ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : मुंबई में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पकड़ी गई अभिनेत्री और मॉडल!         BIG NEWS : भारतीय सेना ने चीन में बने पाकिस्तान आर्मी के क्वाडकॉप्टर को मार गिराया         आज और कल दशहरा, रावण के पुतलों पर भी कोरोना का असर और भाजपा में कोरोना कोरोना         कौन हैं मां सिद्धिदात्री? भगवान शिव क्यों करते हैं इनकी उपासना         नवरात्रि का नौवां दिन, मां सिद्धदात्री से पाएं रिद्धि-सिद्धि         BIG NEWS : भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों पर की बड़ी कार्रवाई, 3 जवान ढेर, 2 घायल         BIG NRWS : FATF की ग्रे-लिस्ट में रहेगा पाकिस्तान, आतंकी सरगनाओं पर करनी होगी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत की जासूसी के लिए  पाकिस्तान ने मिन्हास एयरफोर्स बेस पर तैनात किये अवाक्स         आखिर किस बात की जल्दी है....         BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकियों पर रोक लगा पाने में नाकाम, FATF की बैठक में “ब्लैक लिस्ट” होने की संभावना बढ़ी         पीएम नरेंद्र मोदी का विपक्ष पर वार, कहा – सत्ता में आकर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 वापस लाना चाहता है विपक्ष         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती का देशद्रोही बयान, कहा- “जब तक जम्मू-कश्मीर का झंडा वापस नहीं मिलता,तिरंगा नहीं उठाएंगे”         नवरात्र का आठवां दिन: जानें मां महागौरी की पूजा विधि, मंत्र, भोग और कथा         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में डीडीसी चुनाव का रास्ता साफ, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जम्मू-कश्मीर पंचायती राज कानून को दी मंजूरी         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर से लेकर POK तक “ब्लैक डे”         BIG NEWS : सोपोर में दो आतंकियों ने किया सरेंडर, हाल ही में अल-बदर आतंकी संगठन में हुये थे शामिल         BIG NEWS : भारत ने किया 'नाग' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण, DRDO ने किया है तैयार         नवरात्र का सातवां दिन, मां कालरात्रि की उपासना से दूर होंगे जीवन के कष्ट         कहीं भी सुरक्षित नहीं महिलाएं         बिहारी की आंखों ने क्या क्या देखना है ?          सुशासन बाबू का सुत्थर चेहरा और बेवाओं की बेबस मुस्कान         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी हमले की बरसी पर 22 अक्टूबर को मनाया जाएगा “ब्लैक डे”         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी, प्रदर्शकारियों ने कहा – “पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है गिलगित-बल्तिस्तान”         BIG NEWS : पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला को ईडी ने दूसरी बार किया तलब, जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन घोटाले मामले में हुई पूछताछ         नवरात्रि के छठे दिन होती है मां कात्‍यायनी की पूजा, जानिए पूजा विधि और मंत्र         बिहार में चुनाव :आरजेडी ने सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवारों को दीया टिकट         BIG NEWS : क्या यूपी के सबसे बड़े माफिया मुख्तार अंसारी को बचा रही है पंजाब सरकार?          BIG NEWS : पुलवामा एनकाउंटर में 2 और आतंकी ढेर, बीते 24 घंटों में 4 आतंकियों का सफाया         BIG NEWS : राहुल गांधी के बयान पर अमित शाह ने किया पलटवार, कहा – “1962 में 15 मिनट में चीन को क्यों नहीं बाहर फेंक पाई कांग्रेस"         BIG NEWS : चीन के सामने फिर झुका पाकिस्तान, इमरान सरकार ने 10 दिनों के अंदर टिकटॉक से हटाया बैन         नवरात्र का पांचवा दिन: ऎसे करें स्कंदमाता की पूजा, मिलेगी सुख-शांति         दुमका गैंगरेप मामले में महिलाओं ने रामगढ़ थाना घेरा, निर्दोष को फंसाने का आरोप         चाईबासा में नक्सलियों का तांडव, कंस्ट्रक्शन में लगे 4 पोकलेन और एक बाइक को किया आग के हवाले         सवाल पूछिए कि क्या सोचकर आदिवासी मामलों का मंत्रालय बनाया था !         बेरमो में का बा !          BIG NEWS : रघुवर दास की फिसली जुबान, कहा- तभी 'चोट्टा' लोग राज कर रहे हैं, जेएमएम ने ट्वीट कर पूछे सवाल         कांग्रेस नेता कमलनाथ के बोल, मध्यप्रदेश की मंत्री इमरती देवी "आइटम"         राजनीति के अपराधीकरण और बिहार में चुनाव         जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन में 43 करोड़ रुपये की गड़बड़ी, पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला से ईडी की पूछताछ         BIG NEWS : पाकिस्तान में विपक्षी दलों की विरोध रैली से डरे इमरान खान, पुलिस ने होटल का दरवाजा तोड़कर नवाज शरीफ के दामाद को किया गिरफ्तार         BIG NEWS : लद्दाख में भारतीय सेना ने एक चीनी सैनिक को पकड़ा, कई दस्तावेज बरामद         गुप्त नवरात्र का चौथा दिन, मां कूष्मांडा को ऐसे करें प्रसन्न         BIG NEWS : अनंतनाग में मस्जिद से लौट रहे पुलिस अफसर की गोली मारकर हत्या, शोपियां में सुरक्षाबलों के साथ एनकाउंटर में एक आतंकी ढेर         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों पर बीते 24 घंटे में दूसरा आतंकी हमला, दो जवान घायल         BIG NEWS : शिक्षा मंत्री को एयर एंबुलेंस से चेन्नई भेजा, हालत बिगड़ने पर चेन्नई से बुलाई गई थी डॉक्टरों की टीम          ''ए नीतीश! तू थक गईल बाऽडा अब जा आराम करऽअ": लालू यादव         BIG NEWS : हड़िया बेचकर आजीविका चला रही है नेशनल कराटे चैंपियन, मदद को आए CM हेमंत सोरेन, अफसरों को दिया निर्देश         नॉर्वे में एक भारतीय रेस्तरां         अब सियासी आदिवासी नहीं..         दुर्गा को पहचानें !        

