ब्रेकिंग न्यूज़
किसान आंदोलन की आग पर पॉलिटिक्स की रोटी         BIG NEWS : “गिलगित-बल्तिस्तान को अस्थाई तौर पर प्रांत का दर्जा देना प्राथमिकता”: इमरान खान         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर DDC चुनाव में गौतम गंभीर होंगे बीजेपी के अगले स्टार प्रचारक         BIG NEWS : शेहला रशीद का दावा, “मेरे पिता ने नहीं की मेरी परवरिश, वो मेरे बारे में कुछ नहीं जानते”         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में हस्तकला से जुड़े कारीगरों का पंजीकरण करेगी सरकार, हस्तशिल्प को मिलेगा वैश्विक बाजार         BIG NEWS : “जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराने पर निर्वाचन आयोग लेगा फैसला”- राज्य चुनाव आयुक्त केके शर्मा         BIG NEWS : शेहला रशीद मामले में तू तू मैं मैं, शेहला के पिता ने कहा, “अगर मैं हिंसक व्यक्ति हूं, तो मेरे खिलाफ कई FIR दर्ज होनी चाहिए थी”         BIG NEWS : DDC चुनाव में लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए नागरिकों ने किया मतदान, कुल 48.62 फीसदी लोगों ने डाला वोट         BIG NEWS : सुरंग का पता लगाने के लिए पाकिस्तान में 200 मीटर अंदर घुसे भारतीय जवान, नगरोटा हमले में हुआ इस्तेमाल !         BIG NEWS : 25000 करोड़ के रोशनी घोटाले में फारूक अब्दुल्ला के भाई मुस्तफा का नाम भी शामिल, जांच जारी         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में फिर की गोलाबारी, एक बीएसएफ अधिकारी शहीद         किसान आंदोलन का मतलब         क्या किसान को समझने में असफल है वर्तमान सरकार          BIG NEWS : माता अन्नपूर्णा एक बार फिर अपने घर लौटकर आ रही हैं...         BIG NEWS : शेहला रशीद पर पिता ने लगाये गंभीर आरोप- कहा- एंटी नेशनल एक्टिविटिज़ में शामिल है शेहला         BIG NEWS : कोरोना काल में भी काशी की ऊर्जा, भक्ति, शक्ति में नहीं आया बदलाव : पीएम मोदी         BIG NEWS : कश्मीर में महबूबा मुफ्ती की सियासी ज़मीं कमजोर, अपनों ने छोड़ा साथ तो फिर अलापा अनुच्छेद 370 का राग         GOOD NEWS : रांची रेलवे स्टेशन पर 6 नाबालिग लड़कियों को कालकोठरी पहुंचने से बचाया         BIG NEWS : नए कृषि सुधारों से किसानों को कानूनी संरक्षण दिया गया, पुराने सिस्टम पर रोक कहां : पीएम मोदी         BIG NEWS : DDC चुनाव के बीच आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई तेज, कुपवाड़ा में हैंड ग्रेनेड और 3.5 लाख रुपये के साथ एक आतंकी सहयोगी गिरफ्तार         BIG NEWS : 30 नवंबर को साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, जानें कब और कहां दिखाई देगा         BIG NEWS : किसान आंदोलन को लेकर हाइप्रोफाइल मीटिंग, नड्डा के घर में शाह, राजनाथ और तोमर ने किया मंथन         BIG NEWS : विपक्षी दलों के दबाव के बाद पीएम इमरान खान ने दी सफाई, कहा- “मुझ पर सेना का कोई दबाव नहीं है”         “ जम्मू कश्मीर में DDC चुनाव को बाधित करने की लगातार कोशिश में हैं आतंकवादी” : सेना प्रमुख एमएम नरवणे         जम्मू में LOC के पास दिखा ड्रोन, BSF ने की कार्रवाई में फायरिंग         BIG NEWS : पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ में कहा, “नए कृषि कानून से दूर होगी किसानों की परेशानी”         BIG NEWS : सुकमा में IED ब्लॉस्ट असिस्टेंट कमांडेंट नितिन भालेराव शहीद, 10 जवान घायल         BIG NEWS : DDC चुनाव के पहले दिन बड़ी संख्या में नागरिकों ने किया मतदान, कुल 51.76 फीसदी लोगों ने डाला वोट         कोरोना वायरस: टीकाकरण के लिए देश में तैयारी जोरों पर         BIG NEWS : चाईबासा में नक्सलियों से एनकाउंटर के बाद पुलिस ने SLR समेत 169 जिंदा कारतूस किया बरामद         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान की जनता के आगे इमरान सरकार ने टेके घुटने, 9 साल बाद बाबा जान को किया रिहा         BIG NEWS : DDC चुनाव के पहले दिन का मतदान खत्म, 1 बजे तक 40 फीसदी लोगों ने डाला वोट         जम्मू-कश्मीर में जमीनी लोकतंत्र का आगाज, DDC चुनाव में स्थानीय नागरिकों ने बढ़चढ़कर लिया हिस्सा         BIG NEWS : जायडस की वैक्सीन का अपडेट लेने के बाद PM मोदी हैदराबाद के लिए हुए रवाना         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में DDC के 43 सीटों पर वोटिंग, पंच और सरपंच के उपचुनाव के लिए 1179 प्रत्याशी मैदान में         गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान         BIG NEWS : चारा घोटाला के मामले में लालू यादव की सुनवाई 11 दिसंबर तक टली         BIG NEWS : 28 नवंबर को DDC चुनाव के पहले चरण का मतदान, चुनाव के मद्देनजर घाटी में बढ़ाई गई सुरक्षा         BIG NEWS : सुरक्षा के कारण बस पुलवामा जाने से रोका गया, नजरबंद नहीं हैं महबूबा मुफ्ती : पुलिस         BIG NEWS : पाकिस्तान ने LOC पर लगातार दूसरे दिन की गोलाबारी, 2 जवान शहीद         BIG NEWS : बॉम्‍बे हाई कोर्ट कंगना रनौत को दिलाएगा मुआवजा, कहा- BMC ने गलत इरादे' से की एक्ट्रेस के मुंबई ऑफिस में तोड़फोड़         पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में की गोलाबारी, एक जवान शहीद         सड़ियल समाज की मरी संतानें         BIG NEWS : किसान आंदोलन के बहाने कांग्रेस का फर्जीवाड़ा, पुरानी तस्वीरें पोस्ट कर माहौल भड़काने की कोशिश         यहां शिवजी देते हैं जीवन का वरदान, मौत भी खाती है इनसे खौफ         BIG NEWS : फोन कंट्रोवर्सी के लपेटे में आए लालू, BJP नेता ने लालू यादव के खिलाफ दायर किया PIL         BIG NEWS : फोन कॉन्ट्रोवर्सी हुई तो 114 दिन से बंगले में रह रहे लालू यादव रिम्स वार्ड में लौटे         एक बड़ी साजिश जो नाकाम हो गई...         BIG NEWS : DDC चुनाव से पहले महबूबा मुफ्ती को बड़ा झटका, PDP के तीन और नेताओं ने एक साथ दिया इस्तीफा         BIG NEWS : पाकिस्तान एक बार फिर हुआ शर्मसार, शाह महमूद कुरैशी की कोशिश के बावजूद OIC में जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर नहीं होगी कोई चर्चा         BIG NEWS : श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, दो जवान शहीद         BIG NEWS : चाईबासा के टोंटो जंगल से 5 नर कंकाल         

