ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बिहार विधानसभा चुनाव में ऑनलाइन नॉमिनेशन, ग्लव्स पहनकर वोटिंग...         BIG NEWS : बिहार में 3 फेज में चुनाव का ऐलान,10 नवंबर को नतीजे         BIG NEWS : शिबू सोरेन और उनकी पत्नी को हराया अब उनके बेटे को हराने की इच्छा नहीं : बाबूलाल मरांडी         BIG NEWS : लद्दाख में टेंशन बनाए रखना एक बहाना, मकसद सीपेक बचाने के लिए गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का 5वां सूबा बनाना         BIG STORY : कपल चैलेंज का "खेला" करने वालों के लिए  ख़ास !         BIG NEWS : टीवी डिबेट्स के चर्चित चेहरे और जम्मू-कश्मीर के एडवोकेट बाबर कादरी की श्रीनगर में आतंकियों ने की गोली मारकर हत्या         यहां मंदिर से आती है देवी प्रतिमाओं के बात करने की आवाज         यहां देवताओं के राजा इंद्र के एरावत ने भगवान शिव की की थी पूजा         अभी तो सिर्फ मछलियां फँसी है, मगरमच्छों का क्या?         बॉम्बे हाईकोर्ट ने बीएमसी को लगाई लताड़         पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोंस की हार्ट अटैक से मुंबई में मौत         SAARC मीटिंग में विदेश मंत्री ने कहा- सीमा पार आतंकवाद प्रमुख वैश्विक चुनौती         'नाइट टेस्ट' में भी पास हुई स्वदेशी पृथ्वी-2 मिसाइल, ओडिशा में हुआ परीक्षण, 300 किमी की दूरी तक मार करने में सक्षम         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को किया ढेर, बडगाम में एक जवान शहीद         BIG NEWS : बडगाम में बीजेपी नेता की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : DRDO ने किया लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण         BIG NEWS : लॉकडाउन में चर्चित ज्योति पासवान पर बनने वाली फिल्म खटाई में, फिल्म निर्माता पर केस         मशहूर ब्रिटिश कंपनी बेब्ले एंड स्काउट उत्तर प्रदेश में बनाएगी हथियार          BIG NEWS : भारत अमेरिका से खरीदेगा 30 रीपर ड्रोन          शिवलिंग के अंकुर से निकलती हैं अन्‍य देवी-देवताओं की आकृतियां, जिनका रहस्य वैज्ञानिक भी नहीं खोज पाए         गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान         पाकिस्तान ने पुंछ जिले के तीन सेक्टरों में दागे गोले, भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत ने स्वदेशी हाई-स्पीड अभ्यास ड्रोन का सफल परीक्षण किया         BIG NEWS : चीन ने भारत से सटी सीमा के नजदीक 13 नए सैन्य ठिकाने बनाए          पूरब का सोमनाथ है ये मंदिर, एक ही पत्थर से बना है विश्व का सबसे बड़ा शिवलिंग         BIG NEWS : राशन दुकानदार को अपराधियों ने मारी गोली, हालत गंभीर रिम्स रेफर         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच 13 घंटे तक चली कोर कमांडर स्तर की वार्ता, तनाव कम करने को लेकर हुई बातचीत         BIG NEWS : पाकिस्तान ने अखनूर सेक्टर में ड्रोन से भेजे हथियार, सुरक्षाबलों ने किया जब्त         देवेंद्र सिंह केस में टेरर फंडिंग जांच : NIA की टीम ने बारामूला में कई जगहों पर की छापेमारी         BIG NEWS : बडगाम एनकाउंटर में 1 आतंकी ढेर, ऑपरेशन जारी         रोजाना कुछ देर के लिए गायब हो जाता है यह शिव मंदिर         झारखंड हाईकोर्ट का बड़ा फैसला : 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण देने पर झारखंड की नियोजन नीति रद्द         अमशीपोरा एनकाउंटर:आफस्पा कानून का खूलेआम दुरूपयोग         BIG NEWS : कृषि बिल पर इतना हंगामा क्यों बरपा !         BIG NEWS : भिवंडी में तीन मंजिला इमारत ढहने से 10 लोगों की मौत          BIG NEWS : लद्दाख में 20 से ज्यादा चोटियों पर भारत की पकड़ मजबूत          मां लक्ष्मी का ऐसा मंदिर, जहां एक सिक्के से होती है हर इच्छा पूरी         इस शिवलिंग में हैं एक लाख छिद्र, यहां छुपा है पाताल का रास्ता         विपक्ष करता रहा हंगामा और मोदी सरकार ने राज्यसभा में भी पास कराए कृषि बिल, किसानों को कहीं भी फसल बेचने की आजादी         पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप         BIG NEWS : एक पत्रकार, चीनी महिला और नेपाली नागरिक गिरफ्तार, चीन को खुफिया जानकारी देने का आरोप         जम्मू कश्मीर में बड़े आर्थिक पैकेज की घोषणा : बिजली-पानी के बिलों पर एक साल तक 50 प्रतिशत की छूट का ऐलान         ऐसा मंदिर जहां चूहों को भोग लगाने से प्रसन्न होती है माता         यहां भोलेनाथ ने पांडवों को दिए शिवलिंग के रूप में दर्शन !        

