ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : पाकिस्तान अगर विंग कमांडर अभिनंदन को नहीं छोड़ता तो फॉरवर्ड बेस तबाह कर देते : पूर्व वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ         BIG NEWS : पाकिस्तान का सबसे बड़ा कबूलनामा, मंत्री फवाद चौधरी बोले- पुलवामा आतंकी हमला इमरान सरकार की बड़ी कामयाबी         BIG NEWS : कुलगाम में बीजेपी नेताओं पर आतंकी हमला, युवा मोर्चा के महासचिव फिदा हुसैन समेत 3 की मौत         भगवान शिव का तीर्थ : कभी देवी मां लक्ष्मी ने स्वयं खोदा था ये कुंड, आज इस कुंड के पवित्र जल से होता है शिवलिंग का जलाभिषेक         BIG NEWS : मुंगेर में गोलीकांड पर बवाल, भीड़ ने थाना फूंका, DM-SP को हटाया         BIG NEWS : टेरर फंडिंग केस से जुड़े लोगों पर NIA का कसा शिकंजा, दिल्ली-श्रीनगर में 9 जगहों पर छापेमारी         BIG NEWS : श्रीनगर में महबूबा मुफ्ती की पार्टी पीडीपी का दफ्तर सील, कई कार्यकर्ता गिरफ्तार         BIG NEWS : भारत ने चीन से वापस छीना तवांग का सुमदोरोंग चू हिस्सा, अब घर में घुसकर हो सकेगी चीन की मार..         BIG NEWS : सेना ने हर चुनौतियों का किया डटकर सामना, LAC पर सैनिक पूरी तरह मुस्तैद : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में जमीन खरीदने के नए नियम के साथ ही बढ़ेगा निवेश, युवाओं को मिलेगा रोजगार         नफरत का कोरस नहीं गाएं, ठोस योजना बनाएं           इस मंदिर के दर्शन के बिना अधूरी है आपकी धार्मिक यात्रा         BIG NEWS : इस बार रावण की जगह मोदी, अंबानी के पुतले जले; झूठ बोलने में PM की बराबरी नहीं : राहुल गांधी         BIG NEWS : “महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला को भारत में रहने का हक नहीं” : केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में टेरर फंडिंग केस की जांच जारी, NIA ने श्रीनगर में ग्रेटर कश्मीर के कार्यालय समेत कई जगहों पर की छापेमारी         BIG NEWS : पाकिस्तान एक बार फिर हुआ शर्मसार, फ्रांस में पाकिस्तान का राजदूत ही नहीं और संसद ने पारित किया उसके वापसी का फरमान         अष्टविनायक के इस मंदिर में करीब 128 साल से जल रहा है दीया         BIG NEWS : केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, अब जम्मू-कश्मीर में कोई भी खरीद सकेगा जमीन         BIG NEWS : भारत-अमेरिका के बीच BECA समझौते पर हस्ताक्षर         BIG NEWS : शुरुआती सर्दी में ही हिमालय के रण में हांफने लगी चीनी सेना         BIG NEWS : “सीमा पार घुसपैठ की फिराक में तैयार बैठे हैं 250-300 आतंकी, सेना हर स्थिति से निपटने को तैयार” : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : पाकिस्तान के पेशावर में मदरसे में ब्लास्ट, 7 लोगों की मौत, 70 से अधिक घायल         भेष बदल कर आया रावण..         रॉ प्रमुख सामंत कुमार गोयल का काठमांडू दौरा और बंद कमरे में नेपाली प्रधानमंत्री से मुलाकात         BIG NEWS : लोगों का गुस्सा फूटा, श्रीनगर के लाल चौक पर बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की तिरंगा फहराने की कोशिश, जम्मू में PDP दफ्तर पर फहराया तिरंगा         बिहार चुनाव में का बा ?         ''रावण मर गया !''         देवी         भारतीय भाषाओं के लिए इंसाफ की जंग जीतनेवाले को सलाम         मां दुर्गा को सबसे प्रिय हैं ये 4 सरल मंत्र, चारों दिशाओं से मिलेगी सफलता         मां दुर्गा में हैं ये 8 प्रकार की शक्ति, शक्तियों का सामूहिक नाम ही दुर्गा         BIG NEWS : सरसंघचालक मोहन भागवत ने चीन पर साधा निशाना, कहा - “भारत की प्रतिक्रिया से इस बार सहम गया चीन”         BIG NEWS : पाकिस्तान के क्वेटा शहर में बम विस्फोट, 4 लोगों की मौत, 3 से अधिक घायल         रावण...         शत्रुओं पर विजय पाना है तो दशहरे पर करें महाउपाय         अनु. 370 के माने अब तो समझिए         बिहार में किसकी हार..         तेजस्वी यादव जवाब दें, पार्टी का जमात ए इस्लामी और पीएफआई के साथ समझौता हुआ है : मुख्तार अब्बास नकवी         चिराग पासवान, भाजपा और सीतामढ़ी में भव्य मंदिर         BIG NEWS : रक्षा मंत्री ने की शस्त्र पूजा कर कहा "सेना हमारी जमीन का एक इंच हिस्सा भी किसी को लेने नहीं देगी"         BIG NEWS : पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ में किया जिक्र, पुलवामा जिले के मंजूर अहमद की वजह से आज पूरा गांव कैसे बना पेंसिल वाला गांव         BIG NEWS : सिंध, पाकिस्तान के दुर्गा मंदिर में तोड़फोड़, इस्लामिक कट्टरपंथियों ने माता की मूर्ति को किया खंडित         BIG NEWS : मुंबई में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पकड़ी गई अभिनेत्री और मॉडल!         BIG NEWS : भारतीय सेना ने चीन में बने पाकिस्तान आर्मी के क्वाडकॉप्टर को मार गिराया         आज और कल दशहरा, रावण के पुतलों पर भी कोरोना का असर और भाजपा में कोरोना कोरोना         कौन हैं मां सिद्धिदात्री? भगवान शिव क्यों करते हैं इनकी उपासना         नवरात्रि का नौवां दिन, मां सिद्धदात्री से पाएं रिद्धि-सिद्धि         BIG NEWS : भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों पर की बड़ी कार्रवाई, 3 जवान ढेर, 2 घायल         BIG NRWS : FATF की ग्रे-लिस्ट में रहेगा पाकिस्तान, आतंकी सरगनाओं पर करनी होगी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत की जासूसी के लिए  पाकिस्तान ने मिन्हास एयरफोर्स बेस पर तैनात किये अवाक्स         आखिर किस बात की जल्दी है....        

