ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : शेहला रशीद मामले में तू तू मैं मैं, शेहला के पिता ने कहा, “अगर मैं हिंसक व्यक्ति हूं, तो मेरे खिलाफ कई FIR दर्ज होनी चाहिए थी”         BIG NEWS : DDC चुनाव में लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए नागरिकों ने किया मतदान, कुल 48.62 फीसदी लोगों ने डाला वोट         BIG NEWS : सुरंग का पता लगाने के लिए पाकिस्तान में 200 मीटर अंदर घुसे भारतीय जवान, नगरोटा हमले में हुआ इस्तेमाल !         BIG NEWS : 25000 करोड़ के रोशनी घोटाले में फारूक अब्दुल्ला के भाई मुस्तफा का नाम भी शामिल, जांच जारी         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में फिर की गोलाबारी, एक बीएसएफ अधिकारी शहीद         किसान आंदोलन का मतलब         क्या किसान को समझने में असफल है वर्तमान सरकार          BIG NEWS : माता अन्नपूर्णा एक बार फिर अपने घर लौटकर आ रही हैं...         BIG NEWS : शेहला रशीद पर पिता ने लगाये गंभीर आरोप- कहा- एंटी नेशनल एक्टिविटिज़ में शामिल है शेहला         BIG NEWS : कोरोना काल में भी काशी की ऊर्जा, भक्ति, शक्ति में नहीं आया बदलाव : पीएम मोदी         BIG NEWS : कश्मीर में महबूबा मुफ्ती की सियासी ज़मीं कमजोर, अपनों ने छोड़ा साथ तो फिर अलापा अनुच्छेद 370 का राग         GOOD NEWS : रांची रेलवे स्टेशन पर 6 नाबालिग लड़कियों को कालकोठरी पहुंचने से बचाया         BIG NEWS : नए कृषि सुधारों से किसानों को कानूनी संरक्षण दिया गया, पुराने सिस्टम पर रोक कहां : पीएम मोदी         BIG NEWS : DDC चुनाव के बीच आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई तेज, कुपवाड़ा में हैंड ग्रेनेड और 3.5 लाख रुपये के साथ एक आतंकी सहयोगी गिरफ्तार         BIG NEWS : 30 नवंबर को साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, जानें कब और कहां दिखाई देगा         BIG NEWS : किसान आंदोलन को लेकर हाइप्रोफाइल मीटिंग, नड्डा के घर में शाह, राजनाथ और तोमर ने किया मंथन         BIG NEWS : विपक्षी दलों के दबाव के बाद पीएम इमरान खान ने दी सफाई, कहा- “मुझ पर सेना का कोई दबाव नहीं है”         “ जम्मू कश्मीर में DDC चुनाव को बाधित करने की लगातार कोशिश में हैं आतंकवादी” : सेना प्रमुख एमएम नरवणे         जम्मू में LOC के पास दिखा ड्रोन, BSF ने की कार्रवाई में फायरिंग         BIG NEWS : पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ में कहा, “नए कृषि कानून से दूर होगी किसानों की परेशानी”         BIG NEWS : सुकमा में IED ब्लॉस्ट असिस्टेंट कमांडेंट नितिन भालेराव शहीद, 10 जवान घायल         BIG NEWS : DDC चुनाव के पहले दिन बड़ी संख्या में नागरिकों ने किया मतदान, कुल 51.76 फीसदी लोगों ने डाला वोट         कोरोना वायरस: टीकाकरण के लिए देश में तैयारी जोरों पर         BIG NEWS : चाईबासा में नक्सलियों से एनकाउंटर के बाद पुलिस ने SLR समेत 169 जिंदा कारतूस किया बरामद         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान की जनता के आगे इमरान सरकार ने टेके घुटने, 9 साल बाद बाबा जान को किया रिहा         BIG NEWS : DDC चुनाव के पहले दिन का मतदान खत्म, 1 बजे तक 40 फीसदी लोगों ने डाला वोट         जम्मू-कश्मीर में जमीनी लोकतंत्र का आगाज, DDC चुनाव में स्थानीय नागरिकों ने बढ़चढ़कर लिया हिस्सा         BIG NEWS : जायडस की वैक्सीन का अपडेट लेने के बाद PM मोदी हैदराबाद के लिए हुए रवाना         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में DDC के 43 सीटों पर वोटिंग, पंच और सरपंच के उपचुनाव के लिए 1179 प्रत्याशी मैदान में         गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान         BIG NEWS : चारा घोटाला के मामले में लालू यादव की सुनवाई 11 दिसंबर तक टली         BIG NEWS : 28 नवंबर को DDC चुनाव के पहले चरण का मतदान, चुनाव के मद्देनजर घाटी में बढ़ाई गई सुरक्षा         BIG NEWS : सुरक्षा के कारण बस पुलवामा जाने से रोका गया, नजरबंद नहीं हैं महबूबा मुफ्ती : पुलिस         BIG NEWS : पाकिस्तान ने LOC पर लगातार दूसरे दिन की गोलाबारी, 2 जवान शहीद         BIG NEWS : बॉम्‍बे हाई कोर्ट कंगना रनौत को दिलाएगा मुआवजा, कहा- BMC ने गलत इरादे' से की एक्ट्रेस के मुंबई ऑफिस में तोड़फोड़         पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में की गोलाबारी, एक जवान शहीद         सड़ियल समाज की मरी संतानें         BIG NEWS : किसान आंदोलन के बहाने कांग्रेस का फर्जीवाड़ा, पुरानी तस्वीरें पोस्ट कर माहौल भड़काने की कोशिश         यहां शिवजी देते हैं जीवन का वरदान, मौत भी खाती है इनसे खौफ         BIG NEWS : फोन कंट्रोवर्सी के लपेटे में आए लालू, BJP नेता ने लालू यादव के खिलाफ दायर किया PIL         BIG NEWS : फोन कॉन्ट्रोवर्सी हुई तो 114 दिन से बंगले में रह रहे लालू यादव रिम्स वार्ड में लौटे         एक बड़ी साजिश जो नाकाम हो गई...         BIG NEWS : DDC चुनाव से पहले महबूबा मुफ्ती को बड़ा झटका, PDP के तीन और नेताओं ने एक साथ दिया इस्तीफा         BIG NEWS : पाकिस्तान एक बार फिर हुआ शर्मसार, शाह महमूद कुरैशी की कोशिश के बावजूद OIC में जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर नहीं होगी कोई चर्चा         BIG NEWS : श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, दो जवान शहीद         BIG NEWS : चाईबासा के टोंटो जंगल से 5 नर कंकाल          प्रेम में विरक्ति है शिव के भस्म प्रिय होने का कारण, जाने इसके पीछे की कथा         कोरोना पर गाइडलाइन : अब राज्य सरकार को लॉकडाउन लगाने के लिए केंद्र की लेनी होगी मंजूरी          BIG NEWS : लालू का कथित ऑडियो वायरल होते ही बिहार से लेकर रांची तक सियासी हलचल बढ़ी         BIG NEWS : कई दिनों से लापता 3 युवकों की मिली सिर कटी लाश, 6 हिरासत में         BIG NEWS : बिहार में हो हंगामा के बीच NDA के विजय सिन्हा बने स्पीकर         BIG NEWS : NIA ने निलंबित डीएसपी देवेंद्र सिंह केस में पीडीपी नेता वहीद पारा को किया गिरफ्तार         BIG NEWS : गिलगित-बल्तिस्तान चुनाव में इमरान सरकार और सेना पर लगे धांधली के आरोप, उग्र प्रदर्शनकारियों ने की आगजनी         BIG NEWS : कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन         युधिष्ठिर ने की थी लोधेश्वर महादेव की स्थापना         BIG NEWS : चीन के खिलाफ भारत सरकार की एक और डिजिटल स्ट्राइक, सरकार ने 43 ऐप पर लगाया बैन         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट के आदेश पर रोशनी जमीन घोटाले में शामिल लोगों की पहली सूची जारी, कई बड़े नेताओं के नाम          BIG NEWS : सांबा सेक्टर में सुरक्षाबलों ने आतंकी घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम, एक आतंकी ढेर         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में एससी-एसटी समुदाय को पहली बार मिला राजनीतिक आरक्षण, एसटी समुदाय ने गुपकार गठबंधन के खिलाफ जताई नाराजगी        

