ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...        

जापान में "सुपर डैड " की खेती होने लगी है

Bhola Tiwari May 09, 2019, 7:45 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

जापान में 1992 तक यह मानकर चला जाता था कि घर का काम औरतों का होता है । पुरुष का काम बाहर से कमा के लाना होता है । शेष घर परिवार की जिम्मेदारी औरत को निभानी होती है । ऐसा मानने वाले 60% से ज्यादा पुरुष स्त्री थे । समय का चक्र चलता रहा । अब 45% पुरुष मान रहे हैं कि पुरुष को बाहर की जिम्मेदारी के साथ साथ घर की जिम्मेदारी भी निभानी चाहिए । ज्यादातर घरों में स्त्री पुरुष दोनों हीं कामकाजी होते हैं । जब दोनों कामकाजी होंगे तो जिम्मेदारी भी फिफ्टी फिफ्टी निभानी होगी । बच्चा होने पर 2012 तक जहां 2% पुरुषों ने पितृत्व अवकाश लिया था वहीं 2017 तक पितृत्व अवकाश बढ़कर 7% हो गया । जापानी पुरुष बच्चों को सम्भालते हैं । उन्हें खिलाने , नहलाने , कपड़े पहनाने के अतिरिक्त पुरुष उनका लंगोट भी बदलते हैं । पुरुषों द्वारा किए गये इस कार्य को "इकुमेन " कहा जाता है ।

जापान में एक त्रैमासिक पत्रिका निकलती है , जिसमें "इकुमेन " सम्बंधी सामग्री होती है । इसमें इकुमेन सम्बंधी प्रतियोगिता करायी जाती है । विजेता पुरुष को इनाम दिया जाता है । जापान में एक टी वी धारावाहिक काफी लोकप्रिय रहा । इसमें हिरोया नामक पुरुष निर्णय लेता है कि वह पत्नी को बाहर काम पर भेजेगा और खुद इकुमेन बनेगा । वह एक अच्छा " हाऊस हसबैण्ड " बनता है । पत्नियों में यह धारावाहिक काफी लोकप्रिय हो चला है । पत्नियां हिरोया से काफी प्रभावित हैं । वे दोनों हाथ उठाकर भगवान से प्रार्थना करतीं हैं - भगवान सबको ऐसा पति दें । इकुमेन अब एक प्रोजेक्ट का रुप ले चुका है । अब इकुमेन प्रोजेक्ट के क्षेत्र में बहुत से पुरुष कूद पड़े हैं । उन्हें इकुमेन में लुत्फ आने लगा है । 

पहले पिता अनुशासन पर नियंत्रण रखते थे । वे जो कुछ भी बच्चों से कहते वह आदेशात्मक होता था । वे एक अच्छे पिता न होकर एक अच्छा प्रशासनिक अधिकारी होते थे । उनके साये में बच्चों का दम घुटता था । अब पहले जैसी बात नहीं रही । पुरुष इकुमेन वीमारी से ग्रसित होने लगे हैं । वे फेस बुक पर बच्चों को कैसे पाला जाय , बच्चों की पसंद / नापसंदगी शेयर करने लगे हैं । बच्चों को भी पिता का यह नया अवतार रास आने लगा है । बच्चे मां से ज्यादा पिता के करीब आने लगे हैं । पिता खुश हो रहे हैं । इकुमेन का प्रोजेक्ट फल फूल रहा है ।पिता खुश हो रहे हैं कि वे तीसमार खां हो गये हैं । वे मां की भी जिम्मेदारी अपने सिर ले रहे हैं , लेकिन माएं खुश नहीं हैं । वे इसे अपने अधिकार क्षेत्र में पुरुषों का अतिक्रमण मान रही हैं । उनकी ममता हिलोरे मारने लगी है । वे यह मानने को तैयार ही नहीं हैं कि कोई पिता उनके बच्चों को मां जैसा प्यार भी दे सकता है । सच माने तो यह पिता की क्षमता और मां की ममता के बीच खुली जंग है , जिसमें जीत ममता की हीं होने वाली है ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links