ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : ISI के लिए काम करते थे पाकिस्तानी जासूस, भारत ने देश से बाहर निकाला         BIG NEWS : झारखंड में खुलेगी सभी दुकानें और चलेंगे ऑटो रिक्शा         पाकिस्तान को सिखाया सबक, कई चौकियां तबाह, छह सैनिक घायल         भारतीय सेना ने घुसपैठ कर रहे 3 आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         नेतागिरी चमकाने के लिए बेशर्म होना जरूरी....         BIG NEWS : सिंह मैंशन व रघुकुल समर्थकों में भिड़ंत, लाठी-डंडे व तलवार से हमला, दो की हालत गंभीर          ग्रामीणों और बच्चों को ढाल बनाकर नक्सलियों ने पुलिस पर किया हमला, 2 जवान शहीद         BIG NEWS : जासूसी करते हुए पकड़े गए पाक हाई कमीशन के दो अधिकारी, दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया         POK के सभी टेरर कैंपों में भरे पड़े हैं आतंकवादी : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : बख्तरबंद वाहन में घुसे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने घेर कर मारा         BIG NEWS : अब 30 जून तक बंद रहेंगे झारखंड के स्कूल ं         BIG BRAKING : पुलिस को घेरकर नक्‍सलियों ने बरसाई गोली, डीएसपी का बॉडीगार्ड शहीद         सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच अनंतनाग में मुठभेड़, 2 से 3 आतंकी घिरे         सोपोर में लश्कर-ए-तैयबा के 3 OGWs गिरफ्तार, हथियार बरामद         ..कृषि के साथ न्याय हुआ होता तो मजदूरों की यह स्थिति नहीं होती         कालापानी' क्या है, जिसे लेकर भारत से नाराज़ हो गया है नेपाल !         BIG NEWS : आंख में आंख डाल कर बात करने वाली रक्षा प्रणाली तैनात         CORONA BURST : झारखंड में 1 दिन में 72 पॉजिटिव, हालात चिंताजनक         जब पाक ने भारत संग रक्षा गुट बनाना चाहा...         UNLOCK : तीन चरणों में खुलेगा लॉकडाउन, 8 जून से खुलेंगे मंदिर, रेस्टोरेंट, मॉल         BIG NEWS : दामोदर नदी पर पुल बना रही कंपनी के दो कर्मचारियों को लेवी के लिए टीपीसी ने किया अगवा         कुलगाम एनकाउंटर में हिज़्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : अमेरिकी ने WHO से तोड़ा रिश्ता; चीन पर लगाई पाबंदियां         TIT FOR TAT : आंखों में आंख डालकर खड़ी है भारतीय सेना         BINDASH EXCLUSIVE : गिलगित-बाल्टिस्तान में बौद्ध स्थलों को मिटाकर इस्लामिक रूप दे रहा है पाकिस्तान         अब पाकिस्तान में भी सही इतिहास पढ़ने की ललक जाग रही है....         BIG NEWS : लेह से 60 मजदूर रांची पहुंचे, एयरपोर्ट पर अभिभावक की भूमिका में नजर आए सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : CM हेमंत सोरेन का संकेत, सूबे में बढ़ सकता है लॉकडाउन !         कश्मीर जा रहा एलपीजी सिलेंडर से भरा ट्रक बना आग का गोला, चिंगारी के साथ बम की तरह निकलने लगी आवाजें         BIG NEWS : मशहूर ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती         नहीं रहे अजीत जोगी          BIG NRWS  : IED से भरी कार के मालिक की हुई शिनाख्त         SARMNAK : कोविड वार्ड में ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टर से रेप की कोशिश         BIG NEWS : चीन बोला, मध्यस्थता की कोई जरूरत नहीं, भारत और चीन भाई भाई        

चीन को खलनायक बनाकर अमेरिकीपरस्त प्रेस ने निकाली मीडिया की मैयत..

