ब्रेकिंग न्यूज़
..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....         इतिहास, शिक्षा, साहित्य और मीडिया..         जालसाजी : विधायक ममता देवी के नाम पर जालसाज व्यक्ति कर रहा था शराब माफिया की पैरवी         वार्ड पार्षदों ने नप अध्यक्ष के द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत उपायुक्त से की         पुलवामा हमले की बरसी पर इमोशनल हुआ बॉलीवुड, सितारों ने ऐसे दी शहीदों को श्रद्धांजलि         बड़ी खबर : प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड की सरकार गिरा देंगे : निशिकांत         क्या सरदार पटेल को नेहरू ने अपनी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाने से मना कर दिया था?एक पड़ताल         वैलेंटाइन गर्ल की याद !         राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर सुप्रीमकोर्ट सख्त, चुनाव आयोग और याचिकाकर्ता को दिये जरूरी निर्देश         राजनीतिक पार्टियों को सुप्रीम कोर्ट का.निर्देश : उम्मीदवारों का क्रिमिनल रेकॉर्ड जनता से साझा करें         सभ्य समाज के मुँह पर तमाचा है दिल्ली की "गार्गी काँलेज" और "लेडी श्रीराम काँलेज" जैसी घटनाएं         पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द         हिंदी पत्रकारिता में सॉफ्ट हिंदुत्व और संतों में लीन सम्पादक..         कांग्रेस में घमासान : प्रदेश कांग्रेस कमेटियों को अपनी दुकान बंद कर देना चाहिए : शर्मिष्ठा मुखर्जी          एलपीजी सिलेंडर में बड़ा इजाफा : बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 144.5 रुपए महंगा         बैल-भैंस की नींद बनाम घोड़े की हिनहिनाहट          'मुफ्तखोरी' बनाम कल्याणकारी राज्य        

जैश ए मुहम्मद का मौलाना मसूद अजहर

Bhola Tiwari May 02, 2019, 7:57 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

बात 11 फरवरी 1994 की है । मौलाना मसूद अजहर काजीकुण्ड से एक सभा करके आ रहा था । सुरक्षा एजेंसियों की उस पर नजर पड़ी । उन्हें वह कुछ डरा डरा सहमा सहमा सहमा सा नजर आया । उसे गिरफ्तार कर लिया गया । उसे कश्मीर के एक जेल में 39 कैदियों के साथ रखा गया । मौलाना मसूद अजहर उस समय हरकत उल अंसार संगठन में था । मौलाना को छुड़ाने के लिए हरकत उल अंसार के आतंकवादियों ने जमीन आसमान एक कर दिया । इन आतंकवादियों ने भारत घूमने आए छः विदेशियों को बंधक बना लिया । इनमें से एक नार्वे का , दो अमेरिकी , एक जर्मनी और दो ब्रिटेन के थे । इनमें से नार्वे के पर्यटक का गला काट कर हत्या कर दी गयी , एक अमेरिकी पर्यटक भाग निकला और चार का आज तक कुछ भी पता नहीं चला ।


इतना होने पर सुरक्षा एजेंसियाँ हरकत में आ गयीं । उनको पता नहीं था कि उन्होंने किसे पकड़ रखा है । मौलाना मसूद अजहर की जनम पत्री खोली गयी । सुरक्षा एजेंसियाँ भौचक्की रह गयीं । जिसे वे एक मामूली आतंकवादी समझ रही थीं , वही मौलाना मौसूद अजहर एक खूंखार आतंकी निकला । आनन फानन में उसे जम्मू के जेल में शिफ्ट किया गया । यहां भी मौलाना मसूद अजहर के साथियों ने प्रयास जारी रखा । आतंकवादियों में एक दिन भयंकर लड़ाई हुई । इस का फायदा उठाकर दुर्दांत आतंकवादी भागने लगे । सुरक्षाकर्मियों ने भी मोर्चा सम्भाल लिया । सुरक्षाकर्मियों के फायर में दुर्दांत आतंकवादी सज्जाद अफगानी मारा गया । वह हरकत उल अंसार का चीफ था । इस पूरे प्रकरण का मास्टर माइंड मौलाना मसूद अजहर था ।

अब हरकत उल अंसार को लगने लगा कि मौलाना मसूद अजहर का इनकाउंटर कर दिया जाएगा । इसलिए वे जल्द से जल्द उसे छुड़ाना चाह रहे थे । अपने कैद के 20 माह पूरे होने पर मौलाना मसूद अजहर ने एक चिठ्ठी मीडिया को भेजी थी - जब अल्लाह चाहेगा तब भारत के जेल से मेरी रिहाई हो जाएगी । अल्लाह ने अब तक नहीं चाहा था । 24 दिसम्बर 1999 को आई सी 814 हवाई जहाज का अपहरण कर लिया गया । ईंधन भरवाने के लिए उसे अमृतसर उतारना पड़ा । एस पी जी अमृतसर पहुंच चुकी थी । तय हुआ था कि ईंधन भरने के बहाने हवाई जहाज के टायरों की हवा निकाल दी जाएगी ।परिणामतः यह आगे की उड़ान नहीं भर पाएगा । पर हमारे नीति नियंताओं ने उस हवाई जहाज को जाने दिया । उस जहाज को लाहौर से दुबई और फिर कांधार ले जाया गया । मजबूर हो मौलाना मसूद अजहर को हमें छोड़ना पड़ा ।

कैद से छूटने के बाद साल 2000 में मौलाना मसूद अजहर ने एक अलग आतंकवादी संगठन खड़ा किया - जैश ए मुहम्मद । इस आतंकवादी संगठन ने अक्तूबर 2001 में जे एण्ड के विधान सभा पर आक्रमण किया ।38 लोग मारे गये । दिसम्बर 2001 में उसने पार्लियामेंट पर भी हमला करवाया । 8 लोग मारे गये । उसने पाकिस्तान में भी कई जगह धमाके करवाए । बाद में उसकी पाकिस्तान सरकार से एक अलिखित समझौता हुआ था । जिसमें दोनों को एक दूसरे के काम में अड़॔गा न डालने की बात कही गयी थी । 

25 दिसम्बर 2015 को हमारे प्रधानमंत्री श्री मोदी जी पाकिस्तान के नवाज शरीफ के पास बगैर किसी सूचना के पहुँच गये थे । यह बात मौलाना मसूद अजहर को बहुत बुरी लगी । उसके 7 दिन बाद ही उसने पठान कोट एयर बेस पर हमला कर दिया । उसने 2016 में उड़ी हमला किया । अब उसने 14 फरवरी 2019 को पुलवामा कांड कर दिया है । अभी और कितने कांड मौलाना मसूद अजहर के हाथ से होने हैं ? पता नहीं । हम कितने दिनों तक इस मौलाना मसूद को छोड़ने का दंश अभी और झेलते रहेंगे ।  हालांकि सुखद किरण जरूर दिखाई दी है। भारत के कूटनीतिक प्रयास से मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित कर दिया गया है ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links