कब तक जनता यूं ही ठगी जाएगी ?

Bhola Tiwari Oct 16, 2020, 1:31 PM IST कॉलमलिस्ट
img


निशिकांत ठाकुर 

नई दिल्ली : भोली भाली जनता को गुमराह करने के लिए राजनीतिज्ञ क्या-क्या योजना बनाते हैं ? किस प्रकार मौकापरस्त गठबंधन करते हैं ? नीति-सिद्धांतों को ताक पर रखकर नेताओं की आवाजाही होती है , यह सब यदि आपको एक बार फिर से देखना हो, तो बिहार के विधानसभा चुनाव में आप देख सकते हैं। अब आपके मन में यह सवाल उठ सकता है कि आखिर ऐसा क्यों होता है ? तो इतना जान लीजिए, इसके पीछे कोई राॅकेट साइंस नहीं होता है। इसका पहला और आखिर सच यही होता है कि इन नेताओं को सत्ता की कुर्सी मिल जाएं। इन नेताओं की हालत बिलकुल मछली की तरह होती है। जिस तरह मछली पानी के बिना छटपटाती है, ठीक उसी प्रकार इन नेताओं का हाल कुर्सी और सत्ता के बगैर होने लगता है। 

यदि सत्ता की कुर्सी हाथ आ गई, तो यह मान लिया जाता है कि जनता ने अपना मतदान करके सरकार बनाने का उसे अधिकार दिया है। इससे उनका मनोबल बढ़ता है और उनकी सोच तुरंत बदल जाती है। फिर उनकी सोच होती है कि जनता की सेवा तो बाद में देखा जाएगा पहली अपनी सेवा करने में जुट जाओ। देश की बात तो बाद में करते रहेंगे। बिहार में तो आजादी के बाद से अब तक यही होता रहा है। नेता बदलते गए। नहीं बदला तो सत्ता और कुर्सी का चरित्र। राज्य के पहले मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण बाबू से लेकर वर्तमान में आप नीतीश कुमार के राज को देखकर समझ सकते हैं। 

कभी आपने इस पर विचार किया है कि मेधा से परिपूर्ण लोग, परिपक्व मनोबल , इतने मेहनती और प्राकृतिक संपदाओं में अकूत जलराशि , उपजाऊ जमीन के होते हुए भी आज बिहार देश का सबसे उपेक्षित राज्य क्यों हो गया है ? चुनाव से पहले राज्य के सभी मतदाताओं को इस विषय पर गंभीरता से विचार करने की जरूरत है कि आखिर किस कारण से बिहार आज तक उपेक्षित रहा और उसके मेहनतकश कामगार दर दर की ठोकरें खाने के लिए क्यों मजबूर होते रहे हैं ? क्यों उन्हें अपने देश के भीतर ही प्रवासी जैसे शब्दों से पुकारा जाता है।  

