ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में         बाबूलाल जी की जी हजूरी, ये कैसी भाजपाइयों की मजबूरी         भाजपा में विलय की ओर बढ़ रहा झाविमो : प्रदीप यादव         जम्मू-कश्मीर : पुलिस का अधिकारी दो आतंकियों के साथ गिरफ्तार        

चमन लूट गया है , बहारों से कह दो

Bhola Tiwari May 17, 2019, 8:22 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

पाकिस्तान के बलूचिस्तान इलाके का एक जिला है अब्दुल्लाह। अब्दुल्लाह की राजधानी चमन है । चमन अफगानिस्तान के बहुत करीब है । यहां से रेल द्वारा अफगानिस्तान के कंदहार जाया जा सकता है । चमन की कुल आबादी 20 हजार से ऊपर है । यहां तकरीबन एक हजार से ऊपर हिंदू बसते हैं । कभी चमन की मण्डी उत्तर भारत की सबसे बड़ी मण्डी हुआ करती थी । यहां से हींग , खुबानी और चेरी पूरे उत्तर भारत को निर्यात की जाती थी । देश के बंटवारे के बाद इस मण्डी की चमक फीकी पड़ गयी । अफगानिस्तान से भी पाकिस्तान के सम्बंध अच्छे नहीं हैं । इसलिए चमन की यह मण्डी अब उजड़ गयी है । चमन का चमन लूट गया है ।

चमन लूट गया है बहारों से कह दो ।

घटा छा गयी है सितारों से कह दो ।  

कल और आज के कश्मीर में जमीन आसमान का फर्क आ गया है । पहले लोग कश्मीर घूमने जाते थे । यहां हिंदी फिल्मों की शूटिंग हुआ करती थी । खेतों में जाफरान की खेती होती थी । यहां के लजीज भोजन कुस्ताबा और चमन पनीर का स्वाद लोगों की जिह्वा पर हमेशा के लिए बस जाता था । लेकिन आज यहां आतंकवादियों की खेती होती है । पत्थर बाजों का अड्डा बन गया है कश्मीर । काश्मीरी पण्डित और उदारवादी मुसलमानों को यहां से भागना पड़ रहा है । जिस कश्मीर को कभी जहांगीर ने " अगर दुनियां में कहीं स्वर्ग है तो यहीं है , यहीं है , यहीं है " कहा था ; आज वही स्वर्ग अब नरक बन गया है । अब यहाँ सैलानी घूमने नहीं आते । आते हैं तो वे पत्थर खाते हैं । यहां के चिनार के पेड़ खामोश हैं । देवदार के पेड़ सैलानियों की राह तकते तकते बूढ़े हो चले हैं ।

न आएंगे वो लौट के वादियों में ,

मेरे राजदां देवदारों से कह दो ।  

अभी एक हीं परिवार के ग्यारह व्यक्तियों ने अंधविश्वास के चलते मौत को गले लगाया है । ऐसा कहा जाता है कि परिवार का मुखिया मरने के बाद सपने में अपने छोटे बेटे को निर्देश देता था । बेटा उस निर्देश को कागज पर उतार लेता था । पूरा परिवार उस निर्देश को पत्थर की लकीर समझता था । सभी उस निर्देश को आंख बंद कर मानते थे । ऐसे में एक दिन सपने में निर्देश मिला कि सब फांसी के फंदे पर लटक जाओ । किसी को कुछ नहीं होगा । स्वर्गीय आत्मा सबको बचा लेगी । सबने मिल जुलकर आदेश माना । सब फांसी पर लटक गये । कोई नहीं बचा । आत्मा किसी को बचाने नहीं आयी । वह परिवार का चमन लूटता देखती रही । ग्यारह जिंदगियां मौत के आगोश में सो गयीं । छोटा बेटा साइकिक था । उसका इलाज न करवा के सबने उस पर विश्वास किया और धोखा खाया ।

अभी हाल हीं में उत्तर प्रदेश के एक जेल में एक शातिर मारा गया । मारने वाला भी अपराधी था । जेल में एक अपराधी मारा जाय तो अंगुली प्रशासन की तरफ हीं उठेगी । फेस बुक पर पक्ष विपक्ष का खेल खेला जा रहा है । लोग आनंद का स्वाद ले रहे हैं । इसी तरह से पुलिस हिरासत में भी मौंते होतीं हैं । पोस्ट मार्टम होता है । जांच चलती है । खाना पूर्ति होती है । उसके बाद फिर मौत होती है । फिर वही क्रिया दुहरायी जाती है । इस तरह से पुलिस हिरासतों में मौतों का सिलसिला नहीं थमता । यह अनवरत चलता रहता है । दिल्ली हाई कोर्ट ने इस बात को संज्ञान में लिया है । पुलिस प्रशासन को लताड़ लगायी है । 21 अक्टूबर 2015 को विद्वान जज ने एक शेर पढ़ा था -

मेरा अज्म इतना बुलंद है कि मुझे पराए शोलों का डर नहीं ,

मुझे खौफ आतिश ए गुल से है , ये कहीं चमन को जला न दे ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links