ब्रेकिंग न्यूज़
अपना महेंद्र ऐसा ही है....         BIG NEWS : 39 साल के महेंद्र सिंह धोनी हुए रिटायर, झारखंड के सीएम बोले- रांची में फेयरवेल मैच कराए BCCI         BIG NEWS : छोटे से शहर का बड़ा खिलाड़ी एमएस धोनी ने अचानक लिया संन्यास, एक दिलचस्प सफर         BIG NEWS : महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से लिया संन्यास         BIG NEWS : कल से फिर शुरू होगी वैष्णो देवी यात्रा, जानें कैसे हो सकेंगे मां के दर्शन         BIG NEWS : जवानों ने लद्दाख में पैंगोंग त्सो झील के किनारे 14 हजार फुट की ऊंचाई पर फहराया तिरंगा         PM मोदी ने लाल किले पर फहराया झंडा, कहा- देश की संप्रभुता पर जिसने आंख उठाई, सेना ने उसी भाषा में दिया जवाब         स्वतंत्रता दिवस : आजादी के जश्न....         पटना में फिर बारिश होने की खबर है !         कुलभूषण जाधव केस में आईसीजे के फैसले को नहीं लागू कर रहा है पाकिस्तान : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के 2 आतंकी सहयोगी गिरफ्तार         BIG NEWS : जब जयपुर की सड़कों पर तैरने लगी कारें         BIG NEWS : 15 अगस्त, वीरता पुरस्कारों की घोषणा, जम्मू कश्मीर पुलिस को सबसे ज़्यादा वीरता पदक         BIG NEWS : गैलेंटरी अवॉर्ड का ऐलान, टॉप पर जम्मू-कश्मीर          BIG NEWS : गहलोत सरकार ने विश्वास मत जीता         BIG NEWS : भारत चीन सीमा विवाद के बीच अमेरिका ने तैनात किए सबसे घातक परमाणु बॉम्बर ‍          BIG NEWS : 3.75 लाख कांट्रेक्ट शिक्षकों के लिए स्वतंत्रता दिवस पर सीएम नीतीश करेंगे बड़ा ऐलान         BIG NEWS : श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद         BIG NEWS : अब गहलोत सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी और भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी          BIG BREAKING : अभी-अभी श्रीनगर में आतंकी हमला, दो जवान घायल         BIG NEWS : टेरर फंडिंग केस में NIA ने बारामूला में की छापेमारी, पूछताछ जारी         BIG NEWS : पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से डॉक्टर की डिग्री लेने वाले भारत में नहीं कर सकते प्रैक्टिस : MCI         BIG NEWS : जब बेशरमी का भूत सर "देसाई" चढ़कर बोले         BIG NEWS : एम एस धोनी का कोरोना टेस्ट निगेटिव, 14 अगस्त को चेन्नई के लिए होंगे रवाना         BIG NEWS : बीजेपी कल लाएगी अविश्वास प्रस्ताव, गहलोत सरकार की बढ़ीं मुश्किलें         BIG NEWS : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिलने उनके घर पहुंचे सचिन पायलट, थोड़ी देर में विधायक दल की बैठक         BIG NEWS : अवंतीपोरा में दो सक्रिय आतंकी ठिकाने ध्वस्त, गोलाबारूद बरामद         BIG NEWS : ईमानदार करदाताओं को पीएम मोदी का सौगात : फेसलेस असेसमेंट और टैक्सपेयर्स चार्टर आज से लागू         BIG STORY : राजस्थान में सियासी संकट खत्म, सियासी जमीन बचाने की वजह बनी सचिन पायलट की वापसी         BIG NEWS : चीन ने काम बिगाड़ा, सऊदी अरब ने पाकिस्तान को लताड़ा         BIG NEWS : संदेह के घेरे में रूस की कोरोना वैक्सीन !         BIG NEWS : पुलवामा एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने 1 आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की फर्जी कंपनियों पर आयकर का छापा, 1000 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग का पर्दाफाश         BIG NEWS : सुशांत के परिवार ने लीगल नोटिस भेज कर कहा, संजय राउत 48 घंटे में माफी मांगें, नहीं तो केस करेंगे         BIG NEWS : AU, HJ और PC कौन ! रिया चक्रवर्ती से क्या है कनेक्शन         श्रीकृष्ण की पीड़ा !!         BIG NEWS : संजय दत्त को हुआ लंग्स कैंसर, इलाज के लिए अमेरिका रवाना         मुझे मत पुकारो !         सुख-समृद्धि और धन प्राप्ति के लिए इस तरह करे भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न         क्यों मोर मुकुट धारण करते हैं श्री कृष्ण?         ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है !         BIG NEWS : जनाज़े पर मेरे लिख देना यारों, मोहब्बत करने वाला जा रहा है...         BIG NEWS : दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन तैयार, पुतिन ने कोरोना वैक्सीन का टीका बेटी को लगवाया         BIG NEWS : मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन         BIG NEWS : प्रवर्तन निदेशालय ने जब्त किए रिया चक्रवर्ती के मोबाइल फोन और लैपटॉप         BIG NEWS : रिया चक्रवर्ती करती थीं सुशांत के वित्तीय और प्रोफेशनल फैसले : श्रुति मोदी         BIG NEWS : राजस्थान की बदली सियासत, पायलट नाराज विधायकों के साथ आज करेंगे "घर" वापसी         BIG NEWS : बेटियों को भी पिता की संपत्ति में बराबरी का हक         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 4जी सेवा शुरू करने की तैयारी, 15 अगस्त के बाद दो जिलों में होगा ट्रायल         BIG NEWS : कुपवाड़ा में तीन संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बीजेपी नेता के घर ग्रेनेड हमला         जिसने अपने कालखंड को अपने इशारों पर नचाया...         जब मोहन ने पहली बार गोपिकाओ को किया परेशान         भगवान कृष्ण के जन्म लेते ही जेल की कोठरी में फैल गया प्रकाश ...         BIG BREAKING : रांची में सरेराह मार्बल दुकान में चली गोली, अपराधियों ने एक व्यक्ति को गोली मारी         BIG NEWS : झारखंड के शिक्षा मंत्री अब करेंगे इंटर की पढ़ाई...          BIG NEWS : सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेन 30 सितंबर तक रद्द         BIG NEWS : राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट, घर वापसी की अटकलें तेज         BIG NEWS : आतंकी हमले में घायल बीजेपी नेता की मौत        

