ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट में किसने लगाई आग! लाखों का नुकसान          BIG NEWS : इंडिया और इज़राइल मिलकर खोजेंगे कोविड-19 का इलाज         CBSE : अपने स्कूल में ही परीक्षा देंगे छात्र, अब देशभर में 15000 केंद्रों पर होगी परीक्षा         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में कमांडर आदिल वानी समेत दो आतंकी ढेर         BIG NEWS : लद्दाख बॉर्डर पर भारत ने तंबू गाड़ा, चीन से भिड़ने को तैयार         ममता बनर्जी को इतना गुस्सा क्यों आता है, कहा आप "मेरा सिर काट लीजिए"         GOOD NEWS ! रांची से घरेलू उड़ानें आज से हुईं शुरू, हवाई यात्रा करने से पहले जान लें नए नियम         .... उनके जड़ों की दुनिया अब भी वही हैं         आतंकियों को बचाने के लिए सुरक्षाबलों पर पत्थरबाज़ी, जवाबी कार्रवाई में कई घायल         BIG NEWS : पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर तौफीक उमर को कोरोना, अब पाकिस्तान में 54 हजार के पार         महाराष्ट्र में खुल सकते है 15 जून से स्कूल , शिक्षा मंत्री ने दिए संकेत         BIG NEWS : सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप आतंकी सहयोगी वसीम गनी समेत 4 आतंकी को किया गिरफ्तार         आतंकी साजिश नाकाम : सुरक्षाबलों ने पुलवामा में आईईडी बम बरामद         BREAKING: नहीं रहे कांग्रेस के विधायक राजेंद्र सिंह         पानी रे पानी : मंत्री जी, ये आप की राजधानी रांची है..।         BIG NEWS : कल दो महीने बाद नौ फ्लाइट आएंगी रांची, एयरपोर्ट पर हर यात्री का होगा टेस्ट         BIG NEWS : भाजपा के ताइवान प्रेम से चिढ़ा ड्रैगन, चीन ने दर्ज कराई आपत्ति         सिर्फ विरोध से विकास का रास्ता नहीं बनता....         सीमा पर चीन ने बढ़ाई सैन्य ताकत, मशीनें सहित 100 टेंट लगाए, भारतीय सेना ने भी सैनिक बढ़ाए         BIG NEWS : केजरीवाल सरकार ने सिक्किम को बताया अलग राष्ट्र         महिला पर महिलाओं द्वारा हिंसा.... कश्मकश में प्रशासन !         BIG NEWS : वैष्णों देवी धाम में रोज़ाना 500 मुस्लिमों की सहरी-इफ्तारी की व्यवस्था         विस्तारवादी चीन हांगकांग पर फिर से शिकंजा कसने की तैयारी में, विरोध-प्रर्दशन शुरू         BIG NEWS : स्पेशल ट्रेन की चेन पुलिंग कर 17 मजदूर रास्ते में ही उतरे         भक्ति का मोदी काल ---         अम्फान कहर के कई चेहरे, एरियल व्यू देख पीएम मोदी..!         महिला को अर्द्धनग्न कर घुमाया गया !         टिड्डा सारी हरियाली चट कर जाएगा...         'बनिया सामाजिक तस्कर, उस पर वरदहस्त ब्राह्मणों का'         इतिहास जो हमें पढ़ाया नहीं गया...         झारखंड : शुक्रवार को 15 कोरोना         BIG NEWS : जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा प्लेन, कई घरों में लगी आग, जीवन बचाने के लिए भागे लोग         BIG NEWS : पाकिस्तान की फ्लाइट क्रैश, विमान में सवार सभी 107 लोगों की मौत         BIG NEWS : मधु कोड़ा के केवल चुनाव लड़ने के लिए दोषी होने पर रोक लगाना ठीक नहीं : दिल्ली हाई कोर्ट         BIG NEWS : तीन और महीने के लिए टली ईएमआई, 31 अगस्त तक बढ़ाया         BIG NEWS : आज से आरक्षित टिकटों की बुकिंग रेलवे काउंटर से शुरू         चीन के बाद अब पाक ने बढ़ाई सीमा पर ताकत, तोपें और अतिरिक्त सैन्य डिवीजन तैनात          BIG STORY : झारखंड के लिए शिक्षा माने भीक्षा....         BIG NEWS : पाकिस्तान ने सरकारी मैप में सुधारी गलती ! गिलगित-बल्तिस्तान और मीरपुर-मुजफ्फराबाद भारत का हिस्सा         BIG NEWS : अम्फान तूफान, तबाही के निशान        

"कोरोना वायरस" से भी खतरनाक था 1918 में फैला "स्पेनिश फ्लू",पाँच करोड लोग काल के गाल में समाए थे

Bhola Tiwari Mar 25, 2020, 8:30 AM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

नई दिल्ली  : प्रथम विश्वयुद्ध अपने ढ़लान पर था या यह कह लें कि वह अपना निर्णायक मुकाम हासिल कर रहा था।जनवरी 1918,अचानक पश्चिमी मोर्चे पर तैनात सैनिकों के तंग और भीड़ भरे ट्रेनिग कैंपों में फ्लू के लक्षण दिखाई पड़ने लगे थे।फ्रांस के साथ लगती सीमाओं पर स्थित सैनिक कैंपों में इसे पहले देखा गया।ये इतनी तेजी से फैला कि लोगों को संभलने का मौका नहीं मिला।सैनिकों से ये पास के गाँवों में पहुँचा,फिर तो स्पेनिश फ्लू ने सरहदों की दीवार को लांघकर पूरे यूरोप में भारी तबाही मचाई।

