ब्रेकिंग न्यूज़
BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस         BIG NEWS : ड्रैगन के खिलाफ एक्शन में भारत, कार्रवाई से चीन में भारी नुकसान की आहट         BIG NEWS : भारत की कृतिका पांडे को मिला राष्ट्रमंडल-20 लघुकथा सम्मान         वैसे ये स्लोगन लगा विज्ञापन है किनके लिए भैये..          BIG NEWS : चीन की चाल , LAC पर तैनात किये 20 हजार से ज्यादा सैनिक         BIG NEWS : सोपोर में आतंकियों की गोली का शिकार बना एक और मासूम         BIG NEWS : सोपोर में CRPF पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमला, 2 जवान शहीद, तीन घायल         BIG NEWS : इमरान ने फिर रागा कश्मीर का अलाप, डोमिसाइल पॉलिसी को लेकर UNSC से लगाई गुहार         BIG NEWS : यूरोपीय संघ, यूएन और वियतनाम के बाद अब ब्रिटेन ने भी लगाया पाकिस्तान एयरलाइंस पर बैन         BIG NEWS : 'ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब' को बैन करने वाला चीन टिक-टॉक बैन पर तिलमिलाया         देश की सीमाओं में ताका झांकी....!         दीपिका कुमारी और अतनु दास ने एक दूसरे को पहनाई वरमाला, अब होंगे सात फेरे         चलो रे डोली उठाओ कहार...पीया मिलन की रुत आई....         अध्यक्ष बदलने की सियासत         BIG NEWS : पांडे गिरोह ने रामगढ़ एसपी को दिखाया ठेंगा, मोबाइल क्रेशर कंपनी से मांगी रंगदारी         BIG NEWS : जानिए किस देश के प्रधानमंत्री का PM मोदी ने किया जिक्र, जिनपर लगा था 13000 रुपये का जुर्माना         80 करोड़ गरीबों को अब नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज : PM         BIG NEWS : अनंतनाग एनकाउंटर में 2 और आतंकी ढेर         ...प्रियंका, एक दिन बिना बाउंसर रह लें तो पता चले बालाओं की असुरक्षा...         चाइनीज एप सूची देख याद आया...          BYE-BYE CHINA : Tik Tok समेत 59 चाइनीज ऐप पर लगाया बैन         BREAKING NEWS : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल शाम 4 बजे राष्ट्र के नाम संदेश देंगे         BIG NEWS : UPA सरकार का फरमान, पुलिस अधिकारियों का अपमान और आतंकियों का सम्मान         BIG NEWS : सैयद अली शाह गिलानी पर ग्रहण, हुर्रियत कांफ्रेंस से इस्तीफे की घोषणा         BIG NEWS : फ्रांस से जुलाई अंत तक 6 राफेल लड़ाकू विमान पहुंचेंगे भारत, IAF की बढ़ेगी और ताकत         BIG NEWS : कराची स्टॉक एक्सचेंज पर आतंकी हमला, 9 लोगों की मौत          BIG NEWS : अनंतनाग एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकी मार गिराए, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : टेरर रिक्रूटमेंट समेत आतंकी गतिविधियों में हिजबुल आतंकी की माँ भी शामिल, गिरफ्तार         BIG NEWS : भारत चीन टेंशन के बीच जम्मू कश्मीर में तेल कंपनियों दो महीने की एलपीजी आपूर्ति करने के आदेश         BIG NEWS : अमित शाह का राहुल गांधी को चुनौती, कहा... “चर्चा करनी है तो आइए संसद में हो जाएं 1962 से आज तक दो-दो हाथ”         लद्दाख में भारत की भूमि पर आंख उठाकर देखने वालों को मिला है करारा जवाब : PM MODI         आर्चरी क्‍वीन दीपिका कुमारी और अतनु दास की शादी की रस्में शुरू         BIG NEWS : अब भारत ने LAC पर तैनात किया मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम         नेपाली नेता गुड़ खाएंगे और गुलगुले से परहेज करेंगे         

नेतागिरी चमकाने के लिए बेशर्म होना जरूरी....

