ब्रेकिंग न्यूज़
अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...        

पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द

Bhola Tiwari Feb 13, 2020, 7:48 AM IST टॉप न्यूज़
img


अमरेंद्र किशोर

नई दिल्ली  : 'खेती किसानी छूट रहा है। अपना देस मर रहा है।' कहते हैं पाली विक्रम के सुधीर कुमार। बिहार के सोन तटीय इलाके के मानिंद खेतिहर हैं सुधीर भाई। दिल्ली में ज़िन्दगी के 6 बहुमूल्य साल नौकरी में गवांकर आज अपने पैतृक गांव में 'मेरा गांव मेरा देश' का नारा बुलंद कर रहे हैं। आज घर पर मिलने आये तो खेती बाड़ी पर चर्चा हुई। इन दिनों जैविक उपज के मजे ले रहे हैं भाई साहब। 


उनके पास तीनों तरह के खेत हैं, अहरी-केवाला और इंग्लिशिया। अहरी खेत बेहद उपजाऊ होता है। इसमें धान से लेकर सब्जियां पैदा करने का प्रचलन है। केवाला थोड़ी नीचे की ज़मीन है जिसमें धान की पैदावार होती है।उनके गांव में डीह ज़मीन भी है जहां किसान सब्जी, सरसों से लेकर आलू पैदा करते हैं। यहां पहले लट्ठा से पानी का जुगाड़ किया जाता था। लट्ठा और रहट अब अतीत के दामन में फेंके जा चुके हैं। डीह तक नहर का पानी नहीं आता। टांड़ ज़मीन ऊसर, पथरीली और अव्यवस्थित सी होती है।यह सबसे ऊंचाई की ज़मीन होने के चलते जलजमाव से मुक्त रहता है। अमूमन नहर यहां से गुजरते हुए माल, खाल और अहरी खेतों तक पहुंचता है। माल और खाल पर चर्चा बाद में। टांड़ भूमि पर ईंट भट्ठों की चिमनियाँ धुआं धौंकती नजर आती हैं। 


नहर बर्बाद हो रहे हैं। क्योंकि नदियों में पानी रहा कहां। सुधीर सोन नहर प्रणाली की बात कर रहे थे। इस प्रणाली की आयु कमतर रह गयी है। वजहें एक नहीं अनेक है। लोग खेती छोड़ रहे हैं, तो नहरों को लेकर उदासी उभर आई है। सुधीर भाई ने बताया कि नहरों से निकलनेवाला करहा के जरिये पानी खेतों तक पहुंचता था। किसान जगह जगह पाइन बना लेते थे। मतलब करहा जगह जगह चौड़ा किया जाता था। पाइन मौर्यकालीन जल व्यवस्था है। 

खेती से नाता टूटते समाज का क्या होगा, यह सवाल है। यह सवाल सभ्यता के उस संकट से जुड़ा है जो इंसानी वजूद के लिए गम्भीर चुनौती बनता जा रहा है। क्या सत्ता के सट्टेबाज इस बात को समझेंगे या टैक्स बचाने के लिए अपना नाता खेती से जोड़कर अमानत में खयानत करते रहेंगे?

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links