संकट में पत्रकार

Bhola Tiwari Sep 28, 2020, 7:51 AM IST टॉप न्यूज़
img


डॉ सुशील उपाध्याय

देहरादून  : पत्रकार कितने भी समर्थ हों और मीडिया कितना भी जागरूक हो लेकिन वह इस प्रश्न तक का उत्तर नहीं दे पा रहा कि भारत में कोरोना के विस्फोट के बाद मीडिया जगत के कितने लोगों को अपने रोजगार से हाथ धोना पड़ा और बीते 8 महीनों की जद्दोजहद में कितने पत्रकार आधे वेतन पर काम करने के लिए मजबूर हुए हैं। या फिर, कितने पत्रकार बीमार हैं और कितने पत्रकारों के परिवार भुखमरी का शिकार हुए हैं। 

महामारी के इस संकट ने मीडियाकर्मियों और मीडिया के पेशे को जो चोट पहुंचाई है, उससे उबरने में बरसो लगेंगे। सच बात तो यह है की पत्रकारों ने बीते 10-12 सालों में अपने वेतन और थोड़ी-बहुत सुविधाओं में जिस वृद्धि को हासिल किया था, वह अब एक झटके में ही खत्म हो गई है। इस परेशानी भरे वक्त में भी अखबारों और चैनलों के मालिकों ने बड़े पैमाने पर छंटनी करने या वेतन घटाने से कोई परहेज नहीं किया। सच यह है कि आज मीडिया मालिक नहीं, बल्कि मीडियाकर्मी संकट में है। 

अब सवाल यह है कि क्या हमारे पास बीते 8 महीनों का कोई व्यवस्थित अध्ययन उपलब्ध है जो यह बता सके कि इस अवधि में पत्रकारों ने किस तरह के संकटों और चुनौतियों का सामना किया है ? पूरे देश में इस बात की चर्चा है कि कोरोना काल में अब तक लगभग 600 डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी अपनी जान गवा चुके हैं। इंडियन मेडिकल काउंसिल द्वारा इस बारे में प्रामाणिक और व्यवस्थित सूचनाएं एकत्र करके सरकार का ध्यान खींचा गया है, लेकिन पत्रकारों की किसी भी संस्था ने राष्ट्रीय स्तर पर ऐसा कोई सर्वे या अध्ययन नहीं कराया, जिससे यह पता लग सके इस अवधि में पत्रकारों की आर्थिक, मानसिक और पारिवारिक-सामाजिक जिंदगी की क्या स्थिति है। 

मौजूदा समय में पत्रकार दोहरे संकट का सामना कर रहा है। एक तरफ कोई भी सरकार या सरकारी संस्था पत्रकारों के संकट को लेकर समुचित स्तर पर संवेदनशील नहीं है और दूसरी तरफ सरकारों और मालिकों के बीच गहरा गठजोड़ बन गया है। इसी गठजोड़ का परिणाम है की मीडिया घरानों में ठीक प्रकार से श्रम कानूनों को लागू नहीं किया जा रहा है। 

