ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : मुंबई में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पकड़ी गई अभिनेत्री और मॉडल!         BIG NEWS : भारतीय सेना ने चीन में बने पाकिस्तान आर्मी के क्वाडकॉप्टर को मार गिराया         आज और कल दशहरा, रावण के पुतलों पर भी कोरोना का असर और भाजपा में कोरोना कोरोना         कौन हैं मां सिद्धिदात्री? भगवान शिव क्यों करते हैं इनकी उपासना         नवरात्रि का नौवां दिन, मां सिद्धदात्री से पाएं रिद्धि-सिद्धि         BIG NEWS : भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों पर की बड़ी कार्रवाई, 3 जवान ढेर, 2 घायल         BIG NRWS : FATF की ग्रे-लिस्ट में रहेगा पाकिस्तान, आतंकी सरगनाओं पर करनी होगी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत की जासूसी के लिए  पाकिस्तान ने मिन्हास एयरफोर्स बेस पर तैनात किये अवाक्स         आखिर किस बात की जल्दी है....         BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकियों पर रोक लगा पाने में नाकाम, FATF की बैठक में “ब्लैक लिस्ट” होने की संभावना बढ़ी         पीएम नरेंद्र मोदी का विपक्ष पर वार, कहा – सत्ता में आकर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 वापस लाना चाहता है विपक्ष         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती का देशद्रोही बयान, कहा- “जब तक जम्मू-कश्मीर का झंडा वापस नहीं मिलता,तिरंगा नहीं उठाएंगे”         नवरात्र का आठवां दिन: जानें मां महागौरी की पूजा विधि, मंत्र, भोग और कथा         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में डीडीसी चुनाव का रास्ता साफ, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जम्मू-कश्मीर पंचायती राज कानून को दी मंजूरी         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर से लेकर POK तक “ब्लैक डे”         BIG NEWS : सोपोर में दो आतंकियों ने किया सरेंडर, हाल ही में अल-बदर आतंकी संगठन में हुये थे शामिल         BIG NEWS : भारत ने किया 'नाग' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण, DRDO ने किया है तैयार         नवरात्र का सातवां दिन, मां कालरात्रि की उपासना से दूर होंगे जीवन के कष्ट         कहीं भी सुरक्षित नहीं महिलाएं         बिहारी की आंखों ने क्या क्या देखना है ?          सुशासन बाबू का सुत्थर चेहरा और बेवाओं की बेबस मुस्कान         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी हमले की बरसी पर 22 अक्टूबर को मनाया जाएगा “ब्लैक डे”         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी, प्रदर्शकारियों ने कहा – “पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है गिलगित-बल्तिस्तान”         BIG NEWS : पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला को ईडी ने दूसरी बार किया तलब, जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन घोटाले मामले में हुई पूछताछ         नवरात्रि के छठे दिन होती है मां कात्‍यायनी की पूजा, जानिए पूजा विधि और मंत्र         बिहार में चुनाव :आरजेडी ने सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवारों को दीया टिकट         BIG NEWS : क्या यूपी के सबसे बड़े माफिया मुख्तार अंसारी को बचा रही है पंजाब सरकार?          BIG NEWS : पुलवामा एनकाउंटर में 2 और आतंकी ढेर, बीते 24 घंटों में 4 आतंकियों का सफाया         BIG NEWS : राहुल गांधी के बयान पर अमित शाह ने किया पलटवार, कहा – “1962 में 15 मिनट में चीन को क्यों नहीं बाहर फेंक पाई कांग्रेस"         BIG NEWS : चीन के सामने फिर झुका पाकिस्तान, इमरान सरकार ने 10 दिनों के अंदर टिकटॉक से हटाया बैन         नवरात्र का पांचवा दिन: ऎसे करें स्कंदमाता की पूजा, मिलेगी सुख-शांति         दुमका गैंगरेप मामले में महिलाओं ने रामगढ़ थाना घेरा, निर्दोष को फंसाने का आरोप         चाईबासा में नक्सलियों का तांडव, कंस्ट्रक्शन में लगे 4 पोकलेन और एक बाइक को किया आग के हवाले         सवाल पूछिए कि क्या सोचकर आदिवासी मामलों का मंत्रालय बनाया था !         बेरमो में का बा !          BIG NEWS : रघुवर दास की फिसली जुबान, कहा- तभी 'चोट्टा' लोग राज कर रहे हैं, जेएमएम ने ट्वीट कर पूछे सवाल         कांग्रेस नेता कमलनाथ के बोल, मध्यप्रदेश की मंत्री इमरती देवी "आइटम"         राजनीति के अपराधीकरण और बिहार में चुनाव         जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन में 43 करोड़ रुपये की गड़बड़ी, पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला से ईडी की पूछताछ         BIG NEWS : पाकिस्तान में विपक्षी दलों की विरोध रैली से डरे इमरान खान, पुलिस ने होटल का दरवाजा तोड़कर नवाज शरीफ के दामाद को किया गिरफ्तार         BIG NEWS : लद्दाख में भारतीय सेना ने एक चीनी सैनिक को पकड़ा, कई दस्तावेज बरामद         गुप्त नवरात्र का चौथा दिन, मां कूष्मांडा को ऐसे करें प्रसन्न         BIG NEWS : अनंतनाग में मस्जिद से लौट रहे पुलिस अफसर की गोली मारकर हत्या, शोपियां में सुरक्षाबलों के साथ एनकाउंटर में एक आतंकी ढेर         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों पर बीते 24 घंटे में दूसरा आतंकी हमला, दो जवान घायल         BIG NEWS : शिक्षा मंत्री को एयर एंबुलेंस से चेन्नई भेजा, हालत बिगड़ने पर चेन्नई से बुलाई गई थी डॉक्टरों की टीम          ''ए नीतीश! तू थक गईल बाऽडा अब जा आराम करऽअ": लालू यादव         BIG NEWS : हड़िया बेचकर आजीविका चला रही है नेशनल कराटे चैंपियन, मदद को आए CM हेमंत सोरेन, अफसरों को दिया निर्देश         नॉर्वे में एक भारतीय रेस्तरां         अब सियासी आदिवासी नहीं..         दुर्गा को पहचानें !        