कई फांके बिताकर मर गया जो ••••

Bhola Tiwari May 10, 2019, 7:01 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

हमारे पूर्वांचल में सोखा  की पूजा होती है । सोखा बाबा को वीर भद्र सोखा कहा जाता है । ये शिव के गणों में से एक हैं । आम तौर पर इनकी पूजा घर में हीं की जाती है । गंगा की लाई मिट्टी से घर के एक कोने में सोखा बाबा की प्राण प्रतिष्ठा की जाती है । उस दिन चने की दाल की पूरी , गुड़ की खीर , पुआ और पूड़ी का प्रसाद बनता है । सोखा बाबा की याद में औरतें गीत गातीं हैं , जिसे सोखा झूमर कहते हैं । सावन के महीने में दो बुधवार अंजोरिया के सोखा बाबा की पूजा के लिए नियत किए गए हैं । बक्सर के इटाढ़ी में इनका एक मात्र भव्य मंदिर बना है , जहां दूर दूर से पूर्वांचल के लोग आते हैं । सोखा बाबा ग्राम्य देवता माने जाते हैं । इन्हें तंत्र मंत्र का देवता भी माना जाता है । लोग दशहरा में तंत्र मंत्र सीखते हैं और सिद्धी के लिए इटाढ़ी जाते हैं । सिद्धि मिल जाने पर उन्हें सोखा कहा जाता है । पूर्वांचल के लोगों के लिए इटाढ़ी का वही महत्व है जो तंत्र मंत्र की साधना के लिए असम के कौड़ी कामख्या के मंदिर का है ।

हमारे गाँव के पास एक गांव " झरकटहां " है । इस गांव में अधिकत्तर निकुम्भ राजपूत रहते हैं । इन्हीं निकुम्भों के एक एकलौते बेटे के सिर सोखा बनने का भूत सवार हुआ था । माँ बाप ने पढ़ाई लिखाई करवानी चाही , पर बेटे का मन सोखईती में रम गया । वह तंत्र मंत्र साधना में जुट गया । वह सिद्धि हेतु इटाढ़ी भी गया था । वहां से सिद्धि लेकर वह गांव में सोखईती करने लगा । गाँव जवार में उसका बहुत मान जान होने लगा । दूर दूर से उसका बुलावा आने लगा । वह तंत्र मंत्र से लोगों का भूत उतार देता । कहते हैं कि सोखईती में शुचिता का बहुत ध्यान रखा जाता है । एक दिन सोखा लड़का कहीं से भूत उतार कर लाया । उन भूतों को कूर खेत में गाड़ना था । उसने बाग में आम खाया और बाग में हीं सो गया । बिना हाथ मुंह धोए । कहते हैं कि भूत इसी फिराक में रहते हैं कि कब सोखा का ध्यान शुचिता से हटे और वे सोखा पर भारी पड़ें । भूतों को मौका मिल गया । उन भूतों ने उसे पागल कर दिया ।

