ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट में किसने लगाई आग! लाखों का नुकसान          BIG NEWS : इंडिया और इज़राइल मिलकर खोजेंगे कोविड-19 का इलाज         CBSE : अपने स्कूल में ही परीक्षा देंगे छात्र, अब देशभर में 15000 केंद्रों पर होगी परीक्षा         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में कमांडर आदिल वानी समेत दो आतंकी ढेर         BIG NEWS : लद्दाख बॉर्डर पर भारत ने तंबू गाड़ा, चीन से भिड़ने को तैयार         ममता बनर्जी को इतना गुस्सा क्यों आता है, कहा आप "मेरा सिर काट लीजिए"         GOOD NEWS ! रांची से घरेलू उड़ानें आज से हुईं शुरू, हवाई यात्रा करने से पहले जान लें नए नियम         .... उनके जड़ों की दुनिया अब भी वही हैं         आतंकियों को बचाने के लिए सुरक्षाबलों पर पत्थरबाज़ी, जवाबी कार्रवाई में कई घायल         BIG NEWS : पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर तौफीक उमर को कोरोना, अब पाकिस्तान में 54 हजार के पार         महाराष्ट्र में खुल सकते है 15 जून से स्कूल , शिक्षा मंत्री ने दिए संकेत         BIG NEWS : सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप आतंकी सहयोगी वसीम गनी समेत 4 आतंकी को किया गिरफ्तार         आतंकी साजिश नाकाम : सुरक्षाबलों ने पुलवामा में आईईडी बम बरामद         BREAKING: नहीं रहे कांग्रेस के विधायक राजेंद्र सिंह         पानी रे पानी : मंत्री जी, ये आप की राजधानी रांची है..।         BIG NEWS : कल दो महीने बाद नौ फ्लाइट आएंगी रांची, एयरपोर्ट पर हर यात्री का होगा टेस्ट         BIG NEWS : भाजपा के ताइवान प्रेम से चिढ़ा ड्रैगन, चीन ने दर्ज कराई आपत्ति         सिर्फ विरोध से विकास का रास्ता नहीं बनता....         सीमा पर चीन ने बढ़ाई सैन्य ताकत, मशीनें सहित 100 टेंट लगाए, भारतीय सेना ने भी सैनिक बढ़ाए         BIG NEWS : केजरीवाल सरकार ने सिक्किम को बताया अलग राष्ट्र         महिला पर महिलाओं द्वारा हिंसा.... कश्मकश में प्रशासन !         BIG NEWS : वैष्णों देवी धाम में रोज़ाना 500 मुस्लिमों की सहरी-इफ्तारी की व्यवस्था         विस्तारवादी चीन हांगकांग पर फिर से शिकंजा कसने की तैयारी में, विरोध-प्रर्दशन शुरू         BIG NEWS : स्पेशल ट्रेन की चेन पुलिंग कर 17 मजदूर रास्ते में ही उतरे         भक्ति का मोदी काल ---         अम्फान कहर के कई चेहरे, एरियल व्यू देख पीएम मोदी..!         महिला को अर्द्धनग्न कर घुमाया गया !         टिड्डा सारी हरियाली चट कर जाएगा...         'बनिया सामाजिक तस्कर, उस पर वरदहस्त ब्राह्मणों का'         इतिहास जो हमें पढ़ाया नहीं गया...         झारखंड : शुक्रवार को 15 कोरोना         BIG NEWS : जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा प्लेन, कई घरों में लगी आग, जीवन बचाने के लिए भागे लोग         BIG NEWS : पाकिस्तान की फ्लाइट क्रैश, विमान में सवार सभी 107 लोगों की मौत         BIG NEWS : मधु कोड़ा के केवल चुनाव लड़ने के लिए दोषी होने पर रोक लगाना ठीक नहीं : दिल्ली हाई कोर्ट         BIG NEWS : तीन और महीने के लिए टली ईएमआई, 31 अगस्त तक बढ़ाया         BIG NEWS : आज से आरक्षित टिकटों की बुकिंग रेलवे काउंटर से शुरू         चीन के बाद अब पाक ने बढ़ाई सीमा पर ताकत, तोपें और अतिरिक्त सैन्य डिवीजन तैनात          BIG STORY : झारखंड के लिए शिक्षा माने भीक्षा....         BIG NEWS : पाकिस्तान ने सरकारी मैप में सुधारी गलती ! गिलगित-बल्तिस्तान और मीरपुर-मुजफ्फराबाद भारत का हिस्सा         BIG NEWS : अम्फान तूफान, तबाही के निशान        