अमरनाथ जहां भगवान शिव ने माता पार्वती को सुनाई अमरत्व की कहानी

Bhola Tiwari Oct 14, 2020, 5:13 AM IST टॉप न्यूज़
img


टोनी पाधा

श्रीनगर : आस्मां को छूते देवदार के हरे पेड़, कल-कल बहती नदियां, बर्फ से ढकी चोटियां, ग्लेशियर के नीचे से निकली पतली जलधारा जहां किसी को भी मोह ले, वहीं पथरीले पहाड़ की ढलान पर बना संकरा रास्ता और उसके नीचे गहरी खायी, जो डराती कम रोमांच ज्यादा पैदा करती है, इस तरह के प्राकृतिक दृश्यों को अपने दामन में समेटे अगर कोई यात्रा या स्थान है तो वह सिर्फ समुद्रतल से करीब 3888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित श्री अमरनाथ की पवित्र गुफा की तीर्थयात्रा।

यह वही पौराणिक गुफा है, जहां भगवान शिव ने देवी पार्वती को अमरत्व की कहानी सुनायी थी। कहानी सुनते सुनते देवी पार्वती सो गईं और कबूतरों के एक जोड़े ने कथा को सुन अमरत्व प्राप्त किया। हर वर्ष श्रावण मास के दौरान देश-विदेश से हजारों की तादाद में श्रद्धालु पवित्र गुफा में हिमलिंग स्वरुप में विराजमान होने वाले शिव-पार्वती और भगवान गणेश के दर्शन के लिए आते हैं।