सोखा पागल हो गया । लोग उसे सोखवा कहने लगे । बच्चे उसे पत्थर मारते । कोई उसे अपने दुआर पर चढ़ने नहीं देता । सब को डर था कि सोखवा के सिर का भूत उनके मत्थे न आ लगे । वह कभी कभार हीं अपने घर जाता । माँ बेचारी उसे भर पेट भोजन कराती । वह उसे घर पर हीं रहने के लिए मनाती , पर वह तो पागल था । एक जगह टिक कर रहना उसकी तो फितरत नहीं थी । पागल होने की वजह से कोई उसे अपनी बेटी भी देने को तैयार नहीं था । इसलिए उसकी शादी नहीं हुई । उसका खानदान आगे नहीं चला । माँ बाप भी एक दिन काल के गाल में समा गये । सोखवा निपट अकेला रह गया । जर जायदाद गोतया दायाद ने हड़प लिया । रात के अंधेरे को सोखवा की आवाज चीरती हुई गुजरती - केहू तातल अन्न से भेंट करायी हो ( क्या कोई गरम खाना देगा ) । मेरे पिताजी और बड़े भाई कलकत्ता रहते थे । मैं और माँ गांव में रहते थे । सोखवा की आवाज बड़ी डरावनी लगती । उन दिनों गाँव में चोरी चकारी खूब होती थी ।

जब सोखवा को कोई खाना नहीं देता तो वह लोगों के दरवाजे पीटना शुरू कर देता । ऐसे में माँ को उठना पड़ता । उसके लिए खाना बनाकर देना पड़ता । जब तक खाना बनता , मैं लालटेन लेकर बैठा रहता । सोखवा भी कोईरी के देवता की तरह मन मारे रहता । खा पीकर जब वह निकलता , तब हम दरवाजा बंद कर सोने जाते । उन दिनों मैं पांचवी कक्षा का विद्यार्थी था । सोखवा के आने पर मैं बहुत भयभीत रहता । उसकी दाढ़ी बढ़ी होती । आंखें धंसी और गाल पिचके हुए थे । वह देखने में भूत जैसा लगता । उसके लिए मुझे दुआर पर बैठना बिल्कुल ही नहीं अच्छा लगता । हर पल ये ख्याल आता कि कोई आ न जाय । कोई चोर या डकैत । सूनी रात झांय झांय कर रही होती । सोखवा के हाथ पैर बहुत कम काम करते । वह अपनी धोती भी बांध नहीं सकता था । वह धोती भी लुंगी की तरह पहनता था ।

सोखवा का पाचन तंत्र भी खराब हो गया था । वह गांव की पगडंडियों पर चलते चलते मल मूत्र त्याग देता । सुबह उठने पर उस मंजर को देख लोग रात को सोखवा के आने का कयास लगाते । सोखवा के घूमने का दायरा छः सात कोस में था । वह मेरे मामा के गाँव कृपाल पुर तक भी जाता था । वहां भी रात के अंधेरे में सोखवा की आवाज गूँजती - केहू तातल अन्न से भेंट करायी हो । वहां भी सोखवा की आवाज नक्कारखाने की तूती साबित होती । कोई उसे खाना देने की जहमत नहीं उठाना चाहता था । सबसे बड़ी बात यह थी कि सोखवा को तातल ( गर्म ) खाना हीं चाहिए था । रात को उठकर उसके लिए गर्म खाना कौन बनाता ? वह इकलौता लड़का था । उसकी माँ ने कभी उसे बासी खाना नहीं दिया था। उसकी आदतें राजकुमारों जैसी थी । 

मैं उन दिनों इण्टर की पढ़ाई कर रहा था । एक दिन जाड़े की सुबह मैं जब खेतों की तरफ जा रहा था तो एक जगह भीड़ देखी । मैं रुक गया । पाले की सफेद चादर से ढका सोखवा मृत पड़ा था । प्रकृति ने उसके लिए स्वतः ही कफन का बंदोबस्त कर दिया था । लोग उसके मरने का कयास लगाने में जुटे हुए थे । मुझे दुष्यंत कुमार का एक शे'र याद आ रहा था -

कई फांके बिताकर मर गया जो, उसके बारे में,

वो सब कहते हैं अब, ऐसा नहीं, ऐसा हुआ होगा

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links