ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : ISI के लिए काम करते थे पाकिस्तानी जासूस, भारत ने देश से बाहर निकाला         BIG NEWS : झारखंड में खुलेगी सभी दुकानें और चलेंगे ऑटो रिक्शा         पाकिस्तान को सिखाया सबक, कई चौकियां तबाह, छह सैनिक घायल         भारतीय सेना ने घुसपैठ कर रहे 3 आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         नेतागिरी चमकाने के लिए बेशर्म होना जरूरी....         BIG NEWS : सिंह मैंशन व रघुकुल समर्थकों में भिड़ंत, लाठी-डंडे व तलवार से हमला, दो की हालत गंभीर          ग्रामीणों और बच्चों को ढाल बनाकर नक्सलियों ने पुलिस पर किया हमला, 2 जवान शहीद         BIG NEWS : जासूसी करते हुए पकड़े गए पाक हाई कमीशन के दो अधिकारी, दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया         POK के सभी टेरर कैंपों में भरे पड़े हैं आतंकवादी : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : बख्तरबंद वाहन में घुसे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने घेर कर मारा         BIG NEWS : अब 30 जून तक बंद रहेंगे झारखंड के स्कूल ं         BIG BRAKING : पुलिस को घेरकर नक्‍सलियों ने बरसाई गोली, डीएसपी का बॉडीगार्ड शहीद         सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच अनंतनाग में मुठभेड़, 2 से 3 आतंकी घिरे         सोपोर में लश्कर-ए-तैयबा के 3 OGWs गिरफ्तार, हथियार बरामद         ..कृषि के साथ न्याय हुआ होता तो मजदूरों की यह स्थिति नहीं होती         कालापानी' क्या है, जिसे लेकर भारत से नाराज़ हो गया है नेपाल !         BIG NEWS : आंख में आंख डाल कर बात करने वाली रक्षा प्रणाली तैनात         CORONA BURST : झारखंड में 1 दिन में 72 पॉजिटिव, हालात चिंताजनक         जब पाक ने भारत संग रक्षा गुट बनाना चाहा...         UNLOCK : तीन चरणों में खुलेगा लॉकडाउन, 8 जून से खुलेंगे मंदिर, रेस्टोरेंट, मॉल         BIG NEWS : दामोदर नदी पर पुल बना रही कंपनी के दो कर्मचारियों को लेवी के लिए टीपीसी ने किया अगवा         कुलगाम एनकाउंटर में हिज़्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : अमेरिकी ने WHO से तोड़ा रिश्ता; चीन पर लगाई पाबंदियां         TIT FOR TAT : आंखों में आंख डालकर खड़ी है भारतीय सेना         BINDASH EXCLUSIVE : गिलगित-बाल्टिस्तान में बौद्ध स्थलों को मिटाकर इस्लामिक रूप दे रहा है पाकिस्तान         अब पाकिस्तान में भी सही इतिहास पढ़ने की ललक जाग रही है....         BIG NEWS : लेह से 60 मजदूर रांची पहुंचे, एयरपोर्ट पर अभिभावक की भूमिका में नजर आए सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : CM हेमंत सोरेन का संकेत, सूबे में बढ़ सकता है लॉकडाउन !         कश्मीर जा रहा एलपीजी सिलेंडर से भरा ट्रक बना आग का गोला, चिंगारी के साथ बम की तरह निकलने लगी आवाजें         BIG NEWS : मशहूर ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती         नहीं रहे अजीत जोगी          BIG NRWS  : IED से भरी कार के मालिक की हुई शिनाख्त         SARMNAK : कोविड वार्ड में ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टर से रेप की कोशिश         BIG NEWS : चीन बोला, मध्यस्थता की कोई जरूरत नहीं, भारत और चीन भाई भाई        

लॉकडाउन... मौत की राह में पलायन की अंतहीन पीड़ा

Bhola Tiwari Mar 29, 2020, 9:09 AM IST टॉप न्यूज़
img


निशिकांत ठाकुर 

नई दिल्ली : बिहार साधन संपन्न होते हुए भी आज देश का सबसे पिछड़ा राज्य है , क्योंकि राज्य के विकास की जिस पर जिम्मदरी होती है ऐसा किसी राजनीतिज्ञ ने चाहा ही नहीं की इस राज्य का विकास हो। एक पूर्व मुख्यमंत्री कहते थे यदि विकास होगा तो तुम्हारी जमा संपत्ति को डाकू उठा ले जाएंगे । एक मुख्य मंत्री से बात करे तो वह सदैव रोना शुरु कर देते हैं कि हमारा राज्य तो गरीब है जब की स्वयं वह पंद्रह वर्षों से राज्य की कुर्सी पर किसी और को फटकने नहीं दे रहे हैं । पंद्रह वर्षों में राज्य का विकास तो हुआ नहीं , लेकिन हां, अपने विरोधियों को साफ करते हुए अपना सिक्का जमा कुर्सी पर काबिज बने हुए हैं । आख़िर क्यों नहीं हुआ बिहार का विकास और वहां के नागरिक देश के हर कोने में जाकर अपनी रोजी रोटी के लिए जलील और अपमानित होकर जीवन यापन के लिए कार्य कर रहे हैं । देश का सबसे बुद्धिमान और मानसिक रूप से उर्वरक व्यक्ति वहीं होते हैं , लेकिन आज सरकारी उपेक्षा के कारण देश के सर्वाधिक अपमानित वहीं के लोग माने जाते है। धिक्कार है ऐसे राजनेताओं को जो सत्ता को यैन कैन प्रकरेन्न हथिया तो लेते हैं और फिर अपने सारे खानदान का उद्धार करके राज्य की जनता को अपमानित और जलील होने के लिए भगवान भरोसे छोड़ देते हैं ।


