ब्रेकिंग न्यूज़
भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

हमें भूखे मारने को तैयार है क्लाईमेट क्राईसिस...

Bhola Tiwari Jan 28, 2020, 1:01 PM IST कॉलमलिस्ट
img


कबीर संजय

नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग ने पूरी दुनिया का ध्यान खींचा है। इसके बाद हमारे देश में भी क्लाईमेट क्राईसिस को लेकर थोड़ी बहुत बातें की जाने लगी हैं। पर साहेब, ऑस्ट्रेलिया की आग को भूल जाइये। क्लाईमेट क्राईसिस हमें भी भूखे मारने को तैयार बैठी है। कैसे....

देश में इस बार राजस्थान, गुजरात और पंजाब में टिड्डी दलों का तगड़ा अटैक हुआ है। लाखों करोड़ों की संख्या में आने वाले ये कीट किसानों की आजीविका को कुछ ही घंटों में चट कर जाते हैं। यह समस्या कितनी बड़ी है, शहरों में रहने वाले शायद इसका अंदाजा भी नहीं लगा सकते। इसे ऐसे समझ सकते हैं कि टिड्डी दलों के हमले से बचाने के लिए दिल्ली से तिगुने आकार के बराबर क्षेत्रफल में कीटनाशकों का छिड़काव किया गया है। इसके बावजूद यह कीट फसलों को भारी नुकसान पहुंचा चुका है। 

टिड्डियों का हमला कोई नई बात नहीं है। लेकिन, जिस तरह का हमला इस बार हुआ यह नई बात है। जिस तरह से उनकी संख्या बढ़ी है, जिस तरह से उनका खतरा बढ़ा है, उसमें कई नई बातें हैं जो क्लाईमेट क्राईसिस के गहराने की तरफ इशारा करती है। 

आपको शायद यकीन नहीं हो कि यह कीट कितनी तेजी से बढ़ता है। इसके एक झुंड में अस्सी लाख तक कीट हो सकते हैं। जो कि एक दिन में ही ढाई हजार लोगों के बराबर या दस हाथियों के बराबर खाना खा सकता है। अपने पहले प्रजनन काल में यह कीट बीस गुना बढ़ता है, दूसरे प्रजनन काल में 400 गुना और तीसरे प्रजनन काल में 16 हजार गुना बढ़ जाता है।  टिड्डी दलों का हमला तमाम प्रकार के अकालों के लिए जिम्मेदार रहा है। 

इस कीट के पनपने के लिए नमी वाले वातावरण की जरूरत होती है। इस बार हमारे यहां राजस्थान में तो बिना बरसात वाली बरसात तो रिकार्ड हुई है इसी प्रकार की बिना मौसम वाली बरसात अरब सागर और लाल सागर के आसपास के कई हिस्सों में हुई है। इसके चलते टिड्डियों के पनपने के लिए बेहद मुफीद स्थिति बनी है। इसी के चलते वे पहले से कई गुना ज्यादा बड़ी संख्या में हमला बोल रही है। कहने की जरूरत नहीं है कि बिना मौसम वाली बरसात के पीछे कारण क्या है। 

क्लाईमेट क्राईसिस ने पूरे मौसम चक्र को बिगाड़ करके रख दिया है। इसके चलते या तो बारिश का मौसम देर से शुरू हो रहा है या जल्दी शुरू हो रहा है। कहीं तो बारिश होती नहीं। कहीं होती है तो बहुत ही थोड़े समय में बहुत ही ज्यादा पानी बरस रहा है। जिसका नतीजा सूखा और बाढ़ के तौर पर तो हम देखते ही हैं। टिड्डी दलों के हमले के तौर पर भी देख रहे हैं।

समुद्र का तापमान बढ़ने से उसमें उठने वाले चक्रवाती तूफानों की संख्या में इजाफा हो रहा है। जो कि आसपास के क्षेत्रों में तबाही और बारिश ला रहे हैं।  

जाहिर है कि ये कुछ नतीजे हैं जो अभी हमारे सामने आए हैं। ऐसे ही न जाे कि कितने नतीजे अभी आने बाकी है।  फिर भी हम जरूरी मुद्दों पर सोचने की बजाय गैर-जरूरी विषयों पर गाल बजाने में ही जुटे हुए हैं। क्योंकि जिन लोगों को हमने चुन कर भेजा है उन्हें संकट का सामना करना पसंद नहीं है। बल्कि वे संकट को बढ़ाने की इच्छा रखते हैं। 

(इस लेख के कई तथ्य और तर्क प्रख्यात पर्यावरणविद सुनीता नारायण के लेख से लिए गए हैं। उनका आभार। चित्र इंटरनेट से। )

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links