ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : समुद्र में चीन को मात देने के लिए भारत ने अपनाई खास रणनीति, मॉरिशस के करीब बनाए नौसैनिक अड्डे         GOOD NEWS : हट गया है स्टूडेंट वीजा पर लगा प्रतिबंध, आराम से जा सकते हैं विदेश         भगवान शिव के 11 रुद्रावतार         GOOD NEWS : जेवेलिन थ्रो के फाइनल में पहुंचे नीरज चोपड़ा, अब फाइनल में रचेंगे इतिहास!         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर के कठुआ में भारतीय सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश, रणजीत सागर डैम में गिरा         CBSE 10th Result 2021 : लड़कों का 98.89, लड़कियों का उत्तीर्ण प्रतिशत 99.24 रहा         मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष की गोलबंदी! राहुल गांधी ने मंगलवार को 17 दलों के नेताओं को चाय-नाश्ते पर बुलाया         12 चमत्कारिक नाम, जिनके स्मरण मात्र से दूर हो जाती हैं बाधाएं         भगवान शिव के ये 10 नाम जपने से दूर होंगे आपके कष्‍ट         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच 12 वें दौर की कमांडर स्तर की वार्ता में प्रोटोकॉल के तहत सभी मुद्दों को हल करने पर बनी सहमति         BIG NEWS : भारतीय महिला हॉकी टीम ने रचा इतिहास, तीन बार सोना जीतने वाली ऑस्ट्रेलिया को हराकर पहली बार सेमीफाइनल में         अनंतनाग में लश्कर-ए-तैयबा के 4 आतंकी सहयोगी गिरफ्तार, पूछताछ जारी         ICMR का दावा : कोरोना वायरस के डेल्‍टा प्लस वैरिएंट के खिलाफ भी प्रभावी है COVAXIN         BIG NEWS : सांबा में लगातार दूसरे दिन दिखे 4 ड्रोन, सभी सुरक्षा एजेंसी सतर्क         BIG NEWS : बारामूला में सुरक्षाबलों ने बड़े आतंकी साजिश को किया नाकाम, IED बम बरामद         भगवान शिव का अद्भुत मंदिर: सुबह, दोपहर और शाम अलग-अलग रूप में दिखता है शिवलिंग         BIG NEWS : UNSC का अध्यक्ष बना भारत, सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले पहले भारतीय PM बनेंगे नरेंद्र मोदी         सांबा में दो जगहों पर फिर दिखे ड्रोन, सुरक्षा एजेंसी सतर्क         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में देशद्रोहियों और पत्थरबाजों पर सरकार का बड़ा एक्शन, “ऐसे लोगों को नहीं मिलेगा पासपोर्ट-सरकारी नौकरी के लिए क्लीयरेंस”         BIG NEWS : आज से बदल गए हैं बैंक और पैसे से जुड़े ये नियम, आइए जानते हैं अब कहां क्या करना होगा...         नई शुरुआत : भारत आज से संयुक्‍त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की संभालेगा कमान, तीन अहम मुद्दों पर रहेगा जोर         GOOD NEWS : जम्मू-कश्मीर राज्य आयुष्मान कार्ड बनाने में देश के अव्वल राज्यों में हुआ शामिल, बीते 6 महीनों में 19 लाख लोगों ने बनवाया कार्ड         जम्मू-कश्मीर के लोग पर्यटन चाहते हैं, आतंकवाद नहीं : तरुण चुग         BIG NEWS : मसूद अजहर का भतीजा औऱ पुलवामा हमले का साजिशकर्ता 'लंबू', मारा गया         BIG NEWS : झारखंड के कई जिलों में हो रही है आफत भरी बारिश, आज भी बारिश के आसार         BIG NEWS : POK में हुए चुनाव के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी, विपक्षी पार्टियों ने इमरान सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा         धनबाद में जज की संदिग्ध मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान, सरकार से एक हफ्ते में मांगा जवाब         BIG NEWS : सांबा में तीन जगहों पर फिर दिखे संदिग्ध ड्रोन, सर्च ऑपरेशन जारी         CBSE : 12वीं कक्षा के नतीजे घोषित, 99.37% स्टूडेंट्स हुए पास, लड़कियों ने मारी एक बार फिर बाजी         BIG NEWS : IAF ने राफेल लड़ाकू विमानों की दूसरी स्क्वाड्रन को बंगाल के हासीमारा एयरबेस पर किया तैनात         BIG NEWS : केंद्र सरकार का ऐतिहासिक फैसला, मेडिकल कोर्सेस में OBC कैंडिडेट्स को 27% और आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों को 10 फीसदी आरक्षण मिलेगा         BIG NEWS : POK में हुए चुनाव पर भारत ने जताया कड़ा एतराज, कहा – “चुनाव गैरकानूनी, अवैध कब्जे को छुपाने की कोशिश कर रहा है पाकिस्तान”         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती ने पार्टी की स्थापना दिवस पर फिर अलापा अनुच्छेद 370 की बहाली का राग         BIG NEWS : “कोरोना के दौर में भारत और अमेरिका को मिलकर काम करने की जरूरत”: एंटनी ब्लिंकन         BIG NEWS : रांची के कारोबारी विष्णु अग्रवाल और पवन बजाज के ठिकानों पर IT का छापा         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने से तबाही, चार की मौत, 40 लापता         बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री, आज लेंगे शपथ, माने जाते हैं येदियुरप्पा के करीबी         BIG NEWS : बंद खिड़की तो खोलनी हीं होगी,ताजी हवा रोशनदान से नहीं आएगी         “हिंसा कभी 'कश्मीरियत' का हिस्सा नहीं रही” : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         BIG NEWS : POK विधानसभा चुनाव में बलूचिस्तान में बसे कश्मीरी शरणार्थियों ने नहीं दिखाई दिलचस्पी, विरोध प्रदर्शन जारी          “देशभर से युवा आकर जम्मू-कश्मीर में विकास की प्रकिया को देखें”: एलजी मनोज सिन्हा         BIG NEWS : कुलगाम में बीते 24 घंटे के अंदर दूसरा आतंकी ढेर, ऑपरेशन जारी         मोदी रेडियो से नाराज हैं राजस्थान के डूंगरपुर जिले के आदिवासी         भगवान शंकर का 'अर्धनारीश्वर' होने का अर्थ क्या है         BIG NEWS : “ हमें पाकिस्तान के कुछ हिस्से पर कब्जा करने की इजाजत मिलनी चाहिए थी”: पूर्व आर्मी चीफ वीपी मलिक         राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बारामूला के डैगर युद्ध स्मारक पर कारगिल के शहीदों को अर्पित की श्रद्धांजलि        