तीर्थयात्रा के दो मुख्य आधार शीविर बाल्टाल और पहलगाम में हैं। बाल्टाल श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर जोजिला दर्रे के दामन में स्थित है, जबकि पहलगाम दक्षिण कश्मीर में लिद्दर दरिया किनारे बसा एक गांव। बाल्टाल से करीब 14 किमी. की यात्रा कर पवित्र गुफा पहुंचा जा सकता है। यह रास्ता अत्यंत कठिन है।

पहलगाम से पवित्र गुफा की दूरी बेशक 48 किमी. है, लेकिन पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक अगर तीर्थयात्रा का विधान और पुण्य प्राप्त करना है, तो यही मार्ग अपनाना चाहिए। भगवान शिव जब अमरत्व की कथा सुनाने के लिए अमरेश्र्वर गुफा में पहुंचे थे, तो उन्होंने इसी मार्ग से यात्रा करते हुए रास्ते में अपने साथियों को अलग-अलग जगहों पर छोड़ा था। भगवान अमरेश्र्वर की छड़ी मुबारक भी इसी मार्ग से पवित्र गुफा के लिए रवाना होती है। पहलगाम में उन्होंने अपने वाहन नंदी को छोड़ा। इसके करीब 16 किमी. दूर चंदनबाड़ी है। यहां वाहनों में भी लोग आ सकते हैं और पैदल भी। यहीं पर भगवान शिव ने अपने माथे से चंद्रमा को उतारकर छोड़ा और आगे बढ़े थे। चंदनबाड़ी में देवदार के पेड़ों की श्रृंखला के बीच पहाड़ी चोटियों को छूते सफेद ग्लेशियर को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे किसी ने सफेद चादर बिछायी हो। पहलगाम से छड़ी मुबारक रवाना होने के बाद यहीं पर रात्रि विश्राम करती है।

पिस्सु घाटी: भगवान शिव से जुड़ी है कथा

पिस्सु टाप पथरीला रास्ता और खड़े पहाड़ों के बीच अगला पड़ाव पिस्सु घाटी है। चंदनबाड़ी से करीब चार किमी. की दूरी पर समुद्रतल से करीब 11500 फीट की ऊंचाई पर स्थित पिस्सु घाटी के शिखर पर खड़े पहाड़ को पिस्सु टाप कहते हैं। किवंदितयों के मुताबिक, भगवान शिव ने यहीं पर पिस्सु नामक एक जीवाणु को अपने शरीर से उतार छोड़ा था। एक अन्य कथा के मुताबिक, यह पहाड़ राक्षसों की हड्डियों से बना है। कहा जाता है कि देवता और असुर इसी रास्ते से भगवान शंकर की पूजा के लिए अमरेश्र्वर गुफा में जाते थे। एक बार रास्ते में देवता और असुर आपस में लड़ पड़े। देवताओं ने राक्षसों का यहां संहार किया और उनकी हड्डियों को जब एक जगह जमा किया गया तो यह पहाड़ बन गया।

शेषनाग झील: भोलेनाथ ने यहां छोड़े थे अपने नाग

पिस्सु टाप से आगे बढ़ते हुए चंदनबाड़ी से करीब 13 किमी. की दूरी पर शेषनाग झील है। समुद्रतल से करीब 12500 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह झील पहाड़ों के बीच एक नगीने की तरह ही है। शेषनाग झील में ही भगवान शिव ने अपन गले में हमेशा आभूषणों की तरह विद्यमान रहने वाले नागों को छोड़ा था। श्रद्धालु यहां स्नान करते हैं और भोले भंडारी के जयघोष के साथ आगे बढ़ते हैं। प्राकृतिक सौंदर्य के प्रेमियों के लिए इस झील, उसके आगे ग्लेशयिर और शेषनाग की आकृति की तरह नजर आने वाले पहाड़ का शिखर, देवदार के पेड़ और आसपास के वातावरण का माहौल उन्हें सम्मोहित कर किसी दूसरी दुनिया में ले जाने में समर्थ है। हालांकि यहां एक रेस्ट हाऊस है, लेकिन तीर्थयात्रा के समय यात्रियों की भीड़ के चलते बेहतर यही रहेगा कि आप अपने साथ टेंट लेकर चलें।

