ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बवाल में ये किसान हैं या दंगाई !          BIG NEWS : ट्रैक्टर रैली के बहाने दिल्ली में बवाल, दिल्ली के हालात पर गृह मंत्री अमित शाह ने रिपोर्ट तलब की         शर्मनाक : लाल किले पर दंगाइयों का कब्जा, दंगाइयों ने प्राचीर पर खालसा पंथ का झंडा लगाया         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर पुलिस के 4 बहादुर जवानों को मरणोपरांत शौर्य चक्र, आतंकियों से लड़ते हुए गंवाई थी जान         BIG NEWS : जम्मू के हरमनजोत सिंह को मिला राष्ट्रीय बाल पुरस्कार, महिला सुरक्षा से जुड़ा ऐप बनाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने भी की सराहना         गणतंत्र दिवस !         हम, भारत के लोग.....         .जब नेहरू से नजदीकी होने की भारी कीमत चुकानी पडी थी राजगोपालाचारी को         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर पुलिस को मिले सबसे ज्यादा गैलेंट्री अवार्ड, गणतंत्र दिवस के दिन राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित         BIG NEWS : पाकिस्तान को एक और बड़ा झटका, UN ने अपने कर्मचारियों से कहा पाकिस्तानी एयरलाइंस में ना करें सफर         BIG NEWS : योगी आदित्यनाथ ने LOC पर शहीद हुये निशांत की शहादत को किया नमन, परिजनों को 50 लाख और एक नौकरी देने का ऐलान         BIG NEWS : सिक्किम के नाकू ला में भारतीय जवानों ने चीन की घुसपैठ को किया नाकाम, 20 चीनी सैनिक घायल         BIGNEWS : “जस्टिस डिलेड बट डिलिवर्ड” फिल्म के निर्देशक ने कहा – “अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद जम्मू के दबे-कुचले लोगों को उनके अधिकार मिले”         BIG NEWS : आतंकी ठिकाना नष्ट, भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लालू से मिलने फिर रिम्स पहुंची राबड़ी और मीसा, दिल्ली या मुंबई शिफ्ट हो सकते हैं RJD सुप्रीमो         BIG NEWS : भारत ने भेजी वैक्सीन, ब्राजीली राष्ट्रपति ने संजीवनी ले जाते हनुमान जी की तस्वीर ट्वीट कर कहा धन्यवाद!         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 11 महीने बाद पहली फरवरी से खुलेंगे स्कूल         पीएम मोदी का बंगाल दौरा : पराक्रम दिवस के मौके पर बंगाल में नेताजी भवन जाएंगे प्रधानमंत्री; असम में 1.06 लाख लोगों को बांटेंगे जमीन का पट्टा         BIG NEWS : आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान, इमरान खान ने फिर लिया 416 हजार करोड़ रुपये का कर्ज         BIG NEWS : ममता बनर्जी के मंत्रिमंडल से एक और मंत्री ने दिया इस्तीफा         BIG NEWS : केंद्र सरकार और आंदोलनकारी किसानों के बीच वार्ता विफल, कृषि मंत्री बोले- जो प्रस्ताव दिया उससे बेहतर कुछ नहीं         भजन सम्राट नरेंद्र चंचल का निधन         BIG NEWS : किश्तवाड़ में पुलिस के जवानों पर ग्रेनेड हमला, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए 33 सदस्यीय बोर्ड गठित, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा होंगे चेयरमैन         BIG NEWS : UN में भारत ने उठाया ख़ैबर पख़्तूनख़्वा में मंदिर तोड़े जाने का मुद्दा, कहा - मूकदर्शक बनी रही पाकिस्तामन सरकार          और जिंदगी पर पर्दा गिर गया....         BIG NEWS : कृषि कानून स्थगन का प्रस्ताव किसानों ने किया खारिज, आज होगी 11वें दौर की वार्ता         BIG NEWS : लालू यादव की तबीयत बिगड़ी, फेफड़े में संक्रमण-निमोनिया         GOOD NEWS : भारत बायोटेक शुरू करेगा नाक से दी जाने वाली कोरोना वैक्सीन के ट्रायल्स         BIG NEWS : चीनी वैक्सीन ने काम नहीं किया तो पाकिस्तान को भी वैक्सीन भेजेगा भारत !          BIG NEWS : कोवीशील्ड का प्रोडक्शन पूरी तरह सेफ, सीरम की इमारत में दोबारा आग लगी, 5 मजदूरों के जले हुए शव मिले         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में फिर की गोलाबारी, एक जवान शहीद         BIG NEWS : कोरोना वैक्सीन बनाने वाले प्लांट में आग, पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट की लैब में भीषण आग लगी         BIG NEWS : शपथ लेते ही एक्शन में आए राष्ट्रपति, जलवायु परिवर्तन समझौते में फिर लेंगे हिस्सा         BIG NEWS : अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की टीम में एक और कश्मीरी महिला को मिली जगह, श्रीनगर निवासी समीरा को मिला अहम पद         BIG NEWS : चीन और पाकिस्तान के खतरे से निपटने के लिए भारतीय सेना का आधुनिकीकरण जरूरी – लेफ्टिनेंट जनरल सीपी मोहंती         BIG NEWS : अमेरिका को मिला 46वां राष्ट्रपति, जो बाइडेन और कमला हैरिस ने ली शपथ         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में रेटले पावर प्रोजेक्ट को मिली मंजूरी, युवाओं को मिलेंगे रोजगार के अवसर - उपराज्यपाल मनोज सिन्हा         BIG NEWS : गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी से कश्मीरी हिंदुओं के प्रतिनिधिमंडल ने की मुलाकात, 1990 में हुये नरसंहार की जांच कराने की मांग         BIG NEWS : किसानों से बातचीत में झुकी सरकार, केंद्र डेढ़ साल तक कृषि कानून लागू नहीं करने को तैयार, किसान इस प्रस्ताव का जवाब 22 जनवरी को देंगे         BIG NEWS : अखनूर सेक्टर में सुरक्षाबलों ने आतंकी घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम, 4 जवान घायल         BIG NEWS : त्याग और बलिदान की मिसाल सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह, जिन्होंने खालसा पंथ की रखी नींव         BIG NEWS : अनंतनाग में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बारामूला में कश्मीरी हिंदू कर्मचारियों के लिए 336 आवास बनाने की तैयारी शुरू, 7 सदस्यीय कमेटी का गठन         BIG NEWS : गुपकार गठबंधन में पड़ी फूट, सज्जाद लोन की पार्टी पीपुल्स कॉन्फ्रेंस गठबंधन से हुई अलग         BIG NEWS : चीन ने अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा के भीतर गांव बसा दिया         BIG NEWS : टीम इंडिया ने रचा इतिहास, भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराकर 2-1 से जीती सीरीज         BIG NEWS : एक कश्मीरी हिंदू ने 'विस्थापन दिवस' पर बयां किया दर्द, कहा - अपने घर कश्मीर लौटने की उम्मीद जगी है...         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में गणतंत्र दिवस पर आतंकी हमले की साजिश रच रहे हैं आतंकवादी – डीजीपी दिलबाग सिंह        