शिरडी साईं बाबा : जहां दर्शन करने के बाद कोई खाली हाथ नहीं लौटता

Bhola Tiwari Oct 15, 2020, 4:49 AM IST टॉप न्यूज़
img


गायत्री साहू

मुंबई : शिर्डी के साई बाबा का मंदिर विश्वभर में प्रसिद्ध तीर्थस्थल है। शिर्डी अहमदनगर जिले के कोपरगांव तालुका में है। गोदावरी नदी पार करने के पश्चात मार्ग सीधा शिर्डी को जाता है। 8 मील चलने पर जब आप नीमगांव पहुंचेंगे तो वहां से शिर्डी दृष्टिगोचर होने लगती है। श्री सांईंनाथ ने शिर्डी में अवतीर्ण होकर उसे पावन बनाया।

आज 'सांईं बाबा की शिर्डी' के नाम से इसे दुनियाभर में जाना जाता है। सांईं बाबा पर यह विश्वास जाति-धर्म व राज्यों से परे देशों की सीमा लांघ चुका है। यही वजह है कि 'बाबा की शिर्डी' में भक्तों का मेला हमेशा लगा रहता है जिसकी तादाद प्रतिदिन जहां 30 हजार के करीब होती है, वहीं गुरुवार व रविवार को यह संख्या दुगनी हो जाती है। इसी तरह सांईं बाबा के प्रति आस्था और विश्वास के चलते रामनवमी, गुरुपूर्णिमा और विजयादशमी पर जहां 2-3 लाख लोग दर्शन को आते हैं, वहीं सालभर में लगभग 1 करोड़ से अधिक भक्त यहां हाजिरी लगा जाते हैं।

