ब्रेकिंग न्यूज़
कहीं भी सुरक्षित नहीं महिलाएं         बिहारी की आंखों ने क्या क्या देखना है ?          सुशासन बाबू का सुत्थर चेहरा और बेवाओं की बेबस मुस्कान         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी हमले की बरसी पर 22 अक्टूबर को मनाया जाएगा “ब्लैक डे”         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी, प्रदर्शकारियों ने कहा – “पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है गिलगित-बल्तिस्तान”         BIG NEWS : पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला को ईडी ने दूसरी बार किया तलब, जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन घोटाले मामले में हुई पूछताछ         नवरात्रि के छठे दिन होती है मां कात्‍यायनी की पूजा, जानिए पूजा विधि और मंत्र         बिहार में चुनाव :आरजेडी ने सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवारों को दीया टिकट         BIG NEWS : क्या यूपी के सबसे बड़े माफिया मुख्तार अंसारी को बचा रही है पंजाब सरकार?          BIG NEWS : पुलवामा एनकाउंटर में 2 और आतंकी ढेर, बीते 24 घंटों में 4 आतंकियों का सफाया         BIG NEWS : राहुल गांधी के बयान पर अमित शाह ने किया पलटवार, कहा – “1962 में 15 मिनट में चीन को क्यों नहीं बाहर फेंक पाई कांग्रेस"         BIG NEWS : चीन के सामने फिर झुका पाकिस्तान, इमरान सरकार ने 10 दिनों के अंदर टिकटॉक से हटाया बैन         नवरात्र का पांचवा दिन: ऎसे करें स्कंदमाता की पूजा, मिलेगी सुख-शांति         दुमका गैंगरेप मामले में महिलाओं ने रामगढ़ थाना घेरा, निर्दोष को फंसाने का आरोप         चाईबासा में नक्सलियों का तांडव, कंस्ट्रक्शन में लगे 4 पोकलेन और एक बाइक को किया आग के हवाले         सवाल पूछिए कि क्या सोचकर आदिवासी मामलों का मंत्रालय बनाया था !         बेरमो में का बा !          BIG NEWS : रघुवर दास की फिसली जुबान, कहा- तभी 'चोट्टा' लोग राज कर रहे हैं, जेएमएम ने ट्वीट कर पूछे सवाल         कांग्रेस नेता कमलनाथ के बोल, मध्यप्रदेश की मंत्री इमरती देवी "आइटम"         राजनीति के अपराधीकरण और बिहार में चुनाव         जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन में 43 करोड़ रुपये की गड़बड़ी, पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला से ईडी की पूछताछ         BIG NEWS : पाकिस्तान में विपक्षी दलों की विरोध रैली से डरे इमरान खान, पुलिस ने होटल का दरवाजा तोड़कर नवाज शरीफ के दामाद को किया गिरफ्तार         BIG NEWS : लद्दाख में भारतीय सेना ने एक चीनी सैनिक को पकड़ा, कई दस्तावेज बरामद         गुप्त नवरात्र का चौथा दिन, मां कूष्मांडा को ऐसे करें प्रसन्न         BIG NEWS : अनंतनाग में मस्जिद से लौट रहे पुलिस अफसर की गोली मारकर हत्या, शोपियां में सुरक्षाबलों के साथ एनकाउंटर में एक आतंकी ढेर         