ब्रेकिंग न्यूज़
भारत का बड़ा कदम : हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा के निर्यात से हटा बैन         POK : गिलगित-बल्तिस्तान में पत्रकारों का पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन, पत्रकारों ने कहा- काम करने की चाहिए आजादी         कोरोना वायरस : अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत से फिर मांगी मदद         संकेत खतरनाक हैं...         धन और जीवन के बीच मांडवली...         झारखंड में तमाशा : कोरोना का मरीज आइसोलेशन वार्ड से निकल शहर में घूमता रहा, लिट्टी खायी, चाय पी         बड़ा फैसला: 1 साल के लिए की गई सांसदों के वेतन में 30% की कटौती         बरेली : लॉकडाउन का पालन कराने गई पुलिस टीम पर भीड़ ने किया हमला, SP घायल         भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई : पाकिस्तानी सेना के अधिकारी समेत 3 जवान घायल, दर्जनों चौकियां तबाह         न्यूयॉर्क के चिड़ियाघर में एक चार वर्षीय बाघ भी कोरोना वायरस का शिकार         बास मारती बेसिक शिक्षा के रुदन में शामिल मिस संता-बंता..         भारतीय सेना ने केरन सेक्टर में 5 आतंकियों को मार गिराया         कोरोना वायरस : अमेरिकी प्रेसिडेंट ट्रंप ने प्राइम मिनिस्टर मोदी से मांगी मदद         झारखंड : बोकारो में मिला कोरोना का तीसरा मामला          पाकिस्तान को चीन ने दिया 'धोखा', भेज दिया अंडरवेयर से बने मास्क         खुशखबरी : नए डोमिसाइल नियम में संशोधन, स्थायी निवासियों के लिए सरकारी नौकरियां आरक्षित         स्वास्थ्य मंत्रालय : कोरोना के 30% मामले तब्लीगी जमात के मरकज की वजह से फैले         प्रार्थना का क्या महत्व है ?         लॉक डाउन : कुछ शर्तों के साथ खुल सकता है लॉकडाउन, जानें क्या है सरकार की तैयारी         WHO की रिपोर्ट में खुलासा : ऐसे फैलता है कोरोना वायरस         पाकिस्तान : नाबालिग को अगवा कर पहले किया रेप, फिर धर्म-परिवर्तन करा रेपिस्ट से कराई शादी         इस दीए की रोशनी         अनलॉक्ड : खुली हवाओं में सांस ले रहे हैं जीव-जन्तु         सीएम योगी का फरमान : नर्सों से अश्लील हरकत करने वाले जमातियों पर NSA, अब पुलिस के पहरे में इलाज         जमात की करतूत : नर्सों के सामने नंगा होने वाले जमात के 6 लोगों पर FIR         आप इन्फेक्टेड हो गए हैं तो काफिरों को इन्फेक्ट कीजिए : आईएसआईएस          मैं, सरकारी सिस्टम के साथ हूँ         तबलीगी जमात से जुड़े 400 लोग कोरोना पॉजिटिव, 9000 क्वारनटीन : स्वास्थ्य मंत्रालय         BIG NEWS : झारखंड में कोरोना का दूसरा मरीज मिला         सेना की बड़ी तैयारी : युद्धपोत, प्लेन अलर्ट, सेना के 8,500 डॉक्टर भी तैयार         पाकिस्तान में ऐलान : तबलीगी जमात के लोगों से नहीं मिले मुल्क के लोग         सबके राम !         तबलीगी जमात का आतंकवादी संगठनों से अप्रत्यक्ष संबंध : तस्लीमा नसरीन         BIG NEWS : झारखंड के मंत्री पुत्र को आइसोलेशन वार्ड, होम क्वारेंटाइन में मंत्री         BIG NEWS : अब 15 वर्षों से राज्य में रहने वाला हर नागरिक जम्मू कश्मीर का स्थायी निवासी         11 जनवरी से 31मार्च- 80 दिन 1920 घंटे..         

दूध बोली

Bhola Tiwari Feb 22, 2020, 8:28 AM IST कॉलमलिस्ट
img

एसडी ओझा

नई दिल्ली  : दूध बोली आजकल अतीत की बात होती जा रही है। कारण, कोई भी दूध बोली बोलने में अब शर्म महसूस करता है । यही हाल रहा तो एक दिन आपकी मातृ भाषा मर जाएगी । हर घर में लोग हिंदी बोलने लगे हैं । कुछ लोग तो हिंदी को हीं मातृ भाषा कहने लगे हैं । अगर हिंदी मातृ भाषा है तो सम्पर्क भाषा किसे कहेंगे ? कुछ लोग कहते हैं कि हम अपनी मातृ भाषा समझ लेते हैं, पर बोल नहीं पाते । तो बोलने के लिए क्या किराए के आदमी अाएंगे ? जब आप मातृ भाषा को बोलेंगे नहीं तो समझने वाले रह जाएंगे और बोलने वाले इस दुनिया को अलविदा कह जाएंगे । बोलने वाले पुरानी पीढी़ के नहीं रहेंगे तो आप समझने का प्रमाण पत्र अपने पास रख उसे नमक मिर्च के साथ चाटते रहिएगा । आपकी मातृ भाषा को मरने से कोई बचा नहीं सकेगा ।

आज मातृ भाषा को अंगरेजी से ज्यादा खतरा हिंदी से है। अंगरेजी तो मात्र 2-3 प्रतिशत लोग हीं भारत में बोलते हैं। यदि आप अपनी मातृ भाषा को बचाना चाहते हैं तो घर में उसे बोलना पड़ेगा . हिन्दी को केवल सम्पर्क के दायरे में रखना होगा । हिब्रू भाषा भी कभी मरने के कगार पर थी ,पर इजराईल ने तुरत फुरत क्रियाशीलता दिखाई और हिब्रू बच गई । यही हाल तुर्की का था. तुर्की के शाह ने अपने मातहतों से पूछा - कितने दिनों में तुर्की इस देश का गौरव हो जाएगी ?

जवाब मिला -5 साल में । शाह ने कहा, नहीं मैं इतना लम्बा समय अपनी मातृ भाषा के लिए नहीं दे सकता । इसे आज से लागू करो । तुर्की भी बच गई।

हममें इच्छाशक्ति का अभाव है । हम डरते हैं कि यदि हम मातृ भाषा में बात करेंगे तो जाहिल, गंवार की श्रेणी में आ जाएंगे और यही डर मातृ भाषा को फलने फूलने नहीं देता और दूध बोली दम तोड़ने लगती है । केदार नाथ सिंह ने मातृ भाषा पर एक कविता लिखी है :

जैसे चींटियाँ लौटती हैं

बिलों में

कठफोड़वा लौटता है

काठ के पास

वायुयान लौटते हैं एक के बाद एक

लाल आसमान में डैने पसारे हुए

हवाई-अड्डे की ओर

ओ मेरी भाषा

मैं लौटता हूँ तुम में

जब चुप रहते-रहते

अकड़ जाती है मेरी जीभ

दुखने लगती है

मेरी आत्मा

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links