दूरदर्शिता की कमी के कारण जो अचानक लॉक डाउन देश को करना पड़ा है उसके कारण आज देश के अंदर क्या स्थिति हो गई है यह कहने की आवश्यकता नहीं है । हां, लेकिन यदि अभी राजनीतिज्ञों से बात करें तो वह यही कहेंगे कि देश को अभी इसकी जरूरत थी और बहुत ही उपयुक्त समय पर लॉक डाउन करने का फैसला लिया गया । क्या इस बारे में दिहाड़ी मजदूरों की बात सोची नहीं गई जिनका गुजरा ही तब चलता था जब वह दिन भर कमाई करके लौटते थे और शाम में राशन खरीदकर अपने परिवार का भरण पोषण करते थे । आज उनकी क्या स्थिति है यह भी सभी जानते है । प्रधान मंत्री कहते है की दो दिन पहले आपसे कहा था कि हमें कुछ सप्ताह चाहिए, लेकिन तीन दिन बाद ही रेल , रोड और हवाई यात्रा को भी लॉक डाउन करना पड़ा । आज जो परिवार अपने सर पर गट्ठर उठाए और अपने बच्चों को गोद में लेकर हजारों मील की यात्रा पर निकल गए है क्या वह अपना सफर जीवित होते पूरा कर पाएंगे ? कोई यह कहता है कि ऐसा सोचा ही नहीं गया तो इससे बड़ी अदूदर्शिता सरकार के लिए हो है नहीं सकती । आज जहां भी नजर जाती है ऐसे लोगों की लंबी लाइन जा रही होती है जो उत्तर प्रदेश अथवा बिहार की अंतहीन यात्रा पर भूखे प्यासे निकल पड़े हैं ।  


अब भी समय है वह इन भूखे प्यासे यात्रियों को जहां तक हो सके उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाए । उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग ही इनमें अधिक है जो दिल्ली, नोएडा, फरीदाबाद ,गाज़ियाबाद , गुरुग्राम में अपने रोज़गार की तलाश में आए थे और दिहाड़ी मजदूर के रूप में रोज़ अपना घर परिवार का भरण पोषण करते थे । दिल्ली एन सी आर में उद्योग के बंद होने के बाद अब वे लोग कहां रहते लिहाज़ा उन्हें लौटना पड़ा और अब जान जोखिम में डालकर भूखे प्यासे अपने गाव वापस लौट रहे हैं । अब ऐसे यात्रियों के साथ जो और परेशानी आने वाली है वह यह कि यह जब अपने घर पहुंचेंगे तो उन्हें गाव के बाहर ही रोक दिया जा रहा है । अब ऐसे लोग कहां जाएंगे ना उन्हें आगे अपने घर जाने दिया जा रहा है और ना ऐसे लोगों के पीछे कोई खड़ा है जो उन्हें सहारा दे सके । सरकार को निश्चित रूप से इस समस्या पर भी पहले विचार करना चाहिए , लेकिन ऐसा नहीं किया और आज हजारों नहीं लाखों गरीबों की जिंदगी दाव पर लग गई है । इन परेशानियों को कैसे सुलझाया जाय यह एक बड़ा गंभीर मुद्दा बनकर सामने आया है । 

करोना वायरस एक महामारी है जो किसी पीड़ित के संपर्क में आने की वजह से फैल रहा है। चीन को इस महामारी का जनक कहा जा रहा है और कहा तो यहां तक जा रहा है कि उसने किसी जैविक हथियार का परीक्षण किया है जो गलती से पूरे विश्व में फ़ैल गया है । साथ ही सच तो यह भी है कि अभी तक इसकी रोक थाम के लिए जिस दावा की आवश्यकता है उसे डॉक्टर खोज नहीं पा रहे है । देखना या है दावा की खोज जब तक होगी तब तक कितने लोग इस महामारी के ग्रास बन सके होने और हो परिवार भूखे प्यासे अपना ठिकाने को खोजने निकले हैं ऐसे कितने लोग काल के गाल में समा जाते हैं । बिहार के लोग यदि इस बार संभल गए तो शायद आगे उन्हें याद रहेगा कि वह किसे अपना नेता चुने जो अपने राज्य में कुछ उद्योग लगाकर उनके रोज़गार का ठिकाना बना दे । यदि यह अक्ल उन्हें अा गई तो एक यह कुर्बानी भी उन्हें स्वीकार कर लेना चाहिए ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links