ब्रेकिंग न्यूज़
पाकिस्तान को चीन ने दिया 'धोखा', भेज दिया अंडरवेयर से बने मास्क         खुशखबरी : नए डोमिसाइल नियम में संशोधन, स्थायी निवासियों के लिए सरकारी नौकरियां आरक्षित         स्वास्थ्य मंत्रालय : कोरोना के 30% मामले तब्लीगी जमात के मरकज की वजह से फैले         प्रार्थना का क्या महत्व है ?         लॉक डाउन : कुछ शर्तों के साथ खुल सकता है लॉकडाउन, जानें क्या है सरकार की तैयारी         WHO की रिपोर्ट में खुलासा : ऐसे फैलता है कोरोना वायरस         पाकिस्तान : नाबालिग को अगवा कर पहले किया रेप, फिर धर्म-परिवर्तन करा रेपिस्ट से कराई शादी         इस दीए की रोशनी         अनलॉक्ड : खुली हवाओं में सांस ले रहे हैं जीव-जन्तु         सीएम योगी का फरमान : नर्सों से अश्लील हरकत करने वाले जमातियों पर NSA, अब पुलिस के पहरे में इलाज         जमात की करतूत : नर्सों के सामने नंगा होने वाले जमात के 6 लोगों पर FIR         आप इन्फेक्टेड हो गए हैं तो काफिरों को इन्फेक्ट कीजिए : आईएसआईएस          मैं, सरकारी सिस्टम के साथ हूँ         तबलीगी जमात से जुड़े 400 लोग कोरोना पॉजिटिव, 9000 क्वारनटीन : स्वास्थ्य मंत्रालय         BIG NEWS : झारखंड में कोरोना का दूसरा मरीज मिला         सेना की बड़ी तैयारी : युद्धपोत, प्लेन अलर्ट, सेना के 8,500 डॉक्टर भी तैयार         पाकिस्तान में ऐलान : तबलीगी जमात के लोगों से नहीं मिले मुल्क के लोग         सबके राम !         तबलीगी जमात का आतंकवादी संगठनों से अप्रत्यक्ष संबंध : तस्लीमा नसरीन         BIG NEWS : झारखंड के मंत्री पुत्र को आइसोलेशन वार्ड, होम क्वारेंटाइन में मंत्री         BIG NEWS : अब 15 वर्षों से राज्य में रहने वाला हर नागरिक जम्मू कश्मीर का स्थायी निवासी         11 जनवरी से 31मार्च- 80 दिन 1920 घंटे..          क्या है तबलीगी जमात और मरकज?         खतरे में प्रिंट मीडिया         तबलीगी जमात में शामिल धार्मिक प्रचारकों को ब्लैक लिस्ट करेगी सरकार         तबलीकी जमात का सालाना कार्यक्रम :  केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस का फेल्योर हीं है !         बड़ी खबर : झारखंड में कोरोना का पहला पॉजिटिव केस, हिंदपीढ़ी में मलेसिया की युवती निकली संक्रमित, तब्‍लीगी जमात से जुड़ी है मलेशिया की महिला         क्या है तबलीकी जमात और मरकज?जिनके ऊपर लापरवाही के आरोप लग रहे हैं...         हे राम-भरोसे ! हमसे उम्मीद मत रखना !         होशियार लोगों का वायरल बीहेवियर         लॉक डाउन को मंत्री जी ने किया अनलॉक, डीसी का आदेश पाकर गांव की ओर चल पड़ी बसें         पाकिस्तान में कोरोना : राशन सिर्फ मुसलमानों के लिए है, हिंदूओं को नहीं मिलेगा         चीन को खलनायक बनाकर अमेरिकीपरस्त प्रेस ने निकाली मीडिया की मैयत..         विएतनाम पर बीबीसी की रिपोर्ट : किस पर भरोसा करें!         पाकिस्तान में कोरोना : मास्क और ग्लव्स की जगह पॉलिथीन पहनकर इलाज कर रहे हैं डॉक्टर         राजकुमारी मारिया टेरेसा की कोरोना से मौत        

हिंदी पत्रकारिता में सॉफ्ट हिंदुत्व और संतों में लीन सम्पादक..

Bhola Tiwari Feb 13, 2020, 7:17 AM IST टॉप न्यूज़
img


राजीव मित्तल

नई दिल्ली  : 1983 के अंत में बेनेट कोलमेन ने लखनऊ में अपनी सूबेदारी स्थापित की और डालीबाग में नभाटा और Toi शुरू हो गए..लेकिन जैसे किसी आलीशान बंगले के पीछे सर्वेंट क्वार्टर्स होते हैं, उन्हीं क्वार्टरों का सा हाल इन दोनों अखबारों का लखनऊ में..किसी मारवाड़ी की दुकान के अंदाज़ में जनसेवक कार्यालय के तहत..मंशा साफ थी कि लखनऊ के कर्मचारियों को न तो बेनेट कोलमेन वाला वेतन देना है न सुविधाएं.. अपने ही अख़बार में इस दोमुहेंपन का विरोध गिरिलाल जैन और राजेंद्र माथुर को करना चाहिए था, लेकिन दोनों को अपनी कुर्सी की पड़ी थी..बाद में यही नज़ीर अपनायी गयी, और दिल्ली के बाहर जिन जिन मीडिया संस्थानों ने अपने अख़बार शुरू किए, सभी का हाल गोदाम से बदतर..(बाद में कई ऐसे अखबारों में काम किया, जहां का हाल और भी बुरा था..उन पर चर्चा समय पर)..

