ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : चीन की शह पर रात के अंधेरे में सरहद पर फौज तैनात कर रहा है पाकिस्तान         गोडसे की अस्थियां अपने मुक्ति को...         दिल्ली-एनसीआर में बार-बार क्यों कांप रही धरती...         इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना की वजह से निधन         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस         BIG NEWS : ड्रैगन के खिलाफ एक्शन में भारत, कार्रवाई से चीन में भारी नुकसान की आहट         BIG NEWS : भारत की कृतिका पांडे को मिला राष्ट्रमंडल-20 लघुकथा सम्मान         वैसे ये स्लोगन लगा विज्ञापन है किनके लिए भैये..          BIG NEWS : चीन की चाल , LAC पर तैनात किये 20 हजार से ज्यादा सैनिक         BIG NEWS : सोपोर में आतंकियों की गोली का शिकार बना एक और मासूम         BIG NEWS : सोपोर में CRPF पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमला, 2 जवान शहीद, तीन घायल         BIG NEWS : इमरान ने फिर रागा कश्मीर का अलाप, डोमिसाइल पॉलिसी को लेकर UNSC से लगाई गुहार         BIG NEWS : यूरोपीय संघ, यूएन और वियतनाम के बाद अब ब्रिटेन ने भी लगाया पाकिस्तान एयरलाइंस पर बैन         BIG NEWS : 'ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब' को बैन करने वाला चीन टिक-टॉक बैन पर तिलमिलाया         देश की सीमाओं में ताका झांकी....!         दीपिका कुमारी और अतनु दास ने एक दूसरे को पहनाई वरमाला, अब होंगे सात फेरे         चलो रे डोली उठाओ कहार...पीया मिलन की रुत आई....         अध्यक्ष बदलने की सियासत         BIG NEWS : पांडे गिरोह ने रामगढ़ एसपी को दिखाया ठेंगा, मोबाइल क्रेशर कंपनी से मांगी रंगदारी        

उत्तराखंड में हर दूसरा संक्रमित दिल्ली का!

Bhola Tiwari Jun 26, 2020, 6:56 AM IST टॉप न्यूज़
img


डॉ सुशील उपाध्याय

देहरादून : पड़ोसी राज्यों की तुलना में उत्तराखंड में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। यदि आबादी के अनुपात के लिहाज से देखें तो उत्तराखंड में उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश इन राज्यों की तुलना में अधिक मरीज हैं। बीते 50 दिन का औसत निकाले तो हर रोज लगभग 50 नए मामले जुड़ते गए हैं। इस वक्त लगभग 27 सौ मामले सामने आ चुके हैं और टेस्टिंग बढ़ने के साथ-साथ इन मामलों की संख्या में भी बढ़ोतरी हो रही है। जबकि, अभी करीब चार हजार सैंपल पेंडिंग हैं।

प्रदेश में जितने सैंपल टेस्ट किए जा रहे हैं, उनमें से करीब 5 फीसद लोग संक्रमित निकल रहे हैं। अभी प्रतिदिन डेढ़ हजार लोगों की टेस्टिंग हो रही है। सरकार कह रही है कि इसे और बढ़ाया जाएगा। तो क्या यह मानना चाहिए की आगामी दिनों में उत्तराखंड प्रतिदिन 50 के औसत के बजाय 100 की औसत की तरफ बढ़ जाएगा ! यह अनुमान चिंता पैदा करता है, लेकिन इसके साथ एक अच्छी संभावना यह जुड़ी हुई है कि प्रदेश में लगभग दो तिहाई मरीज ठीक भी हो रहे हैं और कोरोना संक्रमण से मौत का शिकार होने वाले लोगों की संख्या डेढ़ फीसद से भी कम है। यह राष्ट्रीय औसत की तुलना में करीब आधी है। 

