ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के 2 आतंकी सहयोगी गिरफ्तार         BIG NEWS : जब जयपुर की सड़कों पर तैरने लगी कारें         BIG NEWS : 15 अगस्त, वीरता पुरस्कारों की घोषणा, जम्मू कश्मीर पुलिस को सबसे ज़्यादा वीरता पदक         BIG NEWS : गैलेंटरी अवॉर्ड का ऐलान, टॉप पर जम्मू-कश्मीर          BIG NEWS : गहलोत सरकार ने विश्वास मत जीता         BIG NEWS : भारत चीन सीमा विवाद के बीच अमेरिका ने तैनात किए सबसे घातक परमाणु बॉम्बर ‍          BIG NEWS : 3.75 लाख कांट्रेक्ट शिक्षकों के लिए स्वतंत्रता दिवस पर सीएम नीतीश करेंगे बड़ा ऐलान         BIG NEWS : श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद         BIG NEWS : अब गहलोत सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी और भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी          BIG BREAKING : अभी-अभी श्रीनगर में आतंकी हमला, दो जवान घायल         BIG NEWS : टेरर फंडिंग केस में NIA ने बारामूला में की छापेमारी, पूछताछ जारी         BIG NEWS : पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से डॉक्टर की डिग्री लेने वाले भारत में नहीं कर सकते प्रैक्टिस : MCI         BIG NEWS : जब बेशरमी का भूत सर "देसाई" चढ़कर बोले         BIG NEWS : एम एस धोनी का कोरोना टेस्ट निगेटिव, 14 अगस्त को चेन्नई के लिए होंगे रवाना         BIG NEWS : बीजेपी कल लाएगी अविश्वास प्रस्ताव, गहलोत सरकार की बढ़ीं मुश्किलें         BIG NEWS : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिलने उनके घर पहुंचे सचिन पायलट, थोड़ी देर में विधायक दल की बैठक         BIG NEWS : अवंतीपोरा में दो सक्रिय आतंकी ठिकाने ध्वस्त, गोलाबारूद बरामद         BIG NEWS : ईमानदार करदाताओं को पीएम मोदी का सौगात : फेसलेस असेसमेंट और टैक्सपेयर्स चार्टर आज से लागू         BIG STORY : राजस्थान में सियासी संकट खत्म, सियासी जमीन बचाने की वजह बनी सचिन पायलट की वापसी         BIG NEWS : चीन ने काम बिगाड़ा, सऊदी अरब ने पाकिस्तान को लताड़ा         BIG NEWS : संदेह के घेरे में रूस की कोरोना वैक्सीन !         BIG NEWS : पुलवामा एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने 1 आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की फर्जी कंपनियों पर आयकर का छापा, 1000 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग का पर्दाफाश         BIG NEWS : सुशांत के परिवार ने लीगल नोटिस भेज कर कहा, संजय राउत 48 घंटे में माफी मांगें, नहीं तो केस करेंगे         BIG NEWS : AU, HJ और PC कौन ! रिया चक्रवर्ती से क्या है कनेक्शन         श्रीकृष्ण की पीड़ा !!         BIG NEWS : संजय दत्त को हुआ लंग्स कैंसर, इलाज के लिए अमेरिका रवाना         मुझे मत पुकारो !         सुख-समृद्धि और धन प्राप्ति के लिए इस तरह करे भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न         क्यों मोर मुकुट धारण करते हैं श्री कृष्ण?         ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है !         BIG NEWS : जनाज़े पर मेरे लिख देना यारों, मोहब्बत करने वाला जा रहा है...         BIG NEWS : दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन तैयार, पुतिन ने कोरोना वैक्सीन का टीका बेटी को लगवाया         BIG NEWS : मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन         BIG NEWS : प्रवर्तन निदेशालय ने जब्त किए रिया चक्रवर्ती के मोबाइल फोन और लैपटॉप         BIG NEWS : रिया चक्रवर्ती करती थीं सुशांत के वित्तीय और प्रोफेशनल फैसले : श्रुति मोदी         BIG NEWS : राजस्थान की बदली सियासत, पायलट नाराज विधायकों के साथ आज करेंगे "घर" वापसी         BIG NEWS : बेटियों को भी पिता की संपत्ति में बराबरी का हक         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 4जी सेवा शुरू करने की तैयारी, 15 अगस्त के बाद दो जिलों में होगा ट्रायल         BIG NEWS : कुपवाड़ा में तीन संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बीजेपी नेता के घर ग्रेनेड हमला         जिसने अपने कालखंड को अपने इशारों पर नचाया...         जब मोहन ने पहली बार गोपिकाओ को किया परेशान         भगवान कृष्ण के जन्म लेते ही जेल की कोठरी में फैल गया प्रकाश ...         BIG BREAKING : रांची में सरेराह मार्बल दुकान में चली गोली, अपराधियों ने एक व्यक्ति को गोली मारी         BIG NEWS : झारखंड के शिक्षा मंत्री अब करेंगे इंटर की पढ़ाई...          BIG NEWS : सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेन 30 सितंबर तक रद्द         BIG NEWS : राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट, घर वापसी की अटकलें तेज         BIG NEWS : आतंकी हमले में घायल बीजेपी नेता की मौत         आदिवासी विकास का फटा पोस्टर...         BIG NEWS : नक्सली राकेश मुंडा को लाखों का इनाम और पत्तल बेचती अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉलर संगीता सोरेन को दो हजार         पाखंड के सिपाही कम्युनिस्ट लेखक...         BIG NEWS : देवघर में सेप्टिक टैंक में दम घुटने से 6 लोगों की मौत         BIG NEWS : अब भाजपा गुजरात गए विधायकों को वापस बुला रही, सभी विधायक होटल जाएंगे         BIG NEWS : पालतू कुत्ते फज की बेल्ट से गला घोंटकर सुशांत सिंह राजपूत की, की गई थी हत्या : अंकित आचार्य          BIG NEWS : सरकार का 101 रक्षा उपकरणों के आयात पर रोक, इसके पीछे क्या है मकसद?          BIG NEWS : बडगाम में आतंकवादियों ने बीजेपी नेता को गोली मारी          BIG NEWS : कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 2 से 3 आतंकी घिरे        