उत्सवी वक्त में महानायक

Bhola Tiwari Jul 13, 2020, 8:25 AM IST कॉलमलिस्ट
img


डॉ सुशील उपाध्याय

देहरादून  : महानायक बीमार है, पूरा देश चिंतित है, उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना कर रहा है। कुछ लोग तो पूजा प्रार्थना भी कर रहे हैं। पर, पता नहीं, मेरे मन में वैसी संवेदना पैदा क्यों नहीं हो रही है जैसे कि सम्वेदनशील लोगों के मन में उपजी है। अपने आप पर संदेह होता है कि कहीं मैंने इंसानी मूल्य तो नहीं खो दिए हैं! 

ये सवाल तो बड़ा है, लेकिन महानायक की बीमारी पर वरवर राव की गम्भीर बीमारी का कष्ट उभर आता है। एक ऐसा आदमी जो करीब छह दशक तक सत्ता और व्यवस्था से लड़ता रहा और वह अपने लिए नहीं, अपने जैसे उन लोगों के लिए लड़ा जो लाचार, कमजोर, गरीब, वंचित और सताये हुए लोग थे है। सम्भव है कि हम सब लोगों का वरवर राव के वैचारिक धरातल से कोई साम्य ना हो, हम उन्हें इसलिए नापसंद करते हो क्योंकि वे घोर वामपंथी थे और हम उन्हें इसलिए भी नापसंद करते हों क्योंकि वे हमारी आभिजात्यता पर एक संकट की तरह मंडराते हैं, लेकिन वो एक चुनौती पेश करता हुआ आदमी है, ये बात सौ फीसद सच है।

ऐसे में, लगता है, इस तरह के आदमी का मर जाना ही ठीक है! उन लोगों का सकुशल रहना बहुत जरूरी है जो सत्ता के अनुकूल हों, व्यवस्था के अनुकूल हों, बाजार के अनुकूल हों और जो लोग प्रेशर वाल्व की तरह काम करने के लिए तैयार हों। यकीन मानिए, मैं अपने आपको कई बार धिक्कार चुका हूं कि जब पूरा देश महानायक के लिए चिंतित है तो मुझे भी चिंतित होना चाहिए, लेकिन मेरे मन में सच्ची चिंता और संवेदना उभर कर सामने ही नहीं आ रही है, बल्कि एक अजीब-सा अमानवीय आत्मघाती- संतोष पैदा हो रहा है कि चलिए कोरोना अब उन दरवाजों तक भी पहुंचा है, जहां की आवाजें ताकतवर होती हैं और जिन्हें सत्ता आसानी से सुनती है। 

