ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बिहार विधानसभा चुनाव में ऑनलाइन नॉमिनेशन, ग्लव्स पहनकर वोटिंग...         BIG NEWS : बिहार में 3 फेज में चुनाव का ऐलान,10 नवंबर को नतीजे         BIG NEWS : शिबू सोरेन और उनकी पत्नी को हराया अब उनके बेटे को हराने की इच्छा नहीं : बाबूलाल मरांडी         BIG NEWS : लद्दाख में टेंशन बनाए रखना एक बहाना, मकसद सीपेक बचाने के लिए गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का 5वां सूबा बनाना         BIG STORY : कपल चैलेंज का "खेला" करने वालों के लिए  ख़ास !         BIG NEWS : टीवी डिबेट्स के चर्चित चेहरे और जम्मू-कश्मीर के एडवोकेट बाबर कादरी की श्रीनगर में आतंकियों ने की गोली मारकर हत्या         यहां मंदिर से आती है देवी प्रतिमाओं के बात करने की आवाज         यहां देवताओं के राजा इंद्र के एरावत ने भगवान शिव की की थी पूजा         अभी तो सिर्फ मछलियां फँसी है, मगरमच्छों का क्या?         बॉम्बे हाईकोर्ट ने बीएमसी को लगाई लताड़         पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोंस की हार्ट अटैक से मुंबई में मौत         SAARC मीटिंग में विदेश मंत्री ने कहा- सीमा पार आतंकवाद प्रमुख वैश्विक चुनौती         'नाइट टेस्ट' में भी पास हुई स्वदेशी पृथ्वी-2 मिसाइल, ओडिशा में हुआ परीक्षण, 300 किमी की दूरी तक मार करने में सक्षम         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को किया ढेर, बडगाम में एक जवान शहीद         BIG NEWS : बडगाम में बीजेपी नेता की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : DRDO ने किया लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण         BIG NEWS : लॉकडाउन में चर्चित ज्योति पासवान पर बनने वाली फिल्म खटाई में, फिल्म निर्माता पर केस         मशहूर ब्रिटिश कंपनी बेब्ले एंड स्काउट उत्तर प्रदेश में बनाएगी हथियार          BIG NEWS : भारत अमेरिका से खरीदेगा 30 रीपर ड्रोन          शिवलिंग के अंकुर से निकलती हैं अन्‍य देवी-देवताओं की आकृतियां, जिनका रहस्य वैज्ञानिक भी नहीं खोज पाए         गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान         पाकिस्तान ने पुंछ जिले के तीन सेक्टरों में दागे गोले, भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत ने स्वदेशी हाई-स्पीड अभ्यास ड्रोन का सफल परीक्षण किया         BIG NEWS : चीन ने भारत से सटी सीमा के नजदीक 13 नए सैन्य ठिकाने बनाए          पूरब का सोमनाथ है ये मंदिर, एक ही पत्थर से बना है विश्व का सबसे बड़ा शिवलिंग         BIG NEWS : राशन दुकानदार को अपराधियों ने मारी गोली, हालत गंभीर रिम्स रेफर         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच 13 घंटे तक चली कोर कमांडर स्तर की वार्ता, तनाव कम करने को लेकर हुई बातचीत         BIG NEWS : पाकिस्तान ने अखनूर सेक्टर में ड्रोन से भेजे हथियार, सुरक्षाबलों ने किया जब्त         देवेंद्र सिंह केस में टेरर फंडिंग जांच : NIA की टीम ने बारामूला में कई जगहों पर की छापेमारी         BIG NEWS : बडगाम एनकाउंटर में 1 आतंकी ढेर, ऑपरेशन जारी         रोजाना कुछ देर के लिए गायब हो जाता है यह शिव मंदिर         झारखंड हाईकोर्ट का बड़ा फैसला : 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण देने पर झारखंड की नियोजन नीति रद्द         अमशीपोरा एनकाउंटर:आफस्पा कानून का खूलेआम दुरूपयोग         BIG NEWS : कृषि बिल पर इतना हंगामा क्यों बरपा !         BIG NEWS : भिवंडी में तीन मंजिला इमारत ढहने से 10 लोगों की मौत          BIG NEWS : लद्दाख में 20 से ज्यादा चोटियों पर भारत की पकड़ मजबूत          मां लक्ष्मी का ऐसा मंदिर, जहां एक सिक्के से होती है हर इच्छा पूरी         इस शिवलिंग में हैं एक लाख छिद्र, यहां छुपा है पाताल का रास्ता         विपक्ष करता रहा हंगामा और मोदी सरकार ने राज्यसभा में भी पास कराए कृषि बिल, किसानों को कहीं भी फसल बेचने की आजादी         पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप         BIG NEWS : एक पत्रकार, चीनी महिला और नेपाली नागरिक गिरफ्तार, चीन को खुफिया जानकारी देने का आरोप         जम्मू कश्मीर में बड़े आर्थिक पैकेज की घोषणा : बिजली-पानी के बिलों पर एक साल तक 50 प्रतिशत की छूट का ऐलान         ऐसा मंदिर जहां चूहों को भोग लगाने से प्रसन्न होती है माता         यहां भोलेनाथ ने पांडवों को दिए शिवलिंग के रूप में दर्शन !        