मेरा तो यही मानना है कि विधानसभा और लोकसभा में बिहार के स्थानीय प्रतिनिधि अपनी बात ठीक से वहां रख नहीं पाते हैं । कई कारणों में एक महत्वपूर्ण कारण यह भी है कि क्षेत्रीय व्यक्ति लोकसभा और विधान सभा में प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं , लोक सभा की बात तो यह मानकर समझाया जा सकता है कि संसद में देश और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बात की जाती है, लेकिन विधान सभा में तो लगभग राज्य और क्षेत्रीय समस्याओं पर ही बात होती है और उसका निराकरण कैसे हो इस पर चर्चा यदि वहां के प्रतिनिधि नहीं करेंगे तो सरकार उसका निराकरण कैसे करेगी ? ऐसा इसलिए कहा जा सकता है कि अब स्थानीय स्तर पर भी बाहर से बैसाखी के सहारे आसमान से टपके लोगों को चुनाव लडने का ठेका दिया जा रहा है। जिसे न तो वहां के स्थानीय लोगों से कुछ लेना देना , न क्षेत्रीय भौगोलिक का उन्हें भान होता है। ऐसे में वह किस प्रकार वहां की समस्याओं से जुड़कर उसे दूर करने की आवाज जोरदारी से उठाएंगे ? ऐसा लगता है, जैसे बिहार में स्थानीय योग्य नेताओं की कमी हो गई है। यकीन नहीं होता हो, तो आप इस बार के विधानसभा चुनाव में अब तक घोषित उम्मीदवारों की सूची देख लें। क्या भाजपा, क्या जदयू, राजद, कांग्रेस और लोजपा। सभी दलों का एक ही हाल है ।

बिहार भाजपा के एक वरिष्ठ और युवा टिकट के दावेदार प्रत्याशी ने हताश होकर बताया कि वह जिस क्षेत्र से लड़ना चाहता था । वह विधानसभा जनतादल युनाइटेड के हिस्से में चला गया । विधान सभा का वह क्षेत्र हमारे हिस्से में भी आ सकता था, लेकिन थैला देना अब काफी मंहगा हो गया जिसके तहत मैं चुनाव में हिस्सा नहीं ले सका । एक कर्मठ और जुझारू नेता के रूप में वर्षों तक मेहनत करने के बाद आखिरी समय में उसकी आशाओं पर पानी फेर दिया । यह तो केवल उदाहरण मात्र है। लगभग सभी प्रत्यशियों को आज बिहार ही नहीं देश भर में ऐसा करना पड़ता है । ऐसी स्थिति में कोई भी जब जीतकर कहीं से सत्ता की कुर्सी तक पहुंच जाएगा तो वह वहां पहुंचकर उसका फल पहले स्वयं भोगकर भ्रष्टाचार को बढ़ावा ही देगा न की सेवा भाव से राज्य या देश की जनता का भाग्य संवरेगा । चुनाव में टिकट पाने में जो भ्रष्टचार शुरू होता है वह वहीं खत्म नहीं होता। उसके बाद फिर शुरू होता है घुस, शराब और गुंडागर्दी का फेज इसके लिए चुनाव में खुली छूट है । बंदूकों और संगीनों के बल पर भी वोट लिए जाते हैं । कभी कभी तो कत्लेआम होता है। पैसे और शराब के द्वारा वोट खरीदना आम बात हो गई है । जब शीर्ष पर बैठे व्यक्ति ही भ्रष्टाचार से ओतप्रोत रहेंगे, तो फिर भ्रष्टाचार मुक्त भारत की कल्पना कैसे कर सकते हैं ।