वैसे, किसी के बीमार होने पर बुरी बात सोचना अच्छा तो कतई नहीं है, चाहे वह अपना हो या पराया। हमारे मीडिया माध्यमों पर बीते 24 घंटे से महानायक और उनका कुनबा छाया हुआ है। अगले दो-चार दिन, जब तक कोई नया शिगूफा या जुमला सामने नहीं आएगा, तब तक यह सिलसिला चलता रहेगा। भले ही औपचारिक तौर पर, लेकिन मैं भी यह कामना करता हूं कि वे जल्दी से जल्दी वह ठीक हो जाएं। और हां, उनके लिए ही क्यों मैं तो अपने शहर देहरादून के उन 800 लोगों के लिए भी चिंतित हूं जो बीते 4 महीने में कोरोना का शिकार हो चुके हैं और उनमें से कुछ अब भी जीवन मृत्यु का संघर्ष कर रहे हैं। मेरी चिंता अपने प्रदेश के उन तीन हजार लोगों के लिए भी है, जिनमें कोरोना का संक्रमण पाया गया है। महानायक और ये सभी जल्द स्वस्थ हो जाएं।

वरवर राव की मौजूदा स्थिति के लिए कौन जिम्मेदार हैं ? उन्हें बुढ़ापा मार रहा है, उनके विचारों के कारण उनकी मृत्यु हो रही है, उन्हें व्यवस्था मार डालेगी, ये सब तय करना आसान तो नहीं है। मैं उस उम्र के तीन लोगों के बारे में सोचता हूं- वरवर राव, महानायक और बिल्कुल मामूली जिंदगी जीने वाले मेरे पिता। मेरे पिता की इन दो हस्तियों से कोई बराबरी नहीं है। मैंने एक आम आदमी के रूप में उनको इस तुलना में शामिल किया है। 

महानायक के पास एक बड़ी पृष्ठभूमि है, एक थाती है और वे आज हमारे समय के अतुलनीय व्यक्ति हैं। अगर, वरवर राव ने भी केवल कैरियर के बारे में सोचा होता तो तय बात थी कि वे प्रोफेसर से शुरू होकर कुलपति तक पहुंच ही जाते, लेकिन उन्होंने प्रोफेसर से शुरुआत करके एक आम आदमी बनने तक की यात्रा की। मेरे पिता जैसे लोगों की कहानी क्या है, उनकी सारी जिंदगी औसत और मामूली चीजों की चाहत में बीत गई। इसलिए लगता है, वरवर राव होना, बिल्कुल आसान नहीं है और कभी होगा भी नहीं।

जब मैं किसी के भले की कामना करता हूं तो तमाम औसत लोग और वे लोग जो अपनी जिंदगी की सर्वाधिक बेहतरीन संभावनाओं को छोड़कर समाज के सबसे कमजोर लोगों के साथ आ खड़े हुए, उन लोगों के लिए मन में संवेदना के कोने हमेशा ही हरे-भरे दिखते हैं। हालांकि, गुणवान, ज्ञानी और जानकार लोग इस तरह के विचारों को उत्सवी-वक्त के मनहूसी विचार बताते हैं। इस समय,जबकि महानायक और उनका परिवार कोरोना के संक्रमण की जद में है तो उत्सव जैसा शब्द प्रयोग किया जाना हर तरह से अनुचित और धिक्कार के योग्य है, (धिक्कार है मुझे!) लेकिन जरा अपने आसपास देखिए, मीडिया पर आने वाली खबरों को देखिए, लोगों द्वारा किए जाने वाले कर्मकांड को देखिए तो सब कुछ उत्सव ही तो है। 

ऐसे उत्सव के वक्त वरवर राव जैसे आदमी का जिक्र किसी खलल से कम नहीं दिखता और यह खलल सैकड़ों, लाखों लोगों के जेहन में मौजूद है। हम लोगों को पूरा अधिकार है कि वरवर राव और उसके जैसे विचार रखने वाले लोगों से जी-भर कर घृणा करें, लेकिन संभव हो एक बार वरवर राव को पढियेगा, जो पूरी सत्ता व्यवस्था को चुनौती देता है। उनकी कविताएं सरकारों की परीक्षा लेती हैं कि वे सरकारें लोकतांत्रिक व्यवस्था में मुखर आवाजों को कितना स्पेस दे सकती हैं। हम लोग कितना भी विधवा-विलाप या अरण्य-रुदन करें, महानायक जैसी आवाजें हमेशा ही हमारे समय की केंद्रीय आवाजें बनी रहेंगी। मैं ऐसी आवाज की सलामती की भी दुआ करता हूं, लेकिन यहां वरवर राव भी समान रूप से मौजूद हैं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links