ब्रेकिंग न्यूज़
TIT FOR TAT : आंखों में आंख डालकर खड़ी है भारतीय सेना         BINDASH EXCLUSIVE : गिलगित-बाल्टिस्तान में बौद्ध स्थलों को मिटाकर इस्लामिक रूप दे रहा है पाकिस्तान         अब पाकिस्तान में भी सही इतिहास पढ़ने की ललक जाग रही है....         BIG NEWS : लेह से 60 मजदूर रांची पहुंचे, एयरपोर्ट पर अभिभावक की भूमिका में नजर आए सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : CM हेमंत सोरेन का संकेत, सूबे में बढ़ सकता है लॉकडाउन !         कश्मीर जा रहा एलपीजी सिलेंडर से भरा ट्रक बना आग का गोला, चिंगारी के साथ बम की तरह निकलने लगी आवाजें         BIG NEWS : मशहूर ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती         नहीं रहे अजीत जोगी          BIG NRWS  : IED से भरी कार के मालिक की हुई शिनाख्त         SARMNAK : कोविड वार्ड में ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टर से रेप की कोशिश         BIG NEWS : चीन बोला, मध्यस्थता की कोई जरूरत नहीं, भारत और चीन भाई भाई         BIG NEWS : लद्दाख पर इंडियन आर्मी की पैनी नजर, पेट्रोलिंग जारी         BIG NEWS : डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा, चीन से सीमा विवाद पर मोदी अच्छे मूड में नहीं         BIG STORY : धरती की बढ़ती उदासी में चमक गये अरबपति         समाजवादी का कम्युनिस्ट होना जरूरी नहीं...         चीन और हम !         BIG NEWS : CRPF जवानों को निशाना बनाने के लिए जैश ने रची थी बारूदी साजिश !         BIG NEWS : अमेरिका का मुस्लिम कार्ड : चीन के खिलाफ बिल पास, अब पाक भी नहीं बचेगा         एयर एशिया की फ्लाइट से रांची उतरते ही श्रमिकों ने कहा थैंक्यू सीएम !         वियतनाम : मंदिर की खुदाई के दौरान 1100 साल पुराना शिवलिंग मिला         BIG NEWS : पुलवामा में एक और बड़े आतंकी हमले की साजिश नाकाम, आईईडी से भरी कार बरामद, निष्क्रिय         झारखंड के चाईबासा में पुलिस और नक्सलियों के बीच भीषण मुठभेड़, 3 उग्रवादी ढेर 1 घायल         भारतीय वायु सेना की बढ़ी ताकत, सियाचिन बॉर्डर इलाके में चिनूक हैलीकॉप्टर किए तैनात          क्या किसी ने ड्रैगन को म्याऊं म्याऊं करते सुना है ?         सत्ताइस साल बाद क्यों भयंकर हुए टिड्डे...         BIG NEWS : दो महीने का बस भाड़ा नहीं लेंगे और ना ही फीस बढ़ाएंगे निजी स्कूल         BIG NEWS : घुटने के बल आया चीन, कहा- दोनों देश एक दूसरे के दुश्मन नहीं         BIG NRWS : बिना परीक्षा दिए प्रमोट होंगे इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक के विद्यार्थी         CBSE EXAMS : जो छात्र जहां फंसा है, अब वहीं दे सकेगा बची परीक्षा         BIG NEWS : भारत में फंसे 179 पाकिस्तानी नागरिक अटारी-वाघा बार्डर के रास्ते अपने वतन लौटे         इंडियन आर्मी देगी माकूल जवाब, भारत नहीं रोकेगा निर्माण कार्य         नेहरू जी ने भरे संसद में ये कहा था कि चीन पर विश्वास करना उनकी बडी भूल थी....         BIG NEWS : अमेरिका के बाद भारत और WHO आमने-सामने, इंडियन वैज्ञानिकों ने WHO के सुझाव को नकारा         भारत के 'चक्रव्यूह' में फंसेगा 'ड्रैगन'         युद्ध की तैयारी में चीन !         BIG NEWS : रांची के रिम्स में जब पोस्टमार्टम से पहले जिंदा हुआ मुर्दा         अमेरिका ने चीन की 33 कंपनियों को किया ब्लैकलिस्ट, ड्रैगन भी कर सकता है पलटवार         BIG NEWS : भारत अड़ंगा ना डालें, गलवान घाटी चीन का इलाका        

