ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : ISI के लिए काम करते थे पाकिस्तानी जासूस, भारत ने देश से बाहर निकाला         BIG NEWS : झारखंड में खुलेगी सभी दुकानें और चलेंगे ऑटो रिक्शा         पाकिस्तान को सिखाया सबक, कई चौकियां तबाह, छह सैनिक घायल         भारतीय सेना ने घुसपैठ कर रहे 3 आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         नेतागिरी चमकाने के लिए बेशर्म होना जरूरी....         BIG NEWS : सिंह मैंशन व रघुकुल समर्थकों में भिड़ंत, लाठी-डंडे व तलवार से हमला, दो की हालत गंभीर          ग्रामीणों और बच्चों को ढाल बनाकर नक्सलियों ने पुलिस पर किया हमला, 2 जवान शहीद         BIG NEWS : जासूसी करते हुए पकड़े गए पाक हाई कमीशन के दो अधिकारी, दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया         POK के सभी टेरर कैंपों में भरे पड़े हैं आतंकवादी : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : बख्तरबंद वाहन में घुसे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने घेर कर मारा         BIG NEWS : अब 30 जून तक बंद रहेंगे झारखंड के स्कूल ं         BIG BRAKING : पुलिस को घेरकर नक्‍सलियों ने बरसाई गोली, डीएसपी का बॉडीगार्ड शहीद         सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच अनंतनाग में मुठभेड़, 2 से 3 आतंकी घिरे         सोपोर में लश्कर-ए-तैयबा के 3 OGWs गिरफ्तार, हथियार बरामद         ..कृषि के साथ न्याय हुआ होता तो मजदूरों की यह स्थिति नहीं होती         कालापानी' क्या है, जिसे लेकर भारत से नाराज़ हो गया है नेपाल !         BIG NEWS : आंख में आंख डाल कर बात करने वाली रक्षा प्रणाली तैनात         CORONA BURST : झारखंड में 1 दिन में 72 पॉजिटिव, हालात चिंताजनक         जब पाक ने भारत संग रक्षा गुट बनाना चाहा...         UNLOCK : तीन चरणों में खुलेगा लॉकडाउन, 8 जून से खुलेंगे मंदिर, रेस्टोरेंट, मॉल         BIG NEWS : दामोदर नदी पर पुल बना रही कंपनी के दो कर्मचारियों को लेवी के लिए टीपीसी ने किया अगवा         कुलगाम एनकाउंटर में हिज़्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : अमेरिकी ने WHO से तोड़ा रिश्ता; चीन पर लगाई पाबंदियां         TIT FOR TAT : आंखों में आंख डालकर खड़ी है भारतीय सेना         BINDASH EXCLUSIVE : गिलगित-बाल्टिस्तान में बौद्ध स्थलों को मिटाकर इस्लामिक रूप दे रहा है पाकिस्तान         अब पाकिस्तान में भी सही इतिहास पढ़ने की ललक जाग रही है....         BIG NEWS : लेह से 60 मजदूर रांची पहुंचे, एयरपोर्ट पर अभिभावक की भूमिका में नजर आए सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : CM हेमंत सोरेन का संकेत, सूबे में बढ़ सकता है लॉकडाउन !         कश्मीर जा रहा एलपीजी सिलेंडर से भरा ट्रक बना आग का गोला, चिंगारी के साथ बम की तरह निकलने लगी आवाजें         BIG NEWS : मशहूर ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती         नहीं रहे अजीत जोगी          BIG NRWS  : IED से भरी कार के मालिक की हुई शिनाख्त         SARMNAK : कोविड वार्ड में ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टर से रेप की कोशिश         BIG NEWS : चीन बोला, मध्यस्थता की कोई जरूरत नहीं, भारत और चीन भाई भाई        

हे राम-भरोसे ! हमसे उम्मीद मत रखना !

