ब्रेकिंग न्यूज़
नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक        

अब अक्सर चुप चुप से रहे हैं ....

Bhola Tiwari May 14, 2019, 11:12 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

रघुपति सहाय फिराक की तुलना अक्सर मिर्जा गालिब से की जाती है . इसमें कोई दो राय नहीं कि फिराक बीसवीं सदी के महान् शायर थे और गालिब जैसे शायर के समक्ष कभी भी उन्नीस नहीं ठहरे.लेकिन एक अंतर दोनों में यह था कि गालिब अपनी गजलों के कारण चर्चा में रहे तो फिराक अपनी गजलों की वजह से कम अपने साथ जुड़े विवादों से ज्यादा चर्चा में रहे. कुछ लोगों का मानना था कि फिराक को विवादों में रहने की आदत थी. बाज दफा फिराक विवादों को स्वयं हवा देते थे.

फिराक गोरखपुरी इलाहाबाद विश्व विद्यालय के अंग्रेजी विभाग में प्रोफेसर थे .वे हिन्दी के छायावादी कवियों को हरदम नीचा दिखाने की कोशिश में रहते. वे अक्सर जब हिन्दी विभाग से होकर गुजरते तो हिन्दी वालों को चिढ़ाने के लिए अंगूठा ऊपर कर "उतुंग शिखर " जोर जोर से बोलते जाते. सुप्रसिद्ध आलोचक डा. रामविलास शर्मा से उनकी कभी नहीं पटी. दोनों एक दुसरे को धोती प्रसाद व सुथना सहाय कहा करते थे. फिराक निराला से डरते थे. जब निराला का गुस्सा बेकाबू हो जाता था तो वे बोल उठते थे ,"सारे! कहे देता हूं अब ज्यादा छायावाद पर बोला तो तेरी खैर नहीं ...." पंत शरीफ थे अपनी आलोचना सुन लेते थे.

एक बार किसी मुशायरे में फिराक को काफी देर बाद गजल पढ़ने के लिए बुलाया गया. फिराक साहब ने अपना गुस्सा कुछ इस तरह प्रकट किया, "हजरात! अब तक आप कव्वाली सुन रहे थे, अब गजल सुनिए. "

फिराक में ड्रेस सेन्स बिल्कुल नहीं था. बाल बिखरे, नाड़ा लटका हुआ, कुर्ते के बटन टूटे हुए, जो कि कभी कभी उनके बहुत काम आता था. एक बार फिराक ने अपने सहपाठी रहे अमरनाथ झा के बारे में कुछ लोगों के सामने ऊल जुलूल बक दिया. बाद में फिराक डर गये.अमरनाथ झा अंग्रेजी विभाग के अध्यक्ष थे और फिराक थे उनके मातहत । कहीं उन लोगों ने यह बात बता दी तो मुश्किल हो जाती .दुसरे दिन फिराक अलमस्त हालत में अमरनाथ झा के केबिन में जा पहुंचे. झा ने डांट पिलाई. फिराक साहब ढंग से कपड़े तो पहन लिया करो. फिराक बोले, " दोस्तों के पास आने में ड्रेस क्या देखना? मैं पीठ पीछे क्या ? आपको मुंह पर भी आपको गाली दे सकता हूं." अमरनाथ झा को कहना पड़ा, " All right, I know, I know , you are my friend. " फिराक किला फतेह कर आ गये.

