ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...        

खूँटी गैंग रेप में फ़ादर अल्फांसो समेत 6 लोग दोषी क़रार

Bhola Tiwari May 09, 2019, 3:10 PM IST टॉप न्यूज़
img

आसुतोष कुमार

रांची : झारखंड के खूँटी में पिछले साल हुए चर्चित कोचांग गैंग रेप मामले में स्कूल के प्रिंसिपल फ़ादर अल्फांसो समेत क़रीब आधा दर्जन लोग दोषी क़रार दिए गए हैं. इस मामले में सिविल कोर्ट ने तीन लोगों को रेप में और तीन लोगों को रेप की साज़िश में दोषी ठहराया है. घटना साल 2018 की है. बकौल पुलिस खूंटी ज़िले में पांचों लड़कियों को अगवा कर उनके साथ गैंग रेप किया गया था.

गौरतलब है कि उस दौरान आदिवासियों का पत्थलगड़ी आंदोलन चल रहा था. उस समय एक एनजीओ से जुड़ी पाँच महिलाएँ कोचांग गाँव में जागरूकता अभियान के तहत नुक्कड़ नाटक करने गई थीं. फ़ादर उस स्कूल के प्रिंसिपल थे, जहाँ नाटक चल रहा था. तब सैकड़ों बच्चों की मौजूदगी में महिलाओं को अगवा कर लिया गया था और जंगल में ले जाकर गैंग रेप किया गया था.

फ़ादर अल्फांसो पर आरोप था कि उन्होंने लड़कियों को अगवा होने दिया था और इसकी सूचना पुलिस को नहीं दी थी.

झारखंड के खूंटी जिले के कोचांग का एक गांव है बुरूडीह. यहां की पहाड़ियों पर स्कॉट मैन मिडिल स्कूल है. इस स्कूल में 800 से ज्यादा लड़के और लड़कियां पढ़ते हैं. 19 जून 2018 को इस स्कूल में नुक्कड़ नाटक करने आईं पांच लड़कियों को अगवा कर लिया गया. जंगल में ले जाकर उनके साथ गैंग रेप किया गया था. 7 मई 2019 को खूंटी के जिला व सत्र न्यायाधीश प्रथम राजेश कुमार की अदालत ने 4 आरोपियों के खिलाफ चार्ज फ्रेम किया है. कोर्ट ने फादर अल्फांसो को षड्यंत्रकारी मानते हुए उनकी जमानत रद्द कर दी. उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. कोर्ट 15 मई को सजा सुनाएगी. हाईकोर्ट ने 2018 में फादर अल्फोंस को जमानत दे दी थी.

नाटक खत्म होने के बाद क्या हुआ

19 जून 2018 को छह लोगों की टीम बनाकर तीन लड़के और तीन लड़कियों के साथ ही आशा किरण की दो लड़कियां और दो सिस्टर ड्राइवर के साथ गाड़ी से कोचांग पहुंच गए. वहां के बाजार में नुक्कड़ नाटक शुरू हो गया. इसी दौरान टीम के साथ गईं दोनों सिस्टर ने कहा कि वो लोग बगल के स्कूल के फादर से मिलकर आ रही हैं. कुछ देर बाद सिस्टर ने पूरी टीम को ही स्कूल में बुला लिया, जहां फिर से नुक्कड़ नाटक शुरू हो गया. इसी बीच दो लड़के आए और फादर से बात करने लगे. नाटक खत्म हुआ तो फादर ने टीम की लड़कियों से कहा कि ये लड़के उन लड़कियों को कुछ देर के लिए लेकर जाएंगे और फिर वापस पहुंचा देंगे. लड़कियों ने विरोध किया और सिस्टर के साथ जाने की जिद की, लेकिन हथियारों के बल पर लड़के उन लड़कियों को एक कार और एक एंबुलेंस से लेकर चले गए.