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों पर बीते 24 घंटे में दूसरा आतंकी हमला, दो जवान घायल         BIG NEWS : शिक्षा मंत्री को एयर एंबुलेंस से चेन्नई भेजा, हालत बिगड़ने पर चेन्नई से बुलाई गई थी डॉक्टरों की टीम          ''ए नीतीश! तू थक गईल बाऽडा अब जा आराम करऽअ": लालू यादव         BIG NEWS : हड़िया बेचकर आजीविका चला रही है नेशनल कराटे चैंपियन, मदद को आए CM हेमंत सोरेन, अफसरों को दिया निर्देश         नॉर्वे में एक भारतीय रेस्तरां         अब सियासी आदिवासी नहीं..         दुर्गा को पहचानें !         BIG NEWS : भारत ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का किया सफल परीक्षण, अरब सागर में मौजूद टारगेट को किया ध्वस्त         BIG NEWS : चीनी सेना की तोपों ने भी जमकर बम बरसाए         BIG NEWS : ट्विटर ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख को बताया चीन का हिस्सा; साजिश या लापरवाही !         BIG NEWS : कोरोना संक्रमित शिक्षा मंत्री की हालत बिगड़ी, घबराए डॉक्टरों ने सीएम को अस्पताल बुलाया, चार्टर्ड प्लेन से डॉक्टरों की टीम चेन्नई से रांची पहुंची         नवरात्र के तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की पूजा, भय से मुक्ति के लिए इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा         BIG NEWS : जहां से शत्रुघ्न सिन्हा हारे वहीं से बेटा लव सिन्हा लड़ रहा है चुनाव         BIG NEWS : शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो की हालत बिगड़ी, मेडिका अस्पताल पहुंचे सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : दुश्मन को फंसाने के लिए पुजारी ने शूटर से खुद पर चलवाई थी गोली, 7 गिरफ्तार         BIG NEWS : त्राल में CRPF जवानों पर ग्रेनेड हमला, 1 जवान घायल , सर्च ऑपरेशन जारी         मां ब्रह्मचारिणी की पूजा से प्राप्‍त होता है धैर्य और सहनशीलता         BIG NEWS : चीनी जासूसों की गतिविधियों पर लगाम, चीनी इंटेलिजेंस एजेंसी भारत में करती रही जासूसी         आज नवरात्र का दूसरा दिन, जानिए मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि, भोग और मंत्र         BIG NEWS : झारखंड के शिक्षा मंत्री की हालत गंभीर, जगरनाथ महतो का फेफड़ा डैमेज, डॉक्टरों ने बदलने की दी सलाह         BIG NEWS : नवरात्रि के पहले दिन हजारों भक्तों ने किया माता वैष्णो देवी के दर्शन, जयकारों से गूंजा माता का दरबार         BIG NEWS : नवाज शरीफ का सेना प्रमुख बाजवा पर हमला, कहा “मेरी सरकार गिराकर इमरान खान को बनाया पीएम”         BIG NEWS : अंतरराष्ट्रीय सीमा पर ड्रग्स और हथियारों की तस्करी के लिए हो रहा ड्रोन का इस्तेमाल : NSG DG         BIG NEWS : अवंतिपोरा में लश्कर आतंकियों के अंडरग्राउंड ठिकाने पर छापा, हथियारों का जखीरा बरामद         जोइता पटपटिया और तनिष्क का "लव जिहाद" विज्ञापन         दुर्गा शब्द की उत्पत्ति        

