ब्रेकिंग न्यूज़
भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

चमन लूट गया है , बहारों से कह दो

Bhola Tiwari May 17, 2019, 8:22 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

पाकिस्तान के बलूचिस्तान इलाके का एक जिला है अब्दुल्लाह। अब्दुल्लाह की राजधानी चमन है । चमन अफगानिस्तान के बहुत करीब है । यहां से रेल द्वारा अफगानिस्तान के कंदहार जाया जा सकता है । चमन की कुल आबादी 20 हजार से ऊपर है । यहां तकरीबन एक हजार से ऊपर हिंदू बसते हैं । कभी चमन की मण्डी उत्तर भारत की सबसे बड़ी मण्डी हुआ करती थी । यहां से हींग , खुबानी और चेरी पूरे उत्तर भारत को निर्यात की जाती थी । देश के बंटवारे के बाद इस मण्डी की चमक फीकी पड़ गयी । अफगानिस्तान से भी पाकिस्तान के सम्बंध अच्छे नहीं हैं । इसलिए चमन की यह मण्डी अब उजड़ गयी है । चमन का चमन लूट गया है ।

चमन लूट गया है बहारों से कह दो ।

घटा छा गयी है सितारों से कह दो ।  

कल और आज के कश्मीर में जमीन आसमान का फर्क आ गया है । पहले लोग कश्मीर घूमने जाते थे । यहां हिंदी फिल्मों की शूटिंग हुआ करती थी । खेतों में जाफरान की खेती होती थी । यहां के लजीज भोजन कुस्ताबा और चमन पनीर का स्वाद लोगों की जिह्वा पर हमेशा के लिए बस जाता था । लेकिन आज यहां आतंकवादियों की खेती होती है । पत्थर बाजों का अड्डा बन गया है कश्मीर । काश्मीरी पण्डित और उदारवादी मुसलमानों को यहां से भागना पड़ रहा है । जिस कश्मीर को कभी जहांगीर ने " अगर दुनियां में कहीं स्वर्ग है तो यहीं है , यहीं है , यहीं है " कहा था ; आज वही स्वर्ग अब नरक बन गया है । अब यहाँ सैलानी घूमने नहीं आते । आते हैं तो वे पत्थर खाते हैं । यहां के चिनार के पेड़ खामोश हैं । देवदार के पेड़ सैलानियों की राह तकते तकते बूढ़े हो चले हैं ।

न आएंगे वो लौट के वादियों में ,

मेरे राजदां देवदारों से कह दो ।  

अभी एक हीं परिवार के ग्यारह व्यक्तियों ने अंधविश्वास के चलते मौत को गले लगाया है । ऐसा कहा जाता है कि परिवार का मुखिया मरने के बाद सपने में अपने छोटे बेटे को निर्देश देता था । बेटा उस निर्देश को कागज पर उतार लेता था । पूरा परिवार उस निर्देश को पत्थर की लकीर समझता था । सभी उस निर्देश को आंख बंद कर मानते थे । ऐसे में एक दिन सपने में निर्देश मिला कि सब फांसी के फंदे पर लटक जाओ । किसी को कुछ नहीं होगा । स्वर्गीय आत्मा सबको बचा लेगी । सबने मिल जुलकर आदेश माना । सब फांसी पर लटक गये । कोई नहीं बचा । आत्मा किसी को बचाने नहीं आयी । वह परिवार का चमन लूटता देखती रही । ग्यारह जिंदगियां मौत के आगोश में सो गयीं । छोटा बेटा साइकिक था । उसका इलाज न करवा के सबने उस पर विश्वास किया और धोखा खाया ।

अभी हाल हीं में उत्तर प्रदेश के एक जेल में एक शातिर मारा गया । मारने वाला भी अपराधी था । जेल में एक अपराधी मारा जाय तो अंगुली प्रशासन की तरफ हीं उठेगी । फेस बुक पर पक्ष विपक्ष का खेल खेला जा रहा है । लोग आनंद का स्वाद ले रहे हैं । इसी तरह से पुलिस हिरासत में भी मौंते होतीं हैं । पोस्ट मार्टम होता है । जांच चलती है । खाना पूर्ति होती है । उसके बाद फिर मौत होती है । फिर वही क्रिया दुहरायी जाती है । इस तरह से पुलिस हिरासतों में मौतों का सिलसिला नहीं थमता । यह अनवरत चलता रहता है । दिल्ली हाई कोर्ट ने इस बात को संज्ञान में लिया है । पुलिस प्रशासन को लताड़ लगायी है । 21 अक्टूबर 2015 को विद्वान जज ने एक शेर पढ़ा था -

मेरा अज्म इतना बुलंद है कि मुझे पराए शोलों का डर नहीं ,

मुझे खौफ आतिश ए गुल से है , ये कहीं चमन को जला न दे ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links