11 जनवरी से 31मार्च- 80 दिन 1920 घंटे..

Bhola Tiwari Apr 01, 2020, 11:21 AM IST टॉप न्यूज़
img


राजीव मित्तल

नई दिल्ली  : चलिए चीन से शुरुआत करें--वुहान में 17 नवम्बर को जब मछुआरिन वुई में नोवेल कोरोना वायरस पाए जाने का जब पहला मामला सामने आया तो चीन इस बीमारी से पूरी तरह अनजान था..रोगी बनते रहे, इलाज होता रहा बाद.. वहाँ हड़कम्प मचा 31 दिसम्बर को, जब एक साथ सैंकड़ों की तादाद में एक सी तकलीफ़ के साथ रैला अस्पताल पहुँचने लगा..

लेकिन आंख खुलते ही चीन जुट गया..वहां के वैज्ञानिकों और डॉक्टरों ने हफ़्ते भर की जाँच से 7 जनवरी को पता लगा लिया था कि कोरोना महामारी के एक नये वायरस ने अवतार लिया है..अगले दिन इसे नोवेल कोरोना वायरस का नाम मिला और फ़ौरन इसकी जेनेटिक सिक्वेन्सिंग और इसके इंसान से इंसान में संक्रमित होने की जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को दी गयी..