यातना वाले 7 घंटे 

एक युवक कार के पीछे-पीछे बाइक से था. कार छोटाउली होते हुए एक सुनसान जगह पर पहुंची. एक खपरैलनुमा मकान में टीम के साथ गए संजय कुमार नाम के शख्स को उतार दिया गया. इसी दौरान एक ने कहा कि ‘तुम लोग पत्थलगड़ी का विरोध करती हो, इसलिए तुम सबको ऐसा सबक सिखाया जाएगा कि जीवन भर याद रहे’. इसके बाद वो लोग लड़कियों को लेकर जंगल में चले गए. सुबह 11 बजे जंगल में गई लड़कियां शाम के छह बजे के करीब जंगल से बाहर निकलीं. उनके साथ गैंगरेप किया गया था. उनके प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा गया था.

फादर की वजह से हुआ रेप !

हथियारबंद लड़कों ने लड़कियों के साथ आए संजय के साथ मारपीट की, पेशाब पिलाया और कहा कि ‘तुम लोग बाहरी हो, जो पत्थलगड़ी का विरोध करते हो’. इसके बाद लड़कियों और संजय को हथियारबंदों ने फादर के पास छोड़ दिया. एक पीड़ित लड़की की ओर से खूंटी थाने में दर्ज करवाई गई एफआईआर के मुताबिक फादर की वजह से ही उन लड़कियों के साथ रेप हुआ था.

24 घंटे बाद पुलिस को सूचना मिली 

लड़की ने बताया था कि रेप के दौरान उनका वीडियो बनाया गया. वो लोग आरोप लगाते रहे कि तुम सब लोग पुलिस के एजेंट हो. वारदात के बाद जब लड़कियां फादर के पास पहुंचीं, तो फादर ने इस घटना का जिक्र किसी से भी करने से मना कर दिया. फादर ने लड़कियों को धमकी दी कि किसी से कहने पर उनके मां-बाप की हत्या कर दी जाएगी. इसके बाद लड़कियों को वापस गाड़ी में बिठा दिया गया और सभी लोग अपने-अपने घरों को लौट गए. फादर के कारण पुलिस को वारदात के 24 घंटे बाद सूचना मिली. पुलिस ने दावा किया था कि जॉन जोनास तिडू दो सिस्टर्स को भी अपने साथ ले जाना चाहता था, लेकिन फादर ने बताया कि दोनों ही नन हैं, जिसके बाद जॉन जोनास तिडू ने उनको छोड़ दिया.

19 जून 2018 की इस घटना के बारे में पुलिस को 20 जून की रात को जानकारी मिली. पुलिस किसी तरह से एक लड़की को बयान देने के लिए राजी कर पाई. पुलिस ने अपनी तफ्तीश में पाया कि इस गैंगरेप के पीछे पत्थलगड़ी समर्थक और पीएलएफआई के उग्रवादी हैं. पुलिस के मुताबिक वारदात से पहले पत्थलगड़ी का प्रमुख नेता जॉन जोनास तिडू जंगल में बैठे पीएलएफआई उग्रवादियों के पास गया था और उनसे कहा था कि नुक्कड़ नाटक करने आए लोग पुलिस और प्रशासन के जासूस हैं. ये सब लोग पत्थलगड़ी के विरोधी हैं, इसलिए इनका अपहरण कर लो और सबक सिखाओ.

इस गैंगरेप के मामले में पुलिस ने जॉन जुनास तिडू, बलराम समद, जूनास मुंडा, बाजी समद उर्फ टकला, आशीष लूंगा, फादर अल्फांसो आईंद और नोएल सांडी पूर्ती को आरोपी बनाया गया था. 

पत्थलगड़ी क्या है 

पत्थलगड़ी आदिवासियों की एक पुरानी परंपरा है. पिछले कई सालों से झारखंड में सरकारी तौर पर इसका विरोध बढ़ा है, लेकिन पिछले कुछ सालों से सरकार और पत्थलगड़ी समर्थकों के बीच विवाद हिंसक हो गया है. कई बार पत्थलगड़ी समर्थकों ने सेना और पुलिस के जवानों को बंधक बनाया है, तो कई बार पत्थलगड़ी समर्थक सेना और पुलिस के निशाने पर आए हैं.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links