ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बडगाम में बीजेपी नेता की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : DRDO ने किया लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण         BIG NEWS : लॉकडाउन में चर्चित ज्योति पासवान पर बनने वाली फिल्म खटाई में, फिल्म निर्माता पर केस         मशहूर ब्रिटिश कंपनी बेब्ले एंड स्काउट उत्तर प्रदेश में बनाएगी हथियार          BIG NEWS : भारत अमेरिका से खरीदेगा 30 रीपर ड्रोन          शिवलिंग के अंकुर से निकलती हैं अन्‍य देवी-देवताओं की आकृतियां, जिनका रहस्य वैज्ञानिक भी नहीं खोज पाए         गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान         पाकिस्तान ने पुंछ जिले के तीन सेक्टरों में दागे गोले, भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत ने स्वदेशी हाई-स्पीड अभ्यास ड्रोन का सफल परीक्षण किया         BIG NEWS : चीन ने भारत से सटी सीमा के नजदीक 13 नए सैन्य ठिकाने बनाए          पूरब का सोमनाथ है ये मंदिर, एक ही पत्थर से बना है विश्व का सबसे बड़ा शिवलिंग         BIG NEWS : राशन दुकानदार को अपराधियों ने मारी गोली, हालत गंभीर रिम्स रेफर         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच 13 घंटे तक चली कोर कमांडर स्तर की वार्ता, तनाव कम करने को लेकर हुई बातचीत         BIG NEWS : पाकिस्तान ने अखनूर सेक्टर में ड्रोन से भेजे हथियार, सुरक्षाबलों ने किया जब्त         देवेंद्र सिंह केस में टेरर फंडिंग जांच : NIA की टीम ने बारामूला में कई जगहों पर की छापेमारी         BIG NEWS : बडगाम एनकाउंटर में 1 आतंकी ढेर, ऑपरेशन जारी         रोजाना कुछ देर के लिए गायब हो जाता है यह शिव मंदिर         झारखंड हाईकोर्ट का बड़ा फैसला : 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण देने पर झारखंड की नियोजन नीति रद्द         अमशीपोरा एनकाउंटर:आफस्पा कानून का खूलेआम दुरूपयोग         BIG NEWS : कृषि बिल पर इतना हंगामा क्यों बरपा !         BIG NEWS : भिवंडी में तीन मंजिला इमारत ढहने से 10 लोगों की मौत          BIG NEWS : लद्दाख में 20 से ज्यादा चोटियों पर भारत की पकड़ मजबूत          मां लक्ष्मी का ऐसा मंदिर, जहां एक सिक्के से होती है हर इच्छा पूरी         इस शिवलिंग में हैं एक लाख छिद्र, यहां छुपा है पाताल का रास्ता         विपक्ष करता रहा हंगामा और मोदी सरकार ने राज्यसभा में भी पास कराए कृषि बिल, किसानों को कहीं भी फसल बेचने की आजादी         पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप         BIG NEWS : एक पत्रकार, चीनी महिला और नेपाली नागरिक गिरफ्तार, चीन को खुफिया जानकारी देने का आरोप         जम्मू कश्मीर में बड़े आर्थिक पैकेज की घोषणा : बिजली-पानी के बिलों पर एक साल तक 50 प्रतिशत की छूट का ऐलान         ऐसा मंदिर जहां चूहों को भोग लगाने से प्रसन्न होती है माता         यहां भोलेनाथ ने पांडवों को दिए शिवलिंग के रूप में दर्शन !         BIG NEWS : राजौरी में लश्कर-ए-तैयबा के 3 आतंकी गिरफ्तार, 1 लाख रुपये समेत AK-56 राइफल बरामद         BIG NEWS : आतंकी संगठन अल-कायदा मॉड्यूल का  भंडाफोड़, 9 आतंकी गिरफ्तार         BIG NEWS : पश्चिम बंगाल और केरल में एनआईए की छापेमारी, अल-कायदा के नौ आतंकी गिरफ्तार         BIG NEWS : दिशा सालियान के साथ चार लोगों ने कियारेप !         अनिल धस्माना को NTRO का बनाया गया अध्यक्ष         जहां शिवलिंग पर हर बारह साल में गिरती है बिजली         BIG NEWS : पाकिस्तान की नई चाल, गिलगित-बल्तिस्तान को प्रांत का दर्जा देकर चुनाव कराने की तैयारी         BIG NEWS : सहायक पुलिस कर्मियों पर लाठीचार्ज, कई घायल, आंसू गैस के गोले छोड़े        

लिव-इन माने ट्राउबल बिगिन... .