11 जनवरी को WHO ने इसे वैश्विक महामारी (pandemic) का दर्ज़ा और COVID-19 (Corona Virus Disease, 2019) का नाम दिया.. 18 जनवरी को भारत सरकार ने भी अपने हवाई अड्डों पर चीन से आने वालों की जाँच शुरू कर दी.. 30 जनवरी को केरल में पहला कोरोना पॉज़िटिव सामने आया..

लेकिन जिस फरवरी के महीने को पूरा का पूरा इस आपदा से निपटने में न्यौछावर करना चाहिए था, 29 दिन का वो फरवरी महीना इस बीमारी को न्योतने में लगा दिया गया..

यह पूरा महीना सियासी तिकड़मों, एनआरसी के विरोध और पक्ष में हो रहे आंदोलनों, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनकी बेटी-दामाद, बीवी की खातिरदारियों, आयोजनों, दावतों, फिर दिल्ली चुनाव, फिर दिल्ली दंगे, बजट, संसद, गोली मारो, शाहीनबाग़, मध्यप्रदेश की सौदेबाज़ी और असंख्य भाषणबाज़ी में निकल गया.. 

पूरे फरवरी भर लापरवाही बरतने के बाद 4 या 5 मार्च को पीएम साहब ऐलान करते हैं कि वो होली नहीं मनाएंगे..फिर राष्ट्रपति महोदय भी यही घोषणा करते हैं.. अगले दिन पीएम विदेश दौरे रद्द करते हैं.. यानी, 6 मार्च तक देश की हुकूमत कोरोना की भयावहता से पूरी तरह वाकिफ़ हो चुकी थी..अब यहीं रुका जाए..और सवाल खड़ा किया जाए कि 5 या 6 मार्च को ही सरकार ने इमरजेंसी डिक्लेयर क्यों नहीं की.. देश की जनता को 10 मार्च को होली क्यों खेलने दी गयी.. देश में लॉकडाउन की घोषणा के लिए 24 मार्च तक क्यों वेट किया गया. होली की छुट्टियों को एक उत्सव में क्यों बरबाद होने दिया गया..उन पांच दिनों में ही आपात कदम उठा लिए गए होते तो 24 के लॉकडाउन के बाद जिस बुरी हालत में देश के कोने कोने में प्रवासी मज़दूर अपने परिवार के साथ सड़कों पर आने को मजबूर हुए, कम से कम वो तो न होता..  

फिर 24 मार्च की रात 8 बजे की घोषणा कि चार घंटे बाद से तीन हफ़्ते के लिए लॉकडाउन किया जा रहा है, प्रवासी मजदूरों पर कहर बरपा गया..जहां जहां वो जिस भी हालत में अपना श्रम बेच कर खा कमा रहे थे, वहां वहां से उन्हें बेघर और बेरोजगार कर दिया गया..

22 मार्च का थाली-ताली वादन और शंखनाद एक प्रहसन बन कर रह गया, जब उस दिन सेंकड़ों जगहों पर सड़कों पर कोरोना की हाय हाय करते जुलूस निकले..यानी तमाशाबाजी में कोई कमी नहीं आयी..

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में तब्लीग़ी जमात का आयोजन भी धार्मिक तमाशों और शासन प्रशासन की लापरवाहियों का नायाब नमूना है, जिसे हमारे मीडियाई जाबांजों ने 31 मार्च को पूरी तरह साम्प्रदयिक रंग देने में कोई कोताही नहीं की.. इस आयोजन की शुरुआत मध्य मार्च में ही हो चुकी थी..ढाई आदमी एक जगह इकट्ठा हो चुका था लेकिन सरकारी एजेंसियाँ आंख पर पट्टी बांध कर किसी भीषण अनहोनी के घटने का इंतजार करती रहीं और हर तरफ होश की आंधी तब बही, जब कई तब्लीग़ी कोरोना से मर गए और ढाई हजार में से न जाने कितने तब्लीग़ी कोरोना के प्रसार के लिए निकल लिए...

शासकीय मज़ाक का एक बड़ा नमूना और देखिए.. बकौल कैबिनेट सेक्रेट्री राजीव गौबा, 18 जनवरी से 23 मार्च के दौरान विदेश से आने वाले 15 लाख लोगों को कोराना लाने का भरपूर मौक़ा दिया गया..यह बात खुद देश का सबसे बड़ा नौकरशाह राज्यों के मुख्यमंत्रियों को लिख कर कह रहा है..इस मज़ाक का सबसे बड़ा उदाहरण पेज-3 की कनिका कपूर हैं, जो यमराज का भैंसा साबित हुईं..