BIG NEWS : लद्दाख में टेंशन बनाए रखना एक बहाना, मकसद सीपेक बचाने के लिए गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का 5वां सूबा बनाना

Bhola Tiwari Sep 25, 2020, 12:05 PM IST टॉप न्यूज़
img


टोनी पाधा 

श्रीनगर : पाकिस्तान की करतूत और चीन की साजिश पूरी तरह एक्सपोज हो चुकी है। जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद पाकिस्तान के साथ-साथ चीन की हालत खस्ता है। सीपेक योजना चीन को खाए जा रही है। इस योजना को बचाने के लिए चीन हर साजिश करने को तैयार है। इसी मकसद से चीन ने एलएसी पर लगातार टेंशन बनाए हुए हैं ताकि पाकिस्तान पर दबाव बनाकर गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का 5वां सूबा बनवाया जा सके। चीन के हुक्मरानों की समझदारी यह कहती है कि अगर ऐसा पाकिस्तान करता है तो भारत रिएक्ट करने के लिए सोचेगा। चीन और पाकिस्तान का गेम प्लान पूरी तरह एक्सपोज हो चुका है।

दरअसल 16 सितंबर को पाकिस्तान आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा और आईएसआई चीफ ले. जनरल फैज़ हमीद ने रावलपिंडी के जनरल हेडक्वार्टर्स में एक खुफिया मीटिंग बुलाई। जिसमें पाकिस्तान के तमाम पॉलिटिकल पार्टीज़ के नुमाइंदे मौजूद थे। जिसमें सत्ताधारी पीटीआई के नेता, कश्मीर अफेयर्स मिनिस्टर अली अमीन गंडापुर, रेलवे मिनिस्टर शेख रशीद के अलावा नेशनल असेंबली में विपक्ष के नेता और पीएमएल-एन प्रेज़िडेंट शाहबाज़ शरीफ, पीपीपी चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी, जमात-ए-इस्लामी के शिराज-उल-हक, पीएमए-एन लीडर ख्वाजा आसिफ, एहसान इकबाल, पीपीपी सीनेटर शेरी रहमान समेत 15 बड़े लीडर मौजूद थे। मीटिंग में आर्मी चीफ बाजवा ने तमाम लीडर्स को एक फरमान सुनाया कि पाकिस्तान जल्द ही गिलगित-बल्तिस्तान (POTL) को पांचवा सूबा बनाने जा रहा है और इसके लिए चीन का भारी दबाव पाकिस्तानी सरकार पर है, लिहाजा तमाम पार्टीज़ इसको लेकर कोई तमाशा खड़ा न करें, इसीलिए ये मीटिंग बुलाई गयी है। आर्मी चीफ के इस फरमान को सुनकर तमाम लीडर्स हैरान थे, इस दौरान पीपीपी सीनेटर शेरी रहमान ने सवाल उठाया कि इस मीटिंग में पीएम इमरान खान क्यों मौजूद नहीं है। क्योंकि गिलगित बल्तिस्तान का फैसला पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में होना चाहिए और आर्मी क्यों इसको लीड कर रही है।

इस मीटिंग में आर्मी चीफ ने बताया कि चीन के लगातार तमाम गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर पॉलिटिकल पार्टीज़ को बताया कि फैसला हो चुका है, इसीलिए तमाम पार्टीज़ सिर्फ ये राय दें कि ये काम गिलगित-बल्तिस्तान में होने वाले चुनावों से पहले लिया जाये या फिर बाद में। पुख्ता सूत्रों के मुताबिक इसपर सत्ताधारी पीटीआई ने चुनावों के बाद में ये फैसला लेने का सुझाव दिया। जबकि बाकी तमाम पॉलिटिकल पार्टी ने चुनाव से पहले ही इसपर फैसला लेने को कहा। लेकिन पीएमएल-एन के शाहबाज़ शरीफ औऱ पीपीपी चेयरमेन बिलावल भुट्टो ने फिर से दोहराया कि आर्मी को इस फैसले का हक नहीं है, ये फैसला नेशनल असेंबली में लिया जाना है। तभी वो इसका समर्थन करेंगे। साफ था इस मीटिंग में पीपीपी और पीएमएल-एन ने गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर किसी भी गैर-संवैधानिक फैसले में हिस्सा लेने से मना कर दिया। स्पष्ट था आर्मी हेडक्वार्टर में गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर पॉलिटिकल पार्टीज़ में कोई समहति नहीं बनी। मीटिंग चूंकि सीक्रेट थी, लिहाजा आर्मी चीफ ने इसको लेकर पब्लिक में न बोलने की ताकीद दी। लेकिन तमाम विपक्षी पार्टियों ने आर्मी और इमरान खान सरकार के खतरनाक इरादों के खिलाफ मोर्चा खोलने का निर्णय लिया और 21 सितंबर को मुख्य विपक्षी पार्टियों ने एक ऑल पार्टीज़ कॉन्फ्रेंस की। जिसमें ऐलान किया गया कि तमाम पार्टियां मिलकर एक पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट चलायेंगी और इमरान सरकार-आर्मी के गठजोड़ वाली सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए 3 फेज़ में मूवमेंट शुरू किया जायेगा। इस कॉन्फ्रेंस में लंदन से ऑनलाइन भाषण के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने आर्मी पर सीधा हमला बोलते हुए स्पष्ट किया कि पाकिस्तान में आर्मी को अपनी मनमानी खत्म करनी होगी और सत्ता से दखल देना बंद करना होगा। नवाज शरीफ ने आर्मी को सीधे-सीधे “a state above the state in the country” घोषित कर दिया। नवाज शरीफ ने अपने भाषण में आर्मी को चुनावों में किसी तरह के दखल न देने की चेतावनी दी।

