रथम दुर्गा त्वंहि भवसागर: तारणीम्।

धन ऐश्वर्य दायिनी शैलपुत्री प्रणमाभ्यम्॥

त्रिलोजननी त्वंहि परमानंद प्रदीयमान्।

सौभाग्यरोग्य दायनी शैलपुत्री प्रणमाभ्यहम्॥

चराचरेश्वरी त्वंहि महामोह: विनाशिन।

मुक्ति भुक्ति दायनीं शैलपुत्री प्रमनाम्यहम्॥

मां शैलपुत्री से जुड़ी पौराणिक कथा

मां दुर्गा अपने पहले स्वरुप में 'शैलपुत्री' के नाम से पूजी जाती हैं। पर्वतराज हिमालय की पुत्री होने के कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा। अपने पूर्व जन्म में ये प्रजापति दक्ष की कन्या के रूप में उत्पन्न हुई थीं तब इनका नाम सती था। इनका विवाह भगवान शंकर जी से हुआ था। एक बार प्रजापति दक्ष ने बहुत बड़ा यज्ञ किया जिसमें उन्होंने सारे देवताओं को अपना-अपना यज्ञ भाग प्राप्त करने के लिए निमंत्रित किया किन्तु शंकर जी को उन्होंने इस यज्ञ में आमंत्रित नहीं किया। 

देवी सती ने जब सुना कि हमारे पिता एक अत्यंत विशाल यज्ञ का अनुष्ठान कर रहे हैं,तब वहां जाने के लिए उनका मन विकल हो उठा। अपनी यह इच्छा उन्होंने भगवान शिव को बताई। भगवान शिव ने कहा-''प्रजापति दक्ष किसी कारणवश हमसे रुष्ट हैं,अपने यज्ञ में उन्होंने सारे देवताओं को निमंत्रित किया है किन्तु हमें जान-बूझकर नहीं बुलाया है। ऐसी स्थिति में तुम्हारा वहां जाना किसी प्रकार भी श्रेयस्कर नहीं होगा।'' शंकर जी के इस उपदेश से देवी सती का मन बहुत दुखी हुआ। पिता का यज्ञ देखने वहां जाकर माता और बहनों से मिलने की उनकी व्यग्रता किसी प्रकार भी कम न हो सकी। उनका प्रबल आग्रह देखकर शिवजी ने उन्हें वहां जाने की अनुमति दे दी। 

सती ने पिता के घर पहुंचकर देखा कि कोई भी उनसे आदर और प्रेम से बातचीत नहीं कर रहा है। केवल उनकी माता ने ही स्नेह से उन्हें गले लगाया। परिजनों के इस व्यवहार से देवी सती को बहुत क्लेश पहुंचा। उन्होंने यह भी देखा कि वहां भगवान शिव के प्रति तिरस्कार का भाव भरा हुआ है,दक्ष ने उनके प्रति कुछ अपमानजनक वचन भी कहे। यह सब देखकर सती का ह्रदय ग्लानि और क्रोध से संतप्त हो उठा। उन्होंने सोचा कि भगवान शंकर जी की बात न मानकर यहाँ आकर मैंने बहुत बड़ी गलती की है।वह अपने पति भगवान शिव के इस अपमान को सहन न कर सकीं, उन्होंने अपने उस रूप को तत्काल वहीं योगाग्नि द्वारा जलाकर भस्म कर दिया।

वज्रपात के समान इस दारुणं-दुखद घटना को सुनकर शंकर जी ने क्रुद्ध हो अपने गणों को भेजकर दक्ष के उस यज्ञ का पूर्णतः विध्वंस करा दिया। सती ने योगाग्नि द्वारा अपने शरीर को भस्म कर अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया। इस बार वह शैलपुत्री नाम से विख्यात हुईं। पार्वती,हेमवती भी उन्हीं के नाम हैं। इस जन्म में भी शैलपुत्री देवी का विवाह भी शंकर जी से ही हुआ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links