शिरडी में साईं का एक विशाल मंदिर है। मान्यता है कि, चाहे गरीब हो या अमीर साईं के दर्शन करने इनके दरबार पहुंचा कोई भी शख्स खाली हाथ नहीं लौटता है। सभी की मुरादें और मन्नतें पूरी होती हैं।

शिरडी के साईं बाबा

शिरडी के साईं बाबा का वास्तविक नाम, जन्मस्थान और जन्म की तारीख किसी को पता नहीं है। हालांकि साईं का जीवनकाल 1838-1918 तक माना जाता है। कई लेखकों ने साईं पर पुस्तकें लिखीं हैं। साईं पर लगभग 40 किताबें लिखी गई हैं।

शिरडी में साईं कहां से प्रकट हुए यह कोई नहीं जानता। साईं असाधारण थे और उनकी कृपा वहां के सीधे-सादे गांववालों पर सबसे पहले बरसी। आज शिरडी एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल है।

साईं के उपदेशों से लगता है कि इस संत का धरती पर प्रकट होना लोगों में धर्म, जाति का भेद मिटाने और शान्ति, समानता की समृद्धि के लिए हुआ था। साईं बाबा को बच्चों से बहुत स्नेह था। साईं ने सदा प्रयास किया कि लोग जीवन की छोटी-छोटी समस्याओं व मुसीबतों में एक दूसरे की सहायता करें और एक दूसरे के मन में श्रद्धा और भक्ति का संचार करें। इस उद्देश्य के लिए उन्हें अपनी दिव्य शक्ति का भी प्रयोग करना पड़ा।


शिरडी का साईं मंदिर

शिरडी में साईं बाबा का पवित्र मंदिर साईं की समाधि के ऊपर बनाया गया है। साईं के कार्यों को आगे बढ़ाने के लिए इस मंदिर का निर्माण 1922 में किया गया था। साईं 16 साल की उम्र में शिरडी आए और चिरसमाधि में लीन होने तक यहीं रहे। साईं को लोग आध्यात्मिक गुरु और फकीर के रूप में भी जानते हैं। साईं के अनुयायियों में हिंदू के साथ ही मुस्लिम भी हैं। इसका कारण है कि अपने जीवनकाल के दौरान साईं मस्जिद में रहे थे जबकि उनकी समाधि को मंदिर का रूप दिया गया है।

साईं मंदिर में दर्शन

साईं का मंदिर सुबह 4 बजे खुल जाता है। सुबह की आरती 5 बजे होती है। इसके बाद सुबह 5.40 से श्रद्धालु दर्शन करना शुरू कर देते हैं जो दिनभर चलता रहता है। इस दौरान दोपहर के वक्त 12 बजे और शाम को सूर्यास्त के तुरंत बाद भी आरती की जाती है। रात 10.30 बजे दिन की अंतिम आरती के बाद एक शॉल साईं की विशाल मूर्ति के चारो ओर लपेट दी जाती है और साईं को रुद्राक्ष की माला पहनाई जाती है। इसके पश्चात मूर्ति के समीप एक गिलास पानी रख दिया जाता है और फिर मच्छरदानी लगा दिया जाता है। रात 11.15 बजे मंदिर का पट बंद कर दिया जाता है।

साईं को रिकार्ड चढ़ावा

साईं के समाधि पर प्रतिदिन लाखों की तादाद में लोग आते हैं और साईं की झोली में अपनी श्रद्धा और भक्ति के अनुरूप कुछ दे कर चले जाते हैं। शिरडी के साईं बाबा का मंदिर अपने रिकार्ड तोड़ चढ़ावे के लिए हमेशा खबरों में भी रहता है। साल दर साल यह रिकार्ड टूटता ही जा रहा है। कुछ दिनों पहले किए गए आकलन के अनुसार साल 2011 में भक्तों ने यहां अरबों रुपये चढ़ाए हैं।

किसी ने साईं को सोने का मुकुट दिया तो किसी ने सोने का सिंहासन। किसी ने चांदी की बेशकीमती आभूषण दिए तो किसी ने करोड़ों की संपत्ति। कोई करोड़ों का गुप्तदान करके चला गया तो किसी ने अपनी पूरी जायदाद भगवान के हवाले कर दी। इस एक साल के दौरान करीब पांच करोड़ रुपये चढ़ावा आने की अधिकारिक पुष्टि की गई है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links