आज का कुविचार: चुप्पी

Bhola Tiwari Sep 16, 2020, 6:41 AM IST कॉलमलिस्ट
img


प्रशान्त करण

(रिटायर्ड आईपीएस)

रांची  : साधो ! चुप लगाना एक कला है, साधना है, एक दर्शन है, एक विचारधारा है, सफलता और सम्पन्नता का मार्ग है।कब चुप्पी लगा लेनी है और कब बोल पड़ना है यह गणित विज्ञान का नवीनतम फार्मूले से निर्धारित किया जाता है।गणित इस लिए क्योंकि यह विद्या सूक्ष्म गणना मांगती है।समय,काल,उचित परिस्थिति आदि के अनुसार गणना जो करनी पड़ती है।यह एक जटिल और अति परिष्कृत सूक्ष्म साइंस,आटर्स और कामर्स है।

           साधो !सफलता और सम्पन्नता को एक साथ बिना मेहनत के, एक झटके में जुगाड़ लगा कर पाने की तुम्हारी साधना का एक अतिआवश्यक मंत्र चुप्पी ही है।पर इस साधना में सिर्फ चुप्पी के काम नहीं चलता क्योंकि इस साधना में साथ में कुछ और भी साधना पड़ता है और इसकी आदत का अनवरत अभ्यास भी करना पड़ता है।

