ब्रेकिंग न्यूज़
..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....         इतिहास, शिक्षा, साहित्य और मीडिया..         जालसाजी : विधायक ममता देवी के नाम पर जालसाज व्यक्ति कर रहा था शराब माफिया की पैरवी         वार्ड पार्षदों ने नप अध्यक्ष के द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत उपायुक्त से की         पुलवामा हमले की बरसी पर इमोशनल हुआ बॉलीवुड, सितारों ने ऐसे दी शहीदों को श्रद्धांजलि         बड़ी खबर : प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड की सरकार गिरा देंगे : निशिकांत         क्या सरदार पटेल को नेहरू ने अपनी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाने से मना कर दिया था?एक पड़ताल         वैलेंटाइन गर्ल की याद !         राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर सुप्रीमकोर्ट सख्त, चुनाव आयोग और याचिकाकर्ता को दिये जरूरी निर्देश         राजनीतिक पार्टियों को सुप्रीम कोर्ट का.निर्देश : उम्मीदवारों का क्रिमिनल रेकॉर्ड जनता से साझा करें         सभ्य समाज के मुँह पर तमाचा है दिल्ली की "गार्गी काँलेज" और "लेडी श्रीराम काँलेज" जैसी घटनाएं         पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द         हिंदी पत्रकारिता में सॉफ्ट हिंदुत्व और संतों में लीन सम्पादक..         कांग्रेस में घमासान : प्रदेश कांग्रेस कमेटियों को अपनी दुकान बंद कर देना चाहिए : शर्मिष्ठा मुखर्जी          एलपीजी सिलेंडर में बड़ा इजाफा : बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 144.5 रुपए महंगा         बैल-भैंस की नींद बनाम घोड़े की हिनहिनाहट          'मुफ्तखोरी' बनाम कल्याणकारी राज्य        

नेहरु गांधी वंश का डिस्कवरी आफ इंडिया खत्म नहीं हो रहा

Bhola Tiwari May 08, 2019, 7:29 AM IST टॉप न्यूज़
img

संजय

चौथी पीढ़ी आ गयी लेकिन नेहरु गांधी वंश का डिस्कवरी आफ इंडिया खत्म नहीं हो रहा। आप यह भी कह सकते हैं कि डिस्कवरी आफ इंडिया भारत का सबसे लंबा चलनेवाला पोलिटिकल सीरियल है। पीढ़ी दर पीढ़ी नेहरु गांधी वंश इंडिया को डिस्कवर करने में लगा है। पहले नेहरु जी ने इंडिया की खोज की, फिर इंदिरा गांधी ने, फिर राजीव गांधी ने और अब भाई बहन भारत की खोज पर निकले हैं। 

इंदिरा गांधी को छोड़ दें तो राजीव गांधी और अब उनके दोनों वारिश डिस्कवरी भी नहीं कर रहे, एडवेन्चर टूरिज्म कर रहे हैं। सालों साल राजभवन के गुप्त कमरों में पलने बढ़नेवाले राजकुमार और राजकुमारी प्रजा के सामने उतना ही दिखते हैं जितना दरबारी निर्धारित करते हैं। उतना ही पब्लिक लाइफ जीते हैं जितने से प्रजा को राजा की अहमियत का अंदाजा रहे। प्रजा ज्यादा करीब आने लगती है तो अचानक पर्दे से ओझल कर दिये जाते हैं। फिर तब प्रकट होते हैं जब दरबार को जरूरत महसूस होती है। 

एडवेन्चर टूरिज्म की शुरुआत राजकुमार ने की। करीब पंद्रह साल के एडवेन्चर टूरिज्म के बाद भी राजकुमार को ये समझ नहीं आया है कि आलू पेड़ पर उगता है या जमीन के नीचे। राजकुमार के एडवेन्चर टूरिज्म के बीच कभी कभी राजकुमारी भी एवेन्चर टूरिज्म पर निकलती हैं। वैसे तो उनका एडवेन्चर टूरिज्म अभी तक रायबरेली और अमेठी तक ही रहा है लेकिन इस बार दायरा बढ़ाकर पूर्वी उत्तर प्रदेश तक कर दिया गया है। संभवत: राजकुमारी अमेठी रायबरेली के तालाब, नदी, सड़क देखकर बोर हो गयी थीं इसलिए इस बार आमचुनाव से पहले वोट के लिए बोट से गंगा दर्शन कराने का निर्णय लिया गया। राजकुमारी ने इस एडवेन्चर के दौरान कुछ जगहों पर प्रजा से किसी विदेशी सैलानी के अंदाज में संवाद भी किया और प्रजा से उनके देश के बारे में जानकारी भी इकट्ठा की।

सुना है प्रजा को राजकुमारी ने कुछ दिव्य ज्ञान भी दिया है कि कोई देश है जो खतरे में आ गया है इसलिए उन्हें घर से निकलना पड़ा है, वरना दिल्ली की आलीशान कोठियों, फार्महाउसों और एसपीजी सुरक्षा के बीच वो शुकून से जिन्दगी गुजार रही थीं। निश्चित रूप से दरबारियों की छोटी मालकिन के घर से निकलनेवाले "महान त्याग" को वंशवादी राजनीति के काले इतिहास में स्वर्णाक्षरों से लिखा जाएगा लेकिन कलंक तो उस लोकतंत्र के माथे पर है जो सत्तर साल में नेहरू गांधी वंश की गुलामी से मुक्त नहीं हो पाया है। अभी न जाने कितनी पीढ़ी तक भारत नेहरू गांधी वंश के इस एडवेन्चर टूरिज्म का दंश झेलने के लिए अभिशप्त रहेगा।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links