Bhola Tiwari Mar 31, 2020, 7:28 AM IST टॉप न्यूज़
img

नई दिल्ली : 130 करोड़ की आबादी में से ICMR के मुताबिक़, 25 मार्च की रात 8 बजे तक 24,254 लोगों की कोरोना जाँच हुई। इनमें से 581 पॉज़िटिव निकले थे। यानी हरेक 53,600 व्यक्ति पर एक! अर्थात् हर दस लाख (1 मिलियन) पर 18 लोगों की जाँच हुई है। जबकि दक्षिण कोरिया में यही दर 7000, इटली में 5300, ब्रिटेन में 1500, अमेरिका में 1300 व्यक्ति प्रति दस लाख की रही है। (देखें चार्ट, जहाँ भारत का बार ख़ाली दिख रहा है।)

खबर लिखे जाने तक कोरोना पॉज़िटिव की संख्या 830 हो चुकी थी। 26 और 27 मार्च के दरमियाँ संक्रमितों की संख्या में 249 अंक का उछाल आया।

ICMR का आख़िरी अपडेट है कि देश में कोरोना की जाँच के लिए अधिकतम 118 केन्द्र बनाये जा चुके हैं। इनकी सामूहिक क्षमता रोज़ाना 15,000 नमूनों की जाँच करने की है। दस-बीस निजी क्षेत्र वाले अस्पतालों में जाँच की सुविधा बढ़ाने की भी बात है।

भारत में पहले कोरोना पॉजिटिव का पता चला 30 जनवरी को। इसके बाद अब तक बीते 56 दिन। यानी, 56 दिनों में हुए कुल टेस्ट में से 830 पॉजिटिव निकले।

अभी ये संख्याएँ उतनी डरावनी नहीं हैं जितनी कि अमेरिका, स्पेन और इटली से आती ही जा रही हैं। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा और कोरोना टॉस्क फ़ोर्स के प्रभारी डॉ गिरधर ज्ञानी ने कुछ साफ़ शब्दों में तो कुछ इशारों में बताया है कि भारत अब उस स्टेज़-3 की दहलीज़ तक पहुँचने वाला है जहाँ से कोरोना का तांडव भयावह आँकड़े उगलने लगता है।

जैसे अमेरिका में एक दिन में 18,000 नये पॉज़िटिव मामलों का सामने आना, इटली में 969 लोगों की एक ही दिन में मौत। क़यास हैं कि एक-दो दिन में भारत से भी संक्रमितों की भारी संख्या सामने आने लगेगी। तब तक यदि हमारी रोज़ाना 20,000 नमूनों को जाँचने की क्षमता भी विकसित हो गयी तो भी हफ़्ते भर में ही ये काफ़ी कम साबित होने लगेगी। 

अब सवाल सिर्फ़ इतना ही कि 56 दिनों के बावजूद कोरोना से जूझने की हमारी क्षमता अफ़सोसनाक और दुर्भाग्यपूर्ण ही क्यों बनी हुई है? जबकि 18 जनवरी से 23 मार्च तक जो 15 लाख लोग विदेश से भारत आये हैं वो देश के कोने-कोने तक कोरोना को पहुँचा चुके हैं।


सरकार को दोष देना बेमानी है, क्योंकि भारत तो सदियों से स्वास्थ्य संसाधन में फ़िसड्डी रहा है। फिर चाहे मोदी राज की बात हो हो या इनके तमाम पूर्ववर्तियों की। हम तो बेहद पिछड़े हैं, ग़रीब देश हैं, भ्रष्ट और निकम्मे हैं, तो हमारे यहाँ कोरोना का स्कोर यदि करोड़ के पार पहुँच जाए तो भी क्या ताज़्ज़ुब करना, जब अजेय महाशक्तियाँ और सभ्य तथा सुविधा सम्पन्न देश ही कोरोना के आगे लेटे पड़े हो! यही वजह है राष्ट्रीय सम्बोधन में बता दिया गया था कि ‘जिनकी मौत आने वाले है, उसे बचाया नहीं जा सकता। जब वो बड़े-बड़े दमदार देश नहीं बचा सके अपने नागरिकों को तो हमसे उम्मीद मत रखना, हम तो ख़ुद ही राम भरोसे हैं!

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links