Bhola Tiwari Mar 30, 2020, 7:26 AM IST टॉप न्यूज़
img


राजीव मित्तल

नई दिल्ली : कोरोना महामारी से त्रस्त अमेरिका और उसके पिछलग्गू देशों ने अपनी नाकामी स्वीकारने के बजाय यह ढिंढोरा पीटना शुरू कर दिया है कि इस महामारी को चीन ने काफी दिन छुपा के रखा, जिसकी वजह से यह महामारी कंट्रोल से बाहर हो गयी..अमेरिकी परस्त मीडिया तो यहां तक प्रचार कर रहा है कि इस महामारी का वायरस दुनिया में फैलाया ही चीन ने है..

दुनिया का करीब 90 फीसदी मीडिया अमेरिका परस्त है..इतना विशाल मीडिया जब परस्त हो जाए तो उसके सामने गोयबल्स भी कुछ नहीं..मीडिया का यह खेल आज का नहीं.. 60 के दशक में चले शीतयुद्ध और उस दौरान क्यूबा की तानाशाही सत्ता को उखाड़ फेंकने के लिए फिदेल कास्त्रो को जिस तरह अमेरिका परस्त मीडिया ने विश्व के सामने राक्षस के रूप में पेश किया और सीआईए के संरक्षण में क्यूबा को लूट रहे बातिस्ता को देवपुरुष बताया तो क्या आश्चर्य कि चीन को दुनिया को बरबाद करने का साज़िशकार करार देने में अमेरिका और उसके यूरोपीय चमचे देश पूरी तरह पिल पड़ें हों..

31 दिसंबर आते-आते चीन का वुहान शहर कोरोना की चपेट में आ गया था..वहां मौतों का सिलसिला शुरू हो गया..11 जनवरी को WHO ने बाक़ायदा दुनिया को कोरोना के प्रति खबरदार भी किया.. लेकिन अमेरिका और यूरोप की ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस, इटली और स्पेन जैसी महाशक्तियाँ अपने साधनों और तकनीकी ताकत के नशे में इस कदर डूबी रहीं कि जनवरी के आख़िर में इटली के मिलान शहर में हुए फुटबॉल मैच का एक बड़ा आयोजन उनके लिए प्रलय ले कर आया.. हुआ यूँ कि ऐन वक़्त पर मैच को छोटे मैदान से बड़े स्टेडियम में इसलिए शिफ्ट किया गया क्योंकि वहाँ ज़्यादा दर्शक बैठ सकते थे.. दर्शकों में बड़ी संख्या में विदेशी भी थे.. मैच के बाद सारे दर्शक मेट्रो में उमड़ पड़े .. फिर क्या था, मेट्रो ट्रेनें देखते ही देखते यमदूतों का वाहक बन गयीं, क्योंकि इनमें ही कोरोना से संक्रमित दर्शक भी थे..

अगले आठ-दस दिनों में यही हज़ारों फुटबॉल प्रेमी अपने-अपने इलाकों और देश में कोरोनो को पहुँचाने वाले केरियर बन गये, नतीज़तन, बेहतरीन मेडिकल सुविधाओं वाले देश, दुनिया में सबसे विकराल कफ़न वाले देश बनते चले गये..

ब्रिटेन में तो प्रधानमंत्री और प्रिंस चार्ल्स तक कोरोना से जूझ रहे हैं..कोरोना ने स्पेन की राजकुमारी मारिया टेरेसा की बलि ले ली..जर्मनी के एक प्रान्त के अवसाद ग्रस्त वित्तमंत्री ने ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या कर ली.. अभी यूरोप का कोना-कोना केरोना की जद में है.. अमेरिका का हाल भी कम खराब नहीं है.. उसकी सारी हेकड़ी औंधे मुँह गिरी पड़ी है.. 