Bhola Tiwari Aug 03, 2020, 6:04 AM IST टॉप न्यूज़
img


रंजीत कुमार

पटना  : व्यक्ति के शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक, आर्थिक से लेकर सामाजिक-पारिवारिक जीवन को ज्यादा से ज्यादा सुखकर, संतोषजनक, शांंतिपूर्ण और संतुलित बनाने को लेकर सर्वाधिकअनुसंधान हिंदू संस्कृति में हुए हैंं। इसने हजारों साल तक मानव सभ्यता का सबसे बेहतर दिशा-निर्देशन किया है। मनुष्य के दुर्गणों का शमन किया है और सदगुणों को संरक्षण दिया है। लेकिन हिंदुत्व जीवन परंपरा पर पिछली सदियों में जो सांस्कृतिक, धार्मिक, सामरिक, आर्थिक, साहित्यिक और मीडिया में हमले हुए, उसने हिंदुत्व जीवन शैली को नुकसान पहुंचाया, हमारी परंपरा कमजोर पड़ी और हम उन संस्क़तियों के नकलची बनते गए, जो न तो हमें सूट करती है न ही आने वाले समय में मानव सभ्यता को सूट करेगी। 

इस पाश्चात्य रिवाज लिव-इन को ही लीजिए। हाल के एक-दो दशकों में यह भारत के मध्य और उच्च वर्गीय समाज में तेजी से लोकप्रिय हुआ है। लेकिन इससे मिलता क्या है ? पुरुष को भोग करने के लिए महिला की देह और महिला को पुरुष की देह के साथ-साथ बेशुमार मुफ्तखोरी। बहुत लोगों को यह कड़वा सच नहीं पचेगा, लेकिन सत्य तो सत्य है। लिव-इन की बुनियाद ही सेक्सुअल नीड को पूरा करने के लिए रखी जाती है। अंग्रेजी नाम दे देने से जहर औषधि नहीं बन जाता। जबकि सभ्यताओं के लंबे अनुभव और मानव जीवन के शोध से यह तय हो चुका है कि स्त्री-पुरुष का सह-जीवन, समागम सुख यानी सेक्सुअल प्लेजर के बल पर लम्बा नहीं चल सकता। अगर इस संबंध को समागम के उपरांत भी जिंदा रखना है तो एक पूर्व परिभाषित बंधन चाहिए, जिसे विवाह कहते हैं। संयुक्त जिम्मेदारी चाहिए यानी संतान पालन, मातृ-पित़ धर्म का निवर्हन। लिव-इन विवाह कें बंधन और संयुक्त जिम्मेदारी से मुक्त करता है। लेकिन अंदर से आदमी को खोखला करते जाता है। यही कारण है कि लगभग 100 प्रतिशत लिव-इन दुखांत कथाओं के साथ समाप्त होता है। भावनात्मक ध्वंश, मोहभंग, ब्लैकमेल, अवसाद, नशा सेवन इसके तय आउटकम हैं। अभिनेता सुशांत के साथ हुई त्रासदी आज चर्चा का बड़ा मुद्दा बना हुआ है। इसके हर पक्ष पर बात हो रही है, लेकिन इस लिव-इन सिंड्रोम पर कोई चर्चा नहीं हो रही। यह इस बात का संकेत है कि हम बौद्धिक स्तर पर बहुत कमजोर पड़ चुके हैं। याद रहे, लिव-इन रीलेशन की ऐसी दुखांत घटना देश के हर बड़े शहर में हर दिन घटती है। न तो कोई उस पर ध्यान देता है न ही किसी को इसमें गहरे पैठने की आवश्यकता महसूस होती है। पश्चिम की दुनिया तो इस लिव-इन के कारण पारिवारिक और आध्यात्मिक स्तर पर गर्त में जा चुकी है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links