विस्तारवादी चीन हांगकांग पर फिर से शिकंजा कसने की तैयारी में, विरोध-प्रर्दशन शुरू

Bhola Tiwari May 23, 2020, 5:42 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

नई दिल्ली : बीजिंग में चल रही "नेशनल पीपल्स कांग्रेस" की बैठक के दौरान हांगकांग में कानून व्यवस्था सुधारने का एक मसौदा पेश किया गया।इस प्रस्ताव के मुताबिक चीन हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेशी प्रभाव के किसी भी मुद्दे के साथ बडी सख्ती से निपटेगा।चीनी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक "नेशनल पीपुल्स कांग्रेस" में मसौदा प्रस्ताव पेश करनेवाले स्टैंडिंग कमेटी के उपाध्यक्ष वांग चेन का कहना है कि हांगकांग में बढ़ते राष्ट्रीय सुरक्षा, संप्रभुता और विकास हितो को प्रभावित किया है।ऐसे में खतरों सै अधिक सख्त तरीके से निपटने की जरूरत है।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मौजूदगी में रखे गए इस प्रस्ताव में वांग चेन ने मुख्यतः छह सूत्र दिए हैं।इसके मुताबिक राष्ट्रीय सुरक्षा की सख्ती से हिफाजत, एक देश दो व्यवस्था के विधान को बनाए रखना और सुधारना, कानून के मुताबिक हांगकांग प्रशासन,बाहरी दखल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई, हांगकांग वासियों के वैध अधिकारों व हितों की रक्षा।