अब कोरोना से हट कर एक और बात..इस सप्ताह के आखिर तक भयावह समाचार मिलने शुरू हो जाएंगे..अर्थात इस लॉकडाउन से देश की सप्लाई चेन तितर बितर पड़ गयी है,म उसके चलते कितनी बड़ी तबाही उठने वाली है, उसकी कल्पना नहीं की जा सकती....... अगर मोदी जी 24 के अपने संबोधन में सिर्फ इतना सी बात कह देते कि लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने वाले वाहनों को नहीं रोका जाए तो एक बार फिर भी परिस्थितिया संभल सकती थी लेकिन अब .........!!!

देश के हाइवे देश की लाइफ लाइन होती है यह बात सभी को पता होती है सिवाए मोदी सरकार के.....

बिना पूर्व तैयारी और सोचे समझे घोषित किए गए लॉक डाउन को हाइवे पर पुलसिया डंडे के जोर से इम्प्लीमेंट किया गया ......लगभग सभी ट्रकों को जहां थे वही रोक दिया गया, हाइवे पर हर तरह की खाने पीने की दुकानें बंद करा दी गई..

लॉक डाउन ने भारत की चारों दिशाओं, राज्यों, शहरों, जिलों और गांवो तक दिन-रात खाने-पीने के जरूरी सामान से लेकर तमाम आवश्यक साजो-सामान की ढुलाई में जुटे ट्रांसपोर्ट उद्योग को खत्म सा कर दिया ..

देश में करीब 12.47 लाख से ज्यादा नेशनल परमिट वाले गुड्स ट्रक हैं, जो माल ढुलाई का काम करते हैं.. अब बता रहे हैं कि लगभग 4 से 5 लाख ट्रक ऐसे हैं, बीच रास्ते में फँसे हुए हैं........ लाखों की तादाद में ड्राइवर और हेल्पर डर के मारे रास्ते में ही ट्रक को लावारिस छोड़कर भागने को मजबूर हो गए है.. कई ट्रकों में करोड़ो का सामान, दवाएं, दवा बनाने वाला कच्चा माल, मेडिकल उपकरण, साबुन, मास्क बनाने का कच्चा माल, और जल्दी खराब होने वाली साग-सब्जियां और फल लदे है........

दूसरी सबसे बड़ी बात यह है कि ट्रांसपोर्ट कारोबार में आवश्यक वस्तुओं की ढुलाई की प्रक्रिया में जुटे लाखों ट्रकों में सामान लोड-अनलोड करने वाले कामगार भी भाग खड़े हुए हैं जिससे यह संकट और भयानक हो गया है.........

मोदी सरकार द्वारा करीब एक हफ्ते पुरानी ।मगलती को सुधारते हुए आवश्यक और अनावश्यक माल के लिए ट्रकों को आवाजाही में छूट दिये जाने के ऐलान के बावजूद तनाव और सुरक्षा कारणों से ज्यादातर ट्रक ड्राइवर, हेल्पर्स अभी भी सड़कों पर चलने या माल उठाने को तैयार नहीं हैं। .........

ऐसी परिस्थितियों में हर शहर के होलसेल व्यापारियों ने सभी वस्तुओ के दाम 5 से 10 रुपए तक बढ़ा दिए है अधिकतर दुकानों सेे आटा गायब हो चुका है........... देश की हालत इतनी खराब है कि मेट्रो कैश ऐंड कैरी ने देश भर में लॉकडाउन के कारण अपने 27 में से 8 स्टोरों को फिलहाल बंद कर दिया है..उसने कहा है कि आवश्यक वस्तुओं की इन्वेंट्री केवल 5 से 7 दिनों के लिए है ऐसी ही स्थिति दूसरे बड़े स्टोर्स की भी है........

इसके अलावा खेतों में गेहूं, जौ, चना, मसूर, सरसों आदि की रबी की फसलें पकने को तैयार खड़ी हैं, उनकी कटाई के क्या इंतजाम हैं !!!

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links