ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : शुरुआती सर्दी में ही हिमालय के रण में हांफने लगी चीनी सेना         BIG NEWS : “सीमा पार घुसपैठ की फिराक में तैयार बैठे हैं 250-300 आतंकी, सेना हर स्थिति से निपटने को तैयार” : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : पाकिस्तान के पेशावर में मदरसे में ब्लास्ट, 7 लोगों की मौत, 70 से अधिक घायल         भेष बदल कर आया रावण..         रॉ प्रमुख सामंत कुमार गोयल का काठमांडू दौरा और बंद कमरे में नेपाली प्रधानमंत्री से मुलाकात         BIG NEWS : लोगों का गुस्सा फूटा, श्रीनगर के लाल चौक पर बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की तिरंगा फहराने की कोशिश, जम्मू में PDP दफ्तर पर फहराया तिरंगा         बिहार चुनाव में का बा ?         ''रावण मर गया !''         देवी         भारतीय भाषाओं के लिए इंसाफ की जंग जीतनेवाले को सलाम         मां दुर्गा को सबसे प्रिय हैं ये 4 सरल मंत्र, चारों दिशाओं से मिलेगी सफलता         मां दुर्गा में हैं ये 8 प्रकार की शक्ति, शक्तियों का सामूहिक नाम ही दुर्गा         BIG NEWS : सरसंघचालक मोहन भागवत ने चीन पर साधा निशाना, कहा - “भारत की प्रतिक्रिया से इस बार सहम गया चीन”         BIG NEWS : पाकिस्तान के क्वेटा शहर में बम विस्फोट, 4 लोगों की मौत, 3 से अधिक घायल         रावण...         शत्रुओं पर विजय पाना है तो दशहरे पर करें महाउपाय         अनु. 370 के माने अब तो समझिए         बिहार में किसकी हार..         तेजस्वी यादव जवाब दें, पार्टी का जमात ए इस्लामी और पीएफआई के साथ समझौता हुआ है : मुख्तार अब्बास नकवी         चिराग पासवान, भाजपा और सीतामढ़ी में भव्य मंदिर         BIG NEWS : रक्षा मंत्री ने की शस्त्र पूजा कर कहा "सेना हमारी जमीन का एक इंच हिस्सा भी किसी को लेने नहीं देगी"         BIG NEWS : पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ में किया जिक्र, पुलवामा जिले के मंजूर अहमद की वजह से आज पूरा गांव कैसे बना पेंसिल वाला गांव         BIG NEWS : सिंध, पाकिस्तान के दुर्गा मंदिर में तोड़फोड़, इस्लामिक कट्टरपंथियों ने माता की मूर्ति को किया खंडित         BIG NEWS : मुंबई में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पकड़ी गई अभिनेत्री और मॉडल!         BIG NEWS : भारतीय सेना ने चीन में बने पाकिस्तान आर्मी के क्वाडकॉप्टर को मार गिराया         आज और कल दशहरा, रावण के पुतलों पर भी कोरोना का असर और भाजपा में कोरोना कोरोना         कौन हैं मां सिद्धिदात्री? भगवान शिव क्यों करते हैं इनकी उपासना         नवरात्रि का नौवां दिन, मां सिद्धदात्री से पाएं रिद्धि-सिद्धि         BIG NEWS : भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों पर की बड़ी कार्रवाई, 3 जवान ढेर, 2 घायल         BIG NRWS : FATF की ग्रे-लिस्ट में रहेगा पाकिस्तान, आतंकी सरगनाओं पर करनी होगी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत की जासूसी के लिए  पाकिस्तान ने मिन्हास एयरफोर्स बेस पर तैनात किये अवाक्स         आखिर किस बात की जल्दी है....         BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकियों पर रोक लगा पाने में नाकाम, FATF की बैठक में “ब्लैक लिस्ट” होने की संभावना बढ़ी         पीएम नरेंद्र मोदी का विपक्ष पर वार, कहा – सत्ता में आकर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 वापस लाना चाहता है विपक्ष         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती का देशद्रोही बयान, कहा- “जब तक जम्मू-कश्मीर का झंडा वापस नहीं मिलता,तिरंगा नहीं उठाएंगे”         नवरात्र का आठवां दिन: जानें मां महागौरी की पूजा विधि, मंत्र, भोग और कथा         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में डीडीसी चुनाव का रास्ता साफ, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जम्मू-कश्मीर पंचायती राज कानून को दी मंजूरी         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर से लेकर POK तक “ब्लैक डे”         BIG NEWS : सोपोर में दो आतंकियों ने किया सरेंडर, हाल ही में अल-बदर आतंकी संगठन में हुये थे शामिल         BIG NEWS : भारत ने किया 'नाग' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण, DRDO ने किया है तैयार         नवरात्र का सातवां दिन, मां कालरात्रि की उपासना से दूर होंगे जीवन के कष्ट         कहीं भी सुरक्षित नहीं महिलाएं         बिहारी की आंखों ने क्या क्या देखना है ?          सुशासन बाबू का सुत्थर चेहरा और बेवाओं की बेबस मुस्कान         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी हमले की बरसी पर 22 अक्टूबर को मनाया जाएगा “ब्लैक डे”         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी, प्रदर्शकारियों ने कहा – “पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है गिलगित-बल्तिस्तान”         BIG NEWS : पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला को ईडी ने दूसरी बार किया तलब, जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन घोटाले मामले में हुई पूछताछ         नवरात्रि के छठे दिन होती है मां कात्‍यायनी की पूजा, जानिए पूजा विधि और मंत्र         बिहार में चुनाव :आरजेडी ने सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवारों को दीया टिकट         BIG NEWS : क्या यूपी के सबसे बड़े माफिया मुख्तार अंसारी को बचा रही है पंजाब सरकार?         

