ब्रेकिंग न्यूज़
पाकिस्तान में कोरोना : राशन सिर्फ मुसलमानों के लिए है, हिंदूओं को नहीं मिलेगा         चीन को खलनायक बनाकर अमेरिकीपरस्त प्रेस ने निकाली मीडिया की मैयत..         विएतनाम पर बीबीसी की रिपोर्ट : किस पर भरोसा करें!         पाकिस्तान में कोरोना : मास्क और ग्लव्स की जगह पॉलिथीन पहनकर इलाज कर रहे हैं डॉक्टर         राजकुमारी मारिया टेरेसा की कोरोना से मौत         टाटा ग्रुप ने 1500 करोड़,.अक्षय कुमार ने 25 करोड़ सहायता राशि का किया ऐलान, किन-किन हस्तियों ने दिया कितना दान         लॉकडाउन... मौत की राह में पलायन की अंतहीन पीड़ा         कोरोना को ‘इन्फोडेमिक’ बनाने से बचना होगा         कैराना बनता जा रहा है कोरोना          कोरोना से निपटने में PM मोदी ने की दान की अपील, भारी ट्रैफिक से वेबसाइट क्रैश         कोरोना : भारतीय रेल का अनोखा प्रयोग, ट्रेन की बोगियों को बनाया आइसोलेशन वार्ड         “मेड इन चाइना”: चीन के कोरोना टेस्ट किट ने स्पेन को दिया धोखा, सही जानकारी नहीं दे रहा है किट         बुजुर्गों को मौत परोसती पीढियां         पाकिस्तानी आर्मी कोरोना संक्रमित मरीजों को जबरन भेज रही पीओके और गिलगिट- बल्तिस्तान         कोरोना इफेक्ट : सस्ते लोन-EMI पर तीन महीने की छूट : RBI          कोरोना कोलाहल : डीसी आदेश के सामने नृत्य करते सत्ता के पैबंद          बनारस के कोइरीपुर में घास खा रहे मुसहर         चलो कुदरत की ओर...         अब, वतन लौट जाऊंगा...         मक्खियों के जरिए भी फैल सकता है कोरोना वायरसः मेडिकल मैगजीन "द लैंसट"         मोहल्ला क्लीनिक में कोरोना : सऊदी से लौटी तबरेज की बहन से डॉक्टर, उनकी पत्नी और बेटी को कोरोना संक्रमण         केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान : 3 महीने तक 5 किलो राशन, 1 किलो दाल और रसोई गैस सिलिंडर फ्री         कोरोना पर साजिश ! चीन को कटघरे में खड़ा करने के लिए खड़े हैं कई सवाल         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          कोरोना : मोदी सरकार 80 करोड़ लोगों को देगी ₹2 और ₹3 प्रति किलो गेहूँ-चावल         अंधविश्वास का वायरस..         मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ हुए क्वारंटाइन         "ग्लैमरस गर्ल आँफ पार्लियामेंट" कहा जाता था अद्वितीय सुंदरी तारकेश्वरी सिन्हा को         लॉकडाउन में मेडिकल स्टोर, राशन दुकान, पेट्रोल पंप, एलपीजी, एटीएम खुले रहेंगे         सभी सरकारी व प्राइवेट कंपनियों से कर्मचारियों की नौकरी बहाल रखने और वेतन नहीं घटाने के निर्देश         खुद को बचाने के लिए सूर्य मंदिर ने बदल ली थी दिशा         सभ्यता पर भारी, वामपंथी तानाशाही          "कोरोना वायरस" से भी खतरनाक था 1918 में फैला "स्पेनिश फ्लू",पाँच करोड लोग काल के गाल में समाए थे         21 दिन तक पूरा भारत बंद         आर्थिक इमरजेंसी लागू कर सकते हैं प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी !         कोरोना वायरस का साइड इफेक्ट : राज्य सभा चुनाव स्थगित         नदी जो कभी बहती थी : नमामि गंगे की हो चुकी है अकाल मौत         दिल्ली पुलिस की बड़ी कार्रवाई : शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को हटाया         शर्म मगर आती नहीं...         कोरोना वायरस और इम्युनिटी         स्थिति एक, एटीच्यूड दो          बड़ी खबर : सुरक्षाबलों ने आतंकी मॉड्यूल का किया खुलासा, हथियारों का जखीरा बरामद         पटना के मस्जिद में 12 विदेशी मुसलमान : घूम-घूम शहर में कर रहे थे इस्लाम का प्रचार        

जाबालि ऋषि...

Bhola Tiwari Mar 26, 2020, 8:09 AM IST कॉलमलिस्ट
img

एसडी ओझा

नई दिल्ली : वह दासी पुत्र था । नाम उसका था सत्यकाम । उसे विद्या अध्ययन करने की उत्कट इच्छा थी । एक दिन वह बालक गौतम ऋषि के आश्रम पहुँचा । गौतम ऋषि ने उसके पिता का नाम और गोत्र पूछा था । बालक को पिता का नाम मालूम नहीं था । उसकी माँ बहुत घरों में काम करती थी । उस दौर में वह कई पुरुषों के सम्पर्क में रही । इनमें से कौन सत्यकाम का बाप था , उसकी माँ को पता नहीं था । हाँ , माँ का नाम जबाला था । उसने गौतम ऋषि को माँ का नाम बता दिया । गौतम ऋषि उसकी इस साफगोई से काफी प्रसन्न हुए थे । उन्होंने कहा था कि सत्य बोलने वाला हमेशा ब्राह्मण होता है। आज से तुम ब्राह्मण हुए । 