इसके अलावा इस काँफ्रेस में पीपीपी चेयरमैन बिलावल भुट्टो ने आर्मी पर कई बार तीखे हमले किये औऱ इमरान खान की सेलेक्टेड सरकार को बचाने का सीधा आरोप लगाया। 

गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर पाकिस्तान आर्मी के मंसूबों पर ये कॉन्फ्रेंस पानी फेरने जैसी साबित होते देख आर्मी ने खुद 16 सितंबर को हुई मीटिंग की डिटेल्स लीक करनी शुरू की। पब्लिक में इस तरह की इमेज पेश करने की कोशिश की गयी कि अगर पीएमएल-एन और पीपीपी का पाकिस्तान आर्मी में भरोसा नही है, तो वो रावलपिंडी में मीटिंग में क्यों नहीं गये और उस वक्त क्यों भीगी-बिल्ली बने रहे। इन डिटेल्स को लीक किया पाकिस्तान के रेलवे मिनिस्टर शेख रशीद ने। शेख रशीद ने आर्मी का बचाव करते हुए कहा कि रावलपिंडी में हुई मीटिंग में आर्मी चीफ ने तमाम पॉलिटिकल पार्टीज़ को सीधे-सीधे कहा था कि आर्मी का पॉलिटिक्स में कोई दखल नहीं है। लेकिन आर्मी चीफ की सफाई के बावजूद भी पाकिस्तान की विपक्षी पार्टियां आर्मी पर हमला कर रही हैं।

हालांकि शेख रशीद ने रावलपिंडी में हुई मीटिंग के मकसद पर कुछ नहीं बोला, लेकिन शेख रशीद के हमले के बाद पीपीपी सीनेटर शेरी रहमान ने एक टीवी शो में पाकिस्तान आर्मी के सीक्रेट प्लान की पोल खोल दी और बताया कि आर्मी चीफ ने गिलगित बल्तिस्तान को लेकर मीटिंग बुलाई थी, लेकिन पीपीपी ने स्पष्ट किया है कि गिलगित-बल्तिस्तान में फ्री एंड फेयर इलेक्शन होने चाहिए और उसको लेकर कोई भी फैसला नेशनल असेंबली में लिया जाना चाहिए। 

इसके बाद एक के बाद एक नेताओं ने टीवी चैनल्स पर गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर पाकिस्तान आर्मी के खुफिया ग्रैंड-प्लान को पोल खोल दी। बड़बोले मंत्री शेख रशीद ने असली सच उगलते हुए बताया कि दरअसल LAC पर चीन भारत के खिलाफ जो साजिश लद्दाख में रच रहा है। उसका असली मकसद गिलगित-बल्तिस्तान से होकर गुजरने वाले सीपेक (चायना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कोरिडोर) को सुरक्षित करना है और इसीलिए लिए चीन का दबाव है कि जल्द गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का पांचवा सूबा घोषित किया जाये, ताकि भविष्य में इसको लेकर हमेशा के लिए झगड़ा खत्म किया जा सके। शेख रशीद ने स्पष्ट बताया कि पाकिस्तान के पास और कोई चारा भी नहीं है,बल्कि पाकिस्तान को चीन के इस फैसले को मानना ही पड़ेगा और गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर फैसला लेना ही पड़ेगा। 

