ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : छोटे से शहर का बड़ा खिलाड़ी एमएस धोनी ने अचानक लिया संन्यास, एक दिलचस्प सफर         BIG NEWS : महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से लिया संन्यास         BIG NEWS : कल से फिर शुरू होगी वैष्णो देवी यात्रा, जानें कैसे हो सकेंगे मां के दर्शन         BIG NEWS : जवानों ने लद्दाख में पैंगोंग त्सो झील के किनारे 14 हजार फुट की ऊंचाई पर फहराया तिरंगा         PM मोदी ने लाल किले पर फहराया झंडा, कहा- देश की संप्रभुता पर जिसने आंख उठाई, सेना ने उसी भाषा में दिया जवाब         स्वतंत्रता दिवस : आजादी के जश्न....         पटना में फिर बारिश होने की खबर है !         कुलभूषण जाधव केस में आईसीजे के फैसले को नहीं लागू कर रहा है पाकिस्तान : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के 2 आतंकी सहयोगी गिरफ्तार         BIG NEWS : जब जयपुर की सड़कों पर तैरने लगी कारें         BIG NEWS : 15 अगस्त, वीरता पुरस्कारों की घोषणा, जम्मू कश्मीर पुलिस को सबसे ज़्यादा वीरता पदक         BIG NEWS : गैलेंटरी अवॉर्ड का ऐलान, टॉप पर जम्मू-कश्मीर          BIG NEWS : गहलोत सरकार ने विश्वास मत जीता         BIG NEWS : भारत चीन सीमा विवाद के बीच अमेरिका ने तैनात किए सबसे घातक परमाणु बॉम्बर ‍          BIG NEWS : 3.75 लाख कांट्रेक्ट शिक्षकों के लिए स्वतंत्रता दिवस पर सीएम नीतीश करेंगे बड़ा ऐलान         BIG NEWS : श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद         BIG NEWS : अब गहलोत सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी और भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी          BIG BREAKING : अभी-अभी श्रीनगर में आतंकी हमला, दो जवान घायल         BIG NEWS : टेरर फंडिंग केस में NIA ने बारामूला में की छापेमारी, पूछताछ जारी         BIG NEWS : पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से डॉक्टर की डिग्री लेने वाले भारत में नहीं कर सकते प्रैक्टिस : MCI         BIG NEWS : जब बेशरमी का भूत सर "देसाई" चढ़कर बोले         BIG NEWS : एम एस धोनी का कोरोना टेस्ट निगेटिव, 14 अगस्त को चेन्नई के लिए होंगे रवाना         BIG NEWS : बीजेपी कल लाएगी अविश्वास प्रस्ताव, गहलोत सरकार की बढ़ीं मुश्किलें         BIG NEWS : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिलने उनके घर पहुंचे सचिन पायलट, थोड़ी देर में विधायक दल की बैठक         BIG NEWS : अवंतीपोरा में दो सक्रिय आतंकी ठिकाने ध्वस्त, गोलाबारूद बरामद         BIG NEWS : ईमानदार करदाताओं को पीएम मोदी का सौगात : फेसलेस असेसमेंट और टैक्सपेयर्स चार्टर आज से लागू         BIG STORY : राजस्थान में सियासी संकट खत्म, सियासी जमीन बचाने की वजह बनी सचिन पायलट की वापसी         BIG NEWS : चीन ने काम बिगाड़ा, सऊदी अरब ने पाकिस्तान को लताड़ा         BIG NEWS : संदेह के घेरे में रूस की कोरोना वैक्सीन !         BIG NEWS : पुलवामा एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने 1 आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की फर्जी कंपनियों पर आयकर का छापा, 1000 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग का पर्दाफाश         BIG NEWS : सुशांत के परिवार ने लीगल नोटिस भेज कर कहा, संजय राउत 48 घंटे में माफी मांगें, नहीं तो केस करेंगे         BIG NEWS : AU, HJ और PC कौन ! रिया चक्रवर्ती से क्या है कनेक्शन         श्रीकृष्ण की पीड़ा !!         BIG NEWS : संजय दत्त को हुआ लंग्स कैंसर, इलाज के लिए अमेरिका रवाना         मुझे मत पुकारो !         सुख-समृद्धि और धन प्राप्ति के लिए इस तरह करे भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न         क्यों मोर मुकुट धारण करते हैं श्री कृष्ण?         ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है !         BIG NEWS : जनाज़े पर मेरे लिख देना यारों, मोहब्बत करने वाला जा रहा है...         BIG NEWS : दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन तैयार, पुतिन ने कोरोना वैक्सीन का टीका बेटी को लगवाया         BIG NEWS : मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन         BIG NEWS : प्रवर्तन निदेशालय ने जब्त किए रिया चक्रवर्ती के मोबाइल फोन और लैपटॉप         BIG NEWS : रिया चक्रवर्ती करती थीं सुशांत के वित्तीय और प्रोफेशनल फैसले : श्रुति मोदी         BIG NEWS : राजस्थान की बदली सियासत, पायलट नाराज विधायकों के साथ आज करेंगे "घर" वापसी         BIG NEWS : बेटियों को भी पिता की संपत्ति में बराबरी का हक         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 4जी सेवा शुरू करने की तैयारी, 15 अगस्त के बाद दो जिलों में होगा ट्रायल         BIG NEWS : कुपवाड़ा में तीन संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बीजेपी नेता के घर ग्रेनेड हमला         जिसने अपने कालखंड को अपने इशारों पर नचाया...         जब मोहन ने पहली बार गोपिकाओ को किया परेशान         भगवान कृष्ण के जन्म लेते ही जेल की कोठरी में फैल गया प्रकाश ...         BIG BREAKING : रांची में सरेराह मार्बल दुकान में चली गोली, अपराधियों ने एक व्यक्ति को गोली मारी         BIG NEWS : झारखंड के शिक्षा मंत्री अब करेंगे इंटर की पढ़ाई...          BIG NEWS : सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेन 30 सितंबर तक रद्द         BIG NEWS : राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट, घर वापसी की अटकलें तेज         BIG NEWS : आतंकी हमले में घायल बीजेपी नेता की मौत         आदिवासी विकास का फटा पोस्टर...         BIG NEWS : नक्सली राकेश मुंडा को लाखों का इनाम और पत्तल बेचती अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉलर संगीता सोरेन को दो हजार        

