ब्रेकिंग न्यूज़
समाज को ढेर सारी फूलन चाहिए।         BIG STORY : धरती की बढ़ती उदासी में चमक गये अरबपति         BIG NEWS : गृह मंत्रालय ने जारी किये दिशा-निर्देश, जानिए कब तक बंद रहंगे स्कूल-कॉलेज         दुनिया के अजूबों में शामिल है मीनाक्षी मंदिर         BIG NEWS :15 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमा हॉल और मल्टीप्लेक्स         BIG NEWS : बाबरी ढांचा विध्वंस केस में कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी किया         हाथरस के बहाने नंगा होता लोकतंत्र !         देश में ऐसे भी दरिंदे जिंदा है...         BIG NEWS : चीन की चाल पर लगाम लगाने के लिए जापान में होगी क्वाड देशों की अहम बैठक         चोरी कौन कर रहा, हम या सरकार         इस ​नदी से अपने आप ​निकलते हैं शिवलिंग, रहस्य जानकर उड़ जाएंगे होश         भारत ने लद्दाख केंद्रशासित प्रदेश का अवैध तरीके से किया गठन, हम नहीं देते मान्‍यता : चीन         BIG NEWS : भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत में बंद किया अपना कामकाज, FCRA नियमों के उल्लंघन के बाद बैंक अकाउंट्स फ्रीज         BIG NEWS : बिहार भाजपा चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस मां के दरबार रजरप्पा पहुंचे         BIG NEWS : जेपी नड्डा से मिले चिराग पासवान, भाजपा के 30 सीटों के ऑफर पर राजी होने के संकेत         BIG NEWS : आतंकियों ने ली एक और बेकसूर कश्मीरी की जान; शोपियां में सरकारी कर्मचारी की नृशंस हत्या         देह व्यापार अपराध नहीं..         ऐसा अनोखा मंदिर जहां प्रकृति खुद करती है शिव का अभिषेक         युधिष्ठिर ने की थी लोधेश्वर महादेव की स्थापना         बॉलीवुड में ड्रग नहीं, ड्रग में बॉलीवुड...         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों ने लश्कर के दो आतंकवादियों को मार गिराया, जवान घायल         संकट में पत्रकार         BIG NEWS : 104 सीट पर जदयू और 100 पर भाजपा लड़ेगी         दुनिया का इकलौता मंदिर, जहां होती है भोलेनाथ के पैर के अंगूठे की पूजा         बाबा रामदेव ने बॉलीवुड में स्वच्छता अभियान को ठहराया सही कदम          बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जदयू में शामिल         BIG NEWS : पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन         पोस्टर्स पर चमकते नीतीश क्या क्या भूल चुके हैं?         सुंदर वर या वधू चाहिए तो भगवान भूतेश्वर की शरण में आएं         BIG NEWS : कृषि बिलों पर एनडीए में टूट : हरसिमरत के इस्तीफे के 9 दिन बाद पार्टी गठबंधन से अलग हुई         BIG NEWS : पूर्व CM रघुवर दास और कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तो समीर उरांव बने अनुसूचित जाति-जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष         BIG NEWS : राम जन्मभूमि विवाद के बाद अब मथुरा का मामला पहुंचा कोर्ट         BIG NEWS : जब भारत मजबूत था तो किसी को सताया नहीं; जब मजबूर था, तब किसी पर बोझ नहीं बना : MODI         BIG NEWS : भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बनाई अपनी नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी, पहली बार होंगे 12 राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और 23 प्रवक्ता         शाहीनबाग की दादी " टाइम" की दरोगा क्यों?         BIG NEWS : संयुक्त राष्ट्र महासभा में इमरान खान के भाषण का भारत ने किया बहिष्कार, भारतीय प्रतिनिधि ने किया वॉकआउट         बिहार विधानसभा चुनाव : आपके जिले में किस दिन पड़ेंगे वोट, जानें किस सीट के लिए कब होगा मतदान         चुनाव की तारीख का ऐलान होते ही लालू ट्विटर पर बोल पड़े "उठो बिहारी, करो तैयारी... अबकी बारी"         यहां अर्धरात्रि में पंचमुखी शिवलिंग के दर्शनों को आते हैं हजारों सांप         रकुलप्रीत और रिया का ड्रग्सवाला दोस्ताना         BIG NEWS :बिहार विधानसभा के बाद विधान परिषद चुनाव की तारीखों का ऐलान        

कोरोना वायरस : मास क्वारांटाइन

Bhola Tiwari Mar 20, 2020, 7:39 AM IST टॉप न्यूज़
img


डॉ प्रवीण झा

(जाने-माने चिकित्सक नार्वे)

इसकी जरूरत अमूमन नहीं पड़ती, लेकिन बड़े देशों में यह कभी-कभी जरूरी होता है। जैसे चीन और भारत बड़े देश हैं, जहाँ अगर संक्रमण का केंद्र मालूम है, तो उसे बाकी के देश से काट कर ‘क्वारांटाइन’ करना पड़ता है। चीन में इसमें कुछ देर हुई, लेकिन पहले वूहान और आस-पास के शहरों के रास्ते बंद कर दिए गए, फिर पूरे हूबइ प्रांत के। इस वजह से काफी हद तक संक्रमण उस इलाके तक सीमित रह गया, और पूरे चीन में उस विकराल रूप में नहीं पसरा। इसका प्रबंधन भी सुलभ होता है कि पूरे देश की बजाय एक क्षेत्र पर फोकस करना। और आज चीन इस स्थिति में पहुँच रहा है कि एक भी नए केस नहीं मिल रहे। यह भारत में भी पहले गुजरात प्लेग के समय किया जा चुका है।

नॉर्वे में मेरे जिले में पिछले हफ्ते में मात्र एक केस मिला। मेरे पड़ोस के दो जिलों में भी बस एक-एक केस हैं। लेकिन ठीक अगले दो जिलों को मिला कर एक हज़ार केस हैं! ऐसा कैसे संभव है कि दो जिले मिला कर हज़ार केस हों, और पड़ोसी में बस एक? यह तो कोई तार्किक अनुपात ही नहीं। और ऐसा भी नहीं कि ट्रेन-बस बंद कर दिए गए। यह ‘मास क्वारांटाइन’ से संभव हो पाता है, जब उस क्षेत्र के लोगों को आवा-जाही बंद करने कह दिया जाता है। अब बीमारी पूरी गति से पसरेगी, लेकिन एक सीमित क्षेत्र में। वहाँ सरकारी फंड और संसाधन भी केंद्रित किए जाएँगे। इससे कुछ बीमारियों में एक सामूहिक इम्यूनिटी भी बनती है, जिसे ‘हर्ड इम्यूनिटी’ कहते हैं। लेकिन, कोरोना में यह संभव नहीं हो सका है।

भारत में भी यह पद्धति लागू है ही, और हो भी रही है। महाराष्ट्र से यातायात घटाने के प्रयास चल रहे हैं। जिन शहरों में एक भी केस मिल रहे हैं, वहाँ धारा 144 लगाने की कवायद चल रही है। यानी, उस शहर के लोग सामूहिक रूप से क्वारांटाइन पर चले जाएँ और आगे पसरने न दें।

यह ब्रह्मास्त्र है, लेकिन आर्थिक रूप से यह सबसे कारगर उपाय है। क्योंकि पूरे देश में पसरने के बाद संसाधन का वितरण असंभव होता जाता है, जिस समस्या से अमरीका जैसा शक्तिशाली और धनी देश अब जूझ रहा है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links