IAS की नौकरी छोड़ फिराक आजादी की लड़ाई में कूद पड़े थे. डेढ़ साल की सजा काटकर जब वे जेल से बाहर आए तो नेहरू जी ने उन्हें कान्ग्रेस का अवर सचिव बना दिया .जब नेहरू विदेश गये तो फिराक ने अवर सचिव की नौकरी छोड़ दी और इलाहाबाद विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग में प्रोफेसर बन गये. वे नेहरू से काफी प्रभावित थे. उनका कहना था कि भारत में मात्र ढाई लोग अंग्रेजी जानते हैं -सर्वपल्ली डा. राधाकृष्णन, पंडित जवाहर लाल नेहरू और आधे में अपना नाम बताते थे. नेहरू से उनका सम्पर्क काफी दिनों से टूटा हुआ था.यह बात उनको नागवार गुजरी. फिर क्या था ? हो गया आलोचनाओं का दौर. "देखो, कैसा प्रधान मंत्री है ? इतना भी मेरे लिए नहीं करता कि मैं आराम से रोटी पर लहसन की चटनी रखकर खा सकूं. " जब फिराक को साहित्य अकादमी पुरुष्कार खुद नेहरू ने अपने हाथों से दिया और कहा कि मुबारक हो फिराक साहब , आप तो बहुत बड़े साहित्यकार हो गये तो फिराक का सुर बदल गया -"मैं तो गुस्से में बोल गया था, नेहरू की बात हीं कुछ और है. "

फिराक की शादी एक सामान्य युवती से हुआ था. किशोरी नाम था .पत्नी को उन्होंने कभी पसन्द नहीं किया. बात बे बात वो अपने दोस्तों से उनकी शिकायत किया करते थे. मिर्च का अचार गोरखपुर से लाना वो भूल गयीं थीं. फिराक साहब ने उन्हें बैठने भी नहीं दिया और उसी समय उनको बैंरंग वापस कर दिया . बेचारी इलाहाबाद से गोरखपुर गईं और मिर्च का अचार लाईं. बाद के दिनों में किशोरी जी ने भी बोलना शुरू कर दिया था. "यदि मैं सुन्दर नहीं हूं तो तुम भी अपना थोबड़ा देखो. "

फिराक साहब की दो पुत्रियां थीं. वे अच्छे घरों में ब्याहीं गई थीं. एक बेटा था - गोबिन्द. गोबिन्द आत्म हत्या के इरादे से रेलवे लाइन पर गया था. वहां मरा नहीं. कुछ लोग उठा कर वापस लाए. उसके दोनों पैर कट गये थे. कुछ दिन जिन्दा रहा. मर गया. उसके आत्महत्या की वजह फिराक में ढूंढी गई.

फिराक साहब फक्कड़ मस्तमौला किस्म के इन्सान थे. कुछ भी बचा कर रखना उनकी फितरत नहीं थी. उनके यहां साहित्यकारों का जमघट लगी रहती थी. पीने पिलाने व खाने का दौर चलता रहता था. साठी का चावल ,अरहर की दाल व आलू का चोखा फिराक का पसंदीदा भोजन था .उनकी सारी तनख्वाह इसी में खत्म हो जाती थी. यहां तक कि रिटायरमेंट के समय तक एक अदद अपना मकान भी वे नहीं बना पाए थे. रिटायरमेंट के बाद विश्वविद्यालय परिसर का मकान खाली करने का उन्हें नोटिश मिला. फिराक पहुंचे कुलपति के पास, "सर, आप मुझे इतना बता दें कि मैं अपना सामान कहां रखूं ?" कुलपति ने कहा,"कोई बात नहीं, फिराक साहब जब तक कुछ बन्दोबस्त नहीं हो जाता, तब तक आप मकान अपने पास हीं रखें ." फिराक उस मकान में जीवन पर्यन्त बने रहे.

फिराक का अंतिम समय कष्टप्रद रहा. किशोरी देवी से उनकी पहले नहीं पटती थी. रिटायरमेंट के बाद वे अपने मायके रहने लगीं थीं. फिराक उनको नियमित खर्च भेजते रहते थे. कभी कभी किशोरी देवी इलाहाबाद आ कर उनके साथ रह लेती थीं. अपने अंतिम दिनों में फिराक ने एक गजल लिखी थी -

अब अक्सर चुप चुप से रहे हैं,

यूं हीं लब कब खोले हैं.

पहले फिराक को देखा होगा,

अब तो बहुत कम बोले हैं.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links