बिहार में बाढ़ नियंत्रण, चट मंगनी पट ब्याह

Bhola Tiwari Oct 01, 2020, 7:47 AM IST राष्ट्रीय
img


 दिनेश मिश्रा

जमशेदपुर  : 1953, में बिहार में एक भयंकर बाढ़ आयी थी। अक्टूबर महीने के अन्त में प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू एक बार बिहार आये और उन्होंने यहां के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा भी किया। उनका अपना मत था कि बाढ़ पीड़ितों की बेहतरी के लिये तुरन्त कुछ किया जाय। तुरन्त तो सिर्फ तटबन्ध ही बनाये जा सकते थे। 

इसके पहले एस. सी. मजूमदार कमेटी पहले ही कह चुकी थी कि बराहक्षेत्र बांध से, जिसके बारे में कहा जाता था कि वह कुतुब मीनार के तीन गुने से भी ज्यादा 800 फुट ऊंचा होगा, जितनी बिजली पैदा होगी उसका लम्बे समय तक देश में कोई उपयोग नहीं हो पायेगा। वैसे भी इस बांध पर 177 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान था जो सरकार के पास नहीं थे। इस समिति ने बेलका में एक 80 फुट ऊंचे बांध का प्रस्ताव किया मगर उसके 17 साल के अन्दर बालू से पट जाने का अन्देशा था भले ही उसकी लागत 55 करोड़ रुपये ही थी। 

तब कोसी की बाढ़ रोकने अस्थायी समाधान के तौर पर नदी के दोनों तरफ तटबन्ध बनाने का प्रस्ताव किया गया जिस परियोजना पर मात्र 37 करोड़ रुपये ही खर्च होने वाले थे। राज्य और केंद्र सरकार की आर्थिक स्थिति को देखते हुए यह अन्तिम प्रस्ताव ज्यादा व्यावहारिक था। 

प्रधानमंत्री के बिहार दौरे का यह असर हुआ कि चार सदस्यों की एक कमेटी कोसी की बाढ़ की समस्या का अध्ययन करने और उस पर प्रस्तावित तटबन्धों के निर्माण के बारे में उनकी राय जानने के लिये गठित की गयी।इस समिति के सदस्य आन्ध्र प्रदेश के चीफ इंजीनियर श्री वेंकटाकृष्ण अय्यर, सेंट्रल वाटर ऐन्ड पावर कमीशन के चेयरमैन श्री कंवर सैन, बिहार के चीफ इंजीनियर श्री एम. पी. मथरानी और इरिगेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट, कलकत्ता के निदेशक श्री एन.के. बोस बनाये गये थे। इस समिति के सदस्यों ने 12 दिसम्बर, 1953 के दिन कोसी क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया और 13 दिसम्बर के दिन अपनी रिपोर्ट सरकार को दे दी जिसमें कोसी पर प्रस्तावित तटबन्धों का अनुमोदन कर दिया गया था। इसी रिपोर्ट के आधार पर 14 दिसम्बर, 1953 के दिन इस योजना के स्वरूप पर लोकसभा में बयान दिया था और इस तरह कोसी के नियंत्रण की कहानी पूरी हो गयी।

 कोसी को बांधने के लिए तो इतना अध्ययन और तैयारी भी हुई पर बाकी नदियों पर न तो कोई सार्वजानिक बहस हुई और न तैयारी। अब भुगतना ही पड़ेगा।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links