ब्रेकिंग न्यूज़
अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...        

वैलेंटाइन गर्ल की याद !

Bhola Tiwari Feb 14, 2020, 8:01 AM IST टॉप न्यूज़
img


ध्रुव गुप्त

पटना : भारत की वीनस के नाम से विख्यात अभिनेत्री मधुबाला होश संभालने के बाद मेरी पहली वैलेंटाइन थी। सिनेमा के परदे पर इस कदर स्वप्निल सौन्दर्य, ऐसी दिलफ़रेब अदाएं, इतनी उन्मुक्त हंसी हिंदी सिनेमा में उनके बाद फिर नहीं देखी गई। मैंने शायद ही कभी उनकी कोई फिल्म मिस की हो। फिल्म चाहे जैसी हो, परदे पर उनकी उपस्थिति का जादू सिनेमा हॉल तक खींच ले जाता था। उनकी कोई फिल्म एक-दो बार ही देख पाता था, लेकिन पोस्टरों में उनका चेहरा देखने के लिए सिनेमा हॉल के अनगिनत चक्कर हो जाते थे। तब वे मेरे ख्यालों में भी आती थीं और सपनों में भी। उनकी शादी और असमय मौत की ख़बर सुनकर व्यथित भी हुआ था। उनका उदास, अकेला, रहस्यमय जीवन आज भी तिलिस्म की तरह मुझे खींचता है।

मधुबाला का जन्म प्रेम का उत्सव माने जाने वाले वैलेंटाइन डे को हुआ था, लेकिन सच्चे प्यार के लिए वे तमाम उम्र तरसती रहीं। उन्हें प्यार मिला तो सही, लेकिन आधा-अधूरा जिनके टूटने का दर्द उन्हें जीवन भर महसूस करना था। मधुबाला का पहला प्यार थे उस दौर के एक्शन फिल्मों के अभिनेता प्रेमनाथ। यह रिश्ता एक साल से भी कम चला। शादी के लिए उनके पिता अताउल्लाह खां ने प्रेमनाथ के आगे इस्लाम कबूल करने की शर्त रखी जिसे प्रेमनाथ ने ठुकरा दिया। प्रेमनाथ के बाद मधुबाला की जिन्दगी में आए ट्रेजेडी किंग कहे जाने वाले महानायक दिलीप कुमार। फिल्मी दुनिया की यह सबसे चर्चित प्रेमकहानी लंबे अरसे तक चली। इस रिश्ते में धर्म का कोई बंधन नहीं था, लेकिन इस प्रेम कहानी में भी खलनायक एक बार फिर मधुबाला के पिता ही बने। दोनों की नजदीकियों को भांपने के बाद फिल्मों के सेट पर रोमांटिक दृश्यों की शूटिंग के दौरान वे निर्देशकों के काम में दखलंदाज़ी करने लगे जिससे निर्देशक ही नहीं, खुद दिलीप कुमार भी खींझ जाया करते थे। अंततः दिलीप कुमार ने मधुबाला के सामने इस शर्त पर शादी का प्रस्ताव रखा कि शादी के बाद वे पिता से रिश्ते तोड़ लेगी। मधुबाला के लिए यह शर्त मानना आसान नहीं था। इसके बाद उन दोनों के बीच आए दिन झगड़े होने लगे। इस रिश्ते के टूटने का निर्णायक कारण बनी निर्देशक बी.आर चोपड़ा की फिल्म 'नया दौर'। अताउल्लाह अपनी बेटी को दिलीप कुमार के साथ किसी कीमत पर आउटडोर शूटिंग में बाहर भेजने को तैयार नही थे। मामला अदालत तक पहुंचा जिसमें दिलीप साहब ने चोपड़ा का पक्ष लिया। दो पठानों की इस लड़ाई में मधुबाला और दिलीप कुमार की मोहब्बत बलि चढ़ गई। 

गायक एवं अभिनेता किशोर कुमार मधुबाला के जीवन में तीसरे मर्द थे। दोनों ने कई फिल्मों में साथ काम किया था। 'चलती का नाम गाडी' के एक गीत 'एक लड़की भींगी भागी सी' की शूटिंग के समय मधुबाला के दिल में उनके लिए जगह बनी। किशोर तलाकशुदा थे और मधुबाला टूटी हुई। मधुबाला को हंसना पसंद था और किशोर दा हंसाने के फन में माहिर। अताउल्लाह की शर्त के मुताबिक़ धर्म परिवर्तन कर किशोर दा ने मधुबाला से शादी कर ली। मधुबाला के दिल की बीमारी का किशोर दा को पता था। शादी के तुरंत बाद वे मधुबाला को लेकर लंदन गए जहां पता चला कि दिल में छेद के कारण उनकी जिन्दगी दो साल से ज्यादा शेष नहीं हैं। इस खुलासे के बाद मधुबाला ने बिस्तर पकड़ ली। पेशेगत व्यस्तता की वजह से किशोर कुमार उनका बहुत दिनों तक ख्याल नहीं रख सके। मायके में बीते उनके आखिरी दिनों मधुबाला की जानलेवा तनहाई का इलाज़ किसी के पास नहीं था। इसी तनहाई में वे चल बसीं।

अपने बेपनाह सौंदर्य, ग्लैमर, शोहरत और तीन प्रेम संबंधों के बावजूद बेहद अकेली और उदास मधुबाला का व्यक्तित्व उस एक रहस्यमय परछाई की तरह था जो वक़्त की खिड़की पर कुछ उदास धब्बे छोड़ सहसा अनुपस्थित हो गया। प्रेम की शाश्वत प्यास की प्रतीक हिंदी सिनेमा की वैलेंटाइन गर्ल, मेरी पहली क्रश मधुबाला के यौमे पैदाईश पर खिराज़-ए-अक़ीदत !

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links