समुद्रतल से करीब 4276 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इसी पहाड़ पर भगवान शंकर ने अपने प्रिय पुत्र गणेश को छोड़ा था, ऐसा किवंदतियों में हैं। इसके बाद वह मां पार्वती के साथ अमरेश्र्वर गुफा के लिए आगे बढ़े थे। शेषनाग झील से करीब साढ़े चार किमी. गणेश टाप ट्रैकरों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है, लेकिन यहां श्रद्धालु नहीं रुकते, वह यात्रा जारी रखते हैं। गणेश टाप की थका देने वाली चढ़ाई के बाद आने वाला ढलावना रास्ता पंचतरणी तक पहुंचाता। आसपास की हरी भरी वादियों के बीच समुद्रतल से 12 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित पंचतरणी में ही भगवान शिव ने पवित्र गुफा में प्रवेश करने से पूर्व पंच तत्वों का परित्याग किया था।

पंचतरणी में बहने वाली छोटी-छोटी पांच सरिताएं इन्हीं पांच तत्वों का प्रतीक मानी जाती हैं और कहा जाता है कि यह शिव की जटा से निकली हैं। भैरव पहाड़ी की तलहटटी में स्थित पंचतरणी में कई श्रद्धालु रात्रि विश्राम करते हैं। भगवान अमरेश्र्वर की पवित्र छड़ी भी रक्षा बंधन की सुबह पवित्र गुफा में प्रवेश करने से पूर्व रात को यहीं पर विश्राम करती है। यहां ठंड खूब होती है, आक्सीजन की भी कमी रहती है। महाणेष टाप और पंचतरणी में करीब छह किमी. की दूरी है। पंचतरणी में हैलीपैड भी बना है।

अमरनाथ यात्रा का अंतिम चरण

पंचतरणी से भगवान अमरेश्र्वर की पवित्र गुफा की यात्रा का अंतिम चरण शुरू होता है। पंचतरणी से कुछ ही दूरी पर संगम का स्थान है, यहीं पर बाल्टाल से आने वाला रास्ता पवित्र गुफा की तरफ पहलगाम से आने वाले रास्ते से मिलता है। यहीं पर अमरावती और पंचतरणी का मेल भी होता है। पंचतरणी से पवित्र गुफा की छह किमी. की दूरी है। पवित्र गुफा में देवी पार्वती संग प्रवेश करने से पूर्व भगवान शंकर ने गुफा के चारों तरफ अग्नि प्रज्जवलित की थी ताकि कोई भी अन्य प्राणी भीतर प्रवेश न कर सके। पवित्र गुफा में श्रद्धालु भगवान शिव के पवित्र हिमलिंग स्वरुप के दर्शन कर वापस अपने घरों की तरफ प्रस्थान करते हैं।

बाल्टाल मार्ग

पवित्र गुफा की तरफ जाने वाला उत्तरी रास्ता जोजिला दर्रे के दामन में स्थित बाल्टाल से शुरू होता है। बाल्टाल से पवित्र गुफा की दूरी मात्र 16 किमी. है। रास्ते में दोमेल, बरारीमर्ग है, लेकिन यह रास्ता पथरीले और गंजे पहाड़ों से गुजरता है। रास्ते में अमरावती नदी भी है, जो अमरनाथ ग्लेशियर से जुड़ी है। भूस्खलन और आक्सीजन की कमी यहां अक्सर श्रद्धालुओं के लिए मुश्किल पैदा करती है। इस मार्ग से एक दिन में यात्रा संपन्न की जा सकती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links