यहां दो लोटे जल से पूरी होती है हर मुराद, अद्भुत ‘शिरगुल महराज’

Bhola Tiwari Sep 11, 2020, 6:31 AM IST टॉप न्यूज़
img

नई दिल्ली : प्रकृति की गोद में बसे हिमाचल प्रदेश में तमाम तीर्थस्‍थल हैं। जिनके दर्शनों के लिए देश-विदेश से श्रद्धालु पहुंचते हैं। इन्‍हीं में से एक बेहद खास तीर्थ स्‍थान है सिरमौर जिले में। यहां दर्शन के लिए देश ही नहीं विदेश से भी श्रद्धालु आते हैं।

सिरमौर का ‘शिरगुल महराज’ मंदिर


हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में सबसे ऊंची चोटी चूड़धार को ही शिरगुल महराज के नाम से जाना जाता है। चोटी पर ‘शिरगुल महराज’ मंदिर की भी स्‍थापना की गई है। इन्‍हें सिरमौर और चौपाल का देवता माना जाता है। यह मंदिर प्राचीन शैली में बना है, जिससे इसके स्‍थापना काल का पता चलता है। यहां वर्ष भर सैलानियों का तांता लगा रहता है। इस देवस्‍थान को ट्रैकिंग के लिए भी जाना जाता है।

शिरगुल महराज मंदिर को लेकर पौराणिक कथाओं में शिव भक्‍त चूरु और उनके बेटे का जिक्र मिलता है। कथा के अनुसार चूरु अपने पुत्र के साथ इस मंदिर में दर्शन के लिए आया था । उसी समय अचानक एक बड़ा सा सांप न जानें कहां से आ गया। देखते ही देखते वह सांप चुरु और उसके बेटे को काटने के लिए आगे बढ़ने लगा। तभी दोनों ने भगवान शिव से अपने प्राणों की रक्षा करने की प्रार्थना की। कुछ ही क्षणों में एक विशालकाय पत्थर उस सांप के ऊपर जा गिरा।


कहते हैं कि चूरु और उसके बेटे की जान बचने के बाद दोनों ही भगवान शिव के अनन्‍य भक्‍त हुए। इस घटना के बाद से मंदिर के प्रति लोगों की श्रद्धा बढ़ती गई। साथ ही उस जगह का नाम भी चूड़धार के नाम से प्रसिद्ध हो गया। इसके अलावा चट्टान का नाम चूरु रख दिया गया। कहा जाता है कि हिमाचल प्रवास के दौरान आदि शंकराचार्य ने इस स्‍थान पर शिवलिंग की स्‍थापना की थी। इसी स्‍थान पर एक चट्टान भी मिलती है। जिसे लेकर मान्‍यता है कि यहां पर भगवान शिव अपने परिवार के साथ रहते थे। मंदिर के पास ही दो बावड़ियां हैं। मंदिर जाने वाले सभी श्रद्धालु पहले बावड़ी में स्‍नान करते हैं। उसके बाद मंदिर में प्रवेश करते हैं।

मान्‍यता है कि मंदिर के बाहर बनीं दोनों बावड़‍ियों का जल अत्‍यंत पवित्र है। कहा जाता है कि इनमें से किसी भी बावड़ी से दो लोटा जल लेकर सिर पर डालने से सभी मन्‍नतें पूरी हो जाती हैं। चूड़धार की इस बावड़ी में भक्‍त ही नहीं बल्कि देवी-देवता भी आस्‍था की डुबकी लगाते हैं। इस क्षेत्र में जब भी किसी नए मंदिर की स्‍थापना होती है तब देवी-देवताओं की प्रतिमा को इस बावड़ी में स्‍नान कराया जाता है। इसके बाद ही उनकी स्‍थापना की जाती है। चूड़धार की बावड़ी में किये गए स्‍नान को गंगाजल की ही तरह पवित्र मानते हैं।

शिरगुल महराज मंदिर में दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की सारी मन्‍नतें तो पूरी होती ही हैं। साथ ही अगर वह किसी उलझन या परेशानी में होते हैं तो उन्‍हें उसका भी समाधान आसानी से मिल जाता है।


चूड़धार पर्वत के साथ पास ही हनुमान जी को मिली थी संजीवनी बूटी

कथा मिलती है कि चूड़धार पर्वत के साथ पास ही हनुमान जी को संजीवनी बूटी मिली थी। सर्दियों और बरसात के मौसम में यहां भारी बर्फबारी होती है। बता दें कि यह चोटी वर्ष के ज्यादातर समय बर्फ से ही ढकी रहती है। चूड़धार जाने के लिए गर्मियों का मौसम सबसे मुफीद माना गया है। इस पर्वत पर पहुंचने के लिए मुख्‍य रास्‍ता नौराधार से होकर गुजरता है। यहां से चूड़धार की दूरी तकरीबन 14 किलोमीटर है। दूसरा रास्‍ता सराहन चौपाल का है। यहां से चूड़धार महज 6 किलोमीटर की ही दूरी पर है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links