राष्ट्रपति ट्रम्प को इसी साल होने वाले अपने अगले चुनाव की चिन्ता खाये जा रही है, इसीलिए उल्टे-सीधे कदम उठाए जा रहे हैं. चीन को गरियाकर उसे खलनायक बनाया जा रहा है कि उसने समय पर इस वैश्विक महामारी से दुनिया को सावधान नहीं किया. जबकि अमेरिकी सरजमीं पर बैठे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन से आयी अधिकारिक जानकारियों के आधार पर ही 11 जनवरी को सारी दुनिया को चेता दिया था..इसी दिन ट्रम्प ने अपनी भारत यात्रा के कार्यक्रम का ऐलान किया था..नशे में झूम रहे दुनिया के सबसे बड़े चौधरी की कान पर जूं तक नहीं रेंगी.. जबकि पड़ोसी कनाडा और एशियाई देश, दक्षिण कोरिया ने कोरोना से बचाव के संसाधन जुटाने में एड़ी-चोटी एक कर दी..

और मजेदार बात सुनिए कि मीडिया और सोशल मीडिया बेसिरपैर की उड़ाने में यहां तक पहुंच जाता है कि उसने सारी दुनिया को इस भ्रामक जानकारी से पाट दिया कि चीन ने ही कोरोना का वायरस तैयार करके पहले तो अपने वुहान शहर के साढ़े तीन हज़ार नागरिकों को मरवा दिया और फिर सारी दुनिया में ऐसी महामारी फैला दी कि विश्व अर्थव्यवस्था और अमेरिकी वर्चस्व नष्ट हो जाये और दुनिया की चौधराहट चीन के हाथों में आ जाये..जबकि इन हवाबाजों को ये बुनियादी तथ्य ही नहीं पता हैं कि जैविक हथियार तो बनाये जा सकते हैं लेकिन अभी तक मनुष्य किसी भी बॉयोलॉजिकल क्रिएचर को तैयार नहीं कर सका है.. किसी देश के पास किसी नये वायरस को जन्म देने की क्षमता नहीं है..

दूसरी ओर सारी दुनिया जानती है कि कोरोना एक वायरस परिवार का नाम है.. इस परिवार के करीब दो सौ वायरसों से वैज्ञानिक परिचित हैं.. इबोला, सार्स, मर्स वग़ैरह कुछ ऐसे वायरस हैं जो COVID-19 के पूर्वज हैं और इससे कहीं ज़्यादा घातक साबित हुए हैं.. ग़नीमत है कि COVID-19 इंसानों के सम्पर्क से फैलता है, वर्ना कल्पना करके देखिए कि यदि ये चेचक के वायरसों की तरह हवा से हवा में फैलता होता तो कितना सितम ढाता!! 

इसीलिए जब ट्रम्प की हवा ख़राब होने लगी तो चाइनीज़ प्रीमियर ने उन्हें फ़ोन करके समझाया कि ये वक़्त आपसी सहयोग से वैश्विक संकट का सामना करने का है, एक-दूसरे के अनुभव से लाभ लेने का है, न कि किसी के सिर पर ठीकरा फोड़ने का..लिहाज़ा, गाली-गलौज बन्द करो और इंसानों को बचाने पर पूरी ताकत झोंक दो..तब जा कर ट्रम्प को होश आया और उसने तीन खरब डॉलर के पैकेज़ का ऐलान किया..

ट्रम्प और अमेरिकियों का नशा उतरने की एक बड़ी वजह यही रही.. पहले तो वो समझते थे कि समस्या सिर्फ़ वुहान और चीन की है, लेकिन आफ़त उनके गले में भी तब आ पड़ी, जब न्यूयार्क में भी लाशों का अम्बार लगने लगा..उनके होश ठिकाने आये भी तभी..

यूरोप के देश और अमेरिका अपने अहंकार, अपनी लापरवाही और अपनी आदतों और ट्रम्प और जॉनसन जैसे मूर्ख राष्ट्र प्रमुखों की सरपरस्ती के चलते इस महामारी के चंगुल में ना सिर्फ़ फंस गये बल्कि धंसते ही जा रहे हैं..

(BITV के समय के मित्र मुकेश कुमार सिंह के साथ हुई बातचीत के आधार पर..)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links