ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...        

ममता के घर में मोदी मोदी

Bhola Tiwari May 13, 2019, 8:04 PM IST टॉप न्यूज़
img

सिद्धार्थ सौरभ 

कोलकाता : दो दिन से मैं पश्चिम बंगाल में था। पश्चिम बंगाल का राजनीतिक तापमान जानने के लिए पुरुलिया बस स्टैंड पहुंचा था। वहां टैक्सी से मैं लोगों का मिजाज जानने के लिए आगे बढ़ा। मुझे उत्तरी कोलकाता के धर्मतल्ला और बड़ा बाजार जाना था। गाड़ी चल चुकी थी। पूरे रास्ते में दोनों तरफ पार्टियों के झंडे और राजनीति का गुणा भाग, सौमित्र डे के साथ होता रहा। सौमित्र बिना कहे अपने आप से ही बात करने लगे। कहने लगे इस बार दीदी का भला नहीं है। दीदी की अकड़ बढ़ गई है। भगवान को भी घमंड पसंद नहीं आता है। साहब कोई भी काम नहीं करना चाहता। केवल गुंडागर्दी करके कुर्सी पर बने रहना चाहता है। जब सौमित्र से पूछा कि आप किसकी बात कर रहे हो, तो उसने कहा अरे साहब अपने रियासत की बात कर रहा हूं। देखो साहब मैं यहां 25 वर्ष से यही काम कर रहा हूं। 25 बरस में बहुत पानी बह चुका है। मैंने इस रियासत में लेफ्ट राइट सब देखा है।

मैं यहां जो शासन कर चुके हैं और जो शासन कर रहे हैं, उनकी बात कर रहा हूं। सभी केवल लाठी के दम पर सरकार चलाते हैं। ये लोग समझता है कि पश्चिम बंगाल मेरा है। यह मेरा देश है। इसमें केवल मेरा ही चलेगा। ऐसा कब तक चलेगा। यह तो इसी बार पता चल जाएगा। यह पूछने पर आप क्या करते हो। कहां रहते हो तो सौमित्र ने तपाक से जवाब दिया गाड़ी चलाता हूं। गाड़ी का ही खाता हूं और बच्चा लोग पुरुलिया में रहता है और पुरुलिया में ही पढ़ता लिखता है। इस बार सौमित्र किसके साथ खड़ा है। किसको वोट करेगा। यह प्रश्न मुंह से निकलते ही सौमित्र ने कहा मेरे जैसे सभी लोग इस बार मोदी को वोट करेंगे। मोदी अच्छा आदमी है। देशभक्त है। देश की रक्षा करता है। जो बोलता है वह करता है। गरीबों के साथ खड़ा रहने वाला आदमी। ऐसा ही मजबूत प्रधानमंत्री देश को चाहिए। इस बार साहब हमारे यहां तो मोदी ही मोदी है । बात अभी खत्म नहीं हुई थी तब तक गाड़ी धर्मतल्ला पहुंच गई। धर्मतल्ला में मेरी मुलाकात ऋषि मित्रों से हुई। उन्होंने बताया कि यहां तो मोदी मोदी है। जिस से पूछो मोदी। हर किसी को मोदी ही चाहिए। ऋषि मित्रों का किराना का दुकान है। वह यही किराना का दुकान चलाता है। ऋषि कहते हैं अब बंगाल को हिंसा नहीं चाहिए। धोखा नहीं चाहिए। आप आगे बढ़ना है और इसके लिए मोदी ही फिट है।

पास के ही अरुण शर्मा से जब बात हुई तो कहा, यहां आपके पूछने का कोई मतलब नहीं है। आप तो यहां का प्रसिद्ध पान खाओ और आंख मूंदकर निकल जाओ। सब मोदी मोदी है। दीदी की हालत पतली है। ऐसे कई लोगों से मेरी बात हुई तब मैं आकर फिर सौमित्र के साथ गाड़ी में बैठ गया और बड़ा बाजार के लिए रवाना हो गया।

दरअसल में बड़ा बाजार कोलकाता का दिल माना जाता है। यहां हिंदू भाषी लोगों की संख्या काफी है। यहां का मार्केट बहुत ही समृद्ध है। यह मार्केट कई चीजों के लिए प्रसिद्ध है।

बड़ा बाजार में राजेश कुमार जी से मुलाकात हुई। राजेश कुमार ने बताया कि इस बार कमल छाप, चुपचाप कमल छाप। यही नारा बुलंद है। इस बार अवश्य परिवर्तन होगा। पास में खड़े सुदीप्तो बनर्जी बोल पड़े की ममता दीदी का गुंडागर्दी कब तक चलेगा । यहां तो जीना मुश्किल हो गया है। क्या व्यापार करेगा। रेहड़ी वाला बिना ममता दीदी के गुंडों के अनुमति के अपना ठेला नहीं लगा सकता। पेट पालने के लिए व्यापार नहीं कर सकता। सरकार की गुंडागर्दी सड़क तक पहुंच गई है । इससे आम जनता परेशान है । ये लोग सोचता है लाठी के बल पर ही राज करेगा। अब ऐसा नहीं चलेगा। हम लोग तो मोदी को ही वोट देगा। यह जानने के बाद मेरी उत्सुकता थोड़ी टीपू सुल्तान मस्जिद के इलाके में हो आने की हुई तो सौमित्र के चेहरे पर कुटिल मुस्कान उभर आई। कहने लगा वहां तो एक तरफा मामला है जी। लेकिन आप वहां भी हो लो।

 वहां आपको कुछ और मिल जाए। जब गाड़ी टीपू सुल्तान मस्जिद पहुंची तो वहां अनवर मियां से मुलाकात होते ही कहा हम लोग तो ममता दीदी के साथ है । यहां तो उन्हीं का राज है। पास में ही खड़े सफीउल्लाह मिया ने कहा ऐसा नहीं है। देश के लिए मोदी का कोई जवाब नहीं है। हर कौम को साथ में लेकर चलने वाले एक मोदी ही है। मैंने महसूस किया की पूरी यात्रा में सौमित्र अपने खेमे का आदमी पाकर बहुत खुश नजर आया। उसे लगा जो मैं सोच रहा हूं ऐसे सोच के बहुत सारे लोग यहां हैं। लिहाजा बंगाल की हवा इस बार पूरी तरह बदली हुई नजर आ रही है। यही वजह है की इस बार के चुनाव में हिंसा को लेकर पूरा बंगाल एक जमाने का बिहार नजर आया। इस दौरान लोगों ने बातों बातों में जो इशारे किए उसके साफ मतलब निकाले जा सकते हैं। बंगाल में सियासी चमत्कार संभव है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links