पता नहीं चुनाव लड़ने के लिए लोग कहां कहां से बिहार चले आते हैं? ऐसे लोगों को उस राज्य या स्थान विशेष से क्या लेना देना उन्हें तो जनता को अपने डील डॉल से मतदाताओं को, आकर्षित करना, प्रभावित करना , अपने बेतुकी भाषणों से उन्हें गुमराह करना एक मात्र उद्देश्य होता है। बिहार के कई संसदीय क्षेत्र का विकास केवल इसलिए नहीं हुआ क्योंकि वहां का कोई स्थानीय प्रतिनिधि वर्षों तक चुनाव जीत नहीं सका । इसका कारण यह रहा कि तथाकथित राष्ट्रीय स्तर के बड़े नेता वहां से चुनाव जीतकर जाते थे , वह अपना विकास करते रहे लेकिन स्थानीय विकास के नाम पर स्पष्ट कहा करते हैं कि हम राष्ट्रीय स्तर की बात करते है । स्थानीय मामलों से उनका कुछ भी लेना देना नहीं । अब वहीं हाल विधान सभा चुनाव में देखने को मिल रहा है फिर बिहार का विकास कैसे होगा । एक तो इतने प्रकार का गठबंधन दलों ने कर लिया है कि मतदाता गुमराह हो रहे है । उसकी समझ में यह बात नहीं आ रही है कि वह किसे अपना मतदान करे ।  

रही बात नीतीश कुमार की , वह एक पढ़े लिखे अनुभवी राजनीतिज्ञ हैं, लेकिन इस पंचवर्षीय चुनाव में उनकी सरकार ने उनके प्रति मतदाताओं के मन में आक्रोश ही भरा है । व्यक्तिगत रूप से मेरी कई मतदाताओं से बात हुई सबने वर्तमान सरकार की कार्य पद्धति को नकार दिया । अब रही की फिर इस बार बिहार में किसकी सरकार बनेगी तो इस पर कोई अनुमान ही लगा सकता है । सटीक भविष्यवाणी यदि कोई करता है, तो वह सिर्फ कयास ही लगा रहा है और मतदाताओं को दिग्भ्रमित कर रहा है । इसलिए सरकार किसकी बनेगी इस पर कोई निश्चित विचार प्रकट कर रहा है , तो वह आपको बहला रहा है इसलिए आप अपना मतदान जरूर करे और अपने विवेक से योग्य व्यक्तियों के लिए करें और गाल बजाने वालों से सावधान रहें । जातिवादी नीति को छोड़कर योग्य व्यक्ति को अपना मतदान जरूर करें ।

जरा गंभीरता से इस पर विचार करिएगा कि भारत ने कभी किसी पर आक्रमण नहीं किया, लेकिन कई आक्रांताओं के दंश को सैकड़ों वर्षों तक झेला है । कभी मुगलों ने सैकड़ों वर्षों तक राज्य किया और अपनी सभ्यता , अपना धर्म हमारे ऊपर मढ़ा फिर यहीं के होकर रह गए । उनमें जो उपद्रवी तत्व थे, उन्होंने देश का मर्दन और खंडित किया । फिर अंग्रेजों ने हमसे गुलाम और जानवरों जैसा बर्ताव किया । ईस्ट इंडिया कंपनी के अध्यक्ष मिस्टर मेंगलस ने पार्लियामेंट में एक भाषण दिया, जिसमें उन्होंने स्पष्ट कहा कि ईश्वर ने हमें हिंदुस्तान का विशाल साम्राज्य इसलिए सौंपा है कि हम यहां एक सिरे से लेकर दूसरे सिरे तक ईसा मसीह का झंडा फहराए। इसलिए हमने से प्रत्येक का कर्तव्य है कि सम्पूर्ण भारत को ईसाई बनाने में अपनी पूरी ताकतें लगा दें । उनके समर्थन में बैठक में मौजूद सभी ने कहा कि हम पर चाहे जितनी विपत्तियां आए जब तक भारत में हमारा साम्राज्य कायम है तब तक हमारा सबसे बड़ा काम समूचे भारत को ईसाई बनाना है । 

इसे यहां जोड़ने का उद्देश्य केवल यह है कि आज बिहार के राज्यस्तरीय विधान सभा के चुनाव में किन किन मुद्दों को बीच में लाया जाता है यहां तक कि देश के गृह राज्यमंत्री ने कहा कि यदि दूसरे दल की सरकार बनती है, तो बिहार अतंकियों का गढ़ बन जाएगा । गृह राज्यमंत्री से केवल एक ही प्रश्न की क्या वह इस्ट इंडिया कंपनी के अध्यक्ष की तरह देश के लोगों को संदेश देना चाहते हैं कि यदि उनकी सरकार नहीं बनी तो बिहार को अतांकवादियों का गढ़ बना दो। क्यों नहीं गृह राज्यमंत्री से इसका मतलब जानता को समझना चाहिए ? 

( लेखक वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं )।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links