डालीबाग में अखबार गोदाम वाले हालात में शुरू हुआ..जहां गर्मी में पसीना बहता और जाड़ों में शरीर ठिठुरता..गर्मियों में तो कई बार पानी से रीते जग को ऊपर लटके पंखे से लटकाया, जिस पर लिखा होता- मैं प्यास का मारा आत्महत्या कर रहा हूँ..

लखनऊ संपादकीय विभाग कई गुटों का अखाड़ा, इसके चलते अख़बार की दुनिया में नयानवेला होने के नाते (दिल्ली में तो पिकनिक मनाई थी) कुछ दिन हुक्का गुड़गुड़ाया और उस के बाद अपन ने परवाज़ खोले और धमाचौकड़ी मचानी शुरू कर दी..

नभाटा के प्रथम सूबेदार थे रामपाल सिंह..डेस्क के आदमी थे, दिल्ली वाला खुलापन भी था..कांचू किस्म के ठाकुर थे, म्यान खाली ही रहती उनकी..स्टाफ में एक से एक धुरंधर, तो काम भी जल्द ही सीख गया तो आत्मविश्वास भी बढ़ गया..तब संपादक मैनेजमेंट की दलाली नहीँ करता था और न ही ठुमके लगाता था..काम करने में मज़ा आता और ऑफिस में मन रमता..खुलापन खूब ज़्यादा था..रामपाल जी खेल तो करते लेकिन सीमाओं में रह कर..

एक दिन मीटिंग में अपन से बोले-पंडित जी (उनका तकिया कलाम था) आप तो तीन घंटे ही रुकते हैं ऑफिस में..जबकि ड्यूटी 6 घंटे की है..

तो अपना जवाब था-रामपाल जी, अगर मैं अपना काम तीन घंटे में कर लेता हूँ तो क्या बाकी तीन घंटे ऑफिस में रुक कर आपके खिलाफ साज़िशें करूं..

रामपाल जी मुस्कुरा दिए..तो यह माहौल हुआ करता था तब अखबार में..बल्कि, कुछ समय बाद तो खबरें बनाने के साथ साथ अपना गायन भी शुरू हो गया..और अपना दावा है कि आगे के जितने वर्ष नभाटा लखनऊ में अपन ने गाना गाते हुए ख़बरें बनायीं या अखबार निकाला, कभी कोई गलती नहीं गई और न अखबार में कोई गड़बड़ी हुई, न ही किसी सीनियर ने कोई शिकायत की..न संपादक को कोई आपत्ति हुई..

1986 में अपने यहां श्रमिक यूनियन बनी...उन दिनों श्रमिक यूनियन का होना मैनेजमेंट की मनमानियों पर अंकुश लगाता था..यूनियन में पदाधिकारी न होने के बावजूद मैं काफी सक्रिय था..एकाध की नौकरी भी बचवाई.. फिर एक काफी बड़ा मामला हो गया.. डालीबाग ऑफिस की बदहाली की कई बार दिल्ली शिकायत की गई लेकिन कुछ नहीं हुआ..आखिरकार यूनियन ने हड़ताल कर दी..15 दिन दोनों अख़बार नहीं निकले..प्रदेश की श्रममंत्री ने बीच बचाव कर समझौता कराया और काम शुरू हुआ..

लेकिन जब हालात में कोई सुधार नहीं हुआ तो यूनियन की सहमति से हम कुछ लोगों ने गो स्लो कर दिया और नभाटा बहुत लेट छपा, लेट ही नहीं छपा बल्कि आठ की बजाय मात्र चार पन्नों का छपा.. खुद संपादक ने खबरें बनाने का काम किया था उस दिन..इसकी सूचना पटना में नवभारत टाइम्स के शुभारंभ उत्सव में शामिल राजेन्द्र माथुर को भेजी गई..सब छोड़छाड़ वो फ्लाइट से शाम को लखनऊ ऑफिस पहुंचे.. और वहां उन्हें पता चल गया कि इस गो स्लो के पीछे मैं हूँ..यह उनकी महानता थी कि उन्होंने मैनेजमेंट से मुझे निकालने को नहीं कहा..उनकी सारी हताशा इस बात को लेकर थी कि यूनियन ने नहीं, बल्कि एक व्यक्ति ने ऐसा कैसे कर दिया..उन्होंने एकांत में मुझसे बात की, मेरे कुछ तर्क थे, वो कुछ नहीं बोले और दिल्ली लौट गए..

प्रदेश में वीरवहादुर सिंह मुख्यमंत्री थे और ठाकुर रामपाल सिंह की ठकुराई उनकी खाली म्यान में समा चुकी थी..तो कुल मिला कर उनकी इसी ठकुराई से मुकाबला था उस गो स्लो का, जिसने उनकी कुर्सी छीन ली और कट्टर हिंदुत्व की रामनौमी ओढ़े नंदकिशोर त्रिखा संपादक बना कर लखनऊ भेजे गए..

जारी..

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links