अब सवाल यह है कि क्या संक्रमित लोगों के बढ़ने की मौजूदा रफ्तार को किसी तरह कम किया जा सकता है। यदि प्रदेश सरकार के जून माह में जारी किए गए दैनिक कोरोना बुलेटिनों पर निगाह डाली जाए तो उत्तराखंड में दाखिल होने वाले मरीजों में आधे लोग ऐसे हैं जो दिल्ली से यहां पहुंचे हैं। इस वक्त सामने आ रहे बहुत सारे मरीजों की यात्रा हिस्ट्री का पता नहीं लग रहा है, लेकिन जिन की यात्रा हिस्ट्री का पता चल रहा है उनमें से हर दूसरा मरीज दिल्ली से उत्तराखंड पहुंचा है। 

यदि किसी तरह इस पैटर्न को रोका जा सके तो यकीनन उत्तराखंड में कोरोना मरीजों की संख्या को बड़ी हद तक नियंत्रित कर लिया जाएगा। यहां देखने वाली बात यह है की घोषित तौर पर सरकार कह रही है कि इस बार यात्रा सीजन की अनुमति नहीं दी गई, न ही इस साल कावड़ यात्रा होगी और न अन्य कोई ऐसा आयोजन होगा जिसमें बाहरी लोगों की बड़ी संख्या जुटे, लेकिन वस्तुस्थिति सरकार के इस दावे से विपरीत है। यदि ऋषिकेश से नारसन बॉर्डर या हरिद्वार से देहरादून तक आने वाले वाहनों पर निगाह डाली जाए तो लगभग आधे वाहन दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान की नम्बर प्लेट वाले हैं।

जब प्रदेश में टूरिस्ट सीजन नहीं चल रहा है तो फिर इतनी बड़ी संख्या में सड़कों पर इन राज्यों के वाहन क्या करने आ रहै हैं, यह एक बड़ा सवाल है। इस वक्त हरिद्वार में गंगा के घाटों पर हरियाणा और दिल्ली से आए लोगों की भीड़ जमा है। ये लोग लगातार आ-जा रहे हैं। तय बात है कि ये लोग कुछ ना कुछ संक्रमण भी फैला ही रहे क्योंकि इस वक्त किसी भी बॉर्डर पर ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है कि किसी व्यक्ति को रोककर उसके कागज चेक करने भर से यह पता लगाया जा सके कि वह कोरोना संक्रमित है अथवा नहीं।

बाहरी लोगों के आने की स्थिति से हरिद्वार ऋषिकेश आदि के बाजारों को तात्कालिक लाभ मिल सकता है, लेकिन दीर्घकालिक तौर पर यह स्थिति प्रदेश के हित में नहीं होगी। यदि कोरोना संक्रमण की मौजूदा दर जारी रही उत्तराखंड में जुलाई के आखिर तक 5000 पेशेंट हो जाएंगे। प्रदेश का स्वास्थ्य ढांचा ऐसा नहीं है कि इतनी बड़ी संख्या में मरीजों को संभाल सके। इसलिए बेहतर यही होगा कि इस वक्त दूसरे प्रदेशों से, खासतौर से दिल्ली से, आने वाले लोगों को उत्तराखंड में प्रवेश रोका जाए चाहे। यह प्रवेश हरिद्वार से हो अथवा उधम सिंह नगर या नैनीताल की तरफ से। रोकना सम्भव न हो तो इन्हें न्यूनतम एक सप्ताह के लिए सांस्थानिक रूप से क्वारन्टीन किया जाए। इसी में प्रदेश और प्रदेश के लोगों की भलाई है। 

दिल्ली से आने वाले बहुत सारे लोगों का डेस्टिनेशन देहरादून भी है और इसी का परिणाम यह है कि उत्तराखंड में मिले कुल मरीजों का लगभग एक चौथाई हिस्सा देहरादून में मौजूद है। यदि शहर में संक्रमण फैल गया तो बड़ी से बड़ी व्यवस्था भी इसके सामने बौनी साबित होगी। ज्यादा दूर जाकर देखने की आवश्यकता नहीं है, दिल्ली का उदाहरण हमारे पास है। वहां सरकार के सारे दावे और सारी व्यवस्थाएं बेहद कम साबित हुई। क्या हम भी प्रदेश में ऐसी ही बेबसी की प्रतीक्षा कर रहे हैं ?

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links