ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बिहार के रोहतास में धर्मान्तरण का खुल्ला खेल          BIG NEWS : अगर ठोस कदम नहीं उठाया गया तो कोरोना वायरस की महामारी बद से बदतर होती जाएगी : टेड्रोस एडनाँम ग्रेब्रीयेसोस         BIG NEWS : बारामूला से अगवा बीजेपी नेता को सुरक्षाबलों ने कराया मुक्त         BIG NEWS : राज्य में बुधवार को मिले रिकार्ड 316 कोरोना के नए मरीज, दो मरीजों की मौत          BIG NEWS : राहुल बोले - कांग्रेस से जो जाना चाहता है जा सकता है!          BIG NEWS : चीन के हुवावे को भारत का करारा जवाब है Jio5G         BIG NEWS : LOC के पास एक पाकिस्तानी घुसपैठिया गिरफ्तार         BIG NEWS : बारामूला में आतंकियों ने बीजेपी नेता को किया अगवा, तलाश जारी         BIG NEWS : 15 अगस्त को लॉन्च हो सकती है देश की पहली कोरोना वैक्सीन         CBSE 10th Result : लड़कियों का पास प्रतिशत 93.31 फीसदी और लड़कों का 90.14 फीसदी रहा         BIG NEWS : पाकिस्तान आर्मी का नया कारनामा, बकरीद पर जिबह के लिए फौजी कसाई सर्विस लॉन्च         बिहार में बाढ़ की शुरुआत और नेपाल का पानी छोड़ना          BIG NEWS : राज्य में मंगलवार को रिकार्ड 247 कोरोना मरीज, तीन संक्रमितों की हुई मौत          BIG NEWS : अमेरिका के बाद ब्रिटेन ने भी Huawei को किया बैन         BIG NEWS : छवि रंजन बने रांची के नये डीसी, झारखंड में 18 IAS अधिकारियों का तबादला         BIG NEWS : विकास दुबे की तरह मेरा एनकाउंटर करना चाहते थे डीएसपी और इंस्पेक्टर : भोला दांगी         BIG NEWS : श्रीनगर पुलिस हेडक्वार्टर सील, जम्मू कश्मीर में कुल 10827 कोरोना के मरीज         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच चौथे चरण की कोर कमांडर स्तर की बैठक शुरू, कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा         BIG NEWS : सचिन पायलट पर कार्रवाई, उप मुख्यमंत्री के पद से हटाए गए         नेपाल पीएम के बिगड़े बोल, कहा – “नेपाल में हुआ था भगवान राम का जन्म, नेपाली थे भगवान राम”         CBSE 12वीं का रिजल्ट : देश में 88.78% स्टूडेंट पास         BIG NEWS : सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू पहुंचे, सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा         अनंतनाग एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर         बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम        

"वाचा पोश" की अफगानी परम्परा

Bhola Tiwari May 08, 2019, 7:13 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

यूँ तो पूरी दुनिया में बेटा होना शान समझा जाता है , पर अफगानिस्तान के अति पिछड़े इलाके के लोगों में बेटे का क्रेज कुछ ज्यादा ही हैं । यहां जिन घरों में बेटा नहीं होता , उनको हेय दृष्टि से देखा जाता है । नाते रिश्तेदारों में उन्हें वांछित सम्मान नहीं मिलता । जो सच्चे दोस्त होते हैं वे अक्सर घर आकर सहानुभूति जता जाते हैं। जिन घरों में लगातार तीन लड़कियों का आगमन हो जाता है , वे हताश होकर उन्हीं में से किसी एक की परवरिश लड़कों जैसा करने लगते हैं । लड़कों के कपड़े । लड़कों जैसै छोटे बाल । नाम भी लड़कों का रख दिया जाता है । घरों में उन्हें लड़की के नाम से ही पुकारा जाता है । स्कूल में लड़के के नाम से जाना जाता है । ये बेचारी दोहरी जिंदगी जीने लगती हैं । कहा जाता है कि ऐसा करने से घरों में लड़के का जन्म होता है ।

वाचा पाशा की मुख्य वजह आर्थिक भी होता है । इस बहाने लड़कियों को घरों से बाहर निकलने का मौका मिलता है । वे बाहर जाकर कुछ कमा कर लाती हैं । घर को आर्थिक मदद मिलती है । 10/12 साल की लड़कियाँ लड़कों के भेष में टाफी , चूइंग गेम और पानी की बोतलें बेचती हैं । घरों में अतिरिक्त आय होती है । वाचा पाशा वाली लड़कियाँ अपने पिता के साथ बाहर काम करतीं हैं । पिता बेटे न होने का गम भूल जाते हैं । बहनों को एक भाई मिल जाता है । माँ को समाज से ताना मिलना बंद हो जाता है । लेकिन यह सब कुछेक सालों के लिए हीं होता है । वाचा पाशा वाली लड़कियाँ तरुणाई आने पर फिर अपनी यथा स्थिति में लौट आतीं हैं । उन्हें पर्दे में रहना पड़ता है । आश्चर्य का विषय है कि जिन मर्दों के साथ मिलकर वे काम करतीं थीं , उन्हीं से अब पर्दा करना होता है । शादी करनी पड़ती है । बच्चे जनना पड़ता है ।

वापस लौटना इतना आसान नहीं होता । वे एक सामान्य लड़की की तरह महसूस नहीं कर पातीं । उन्हें अपना वह पिछला दौर याद आता है जब वे आजाद हो ,उच्चश्रृंखल हो घूमतीं थीं । "पंछी बनू उड़ती फिरुं "की जगह उन्हें घर की चारदिवारी में कैद होकर रह जाना पड़ता है । समाज शास्त्री इसे मानव अधिकारों का उल्लंघन मानते हैं । हम किसी का थोड़े समय के लिए लिंग नहीं बदल सकते । स्त्री को पुरुष नहीं बना सकते । ऐसे में वाचा पाशा वाली लड़कियों को आईडेंटिटी क्राइसिस का सामना करना पड़ता है । यह पूरी मानवता के खिलाफ है ।

नीचे का चित्र सितारा का है । सितारा लड़के के भेष में ईंट के भट्ठे पर अपने पिता के साथ में काम करतीं हैं । एक दिन में 500 ईंट बना लेतीं हैं । पिता कहते हैं कि यह बेटी नहीं मेरा बेटा है । सितारा बेटे के रोल में कई जनाजों को कांधा भी दे चुकीं हैं । अब उन पर तरुणाई तारी हो रही है । उन्हें अब दूसरा चोला धारण करने में बहुत डर लगता है । उन्हें घर का काम बिल्कुल नहीं आता । लड़की का चोला पहनने के लिए पिता की तरफ से भी दबाव पड़ रहा है । सितारा ने तय किया है कि वह वापस अपने पुराने चोले में नहीं आएंगी । यदि शादी करनी भी पड़ी तो पति नाम के जीव की इतनी कुटाई करेंगी कि वह खुद ही तलाक ले लेगा । उनके हाथ ईंट बनाते बनाते ईंट की हीं तरह काफी मजबूत हो गये हैं । सितारा पिता का सम्बल बनना चाहतीं हैं । उन्हें छोड़कर कहीं भी नहीं जाना चाहतीं ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links