एक साम्यवादी देश अब भी अकड़ के खड़ा है

Bhola Tiwari May 02, 2019, 10:44 AM IST टॉप न्यूज़
img


एस डी ओझा

साम्यवाद के कई किले ढहने के बाद आज क्यूबा जैसा छोटा सा देश साम्यवाद की पताका अब भी फहराए जा रहा है । क्यूबा लतिन अमेरिका का एक साम्यवादी देश है । कैरिबियन सागर का एक यह वह द्वीप है , जहां 28 नवम्बर 1492 को क्रिस्टोफर कोलम्बस ने अपने पांव धरे थे । उसने हीं क्यूबा को विश्व के मानचित्र पर उकेरा था । सबका क्यूबा से उसी ने परिचय कराया था । क्यूबा 16 वीं और 17 वीं शताब्दी तक स्पेन का उपनिवेश रहा है , फलतः स्पेनिश भाषा व संस्कृति का यहां के जन जीवन पर बड़ा हीं व्यापक प्रभाव पड़ा है । इस देश की राजधानी हवाना है , जो कि क्यूबा का सबसे बड़ा शहर है । यहां काल के थपेड़ों के मारे हुए लोग दूर दूर से आए। यहां एक रात बिताई और यहीं के होकर रह गये । 

फिदेल कास्त्रों ने 26 जुलाई 1953 को क्यूबा में एक क्रांति की शुरूआत की थी । यह क्रांति पूरे पांच साल तक चली थी । यह क्रांति 01 जुलाई 1959 को समाप्त हुई । क्यूबा के उस दौर के तानाशाह और अमेरिका के पिट्ठू फुलगेनसियो वतिस्ता को देश छोड़कर भागना पड़ा । संयुक्त राज्य अमेरिका ने फिदेल कास्त्रों को अपदस्थ करने के लिए कई बार कोशिश की , पर हर बार कास्त्रों चौकन्ने रहे । फिदेल कास्त्रों ने क्यूबा के लोगों के दिलों पर राज किया । वे जब तक सत्ता में रहे उन्होंने अपने शर्तों के मुताबिक हीं राज किया । कहीं भी समझौता नहीं किया । उन्होंने रुस की मिसाइलों को अमेरिका के खिलाफ क्यूबा में तैनात कर अमेरिका को उसकी औकात दिखा दी थी । अमेरिका कुछ न कर सका । जब उनकी पाचन तंत्रिका जवाब देने लगी तो उन्होंने अपने भाई राउल कास्त्रों को 

31 जुलाई 2006 को सत्ता हस्तांतरित कर दिया था । फिदेल कास्त्रों का निधन 25 नवम्बर 2016 को 90 वर्ष की आयु में हो गई थी ।

क्यूबा दुनियां का एकलौता देश है , जहां पर विगत 50 सालों में जंगल का क्षेत्र बहुत बढ़ा है । इसके लिए क्यूबा अनगिनत बधाई का पात्र है । क्यूबा के लोग प्रकृति में जीते हैं । वे प्रकृति को पनपने का मौका देते हैं । यहां के जंगल , जमीन ,पानी और हवा सब के सब क्यूबा वासियों के माफिक आते हैं ।

क्यूबा में प्रति 170 लोगों पर एक डाक्टर का प्राविधान किया गया है । ऐसा प्राविधान विश्व में कहीं भी नहीं है । क्यूबा के डाक्टरों ने इबोला वायरस पर काफी रिसर्च किया और इस पर नियंत्रण करके हीं दम लिया । दुनियां के 40 से अधिक देशों में क्यूबा के हजारों डाक्टर जन कल्याण हेतु भेजे गए हैं । जब पाक अधिकृत कश्मीर में भूकम्प 2005 में आया था तो फिदोल कास्त्रों ने बिन मांगे हीं अपने डाक्टर वहां राहत कार्य के लिए सबसे पहले भेजे थे ।

बेस बाॅल क्यूबा का लोकप्रिय खेल है । यहां 17- 28 साल के जवानों को सैन्य सेवा आवश्यक कर दी गयी है । यहां की साक्षरता दर 99% है , जो कि पूरे विश्व में कहीं नहीं है । क्यूबा के अप्रैल व नवम्बर का महीना हीं केवल शुष्क होता है । बाकी मई से अक्टूबर तक यहां बरसात रहती है । दिसम्बर से मार्च तक ठंड पड़ती है । आम तौर पर समुद्र का किनारा होने के कारण यहां की जलवायु समशीतोष्ण होती है । हवाना की शाम बड़े नाज नखरे वाली होती है । यहां की एक शाम गुजारने दूर दूर से लोग आते हैं ।

तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे ।

मैं एक शाम चुरा लूं , अगर बुरा न लगे ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links