यह बहुत बड़ा विरोधाभास है कि जो पत्रकार दूसरे लोगों के हितों के लिए लगातार संघर्ष करते हैं, उन पत्रकारों के हितों का रखवाला कोई नहीं होता। इसमें कोई संदेह नहीं है कि मौजूदा समय मीडियाकर्मियों और मीडिया दोनों के लिए भयावह है। ये बात अलग है कि मीडिया मालिक बीते वर्षों में ठीक-ठाक लाभ कमाते रहे हैं इसलिए वे कोरोना के इस दौर से आसानी से पार पा जाएंगे, लेकिन पत्रकारों के सामने नौकरी, वेतन, बीमारी आदि के मामले में कोई संस्थानिक संरक्षण मौजूद नहीं है और यदि यह संरक्षण मौजूद है भी तो यह पंगु दिखाई देता है। 

अब यह कोई छिपी हुई बात नहीं है कि बीते कुछ वर्षों में मीडिया के केंद्र में मीडिया मालिक आ गया है। संपादक और चैनल प्रमुख की भूमिका मीडिया के मालिक के पास ही है। ऐसे में पत्रकार नितांत अकेला है। संपादक के रूप में मौजूद मालिक और पत्रकार के हित तथा उद्देश्य दोनों पूरी तरह से अलग हैं।

पत्रकार के सामने एक बड़ा संकट यह भी आया है कि अब अपने मीडिया हाउस के लिए वित्तीय संसाधन जुटाने की जिम्मेदारी भी उसी की है। ऐसे में, यह बात और भी चिंताजनक है कि पत्रकारिता जैसे सतत सक्रिय और जागरूकता भरे पेशे में ऐसा कोई तथ्यात्मक अध्ययन उपलब्ध नहीं हो पाया जो यह बता सके कि बीते महीनों में पत्रकारों की जिंदगी किस तरह प्रभावित हुई है। 

अब इसमें कोई संदेह की गुंजाइश नहीं है कि मीडिया घरानों ने कोरोना की आपदा को अपने लिए एक अवसर में परिवर्तित कर लिया है। उन्होंने अपने खर्चों को बड़ी हद तक घटा दिया है। इसका लाभ उन्हें कई वर्षों तक मिलता रहेगा। ऐसे में यह मांग स्वाभाविक है कि यदि देश के प्रमुख मीडिया घराने बीते सालों में कथित रूप से घाटे में रहे हैं तो फिर उन्हें अपनी बैलेंस शीट को नए सिरे से सार्वजनिक करना चाहिए ताकि पता लग सके कि घाटे में कौन है, पत्रकार या मीडिया मालिक! 

चूंकि विगत कुछ वर्षों से भारत का मीडिया मुख्यतः सरकार केंद्रित रहा है इसलिए यह उम्मीद नहीं की जा सकती कि सरकार खुलकर पत्रकारों के हित में आएगी। इस साल अब तक जहां अन्य उद्योगों में 20 से 25 फीसद लोगों की नौकरी गई अथवा उनके वेतन में कमी की गई, वहीं एक मोटा अनुमान है कि मीडिया में 35 से 40 फीसद पत्रकार या तो अपनी नौकरी गंवा बैठे अथवा उनका वेतन पहले की तुलना में आधा रह गया है। 

मौजूदा स्थिति का असर आने वाले समय में और भी गहरे रूप में दिखाई देगा। अब मीडिया में एंट्री लेवल पर नए लोगों की संभावनाएं सीमित हो गई हैं और अभी तक एंट्री लेवल पर जो मानदेय दिया जाता था, वह 18-20 हजार प्रति माह से घटकर 8-10 हजार हो गया है। इसका असर देशभर के विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में संचालित हो रहे पत्रकारिता और मीडिया अध्ययन विभागों पर भी साफ तौर पर दिखाई देगा। मुख्यधारा के मीडिया के अलावा विज्ञापन, इवेंट मैनेजमेंट, फिल्म प्रोडक्शन आदि से संबंधित रोजगार भी प्रभावित होंगे। मीडिया के भीतर यह उद्वेलन का समय है, लेकिन इस उद्वेलन में मीडियाकर्मी अपने हितों के संरक्षण के मामले में सबसे गरीब व्यक्ति दिखाई दे रहा है। टेक्नोलॉजी की बढ़ती भूमिका ने उसकी चुनौतियों को और बढ़ा दिया है। फिलहाल, देश में पत्रकारों की स्थिति को लेकर एक तथ्यात्मक और विस्तृत अध्ययन की आवश्यकता है ताकि लोगों के सामने मीडिया और मीडियाकर्मियों की सही-सही तस्वीर प्रस्तुत की जा सके।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links