 गिलगित-बल्तिस्तान : चीन की साजिश बेनकाब

 दुनिया को कोविड महामारी में धकेलने के बावजूद भी चीन ने लद्दाख में झड़प क्यों कि इसको लेकर तमाम तरह के कयास लगाये जा रहे थे। लेकिन धीरे-धीरे चीन की साजिश का असली मकसद साफ होने लगा है। दरसअल चीन भारत को लद्दाख में उलझाकर गिलगित-बल्तिस्तान में अपने महत्तवाकांक्षी इकोऩॉमिक कोरिडोर सीपेक को सुरक्षित करने की साजिश में लगा है। भारतीय संसद द्वारा जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 खत्म करने के बाद चीन को समझ में आया कि अब जम्मू कश्मीर मुद्दा नहीं बचा। बल्कि मोदी सरकार ने अब गोलपोस्ट बदलकर पीओजेके औऱ गिलगित-बल्तिस्तान में कर दी है। चीन अच्छी तरह समझता है कि मोदी सरकार पाकिस्तान के कब्ज़े वाले दोनों ही क्षेत्रों की कब्ज़ा वापसी के लिए वचनबद्ध है, लिहाजा मोदी सरकार आज नहीं तो कल जल्द ही इनकी वापसी को लेकर कोई कार्रवाई कर सकता है। ऐसे स्थिति में गिलगित-बल्तिस्तान से होकर गुजरने वाले चायना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कोरिडोर (सीपेक) का भविष्य क्या होगा। इसको लेकर चीन बैचेन था, लिहाजा पिछले कुछ महीनों में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कम से कम 3 बार दौरा किया। पाकिस्तान को आर्थिक सहायता के बदले में चीन ने पाकिस्तान को गिलगित-बल्तिस्तान को 5वां सूबा जल्द बनाने का फैसला करने पर राजी नहीं। हालांकि इमरान सरकार इस पर तैयार नहीं थी, क्योंकि इस सीधा नतीज़ा भारत और पाकिस्तान युद्ध हो सकता है, लेकिन की ज़िद और आश्वासन के बाद पाकिस्तान ने इसको लागू करने के लिए मज़बूर होना पड़ा। पाकिस्तान में डूबती इकोनॉमी के चलते आम लोगों के हमले झेल रही इमरान सरकार के लिए भी ये बड़ा वरदान साबित हो सकता है। लिहाजा इमरान सरकार ने पाकिस्तान आर्मी के फैसले पर औपचारिक हामी भर दी।

  इसी के बाद लद्दाख में चीनी सेना द्वारा आक्रामक रवैया देखने को मिला, जोकि अब तक जारी है। एक टीवी चैनल को दिये इंटरव्यू में पाकिस्तान के रेलवे मिनिस्टर शेख रशीद ने भी अपने बड़बोलेपन में चीन के इसी प्लान पर मुहर लगा दी। 

 दअरसल चीन पाकिस्तान में सीपेक प्रोजेक्ट पर 42 बिलियन डॉलर खर्च कर चुका है और इससे जुड़े प्रोजेक्ट्स पर कुल 87 बिलियन डॉलर तक खर्च करने का प्लान है। ये कोरिडोर चीन के “बेल्ट एंड रोड इनिसिएटिव” प्लान का महत्तवपूर्ण हिस्सा है। चीन इस कोरिडोर के जरिये ग्वादर पोर्ट से गिलगित-बल्तिस्तान होते हुए सीधे चीन में व्यापारिक आवाजाही शुरू करने की तैयारी में जुटा है। इससे चीन अफ्रीका, यूरोप और गल्फ देशों से आसानी से जुड़ पायेगा। ऐसे में अगर भारत अगर गिलगित-बल्तिस्तान पर अपने दावे को मजबूती से उठाता है, तो हिस्सा विवादित होने के चलते दुनिया के तमाम देश इस कोरिडोर के जरिये व्यापार करने मना कर सकते हैं। जिससे चीन का असली बेल्ट एंड रोड इनिसिएटिव प्लान परवान नहीं चढ़ पायेगा।

सीपेक अलावा चीन ने अपने विस्तारवादी प्लान को गिलगित-बल्तिस्तान में भी लागू कर दिया है। चीन ने पाकिस्तान सरकार की मदद से दर्जनों हाइड्रो प्रोजेक्ट बनाने का काम शुरु कर रखा है। जिसका सीधा मकसद गिलगित-बल्तिस्तान के वॉटर-रिसोर्सेस पर कब्ज़ा करना है।  