अजन्में भगवान शिव के जन्म का रहस्य

Bhola Tiwari Aug 01, 2020, 7:05 AM IST टॉप न्यूज़
img

नई दिल्ली : देवों के देव महादेव भगवान शिव के जन्म से जुड़ा रहस्य क्या है ? भगवान शिव को स्वयंभू कहा जाता है जिसका अर्थ है कि वह अजन्मा हैं, शिव ना आदि हैं और ना अंत, भोलेनाथ को अजन्मा और अविनाशी कहा जाता है । आखिर शिव जी के जन्म से जुड़ा रहस्य क्या है-

- शास्त्र पुराणों में देवाधिदेव महादेव शिव शंकर को प्रथम स्थान प्राप्त है, प्रजापिता श्री ब्रह्माजी को सृजनकर्ता, जगतपालक भगवान श्री विष्णु को संरक्षक और भगवान शिव विनाशक की भूमिका निभाते हैं, कहा जाता है कि यही त्रिदेव मिलकर प्रकृति का संचालन- निर्माण, पालक और संहार करते हुए संकेत देते हैं कि जो उत्पन्न हुआ है, उसका विनाश भी होना तय है ।


- इन त्रिदेव की उत्पत्ति खुद एक रहस्य है, कई पुराणों का मानना है कि प्रजापिता श्री ब्रह्माजी और जगतपालक भगवान श्री विष्णुजी की उत्पत्ति शिव से ही हुई हैं, परंतु शिवभक्तों के मन में सदैव यह सवाल उठता है कि भगवान शिव ने कैसे जन्म लिया था ?