Bhola Tiwari Jun 01, 2020, 3:32 PM IST टॉप न्यूज़
img


सिद्धार्थ सौरभ

नई दिल्ली : छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी... हम हिंदुस्तानी.. हम हिंदुस्तानी...। वाकई में गुजरे हुए कल की बातें पुरानी हो गई। एक बार फिर वीर सावरकर की जयंती पर देश में खूब हो हल्ला मचा..। मैं उस पचड़े में नहीं पड़ना चाहता किसने क्या कहा..। कौन किस खेमे को बिलॉन्ग करता है। मगर उन बातों की चर्चा अवश्य करूंगा जो देश के लिए ठीक नहीं है...।

इन दिनों देश का पॉलिटिक्स उस दोराहे पर खड़ा है जहां आमतौर पर नेतागिरी चमकाने के लिए आत्मसम्मान को गँवाने के बाद बेशर्म होना जरूरी है। देश की राजनीति में अहम रोल अदा करने वाले डॉ उदित राज साहब की बात कर लेते हैं। डॉ. उदित राज जब भाजपा में नेतागिरी करने आए थे, तब विनायक दामोदर राव सावरकर के प्रति उनके शब्दों में उद्गगार प्रकट होता था। समय पर ग़लत पटरी बदल देने के बाद सम्मानित नेता के प्रति अभिवृति परिवर्तन में क्षणांश भी देर नहीं लगी।



गौरतलब है कि कुछ ही दिनों पहले स्वतंत्रता सेनानी विनायक दामोदर सावरकर (Vinayak Savarkar) की आज जयंती थी। उन्हें वीर सावरकर (Veer Savarkar) के नाम से संबोधित किया जाता है। सावरकर क्रान्तिकारी, चिन्तक, लेखक, कवि, ओजस्वी वक्ता और दूरदर्शी राजनेता थे। उनका बचपन आर्थिक तंगी में बीता। सावरकर को लेकर देश के लोग दो वर्गों में विभाजित हैं।


कई लोग उन्हें देश भक्त मानते हैं तो कई लोगों में उनकी छवि इसके बिल्कुल विपरीत है। इतिहासकार और लेखक विक्रम संपथ (Vikram Sampath) की किताब 'सावरकर- इकोज़ फ्रॉम अ फॉरगॉटन पास्‍ट' (Savarkar Echoes from a Forgotten Past) में सावरकर के जीवन से जुड़ी कई ऐसी बातें सामने आती हैं जो अधिकतर लोगों को मालूम नहीं है।


सावरकर को लेकर हमेशा एक सवाल रहता है कि उन्होंने अंग्रेजों से माफी मांगी थी। इस पर लेखक विक्रम संपथ कहते हैं, ''सावरकर को लेकर ये बहुत बड़ा भ्रम फैलाया जाता है कि उन्होंने मर्सी पिटीशन फाइल कर माफी मांगी थी। ये कोई मर्सी पिटीशन नहीं थी ये सिर्फ एक पिटीशन थी। जिस तरह हर राजबंदी को एक वकील करके अपना केस फाइल करनी की छूट होती है, उसी तरह सारे राजबंदियों को पिटीशन देने की छूट दी गई थी। वे एक वकील थे उन्हें पता था कि जेल से छूटने के लिए कानून का किस तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। उनको 50 साल का आजीवन कारावास सुना दिया गया था तब वो 28 साल के थे।

उनके मुताबिक अगर वे जिंदा वहां से लौटते तो 78 साल के हो जाते। इसके बाद क्या होता उनका? न तो वो परिवार को आगे बढ़ा पाते और न ही देश की आजादी की लड़ाई में अपना योगदान दे पाते। उनकी मंशा थी कि किसी तरह जेल से छूटकर देश के लिए कुछ किया जाए। 1920 में उनके छोटे भाई नारायण ने महात्मा गांधी से बात की थी और कहा था कि आप पैरवी कीजिए कि कैसे भी ये छूट जाएं। गांधी जी ने खुद कहा था कि आप बोलो सावरकर को कि वो एक पिटीशन भेजें अंग्रेज सरकार को और मैं उनकी सिफारिश करूंगा। गांधी ने लिखा था कि सावरकर मेरे साथ ही शांति के रास्ते पर चलकर काम करेंगे तो इनको आप रिहा कर दीजिए। ऐसे में पिटीशन की एक लाइन लेकर उसे तोड़-मरोड़ कर पेश किया जाता है। यह तो सावरकर साहब की हकीकत थी मगर हमारे राजनेताओं की...।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links