   अब तुम्हें इस साधना का खुलासा विस्तार से करते हैं।चुप्पी लगाना एक कला है और इस कला में नज़ाकत और नफासत जिसे कहते हैं, रंग लाती है।जब साधक से बोलने की अपेक्षा की जाए तो उसे फौरन की चुप्पी साध लेनी चाहिए।इसके लिए लाख उकसावे,प्रेस और मीडिया के द्वारा साधक को खोजकर उसके मुँह में माइक ठूंसने के बाबजूद भी सफल साधक विचलित नहीं होता।वह अपने ओठों को दोनों तरफ अपने कान की तरफ खींच कर मुस्कुराता रहता है।इसका बकायदा लम्बा अभ्यास करना पड़ता है।मान - अपमान के चक्कर मे साधक नहीं पड़ता।उच्च कोटि का साधक पिट जाने के बाद भी मुस्कुराता रहता है।उसका ध्यान सिर्फ और सिर्फ अपने लक्ष्य की ओर होता है।वह सफलता और सम्पन्नता को एक साथ पाने के लिए अवसर और तरीकों पर से ध्यान ही नहीं हटाता।वह जिस पद को पाना चाहता है उस पद पर पहले के जबरदस्त पकड़ बनाए हुए व्यक्ति की खाट खड़े करने,खड़े खाट के नीचे पलीता लगाने,उस व्यक्ति के सम्बंध में मनगढ़ंत बातें फैलाने में चुप्पी के साथ लगा रहता है।फिर उसी चुप्पी से वह देखता और खोजता रहता है कि लक्ष्य प्राप्ति के लिए निर्णय कौन लेता है।सफल साधक एक शानदार चुप्पी के साथ उसके कानों में यह बात तरह तरह से,विभिन्न नए तरीकों से डलवाता रहता है कि साधक उसकी प्रशंसा करता है और उसके गुणों का बखान करते नहीं थकता। निर्णायक में कोई गुण हो अथवा नहीं हो,पर अपनी झूठी बड़ी प्रशंसा सुनना कौन नहीं चाहता,खास कर जब वह गलती या परिस्थिति वश पूरा ईमानदार हो।साधक उसके बाद उसी चुप्पी से उस निर्णय लेने वाले व्यक्ति की कमजोरी की नस को खोज निकालता है और किसी धुरंधर को सामने कर उसे दबवाता रहता है।जब नस काफी दब कर निर्णय लेने वाले व्यक्ति को घोर तकलीफ देने लगता है तब जाकर चुप्पी साधने वाला साधक उसके पास पंहुचकर अपनी चुप्पी तोड़कर नस दबाने की क्रिया को चुप्पी के साथ बन्द करवाकर विश्वासपात्र बन जाता है।साधक की साधना का अस्सी प्रतिशत काम तब सम्पन्न हो जाता है।अब बाकी बीस प्रतिशत पूरी करने के लिए वह लक्ष्य पर जमे व्यक्ति से अपनी नजदीकी बढ़ाता है ।एक बार जब यह हो जाता है तब वह चुप्पी तोड़ता है और उसकी प्रत्यक्ष रूप से मदद करने का ढोंग करता है और वहीं दूसरी ओर छिपा कर रखे गए आरी से उसकी कुर्सी काटने लगता है।वह ध्यान रखता है कि लक्षित व्यक्ति आंखें मूंद कर साधक से अपनी झूठी प्रशंसा सुनता रहे और आरी से अपनी कुर्सी को काटने की आवाज तक न सुन पाए।जब कुर्सी कटने के अंतिम क्षण तक पँहुच जाती है और मात्र एक धक्के से कट कर गिरने के लिए तैयार कर ली जाती है तब जाकर साधक अपनी चुप्पी धारण कर चुपके से,धोखे से एक धक्का देता है।इस धक्के में लगने वाले न्यनतम बल और दिशा की गणना साधक पहले ही कर लेता है।फिर चुप्पी ओढ़कर,काले कम्बल में छिपते हुए धक्का देकर खुद दूसरी आरामदेह कुर्सी उस कुर्सी की जगह रखकर जम जाता है।उस कुर्सी के पाँव लोहे के बने होते हैं और बैठने पर सीट बेल्ट लगाने की व्यवस्था उसी चुप्पी से कर लेता है।एक बार जब लक्ष्य प्राप्त कर लेता है तब जाकर चुप्पी तोड़ देता है।वह फिर चुप्पी तभी लगाता है जब अगले लक्ष्य के लिए साधना प्रारम्भ करनी हो।कुर्सी पर बैठकर साधक काले कम्बल को ओढ़ लेता है और उसमें मौका मिलते ही छिपकर,लोगों से बिलकुल नजर बचाकर घी के पीपों से लगातार घी पीता रहता है।पर ध्यान रखता है कि किसी को भी इसकी भनक तक न लगे।

साधो ! मैं देख पा रहा हूँ कि अब तुम्हारीसाधना का शुभ मुहूर्त आ पँहुचा है।लग जाओ साधना में।पर साधना के नियम कानून मत भूलना।अगर कहीं कोई त्रुटि हो गयी,कोई ऊंच-नीच हो ही गया तो साधना खंडित हो जाएगी और तुम दंडित हो जाओगे।इस लिए होशियार कर रहा हूँ।चुप्पी साधकर समझ लो।अब साधना में लग भी जाओ।

       अस्तु।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links