- कहा जाता है कि भगवान शिव स्वयंभू है जिसका अर्थ है कि वह मानव शरीर से पैदा नहीं हुए हैं, जब कुछ नहीं था तो भगवान शिव थे और सब कुछ नष्ट हो जाने के बाद भी उनका अस्तित्व सदैव रहेगा, भगवान शिव को आदिदेव भी कहा जाता है जिसका अर्थ हिंदू माइथोलॉजी में सबसे पुराने देव से है और वह देवों में प्रथम हैं । भगवान शिव के जन्म के संबंध में एक कहानी शास्त्रों में वर्णित है, प्रजापिता श्री ब्रह्माजी और भगवान श्री विष्णुजी के बीच एक बार इस बात को लेकर बहस हुई, हम दोनों में बड़ा व सर्वश्रेष्ठ कौन हैं ।

- तभी श्री महादेव ने दोनों की परीक्षा लेने के लिए स्वंय एक रहस्यमयी खंभा का रूप ले लिया, खंभे का ओर-छोर दिखाइ नहीं दे रहा था, तभी श्री ब्रह्माजी और श्री विष्णुजी को एक आकाशवाणी सुनाई दी और उन्हें खंभे का पहला और आखिरी छोर ढूंढने के लिए कहा गया ।

- इसके बाद ब्रह्माजी ने तुरंत एक पक्षी का रूप धारण किया और खंभे के ऊपरी हिस्से की खोज करने निकल पड़े, और भगवान विष्णुजी ने वराह का रूप धारण किया और खंभे के आखिरी छोर को ढूंढने निकल पड़े । दोनों ने बहुत प्रयास किए लेकिन असफल रहे ।


- जब दोनों ने हार मान ली तो भगवान शिव जो कि विशाल खंभे के रूप में थे अपने वास्तविक रूप में प्रकट हो गए । तब श्री ब्रह्मा जी और श्री विष्णुजी ने माना कि इस सकल ब्रह्माण्ड को एक सर्वोच्च महाशक्ति चला रही है और वह महाशक्ति स्वयंभू श्री भगवान महादेव शिव ही हैं । खंभा प्रतीक रूप में भगवान शिव के कभी ना खत्म होने वाले स्वरूप ही बाद में शिवलिंग के रूप में पूजा जाने लगा ऐसी पौराणिक कथा हैं ।

- भगवान शिव के जन्म के विषय में इस कथा के अलावा और भी कई कथाएं हैं, शिव जी के ग्यारह अवतार माने जाते हैं और इन अवतारों की कथाओं में रुद्रावतार की कथा प्रमुख मानी जाती है । कूर्म पुराण के अनुसार जब सृष्टि को उत्पन्न करने में श्री ब्रह्माजी को कठिनाई होने लगी और रोते हुए उन्होनें देवाधिदेव महादेव को पुकारा- ब्रह्मा जी के आंसुओं से भूत-प्रेतों का जन्म हुआ और मुख से रुद्र उत्पन्न हुए, रूद्र भगवान शिव के अंश और भूत-प्रेत उनके गण यानी सेवक माने जाते हैं । इस प्रकार शिव की कृपा से सृष्टि का निर्माण हुआ ।


- शिव पुराण के अनुसार, भगवान शिव को स्वयंभू (स्वयं उत्पन्न) हुआ माना गया है, शिव पुराण के अनुसार, एक बार जब भगवान शिव अपने टखने पर अमृत मल रहे थे तब उससे भगवान श्री विष्णुजी पैदा हुए बताए गए हैं । संहारक कहे जाने वाले भगवान शिव एक बार देवों की रक्षा करने हेतु जहर पी लिया था और नीलकंठ कहलाए, कहा जाता है कि भोलेबाबा भगवान शिव अपने भक्तों पर प्रसन्न हो जाएं तो मन की सारी मनोकामनाएं पूरी कर देते हैं । तो ऐसे है भोलेबाबा महादेव ।

