ब्रेकिंग न्यूज़
भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

हरसू ब्रह्म : यहां भूत प्रेत की होती है गिरफ्तारी

Bhola Tiwari Jan 29, 2020, 7:10 AM IST कॉलमलिस्ट
img

एसडी ओझा

नई दिल्ली : कैमूर जिले के चैनपुर के पुराने किले में हरसू ब्रह्म धाम स्थित है । जनश्रुति के अनुसार हरसू पाण्डेय सकरवार वंशी चैनपुर के राजा शालिवाहन के प्रधान मंत्री तथा राजपुरोहित थे। राजा द्वारा किये गए अपमान से क्षुव्ध होकर उन्होंने आमरण अनशन कर किले में हीं प्राण त्याग दिये। यह घटना जनवरी 1428 ई० में हुयी मानी जाती हैं। मृत्यु के बाद बाबा शक्तिशाली ब्रह्म हो गए और उन्होंने राजा तथा उनके परिवार और राज्य को नष्ट कर दिया। 

एक और प्रचलित मत है कि राजा द्वारा किए गए अपमान से क्षुव्ध बाबा ने तत्कालीन दिल्ली सल्तनत के सुलतान अलाउद्दीन खिलजी से सम्पर्क किया और खिलजी को राजा शालिवाहन पर आक्रमण के लिए उकसाया । खिलजी ने राजा पर आक्रमण किया । राजा शालिवाहन युद्ध में मारे गए । शत्रु सेना ने किले को ध्वस्त कर दिया । और सकरवार वंश शासन का अन्त हो गया । इसके बाद चैनपुर राज्य मुस्लिम सुलतानों के अधीन हो गया। 

यदि इस मत को मानते हैं तो बाबा का व्यक्तित्व एक खलनायक के तौर पर उभरता है । इसी तरह की कहानी फिल्म पद्मावत में दिखाई गयी है , जिसमें राज पुरोहित अपने अपमान का बदला लेने के लिए अलाउद्दीन खिलजी को उकसाता है । इस फिल्म में भी राजा मारा जाता है । राज पुरोहित खलनायक बन जाता है , जिसे अलाउद्दीन खिलजी मरवा देता है। लेकिन इस मामले में जनमत राज पुरोहित के साथ होता है । हरसू पाण्डेय के नायक बन जाने के बाद राजा शालिवाहन की पत्नी ने उनकी मृत्यु की जगह पर उनका एक मंदिर बनवा दिया । ऐसा कर उन्होंने जनमत को सम्मान दिया था ।

जनमत की वजह से हीं पांच शताब्दियों से हरसू ब्रह्म बाबा के यहां पहुचने वाले श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है । श्रद्धा के कारण हीं बाबा निःसंतानों को संतान देते है । कोढ़ी को काया देते हैं । पागल को निरोग करते हैं । भूत प्रेत बाधा दूर करते हैं । वैसे तो सालो भर यहां भूत-प्रेत बाधा ग्रस्त एवं संतान कामना से लोग आते रहते है, लेकिन पवित्र नवरात्रियों तथा सावन महीने में यह संख्या लाखों में पहुच जाती है । मनौती पूरी होने पर बाबा को खड़ाउ, जनेउ तथा मिठाई चढ़ाई जाती है। बाबा भूत प्रेत को गिरफ्तार कर कठोर सजा देते हैं । मृत्यु दंड भी देते हैं । भूत प्रेत मृत्युदंड के खिलाफ कहीं अपील भी नहीं कर सकते हैं ।

हरसू ब्रह्म का यह अनूठा दरबार जिला मुख्यालय भभुआ से 12 किमी की दूरी पर चैनपुर किले में स्थित है। पारलौकिक शक्तियों में विश्वास करने वाले लोगों के लिए इस धाम में भूतों को सम्मन, उनकी गिरफ्तारी और दंडित किये जाने की रोचक प्रक्रिया अवश्य देखनी चाहिए। धाम का प्रबंधन बिहार राज्य धार्मिक न्यास पर्षद के अधीन है। श्रद्धालुओं एवं पर्यटको के विश्राम हेतु भभुआ में अच्छे वातानुकूलित होटल एवं धर्मशाला उपलब्ध हैं। 

पिछले बीस वर्षों से हर साल माघ शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को बाबा की जयंती मनायी जाती है । इसमें केवल हरसू ब्रह्म बाबा के वंशज हीं शामिल होते हैं । 24 घण्टे का अखण्ड अष्टयाम होता है । बाबा के वंशज गर्भ गृह में जाकर पूजा अर्चना करते हैं । शुद्ध घी का बना भोग चढ़ाया जाता है । बाबा के अनेकों नाम हैं । कहीं ये डाक बाबा , कहीं गोलू देवता ,कहीं बालाजी त, कहीं डिहवार बाबा , कहीं गोराया बाबा तो कहीं ब्रह्म देवता के रूप में पूजे जातें हैं ।जिला मुख्यालय भभुआ से दसकिलोमीटर पश्चिम चैनपुर के हरसू ब्रह्म का अपना विशिष्ट महत्व है । हरसू पाण्डेय भभुआ प्रखण्ड के जमुआंव के निवासी थे जो चैनपुर से 15 कि.मी. उत्तर की ओर है.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links