ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...        

अखबार पढ़ती जिंदगी

Bhola Tiwari May 08, 2019, 7:18 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

मेरी शादी इण्टर में पढ़ते वक्त ही तय हो गयी थी । इण्टर के बाद मैं आगे की पढ़ाई के लिए कलकत्ता आ गया । यहां का माहौल मैंने बहुत ही अद्भुत पाया था । यहां प्रार्थना करने की झंझट नहीं थी । कक्षा अटैंड करने की भी कोई खास जरूरत नहीं थी । मन आए तो अटेंड करो । न मन आए तो जय राम जी की बोलो । केवल कक्षा में आवश्यक उपस्थिति दर्ज हो इसका ध्यान रखना पड़ता था । हम लड़के लड़कियों का एक ग्रुप बन गया था ,जो हर पल साथ रहता था । पिक्चर , पिकनिक का अक्सर प्रोग्राम बनता रहता था । हंसी खुशी का माहौल था । हम खुश तो पूरी कायनात खुश । जिंदगी पढ़ रही थी , साथ में ऐश भी कर रही थी । 

मेरी बी ए की डिग्री पूरी हो गयी । घर वालों का दबाव शादी के लिए बढ़ा । मैं टाल मटोल करने लगा । मुझे इस माहौल से निकलकर शादी के घुटन भरे माहौल में जीना अच्छा नहीं लगा । मेरी होने वाली पत्नी ग्रामीण परिवेश की थी । सिर में सरसों तेल चुपड़ने वाली । काली मिट्टी से बाल धोने वाली । उसे शेम्पू व शिकाकाई की तहजीब कहां से आती ? फिर भी मैंने इंकार नहीं किया । मैं अपनी माता पिता को दुःखी नहीं करना चाहता था । बहाना बनाया । नौकरी लगने के बाद शादी करुंगा । घर वाले इस बात पर राजी हो गये । नौकरी भी मिल गयी । अब कोई बहाना नहीं था । फिर भी मैंने बहाना बनाया कि अभी ठीक से जम जाऊँ तब शादी करुंगा । मैं बहाना इसलिए बनाता जा रहा था कि तंग आकर लड़की वाले इस रिश्ते को तोड़ दें । पर वे इंतजार करना जानते थे । इसलिए वे मेरे हर बहाने को सच मानकर चल रहे थे ।

आखिरकार मुझे कहना पड़ा कि मुझे उस अनपढ़ गंवार से शादी नहीं करनी है । यह लड़की मेरी ख्वाबों की मल्लिका नहीं है । मेरे माता पिता के लिए यह असह दुःख था । लड़की वालों का भी दुःख चरम पर था । मैं भी क्या करता ? मेरी जिंदगी नरक न बन जाए , इसके लिए यह करना जरुरी था । अब मैं और बहाने नहीं बना सकता था । आर पार की लड़ाई लड़नी थी । मैंने लड़ी । जीत भी हासिल की , पर इस जीत में कितने मन के महल ढहेंगे इसका अनुमान मुझे नहीं था । पिता हार्ट के रोगी । माँ ने खटिया पकड़ ली । लड़की के घर वालों ने भाग दौड़ की । कहीं से खोज बीन की । सस्ता महंगा नहीं देखा । बेटी की शादी कर दी । मुझे पता चला तो मैंने चैन की साँस ली थी । पिता दवाई के आसरे रहे । मां की जिंदगी भी घसीट रही थी । एक दिन दोनों काल कवलित हो गये थे । 

इसके बाद मेरे जीजा ने कई जगह रिश्ते देखे । हर रिश्ते में कुछ न कुछ कमी होती । मैं शत प्रतिशत की तलाश में था । मेरी इच्छा " ऊंचे दावा दीजिए , राम पुरावे आस " वाली थी । मैं मिस्टर परफेक्शनिस्ट था , पर खुद मैं जब शत प्रतिशत नहीं था तो मुझे शत प्रतिशत कहां मिलता ?इस बात का इल्म मुझे नहीं था । जब इस बात का पता चला तब तक बहुत देर हो चुकी थी । मेरे साथ के सभी लड़के लड़कियों की शादी हो चुकी थी । कई पिता भी बन चुके थे । हम आज भी मिलते थे । अब भी पिक्चर पिकनिक का प्रोग्राम बनता था । मैं अनमने ढंग से उसमें शामिल होता । एक बार पिकनिक का प्रोग्राम बना । खाने पीने से पहले गंगा में स्टीमर से घूमने का प्रोग्राम था । खाने पीने का इतना सारा सामान भांडे बर्तन लेकर स्टीमर में जाया नहीं जा सकता था । किसी महिला ने हंसते हुए सुझाव दिया कि सुरेश जी छड़े मलंग हैं । ये जाकर क्या करेंगे ? सारा समान यहीं छोड़ो । ये चौकीदारी करेंगे । बात हल्के फुल्के ढंग से कही गयी थी , पर उसका असर दिल तक पहुँचा था ।

मेरी उम्र रेत की मानिंद जिंदगी के हाथों फिसल रही थी । एक दिन दीदी का फोन आया । उन्होंने बताया कि एक लड़की परित्यक्ता है । उसके माँ बाप उसकी दूसरी शादी करना चाहते हैं । तुम आकर लड़की देख लो । तुम्हारे हां कहने पर ही आगे की बात चलेगी । मैंने अपना मन बनाया । और दीदी के यहां जाने के लिए गाड़ी पकड़ ली । रात को दीदी के घर पहुँचा । खाना खाया । सो गया । सुबह तड़के नहा धोकर बैठ गया । दीदी चाय ले आईं । चाय पीते पीते पूछा - दीदी , आपने मुझे लड़की देखने के लिए बुलाया था । दीदी की आवाज बहुत मद्धम थी । उसमें बहुत कुछ उदासी का पुट था । " लड़की वाले कह रहे हैं कि लड़के की उम्र बहुत ज्यादा है "। उस समय मैं अखबार पढ़ रहा था । मैंने अखबार को ऊपर खिसका लिया । चेहरा ढक लिया ताकि दीदी मेरे मनोभावों को न पढ़ सकें ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links