- कहा जाता है कि भगवान शिव स्वयंभू है जिसका अर्थ है कि वह मानव शरीर से पैदा नहीं हुए हैं, जब कुछ नहीं था तो भगवान शिव थे और सब कुछ नष्ट हो जाने के बाद भी उनका अस्तित्व सदैव रहेगा, भगवान शिव को आदिदेव भी कहा जाता है जिसका अर्थ हिंदू माइथोलॉजी में सबसे पुराने देव से है और वह देवों में प्रथम हैं । भगवान शिव के जन्म के संबंध में एक कहानी शास्त्रों में वर्णित है, प्रजापिता श्री ब्रह्माजी और भगवान श्री विष्णुजी के बीच एक बार इस बात को लेकर बहस हुई, हम दोनों में बड़ा व सर्वश्रेष्ठ कौन हैं ।

- तभी श्री महादेव ने दोनों की परीक्षा लेने के लिए स्वंय एक रहस्यमयी खंभा का रूप ले लिया, खंभे का ओर-छोर दिखाइ नहीं दे रहा था, तभी श्री ब्रह्माजी और श्री विष्णुजी को एक आकाशवाणी सुनाई दी और उन्हें खंभे का पहला और आखिरी छोर ढूंढने के लिए कहा गया ।

- इसके बाद ब्रह्माजी ने तुरंत एक पक्षी का रूप धारण किया और खंभे के ऊपरी हिस्से की खोज करने निकल पड़े, और भगवान विष्णुजी ने वराह का रूप धारण किया और खंभे के आखिरी छोर को ढूंढने निकल पड़े । दोनों ने बहुत प्रयास किए लेकिन असफल रहे ।

- जब दोनों ने हार मान ली तो भगवान शिव जो कि विशाल खंभे के रूप में थे अपने वास्तविक रूप में प्रकट हो गए । तब श्री ब्रह्मा जी और श्री विष्णुजी ने माना कि इस सकल ब्रह्माण्ड को एक सर्वोच्च महाशक्ति चला रही है और वह महाशक्ति स्वयंभू श्री भगवान महादेव शिव ही हैं । खंभा प्रतीक रूप में भगवान शिव के कभी ना खत्म होने वाले स्वरूप ही बाद में शिवलिंग के रूप में पूजा जाने लगा ऐसी पौराणिक कथा हैं ।

- भगवान शिव के जन्म के विषय में इस कथा के अलावा और भी कई कथाएं हैं, शिव जी के ग्यारह अवतार माने जाते हैं और इन अवतारों की कथाओं में रुद्रावतार की कथा प्रमुख मानी जाती है । कूर्म पुराण के अनुसार जब सृष्टि को उत्पन्न करने में श्री ब्रह्माजी को कठिनाई होने लगी और रोते हुए उन्होनें देवाधिदेव महादेव को पुकारा- ब्रह्मा जी के आंसुओं से भूत-प्रेतों का जन्म हुआ और मुख से रुद्र उत्पन्न हुए, रूद्र भगवान शिव के अंश और भूत-प्रेत उनके गण यानी सेवक माने जाते हैं । इस प्रकार शिव की कृपा से सृष्टि का निर्माण हुआ ।

- शिव पुराण के अनुसार, भगवान शिव को स्वयंभू (स्वयं उत्पन्न) हुआ माना गया है, शिव पुराण के अनुसार, एक बार जब भगवान शिव अपने टखने पर अमृत मल रहे थे तब उससे भगवान श्री विष्णुजी पैदा हुए बताए गए हैं । संहारक कहे जाने वाले भगवान शिव एक बार देवों की रक्षा करने हेतु जहर पी लिया था और नीलकंठ कहलाए, कहा जाता है कि भोलेबाबा भगवान शिव अपने भक्तों पर प्रसन्न हो जाएं तो मन की सारी मनोकामनाएं पूरी कर देते हैं । तो ऐसे है भोलेबाबा महादेव ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links