जैसे हीं ये खबर हांगकांग पहुँचीं हांगकांग डाँलर का भाव गिर गया और हांगकांग के निवासियों ने चीन के खिलाफ जबरदस्त प्रर्दशन किया।लोग चीन सरकार के मुख्य दफ्तर के बाहर इकट्ठा हो गए और विरोध प्रर्दशन शुरू कर दिया।हांगकांग प्रर्दशनकारियों का कहना है कि नया कानून "एक देश,दो व्यवस्था" के सिद्धांत की कमर तोड़ने वाला है।यह हांगकांग पर सीधे कानून थोपने की कोशिश है।


आपको बता दें चीन,हांगकांग पर अपना आधिपत्य जमाना चाहता है।हांगकांग ब्रिटेन का एक उपनिवेश था जिसे साल 1997 में चीन को स्वायत्तता की शर्त के साथ सौंपा गया था।"एक देश-दो व्यवस्था" की अवधारणा के साथ हांगकांग को अगले 50 साल के लिए अपनी स्वत्रंत्रता, सामाजिक पहचान, कानून और राजनीतिक व्यवस्था बनाए रखने की गारंटी दी गई थी।इसी के चलते हांगकांग में रहने वाले लोग खुद को चीन का हिस्सा नहीं मानते और खूलेआम सरकार की आलोचना करते हैं।हांगकांग की जनता सीधे तौर पर अपना नेता नहीं चुन सकती,जिस वजह से कैरी लैम जैसे चीनी समर्थक वहां की प्रशासक बन बैठी है।

गौरतलब है कि जब से ब्रिटेन ने हांगकांग को चीन को स्वायत्तता की शर्त के साथ सौंपा है तब से चीन हांगकांग में अपनी मनमर्जी चलाना चाहता है।चीन ने हांगकांग में साल 2003 में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू करने की नाकाम कोशिश की थी,जिसे वहां की जनता ने अपने दमदार विरोध-प्रर्दशन के कारण असफल कर दिया था।साल 2014 में ऐतिहासिक अंब्रेला आंदोलन हुआ,जिसमें चीन को मुँह की खानी पडी थी।साल 2015 में बहुत से किताब विक्रेता को जबरन गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया था, आरोप ये मढा गया कि ये सारे किताब विक्रेता चीन के खिलाफ लिखी किताब को बेचते हैं।हांगकांग के बुद्धिजीवियों ने इसका माकूल जवाब दिया था मगर ये आंदोलन उतना परवान न चढ़ सका जितना अन्य आंदोलनों ने सुर्खियां बटोरी थीं।

साल 2019 में हांगकांग प्रशासन ने विवादित प्रत्यर्पण बिल को पेश किया।दरअसल इस बिल की आवश्यकता इसलिए पडी कि चान टोंग-काई नाम के एक युवक ने अपनी गर्भवती प्रेमिका की हत्या ताइवान में कर दी और भागकर हांगकांग आ गया।हांगकांग और ताइवान के बीच प्रत्यर्पण संधि नहीं है।इस वजह से हांगकांग प्रशासन ने उस युवक को ताइवान भेजने से मना कर दिया।चीन समर्थित हांगकांग प्रशासन चाहता है कि एक ऐसा कानून बने,जिसमें चीन के उपनिवेश में कहीं कोई अपराध हो,अपराधी को चीन में सजा दी जाए।हांगकांग में इस विवादित कानून की खूब आलोचना हुई और प्रस्तावित कानून के आलोचकों का कहना है कि चीन में प्रत्यर्पण से कई लोगों को मनमाने ढंग से हिरासत में लिया जा सकेगा और उनपर अनुचित ढंग से मुकदमा दायर होगा।चीन इस कानून के माध्यम से अपने विरोधियों को गिरफ्तार कर अपने देश ले जाएगा और फिर उसका कोई पता नहीं चलेगा।

हांगकांग में प्रत्यर्पण कानून के विरोध में लाखों लोग सडकों पर उतर आए थे।प्रर्दशनकारियों के कडे विरोध के कारण अंतरराष्ट्रीय उडानों को रोकना पड़ा था।विभिन्न सड़कों को जाम कर हांगकांग की जनता ने चीनी समर्थक हांगकांग प्रशासन को पंगु बना दिया था, तब वहां की प्रशासक कैरी लैम ने घोषणा की थी कि विवादास्पद प्रत्यर्पण कानून को वापस लिया जा रहा है।

थोडे दिनों की शांति के बाद एक बार फिर चीन ने हांगकांग में एक विवादित कानून लाने का फैसला किया है।दरअसल चीन,हांगकांग पर अपनी पकड और मजबूत करना चाहता है ताकि वह वहां मनमानी कर सके।हांगकांग की कानून व्यवस्था पहले से हीं बेहद सुधरी है अब इस कानून को पास कर चीन हांगकांग को पूरी तरह अपनी गिरफ्त में करना चाहता है।अब ये देखने वाली बात होगी कि इस बार भी चीन, हांगकांग में हार का मुँह देखता है या अपने मंसूबे में कामयाब हो जाता है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links