सत्यकाम को उसकी माँ के नाम से जाना जाने लगा। लोग उसे सत्यकाम जबाला कहने लगे । उसे गौतम ऋषि ने कुछ गायें देकर कहा था - इन्हें वन में चराने ले जाओ । जब ये एक सहस्त्र हो जाएँ तब लेके आना । सत्यकाम जबाला वन गमन कर गया । वह गायों की खूब सेवा करने लगा । गायों की संख्या बढ़ती गयी । जब उनकी संख्या एक सहस्त्र हो गयी तब सत्यकाम लौटा । गौतम ऋषि बहुत प्रसन्न हुए । उन्होंने सत्यकाम को विद्या दान देना स्वीकार कर लिया । सत्यकाम विद्या के सभी विधाओं में पारंगत हुआ । उसे जाबालि ऋषि कहा जाने लगा ।

जाबालि ऋषि की विद्वता की कीर्ति चारों तरफ फैल गयी । उनसे प्रभावित हो राजा दशरथ ने उन्हें अपनी सभा में रखा था । जब राम वन गये । भरत उन्हें मनाने पहुँचे । साथ में जबालि ऋषि भी थे । वे चर्वाक दर्शन को मानते थे । उन्होंने राम को समझाया - राम आपके विना अयोध्या नगरी एक चोटी की नायिका बनकर रह गयी है । आप जब तक आओगे नहीं तब तक उस नायिका की दो चोटी नहीं बन सकती । ज्ञातव्य है कि शास्त्रों में दो चोटी बनाने वाली स्त्री को सुंदर कहा जाता है ।

जाबालि ने राम से कहा था - आपके पिता ने जो वचन दिया उसे भूल जाओ और अयोध्या लौट चलो। यहां कोई किसी का न बाप न किसी का बेटा है । राजा दशरथ के दिए गये वचन उनके साथ हीं चले गये । वे आपके पिता एक प्राकृतिक नियम के अंतर्गत बने थे । आप भी उसी नियम के अंतर्गत पिता बनोगे । इसमें किसी का कोई एहसान नहीं है । यह दुनिया एक सराय है । लोग आते हैं चले जाते हैं। आप इस सराय में रहते हुए सारे सुखों का उपभोग करो । वन में रहना आप जैसे राजा को शोभा नहीं देता ।

जाबालि ऋषि की इस तरह की नास्तिकता भरी बातों को सुनकर राम कुपित हो गये । उन्होंने कहा - मुझे दुःख है कि मेरे पिता ने आप जैसे नास्तिक को अपनी सभा में रखा था । राजा जैसा आचरण करता है वैसा हीं आचरण प्रजा भी करती है । आज मैं अपने पिता का दिया गया बचन नहीं निभाऊंगा तो प्रजा क्या सोचेगी ? मैं कौन सा आदर्श प्रजा के सामने प्रस्तुत करुंगा ? कौन सा मुंह लेकर अयोध्या जाऊँगा ?

राम की डांट से क्षुब्ध हो जाबालि ऋषि वापस अयोध्या नहीं गये । वे वहीं रहकर किसी कंदरा में ध्यान करने लगे । भरत राम का खड़ाऊं लेकर अयोध्या लौट गये थे ।

जाबालि ऋषि के नाम पर आज जबलपुर शहर बसा हुआ है । बाद में राम पुनः जाबालि ऋषि से मिले थे। उन्होंने उनसे नास्तिकता छोड़ने का आग्रह किया था। उन्हें रेत के शिवलिंग प्रतिष्ठित करने की प्रक्रिया में शामिल किया था , लेकिन जीवन पर्यंत जाबालि ऋषि चर्वाक दर्शन को मानते रहे थे । उनका कहना था - 

 अष्टकापितृदेवत्यमित्ययं प्रसृतो जनः।

अन्नस्योपद्रवं पश्य मृतो हि किमशिष्यति ।।14।।

(बाल्मीकिविरचित रामायण, अयोध्याकाण्ड, सर्ग 108)

अष्टकादि श्राद्ध पितर-देवों के प्रति समर्पित हैं, यह धारणा व्यक्ति के मन में व्याप्त रहती है, इस विचार के साथ कि यहां समर्पित भोग उन्हें उस लोक में मिलेंगे । यह तो सरासर अन्न की बरबादी है । भला देखो यहां किसी का भोगा अन्नादि उनको कैसे मिल सकता है वे पूछते हैं, और आगे तर्क देते हैं:

यदि भुक्तमिहान्येन देहमन्यस्य गच्छति ।

दद्यात् प्रवसतां श्राद्धं तत्पथ्यमशनं भवेत् ।।15।।

(पूर्वोक्त संदर्भ स्थल)

वास्तव में यदि यहां भक्षित अन्न अन्यत्र किसी दूसरे के देह को मिल सकता तो अवश्य ही परदेस में प्रवास में गये व्यक्ति की वहां भोजन की व्यवस्था आसान हो जाती – यहां अन्न कोई और भक्षण करता , सुख परदेश में बैठे अन्य व्यक्ति को मिलता ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links