आपको बता दें जनवरी में फैले स्पेनिश फ्लू से ज्यादा खतरनाक अगस्त में फैली स्पेनिश फ्लू की महामारी थी।जनवरी वाली फ्लू ने उम्रदराज लोगों की जान ली थी मगर अगस्त में फैले स्पेनिश फ्लू ने उम्र की सारी बंदिशों को किनारा कर जवान लोगों को अपने आगोश में लेना शुरू कर दिया।गाँवों-शहरों में घर के घर साफ होने लगे,एक का अंतिम संस्कार किया जाता तो दूसरा दम तोड़ देता।स्पेन में तो ये हालात हो गए कि लाश का अंतिम संस्कार मुश्किल हो गया।घरों में लाशें सड़ने लगी थी,भयंकर दुर्गंध से जो जीवित थे,उनका रहना मुश्किल हो गया था।


कई देशों में सामुहिक कब्रिस्तान बनाए गए।कब्र के लिए गड्ढा खोदने वाला नहीं मिल रहा था।समुद्र के किनारे रेत में उन्हें दफनाया गया।

इसी बीच नवंबर में प्रथम विश्वयुद्ध समाप्त हो गया और विभिन्न देशों से आए सैनिक अपने देश को स्पेनिश लौटने लगे और साथ में स्पेनिश फ्लू(एन्फ्लूएंजा)ले गए।स्पेनिश फ्लू ने दूनिया की करीब एक तिहाई आबादी को अपना शिकार बना लिया था।यह वायरस यूरोप, यूनाइडेट स्टेटस होते हुए एशिया में फैल गया।

बताते हैं कि जब गाँवों और शहरों में लोग मरने लगे तो भागकर दूसरे जगह शरण लेने की कोशिश की, मगर वहाँ के लोगों ने या तो उन्हें भगा दिया या उनकी सामूहिक हत्या कर दी गई।उन दिनों सर्दी-खांसी होना मौत की गारंटी थी।डाक्टरों के पास इस मर्ज की कोई दवा नहीं थी और जो दवा दी जा रही थी वो बेअसर साबित हो रही थी।यूरोप के कुछ डाक्टरों ने इस वायरस को H1N1 फ्लू का नाम दिया, जो कि खांसी,छीकने के दौरान निकलने वाले ड्रापलेट्स के संपर्क में आने से फैलता था।

गौरतलब है कि प्रथम विश्वयुद्ध के समय हवाई यातायात अपने शुरूआती दौर में था अन्यथा तबाही की कल्पना मुश्किल हो जाती।लोग हवाई जहाज के बजाय पानी के जहाज और रोड मार्ग द्वारा एक दूसरे जगह जाते थे।गंतव्य स्थान तक पहुँचने में हफ्तों या महीने लग जाते थे तब तक संक्रमित व्यक्ति या तो रास्ते में हीं दम तोड देता था या स्वस्थ्य हो जाता था।

कुछ रिपोर्ट्स बताते हैं कि उस समय के विकसित देशों ने डाक्टरों की चेतावनी को अनसुना किया, जिससे स्थिति और विभीत्स हो गई।कुछ लोगों ने लिखा है कि अगर देश की सीमा पर लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई होती तो शायद इतनी मौतें नहीं होती।जापान में 23 मिलियन लोग प्रभावित हुऐ थे,जिनमें कम से कम 3,90,000 लोगों की मौत हुई थी।इंडोनेशिया में संक्रमित 15 लाख लोगों में से 1.5 मिलियन लोगों की मौत हुई।ताहिती में एक महीने के दौरान 13% आबादी काल के गाल में समा गई।सामोआ में 38,000 लोगों की 22% आबादी दो महीने के अंदर मर गई।न्यूजीलैंड में फ्लू ने छह सप्ताह में 6400 यूरोपीय और 2500 स्वदेशी माओरी को मार डाला।ईरान में तो रोज हजारों लोग मर रहे थे।एक अनुमान के अनुसार ईरान की कुल आबादी का 22% लोग स्पेनिश फ्लू के संक्रमण से मारे गए।

ताकतवर अमेरिका की 105 मिलियन की लगभग 28% आबादी संक्रमित हो गई और 5,00,000 से 7,50,000 लोग इस बीमारी से मारे गए थे।ब्राजील में 3,00,000 की मृत्यु स्पेनिश फ्लू से हो गई, जिसमें उनके राष्ट्रपति रोडि्ग्स अल्वेस भी शामिल थे।इस बीमारी से ब्रिटेन में 2,50,000 लोग मरे थे जब ब्रिटेन इलाज के मामले में सबसे आगे था।ताकतवर फ्रांस में 4,00,000 से अधिक लोग मारे गए।

विकसित देशों के अनुमान के मुताबिक तकरीबन पाँच करोड़ लोग संपूर्ण विश्व में इस महामारी से मारे गए थे। भारत में तकरीबन पचीस हजार लोग इस बीमारी से मारे गए।

कवि सूर्यकांत त्रिपाठी ने अपने संस्मरण में स्पेनिश फ्लू की विभिषिका का मार्मिक वर्णन किया है।उन्होंने लिखा है कि "जब मैं डालामऊ में नदी के किनारे पहुँचा तो गंगा लाशों से पट पड़ी थी।मेरे ससुराल से खबर आई कि मेरी पत्नी बीमारी का शिकार होकर गुजर गई है।"यद्यपि भारत में ज्यादा फैलाव नहीं हुआ,जिससे व्यापक जनहानि नहीं हुई फिर भी पचीसों हजार आदमी मारे गए थे।

दिसंबर 1920 के महीने में आश्चर्यजनक रूप से ये बीमारी खत्म हो गई और मौतों का अंतहीन सिलसिला व्यापक जनहानि के बाद रूक गया था।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links