 ऐसे में चीन पास एक ही प्लान बचता है, पहले गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का सूबा घोषित करवाया जाये औऱ फिर यहां मनमाने ढंग से अपना विस्तारवादी एजेंडा लागू किया जाये। लेकिन भारत को चुप कराने के लिए चीन ने लद्दाख में झड़प शुरु कर युद्ध जैसे हालात पैदा किये ताकि भारत गिलगित-बल्तिस्तान के फैसले में दखल देने से हिचकिचाये। लेकिन जिस तरीके से भारत ने लद्दाख में चीन के दो कदम आगे बढ़कर करारा जवाब दिया है। उससे चीन के गिलगित-बल्तिस्तान प्लान के मंसूबे फिलहाल खटाई में दिखायी दे रहे हैं। अगर गिलगित-बल्तिस्तान प्लान लागू किया भी जाता है तो साफ है कि भारत चुप नहीं बैठेगा। 

 पाकिस्तान की उलझन 

 गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का सूबा बनाने के लिए इमरान सरकार औऱ आर्मी के सामने 2 बड़ी उलझनें हैं। एक, पाकिस्तान जम्मू कश्मीर को लेकर तमाम अंतरराष्ट्रीय मंचों पर सयुंक्त राष्ट्र प्रस्तावों का हवाला देकर राजनीति करता रहा है। भारत के खिलाफ उसका सिर्फ एक ही हथियार है सयुंक्त राष्ट्र का प्रस्ताव, जिसके मुताबिक पाकिस्तान उसके कब्ज़े वाले हिस्से में कोई मैटीरियल चेंज यानि भौतिक बदलाव नहीं कर सकता। एक अन्य प्रस्ताव जिसमें अगस्त 1948 में संपूर्ण जम्मू कश्मीर में जनमत संग्रह किया जाने का प्रस्ताव रखा गया था, की पहली ही शर्त ये थी कि पाकिस्तान को उसके कब्ज़े वाले हिस्से से अपनी सेनाएं हटानी होंगी और वहीं यथास्थिति बनानी होगी जोकि अधिमिलन से पहले थी। पाकिस्तान के हमले के दौरान जो लोग इन हिस्सों से विस्थापित हुए थे वो लोग वापिस अपने घरों में जायेंगे और भारतीय सेना पूरे जम्मू कश्मीर में तैनात की जायेगी। इसके बाद शांति स्थापित होने के बाद यूएन की देखरेख में जनमत-संग्रह का प्रस्ताव रखा गया था। लेकिन पाकिस्तान ने इस प्रस्ताव पर कभी अमल ही नहीं किया। जबकि संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन करते हुए पाकिस्तान ने गिलगित-बल्तिस्तान और पीओजेके में मैटीरियल चेंज करने जारी रखा।

पाकिस्तान ने अगस्त 2019 के बाद से फिर से संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का हवाला देकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जम्मू कश्मीर को उछालना शुरु किया है। ऐसे में अगर पाकिस्तान खुद गिलगित-बल्तिस्तान को अपना 5वां सूबा बनाता है तो ये खुद उसी की अंतरराष्ट्रीय कूटनीति के खिलाफ होगा। इसका सीधा मतलब ये होगा कि पाकिस्तान हमेशा के लिए अब तक जम्मू कश्मीर को लेकर की गयी कूटनीति को खुद ही त्याग रहा है। इसके बाद पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का हवाला देकर जम्मू कश्मीर पर राजनीति कर नहीं पायेगा।

  पाकिस्तान के सामने दूसरी बड़ी उलझन मोदी सरकार। पाकिस्तान समझ चुका है कि मोदी सरकार ने पिछले कुछ सालों में जिस तरीके से बोल्ड फैसले लिए हैं ऐसे में गिलगित-बल्तिस्तान में किसी भी बदलाव पर भारत चुप नहीं बैठेगा और नतीज़ा युद्ध हो सकता है। ऐसे में पाकिस्तान गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर ऐसी हरकत करने में सोच भी नहीं रहा है। हालांकि चीन ने दोनों ही मामलों में पाकिस्तान का साथ देने का भरोसा दिया है। लेकिन इमरान सरकार औऱ पाकिस्तान आर्मी इसको लेकर अभी भी पेशोपेश में हैं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links