बिहार में बाढ़ की शुरुआत और नेपाल का पानी छोड़ना

Bhola Tiwari Jul 15, 2020, 8:34 AM IST टॉप न्यूज़
img


दिनेश मिश्रा

जमशेदपुर  : नेपाल के एक ख्यातिलब्ध इंजीनियर और समाज कर्मी अजय दीक्षित ने इस घटना पर कहा कि," नेपाल में कोई संचयन जलाशय है ही नहीं जिससे पानी छोड़ा जा सके अतः जो कुछ भी बाढ़ आती है उसके पीछे क्षेत्र की जलीय परिस्थिति का एक दूसरे से जुड़ा होना है। नेपाल में कुछ वियर और बराज बने हुए हैं जिनमें कोई खास पानी जमा रखने की क्षमता नहीं है। केवल एक बांध कुलेखानी नदी पर बना हुआ है जिसमें मामूली मात्रा में बरसात का पानी इकट्ठा होता है। मगर जो आम समझदारी है उसमें पारंपरिक प्रतिक्रिया झलकती है जिससे समस्या और उसका समाधान दोनों ही स्थान और समय को देखते हुए बाहरी स्रोतों पर केंद्रित हो जाता है। और उन्हें बाढ़ समस्या का समाधान पारंपरिक लकीर पीटने में ही दिखाई पड़ता है। हिमालयी पानी के विकास और प्रबंधन के दिशा में इन बातों से गंभीर सच्चाई का सामना करना होता है और इसके साथ ही इस दिशा में जो फायदे आते हैं उनका भी अंदाजा लगता है।" 

