ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : चीन का मोहरा बना पाकिस्तान, POK में अतिरिक्त पाकिस्तानी फोर्स तैनात         हुवावे बैन : चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग को बड़ा झटका         BIG NEWS : चीन की शह पर रात के अंधेरे में सरहद पर फौज तैनात कर रहा है पाकिस्तान         गोडसे की अस्थियां अपने मुक्ति को...         दिल्ली-एनसीआर में बार-बार क्यों कांप रही धरती...         इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना की वजह से निधन         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस         BIG NEWS : ड्रैगन के खिलाफ एक्शन में भारत, कार्रवाई से चीन में भारी नुकसान की आहट         BIG NEWS : भारत की कृतिका पांडे को मिला राष्ट्रमंडल-20 लघुकथा सम्मान         वैसे ये स्लोगन लगा विज्ञापन है किनके लिए भैये..          BIG NEWS : चीन की चाल , LAC पर तैनात किये 20 हजार से ज्यादा सैनिक         BIG NEWS : सोपोर में आतंकियों की गोली का शिकार बना एक और मासूम         BIG NEWS : सोपोर में CRPF पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमला, 2 जवान शहीद, तीन घायल         BIG NEWS : इमरान ने फिर रागा कश्मीर का अलाप, डोमिसाइल पॉलिसी को लेकर UNSC से लगाई गुहार         BIG NEWS : यूरोपीय संघ, यूएन और वियतनाम के बाद अब ब्रिटेन ने भी लगाया पाकिस्तान एयरलाइंस पर बैन         BIG NEWS : 'ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब' को बैन करने वाला चीन टिक-टॉक बैन पर तिलमिलाया        

जब पाक ने भारत संग रक्षा गुट बनाना चाहा...

Bhola Tiwari May 31, 2020, 7:26 AM IST टॉप न्यूज़
img


डॉ सुशील उपाध्याय

देहरादून  : एक दौर था, जब अपनी सुरक्षा को लेकर सहमे हुए पाकिस्तान ने भारत के साथ मिलकर संयुक्त रक्षा व्यवस्था बनाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन, तब भारत ने इस प्रस्ताव को टाल दिया था क्योंकि तत्कालीन सरकार सुरक्षा मामलों को लेकर कोई गुट बनाने के हक में नहीं थी। आज आश्चर्य हो सकता है, लेकिन तब पाकिस्तान अपनी सुरक्षा को लेकर चीन से डरा हुआ था और भारत का साथ चाहता था। आधी सदी में ही कितना कुछ बदल गया है। 

इस मुद्दे पर श्रीनाथ राघवन ने अपनी किताब 'वॉर एंड पीस इन मॉडर्न इंडिया' में लिखा, 'कुछ समय पहले ही भारत और चीन के सैनिकों की झड़प हुई थी। चीन के संभावित ख़तरे का मुकाबला करने के लिए सेनाध्यक्ष जनरल थिमैया चाहते थे कि भारत सरकार पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब ख़ाँ के भारत-पाकिस्तान के बीच संयुक्त रक्षा व्यवस्था बनाने के प्रस्ताव पर गंभीरता से विचार करे। लेकिन, पंडित नेहरू ने इसको इसलिए मानने से इनकार कर दिया था, क्योंकि इससे भारत की गुटनिरपेक्ष नीति प्रभावित होती। रक्षा मंत्री कृष्णा मेनन भी इस प्रस्ताव के पक्ष में नहीं थे। जब जनरल थिमैया राजनीतिक नेतृत्व को इसके लिए नहीं मना पाए तो उन्होंने अपना इस्तीफ़ा सरकार को भेज दिया।'

और इसके कुछ ही साल बाद भारत को चीन के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा। शायद चीन के खतरे को पाकिस्तान ज्यादा गंभीरता महसूस कर रहा था। पर आज का इतिहास कुछ और है वह पाकिस्तान जो एक वक्त में तीन से डरा हुआ था अब वह उसकी गोद में बैठा है और परोक्ष तौर पर चीनी उपनिवेश में परिवर्तित होता दिख रहा है।

आधे बरस का देश

अंग्रेजों ने 11 अगस्त, 1947 को बलोचिस्तान को आजाद किया था, लेकिन उसकी आजादी 27 मार्च 1948 तक ही कायम रही। एक देश बनने से पहले ही वहां पाकिस्तान की फौज घुस गई थी। वैसे ही, जैसे कि गिलगित,बाल्तिस्तान और कश्मीर में घुसी थी। मेरे में मन में एक ही सवाल है क्या तब पाकिस्तान इतना ताकतवार था कि अपने देश के दो हिस्सों पर फौजी कार्रवाई करके जमीन हथिया ले ? 

और हां, 1947 में पख्तून भी आजाद हुए थे, लेकिन उन्हें भी पाकिस्तान का हिस्सा बनना पड़ा। पख्तून भारत के साथ रहना चाहते थे लेकिन भारत का डर था भौगोलिक रूप से दूर पख्तूनिस्तान को भारत का हिस्सा बनाया जाएगा तो फिर हैदराबाद को भारत में मिलाने का काम और जटिल हो जाएगा

इतिहास अपने आप में बहुत उलझा हुआ है, काश हम ऐसे मुल्क में रह रहे होते जहां बलोच भी होते, पख्तून भी होते और कश्मीरियों में भाग निकलने की बेचैनी न होती! पर, ये हसीन सपना ही है। इस सवाल के जवाब में वरिष्ठ पत्रकार डॉ प्रभात ओझा ने लिखा, 'पाकिस्तान ताकतवार नहीं था। भारत में गांधी जी के शांतिपू्र्ण आंदोलन वाले नेता सरकार में थे। दूसरी ओर आजादी से पहले ही अलग देश की मांग करने वाले मुस्लिम लीग के लोग। यह सोच का अंतर था। हम संयुक्त राष्ट्र में जाकर और सीजफायर मानकर पीछे हट आये, वह कश्मीर के गिलगित और बाल्तिस्तान में बने रहे। अलग बात है कि अपने हक के लिए लड़ रहे बांग्लादेशियों का हमने समर्थन भी किया। आज क्या सम्भव है कि बलूचिस्तान की आजादी और पाक अधिकृत कश्मीर को हासिल करने की पहल कर सकें ?'

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links