ब्रेकिंग न्यूज़
अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...        

वेलेंटाइन डे : कवीर दास के " ढाई आखर "

Bhola Tiwari Feb 15, 2020, 7:28 AM IST कॉलमलिस्ट
img

 एसडी  ओझा

नई दिल्ली  : आज के दिन कुछ लोगों के मन में लड्डू फूटेंगे । वे लोग महान संत वेलेंटाइन का आभार व्यक्त करेंगे कि उनकी बदौलत उन्हें ये दिन देखना नसीब हुआ है । उनके लिए प्यार सब कुछ है । उन्हें प्यार के बिना सारा जग सूना सूना सा लगता है । हम जैसे बुजुर्ग भी बुढ़ापे में पड़ोसन को "हैप्पी वेलेंटाइन डे " कहकर अपनी जवानी के दिनों की याद ताजा कर लेते हैं । हमारी बुजुर्गियत को नई पहचान मिलती है । जब हम इस दुनियां को छोड़कर जाएंगे तो कोई मलाल नहीं रह जाएगा । हमें गर्व होगा कि हमारी तमन्ना अधूरी नहीं रही ।

आज के दिन उन लड़कों की पौ बारह होगी जिनकी माली हालत ठीक ठाक होगी । उनके लिए आज का दिन " झूम झूम के नाचो आज , गाओ खुशी के गीत " जैसा होगा । उनके लिए लड़कियों का कोई अभाव नहीं होगा ।महंगे होटल में बुकिंग हो गयी होगी । खूब मौज मस्ती काटेंगे । पूरा मनोरंजन का बाजार सजा होगा । प्रेमी प्रेमिका इस दिन का इंतजार साल भर से करते हैं । जो शर्म से अपने प्रेम का इजहार नहीं कर पाते वो भी आज के दिन मुखर हो जाते हैं ।आज के दिन होटल, रेस्टुरेण्ट , रिसार्ट और आउट हाउस में खूब तैयारियाँ होती हैं । दीपावली की तरह जगमग रोशनी होती है । प्रेमी प्रेमिका मनमोहक संगीत पर थिरकने को आतुर होते हैं । ब्राण्डेड शराब का सेवन होगा । यह सेवन तब तक होगा, जब तक लोग फुल्ल टल्ली हो नहीं जाएंगे । इतना जश्न तो हमारे होली दीवाली पर भी नहीं होता । कवीर दास के " ढाई आखर " को कहने के लिए इतनी ताम झाम क्यों ? प्रेम नैसर्गिक शब्द है । इसे कहने के लिए नैसर्गिक शब्दावली की जरुरत है । दारु शराब की नहीं ।

आज के दिन पुलिस प्रशासन भी जबर व्यवस्था बनाए रखता है । उसकी नजर हर सड़क , हर गली व हर चौराहे पर होती है । उसे देखना है कि कोई शराब पीकर गाड़ी तो नहीं चला रहा है । कोई किसी लड़की के साथ छेड़खानी तो नहीं कर रहा ? कहीं ऊंचे सुर में डीजे तो नहीं बज रहा ? वेलेंटाइन डे के दिन मार पीट के केस भी बहुत होते हैं । "एक अनार सौ बीमार की" तर्ज पर एक लड़की के लिए कई लोग चोटिल हो जाते हैं । फिर पुलिसकर्मियों की शामत आ जाती है । एफ आई आर से लेकर चोटिल लोगों को अस्पताल पहुँचाने की जिम्मेदारी पुलिस की हीं होती है ।

आज के दिन धर्म रक्षक भी मुस्तैद रहते हैं । वे जगह जगह कुरुक्षेत्र का मैदान सजाकर रखते हैं । जहां कहीं भी उन्हें अपनी सभ्यता व संस्कृति खतरे में पड़ी दिखाई पड़ती है वे युद्ध के इस मैदान में कूद पड़ते हैं । वे प्रेमी जोड़े की पिटाई करते हैं । जबरन उनकी शादी कराते हैं ।कोई कोई तो उनको भाई बहन भी बनाते हैं । राखी का पवित्र धागा बंधवाते हैं। किसी किसी के मुंह पर कालिख पोतते हैं । जूतों चप्पलों की माला पहनाते हैं । मां बाप को फोन पर सूचना देते हैं । ऐसे महान कार्य करने वालों के सामने नतमस्तक होने के सिवा और चारा हीं क्या है ? पुलिस प्रशासन भी इनके सामने पंगु हो जाती है ।

ऐसा नहीं कि वेलेंटाइन डे आज हीं मनाया जा रहा है। हमारे आदिवासी भाई बहुत पहले से इसको मनाए जा रहे हैं । तब से जब कि संत वेलेंटाइन का इस धरती पर आगमन नहीं हुआ था । ये भगोरिया उत्सव मनाते हैं । भाग कर शादी करते हैं । लड़के लड़की मेले में एक दूसरे को पसंद करते हैं । एक दूसरे का हाथ पकड़ते हैं और नौ दो ग्यारह हो जाते हैं । इस शादी की तब तक मान्यता नहीं मिलती है जब तक कि वर वधु भोज भात नहीं दे देते । भोज भात में शादी का जश्न मनाया जाता है । नाच गाना होता है । देसी शराब पी जाती है । 

इस वेलेंटाइन डे के जश्न पर बहुतों को पता नहीं होगा कि आज से एक साल पहले आज के हीं दिन हमारे अर्द्ध सैनिक बलों पर पुलवामा में हमला हुआ था । 44 के करीब जवान मारे गये थे । कई औरतों की मांग सूनी हुई थी । कई माओं की गोद उजड़ी थी।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links