सोरठी बृजभार ~ आँचलिक मिट्टी की सुगन्ध

Bhola Tiwari May 06, 2019, 7:55 AM IST टॉप न्यूज़
img

 .एस डी ओझा

  एक राजा थे . नाम था उदय भान . राज्य का नाम था सोरहपुर . राजा की सात रानियाँ थीं , फिर भी राजा निःसन्तान थे . पंडितों की सलाह पर 

राजा ने घोर तपस्या की . फलस्वरूप राजा को कन्या धन की प्राप्त हुई . सोरहपुर की राजकन्या का नाम सोरठी रखा गया . ज्योतिषियों ने जब सोरठी की कुंडली बनाई तो वह पितृघातिनि निकली . लिहाजा उसे एक बड़े सन्दूक में बन्द कर पानी में बहा दिया गया .

सन्दूक सुदूर उत्तर की तरफ़ बढ़ चला . एक कुम्हार नदी में स्नान कर रहा था . उसने बच्ची की रोने की आवाज सुनी . सन्दूक पकड़ा . बच्ची सही सलामत थी . कुम्हार बच्ची को अपने घर लाया . उसका लालन पालन किया . बच्ची दिन दुनी रात चौगुनी के हिसाब से बढ़ने लगी . कुम्हार दम्पति बच्ची पर अपनी जान छिड़कते थे .

राजा उदयभान बच्ची को त्याग कर दुःखी रहने लगे . उनका मन राज काज में नहीं लगता था . वे सोचते थे कि ईश्वर ने एक बच्ची दी तो वह भी पितृघातिनि निकली . इसी कशमकश में राजा दिन काट रहे थे.

तभी राजा को पता चला कि उनकी बच्ची जिन्दा हैं . उन्होंने उस बच्ची को लाने की जिम्मेदारी अपने हीं राज्य के एक युवक बृजभार को सौंपी , जो गुरु गोरख नाथ का शिष्य था .

बृजभार की नई नई शादी हुई थी . उसकी पत्नी हेवन्ती नहीं चाहती थी कि वह उसे छोड़कर जाए . हेवन्ती रात को बृजभार की अंगुली अपने दांत में दबाकर सोई . बृजभार अपने गुरु से मदद मांगता है . गुरू के कहने पर बृजभार अपनी अंगुली के बदले हेवन्ती के दांत में सुपारी रख योगी वेश में सोरठी की खोज में निकल पड़ता है. रास्ते में उसे बहुत कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है .जब जब उस पर विपत्ति आई , तब तब हेवन्ती वहाँ पहुँच कर उसे बचा कर लाई . अपनी धुन का पक्का बृजभार अपने गुरु की मदद से हर बार हेवन्ती की गिरफ्त से आज़ाद हो सोरठी की खोज में निकल पड़ता . अंत में बृजभार सोरठी को लाने में सफल होता है .

राजा उदयभान को बृजभार के चरित्र पर शक होता है . वह नहीं चाहता कि सोरठी बृजभार से कोई सम्बन्ध रखे . इसके लिए राजा गुप्त रूप से बृजभार को मारने की योजना बनाता है . इसकी भनक सोरठी व बृजभार को लग जाती है और वे मोर मोरनी बन उड़ जाते हैं .

यह कहानी पूरे विहार व पूर्वी उत्तर प्रदेश में आज भी प्रसिद्ध है और लोगों द्वारा बड़े चाव से गाई जाती है . इस कहानी में नाथ सम्प्रदाय का प्रभाव अत्यधिक है . जगह जगह गुरु गोरखनाथ बृजभार की मदद करते हैं . बृजभार जब भी विपत्ती में होता है अपने गुरु का आह्वान करता है -

 मथवा मुड़वल गुरु अरे चेलवा बनवल हो , अब गुरु होख नू सहाय नू रे की !

(हे गुरु ! आपने मेरा मुंडन करा कर अपना चेला बनाया है . अब आप मेरी मदद कीजिये . )

इस पूरे प्रकरण में हेवन्ती के त्याग , तपस्या व समर्पण की अनदेखी की गई है , वह हर बार बृजभार को विपत्ति से छुड़ा कर लाती है ,पर वह अपने गुरू की मदद से हेवन्ती की कैद से आज़ाद हो जाता है और अंत में उसे हमेशा के लिए छोड़ कर सोरठी के साथ चला जाता है . हेवन्ती नितांत अकेली व दुःखी रह जाती है .

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links