जाहिर है कि हम अपनी जमीन और साझा नदियों की वजह से आती बाढ़ का दोष ऊपरी क्षेत्र पर डाल कर कि वह पानी छोड़ देता है या हमारी समस्या में रुचि नहीं ले रहा है, कह कर अपने दायित्वों से मुक्त हो जाते हैं। 

नेपाल में बड़े बांधों का पहला प्रस्ताव 1937 में पटना बाढ़ सम्मेलन में किया गया था और तभी से, 83 साल हुए, दोनों देशों के बीच बांध निर्माण की वार्तायें चल रही हैं। हर साल बरसात में सरकार द्वारा इस प्रयास का हवाला दिया जाता है, कमेटियां गठित होती हैं, अध्ययन होता है और उसके बाद सब कुछ शांत हो जाता है। यह काम अतिरिक्त गम्भीरता पूर्वक 1997 से हो रहा है और, कारण चाहे जो भी रहा हो, अभी तक तबसे कोसी हाई डैम की प्रोजेक्ट रिपोर्ट नहीं बन पायी है। अगर प्रोजेक्ट रिपोर्ट 23 साल में भी नहीं बन पाती है तो बांध बनाने में कितने साल लगेंगे यह कौन जानता है?

यह बात अलग है कि बांध अगर बन भी जाय तो जहां उसका निर्माण होना है वहां से लेकर कोसी का नीचे का जलग्रहण क्षेत्र 13,676 वर्ग किलोमीटर है जिस पर उस बांध का कोई असर नहीं होगा। वहां बरसने वाली पानी की हर बूंद नदी में प्रवेश करने की कोशिश करेगी जिसे उसके किनारे बने तटबंध रोक देंगे और अतिरिक्त जल-जमाव का कारण बनेंगे। दूसरे, बांध बन जाने के बाद भी नदी को सुखा तो नहीं दिया जाएगा। बरसात में उसे चालू ही रखना पड़ेगा और उसकी वजह बांध से पानी छोड़ा ही जायेगा। बांध से छोड़ा हुआ पानी कोसी तटबंधों के बीच बसे लोगों को उसी तरह से तबाह करेगा जैसा वह आज करता है। 

बांध के नीचे का नदी का जल ग्रहण क्षेत्र बागमती के जल ग्रहण क्षेत्र के लगभग बराबर है और कमला नदी के जल ग्रहण क्षेत्र का दुगुना है। अगर आपने इन नदियों में बाढ़ की हालत देखी है तो आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि यह बांध बन जाने के बाद भी बांध के निचले क्षेत्र में बाढ़ और जल जमाव की स्थिति में कोई परिवर्तन नहीं आयेगा। 

तीसरी बात, कोसी पर अगर बांध बना भी लिया जाए तो उस बांध का महानंदा, कमला, बागमती, और गंडक आदि नदियों की बाढ़ पर क्या कोई नियंत्रण हो पाएगा? इन नदियों का कोसी से कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन बाढ़ किसी भी नदी घाटी में आये, बात कोसी पर प्रस्तावित बराहक्षेत्र बांध की होने लगती है। यह सब सवाल न तो पूछे जाते हैं और न इसका कोई जवाब दिया जाता है। इसलिए यथास्थिति बनी रहेगी और सरकार रिलीफ तब तक बांटेगी जब तक हम अपनी जमीन पर अपने संसाधनों से समाधान नहीं खोजेंगे। नदियों पर तटबंध बना कर हमने देखा लिया, बराहक्षेत्र बांध के ऊपर 83 साल बरबाद कर लिया, नदी-जोड़ योजना को 2017 में पूरा हो जाना चाहिए था, नहीं हुआ। क्यों?

बाढ़ से बचने के लिए हम क्या-क्या कर सकते हैं यह जानने के साथ-साथ यह जानना भी उतना ही जरूरी है कि हम क्या-क्या नहीं कर सकते हैं। ऐसी चीज़ों को छोड़ कर जब तक व्यावहारिक धरातल पर बात नहीं होगी तब तक इस समस्या का समाधान सोचा भी नहीं जा सकता।

भाग-2

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links